अपना ब्लॉग जोड़ें

अपने ब्लॉग को  जोड़ने के लिये नीचे दिए हुए टेक्स्ट बॉक्स में अपने ब्लॉग का पता भरें!
आप नए उपयोगकर्ता हैं?
अब सदस्य बनें
सदस्य बनें
क्या आप नया ब्लॉग बनाना चाहते हैं?
नवीनतम सदस्य

नई हलचल

दोहे "सुधरेगा परलोक" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

श्रद्धा से ही कीजिए, निज पुरुखों को याद।श्रद्धा ही तो श्राद्ध की, होती है बुनियाद।।--आदिकाल से चल रही, जग में जग की रीत।वर्तमान ही बाद में, होता सदा अतीत।।--जीवन आता है नहीं, जब जाता है रूठ।जर्जर ...  और पढ़ें
2 घंटे पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
0

दोहे "माता के नवरात्र" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

श्राद्ध गये तो आ गये, माता के नवरात्र।लीला का मंचन करें, रामायण के पात्र।।--विजयादशमी साथ में, लाती बहु त्यौहार।उत्सव मानवमात्र के, जीवन का आधार।।--शरदपूर्णिमा से हुआ, सरदी का आगाज।दीन किसानों...  और पढ़ें
4 घंटे पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
0
0

इन पांडा की भीड़ में एक कुत्ता ढूंढ कर दिखाएं, आप का दिमाग हिल जायेगा

पहेलियां हल करना टाइमपास का सबसे अच्छा साधन हैं। पर कई बार पहेलियों को बुझाते बुझाते इतना समय लग जाता है कि झुंझलाहट होने लगती है। आजकल ऐसी ही कई पहेलियों वाली तस्वीरें सोशल मीडिया पर धमाल मच...  और पढ़ें
12 घंटे पूर्व
shweta
offbeat news
1

Ye_Mohabbatein

12 घंटे पूर्व
Abhilasha
@Abhi
0

अतीत की और

वह एक बार फिर इतिहास के उस गलियारे की तरफ पलट कर देख रहाथा, जिसे कि वह पीछे छो़ड आया था।वह सोच रहा था कि क्या   यह वही रास्ता नही है जिसे वह पीछे छोड़ कर आया था! बेशक  यह  वही रास्ता है  जिसे हम...  और पढ़ें
13 घंटे पूर्व
Shoaib
शोएबवाणी
0

प्रेम

   मेरी सहेली ने मुझ से कहा, "वह तुम्हारे लिए बिल्कुल सही है"; वह एक ऐसे पुरुष के बारे में बात कर रही थी जिससे वह हाल ही में मिली थी। मेरी सहेली ने उस पुरुष की नम्र आँखों, उदार मुस्कुराहट, और दयाल...  और पढ़ें
15 घंटे पूर्व
Roz Ki Roti
रोज़ की रोटी - Daily Bread
0

एक श्रृद्धांजलि: याचना

आज रामधारी सिंह 'दिनकर'का जन्‍म दिन है तो लीजिए  पढ़िए उनकी ये रचना जो उनकी 'रेणुका'से ली गई है जिसे दिनकर ने १९३४ में लिखा था -याचना / रामधारी सिंह "दिनकर"प्रियतम! कहूँ मैं और क्या?शतदल, मृदुल जीव...  और पढ़ें
19 घंटे पूर्व
Alaknanda singh
ख़ुदा के वास्‍ते !
2

इस तस्वीर को ध्यान से देखकर बताइये कि, ये आदमी घर के अंदर बैठा है या बाहर

यह आपकी सोच और व्यक्तित्व की परीक्षा है जो आपके बारे में कुछ गहरे राज बताती है। इस तस्वीर को जिस भी नजरिये या एंगल से आप देखते हैं, वो बताता है कि आप परेशानी या प्रॉब्लम्स को कैसे हैंडल करते हैं, ...  और पढ़ें
20 घंटे पूर्व
shweta
offbeat news
3

क्यों मनाते हैं नवरात्रि का त्यौहार, क्यों करती हैं माँ शेर की सवारी

नवरात्रि का त्यौहार शुरू हो चुका है, घर-घर में माँ शेरों वाली का दरबार सजा है। माता की चौकी, जगराता, गरबा, डांडिया आदि के बहाने अपने-अपने तरीके और रीति रिवाज़ के अनुसार भक्त माँ की भक्ति में डूबे ...  और पढ़ें
22 घंटे पूर्व
shweta
offbeat news
2

जुनून - खजाना यादों का 7

आग में गर्मी ना हो, बर्फ में ठंढक ना हो, कलाकार में जुनून ना हो तो फिर ये भला किस काम के । यह कलाकार का जुनून ही है जो उसे जनसाधारण से अलग करता है। वह जो ठान लेता है उसे कर के ही मानता है। भले ही उसका ...  और पढ़ें
23 घंटे पूर्व
bhavna pathak
bhonpooo.blogspot.com
1

चिड़िया: बस, यूँ ही....

चिड़िया: बस, यूँ ही....: नौकरी, घर, रिश्तों का ट्रैफिक लगा,  ज़िंदगी की ट्रेन छूटी, बस यूँ ही !!! है दिवाली पास, जैसे ही सुना, चरमराई खाट टूटी, बस यूँ ही !!! ड......  और पढ़ें
23 घंटे पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
0

क्यों करते हैं व्यस्क, बच्चों का यौन शोषण

हमारे समाज में अनेकों बुराइयां व्याप्त हैं, जिनका सामना करते हुए और जिनसे लड़ते हुए हम इस दुनिया में जीते हैं। लेकिन अगर सबसे ज्यादा अमानवीय और उपेक्षित कृत्य की बात करें तो वो है बाल शोषण। और ...  और पढ़ें
1 दिन पूर्व
shweta
offbeat news
2

ये हैं बॉलीवुड की टॉप अभिनेत्रियां जिन्हे हिंदी नहीं आती

हिंदी हमारी मातृभाषा है। हम सभी अपनी मातृभाषा से बहुत प्यार करते हैं, शायद यही कारण है की देश विभिन्न क्षेत्रीय भाषाओं पर फिल्में बनने के बावजूद, बॉलीवुड केवल हिंदी फिल्में बनाकर सबसे अधिक स...  और पढ़ें
1 दिन पूर्व
shweta
offbeat news
0

पुराने ज़माने में औरतें क्यों नहीं लेती थीं अपने पति का नाम

पुराने ज़माने में औरतें अपने पति का नाम क्यों नहीं लेती थीं जरा देखिये फिर आप खुद ही समझ जायेंगे।दो औरतें बात कर रही थीं। उनमे से एक औरत के पति का नाम धनिया था।पहली औरत - बहन आज खाने में क्या बना...  और पढ़ें
1 दिन पूर्व
shweta
offbeat news
0

क्यों ना हम पहले आपने अन्दर के रावण को मारें

क्यों ना हम पहले आपने अन्दर के रावण को मारें
“रावण को हराने के लिए पहले खुद राम बनना पड़ता है ।“
विजयादशमी यान...  और पढ़ें
1 दिन पूर्व
dr neelam mahendra
1

कोशिशें होंगी मुकम्मल, कारवाँ बन जाएगा...

है निज़ामों का शहर, यहाँ बात इतनी जानिए,सर झुकाएंगे अगर, सजदा नहीं कहलाएगा...नज़ाफ़त की ये हवा, सब कुछ उड़ा ले जाएगी,है चिराग ए इल्म जो, कब तक छुपा रह पाएगा...अब तो बाजू खोलिए, कैसी ज़हमत-ए-दासतां,कोशिशे...  और पढ़ें
1 दिन पूर्व
रवीन्द्र पाण्डेय
कुछ ऐसा भी... Kuchh Aisa Bhi...
0

सैकत

असंख्य यादों के रंगीन सैकत ले आई ये तन्हाई,नैनों से छलके है नीर, उफ! हृदय ये आह से भर आई!कोमल थे कितने, जीवन्त से वो पल,ज्यूँ अभ्र पर बिखरते हुए ये रेशमी बादल,झील में खिलते हुए ये सुंदर कमल,डाली पे ...  और पढ़ें
1 दिन पूर्व
पुरूषोत्तम कुमार सिन्हा
0

खिलते हैं फूल पाँव के ठोकर से

पुरातात्विक भग्नावशेषों में मथुरा से मिला ईसा की दूसरी शती की कुषाण कालीन युवती की प्रस्तर प्रतिमा के पार्श्व में अशोक का फूला हुआ पेड़ उत्कीर्ण है और वह युवती अपने पाँव से उस पेड़ की जड़ पर प्रह...  और पढ़ें
1 दिन पूर्व
राजीव कुमार झा
0

799... लड्डू

सभी को यथायोग्यप्रणामाशीषऔर 17 सितम्बर 2017 के आयोजन के लिएबैनर , सम्मान-पत्र और पत्रिका छपवाने में ऐसा खोये कि15 सितंबर 2017 को ग्यारह बजे रात में पोस्ट बनाने बैठेइस बार 19 सितम्बर को ही बना लिए20 सित...  और पढ़ें
1 दिन पूर्व
Yashoda Agrawal
पाँच लिंकों का आनन्द
0
0

मैं, कीर्ति, श्री, मेधा, धृति और क्षमा हूं... स्मृति आदित्य

एक मधुर सुगंधित आहट। आहट त्योहार की। आहट रास, उल्लास और श्रृंगार की। आहट आस्था, अध्यात्म और उच्च आदर्शों के प्रतिस्थापन की। एक मौसम विदा होता है और सुंदर सुकोमल फूलों की वादियों के बीच खुल जात...  और पढ़ें
1 दिन पूर्व
Yashoda Agrawal
मेरी धरोहर
0

हमारे टोटके

GOOGLE IMAGE हार गए तुमसे प्यार जताकर,तुम दूर जाते होऔर मुस्कराते हो,तुम्हें पता ही है नहम तुम्हारे बस तुम्हारे हैं,तभी तो तुमसे हारे हैं;सुनो, आज हम मजार वालेफकीर बाबा के पास गए थे,उन्होंने सुबह और रा...  और पढ़ें
2 दिन पूर्व
Abhilasha
@Abhi
2

विडियो बनाने के लिए फ्री क्लिप डाउनलोड करें - creative commons video download

विडियो बनाने के लिए फ्री क्लिप डाउनलोड करें - creative commons video download ...Hi friends, How are you.. Friends शायद आप विडियो आदि बनाने के लिए कुछ ऐसी विडियो क्लिप खोज रहें होंगे जिन्हें आप अपनी विडियो में शामिल कर सकें और अपनी विड...  और पढ़ें
2 दिन पूर्व
Satish Kumar
Mera Hindi Blog - Intertainment ways to earn at home sex education all type sms jokes love story
2

अपने पोस्ट के लिए नॉन कॉपीराइट इमेज डाउनलोड करें - Copyright free images for commercial use

अपने पोस्ट के लिए नॉन कॉपीराइट इमेज डाउनलोड करें - Copyright free images for commercial useहेल्लो फ्रेंड्स, आज मैं फिर आपके लिए कुछ नया लेकर हाजिर हूँ. दोस्तों यदि आप अपनी website या blog पर पोस्ट लिखते है तो अवश्य ही आपको इसमे...  और पढ़ें
2 दिन पूर्व
Satish Kumar
Mera Hindi Blog - Intertainment ways to earn at home sex education all type sms jokes love story
2

विडियो बनाने के लिए background music फ्री में प्राप्त करें - license free music for commercial use

नमस्कार दोस्तों, यदि आप अपने युट्यूब चैनल के लिए विडियो बनाना चाहते है या आप किसी अन्य काम के लिए विडियो बनाते है तो अवश्य ही आपको अपनी विडियो के background में play करने के लिए म्यूजिक की जरूरत पड़ती होग...  और पढ़ें
2 दिन पूर्व
Satish Kumar
Mera Hindi Blog - Intertainment ways to earn at home sex education all type sms jokes love story
0

पाठ

   मैं झील के शान्त पानी में, एक हरी घास के झुरमुट के निकट मछली पकड़ रहा था। मैंने देखा कि एक बड़ी सी मछली, घास के उस झुरमुट में से निकलकर आई और निरीक्षण करने लगी। मेरी बंसी की डोर के अन्त में लगे च...  और पढ़ें
2 दिन पूर्व
Roz Ki Roti
रोज़ की रोटी - Daily Bread
0

चिॆटू की जब आंख खुली - बाल कहानी

चिंटू खरगोश को कहानियां सुनने का बड़ा शौक था। अपने काका से कहानी सुने बिना वह सोता न था। काका ने बताया कि आज वह छिपते- छिपाते पार्क जा पहुंचे वहां देखा एक बेंच पर बैठे बुजुर्ग से बच्चे कुछ कह रह...  और पढ़ें
2 दिन पूर्व
bhavna pathak
bhonpooo.blogspot.com
0

हे देवि! अब मृजया रक्ष्यते को लेकर हमारी शर्मिंदगी भी स्‍वीकार करें

durga-puja-sindur-khela-painting-by-ananta-mandalअतिवाद कोई भी हो, वह सदैव संबंधित विषय की उत्‍सुकता को नष्‍ट कर देता है। अति  की घृणा, प्रमाद, सुंदरता, वैमनस्‍य, भोजन, भूख, जिस तरह जीवन को प्रभावित करती  हैं और स्‍वाभाविक ...  और पढ़ें
2 दिन पूर्व
Alaknanda singh
अब छोड़ो भी
0

.............तभी कम्बख्त ससुराली ,

थी कातिल में कहाँ हिम्मत  ,मुझे वो क़त्ल कर देता  ,        अगर  मैं  अपने  हाथों  से  ,न  खंजर  उसको  दे  देता  .............................................................  और पढ़ें
2 दिन पूर्व
SHALINI KAUSHIK
! कौशल !
0
पिछला123456789...22102211अगला


Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन