अपना ब्लॉग जोड़ें

अपने ब्लॉग को  जोड़ने के लिये नीचे दिए हुए टेक्स्ट बॉक्स में अपने ब्लॉग का पता भरें!
आप नए उपयोगकर्ता हैं?
अब सदस्य बनें
सदस्य बनें
क्या आप नया ब्लॉग बनाना चाहते हैं?
नवीनतम सदस्य

नई हलचल

क्षणिकाएं

1:पहचानयूँ तो उनसे हमारी जान पहचानबरसों की है पर....फिर लगता है कि क्याउन्हें सचमुच जानते हैं हम**************2:जिन्दगीजिन्दगी जीने की चाह मेंजिन्दगी कट गयीपर जिन्दगी जीई न गई*********3:पलहमने पल - पलबेसब्री स...  और पढ़ें
2 घंटे पूर्व
Sudha
Meri Jubani
0

5 Funny WhatsApp chats 2018 | हंसी रुकने का नाम नहीं लेगी

बेहद फनी हैं ये व्हाट्सएप्प चैट, फ्रेंड्स, आज के समय में स्मार्ट फ़ोन में व्हाट्सप्प का होना उतना ही जरूरी है जितनी जरूरी चाय में चीनी होना है। इस बात का अंदाज़ा आप इसी बात से लगा सकते हैं कि अगर ए...  और पढ़ें
5 घंटे पूर्व
shweta
offbeat news
0

प्रयास

   बचपन में मुझे पेड़ों पर चढ़ना बहुत पसंद था। जितना ऊँचा मैं चढ़ता था, उतनी दूर तक का दृश्य मुझे दिखाई देता था। कभी-कभी और अच्छा देख पाने के प्रयास में मैं पेड़ की डाली पर और आगे की ओर बढ़ता जाता था, ...  और पढ़ें
5 घंटे पूर्व
Roz Ki Roti
रोज़ की रोटी - Daily Bread
0

LTCG का झटका, फिर भी बाजार संभला

मोदी सरकार का जोर का झटका, लेकिन फिर भी 23 फरवरी से बाजार संभलने लगा है। अ्ब बाजार अपने पुराने मुकाम की ओर लौटने लगा है। सेंसेक्स 322.65 अंक बढ़कर 34,142.15 पर बंद हुआ वहीं निफ्टी 108.35 अंक चढ़कर 10.491.05 पर बंद हु...  और पढ़ें
8 घंटे पूर्व
सुनील सिंह
पहचान पत्र
0

Fate binds the time.

10 घंटे पूर्व
Abhilasha
@Abhi
0

Main samay hun...

10 घंटे पूर्व
Abhilasha
@Abhi
0

आशा फलती उसी की, जिसको है सन्तोष, सत्प्रयास रत जो रहा, उसका भरता कोष. शील प्रमुख संसार में, रक्खें हम सामर्थ, शील नष्ट यदि हो गया,जीवन का क्या अर्थ....  और पढ़ें
10 घंटे पूर्व
Dr. Harimohan Gupt
Dr. Hari Mohan Gupt
0

दोहे

आशा फलती उसी की, जिसको है सन्तोष, सत्प्रयास रत जो रहा, उसका भरता कोष. शील प्रमुख संसार में, रक्खें हम सामर्थ, शील नष्ट यदि हो गया,जीवन का क्या अर्थ....  और पढ़ें
10 घंटे पूर्व
Dr. Harimohan Gupt
Dr. Hari Mohan Gupt
0

Saza-e-zindagi

10 घंटे पूर्व
Abhilasha
@Abhi
0

एक प्रश्न

एक प्रश्नवो बेटीईश्वर से पूछती है,क्यों भेजा गयामुझे उस गर्भ में,जहां मेरी नहींबेटे की चाह थी....एक प्रश्नवो बेटी उस  मां से पूछती है,"तुम तो मां  होक्या तुम भीआज न बचाओगी मुझेइन  जालिमों&nb...  और पढ़ें
13 घंटे पूर्व
kuldeep thakur
man ka manthan. मन का मंथन।
0

घोटाला कर भागने वाले को 'वीर'कहते हैं!

घोटालाअपने नेचर में 'प्रेम'की तरह होता है। किया नहीं जाता, हो जाता है। जिनमें माआदा होता है वे अपने प्रेम को खींचकर शादी तक ले जाते हैं। जिनमें रिस्क लेने की हिम्मत नहीं होती वे बेगानी शादी में ...  और पढ़ें
16 घंटे पूर्व
Anshu Mali Rastogi
चिकोटी
5

गीत "अपने मन को बहलाते हैं" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

मधुमेह हुआ जबसे हमको,मीठे से हम कतराते हैं।गुझिया-बरफी के चित्र देख,अपने मन को बहलाते हैं।।आलू, चावल और रसगुल्ले,खाने को मन ललचाता है,हम जीभ फिराकर होठों पर,आँखों को स्वाद चखाते हैं।गुझिया-...  और पढ़ें
19 घंटे पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
2
3

952 ईंजीनियर श्री दिनेश चन्द्र गुप्त 'रविकर'

सादर अभिवादन....देवी श्वेता अवकाश परआज हम एक विशेष प्रस्तुति लेकर....आज हम बात करेंगे आदरणीय श्री दिनेश चन्द्र गुप्त 'रविकर'जी की....आप बहुत सारे ब्लॉग के संचालक हैं..मसलन.."कुछ कहना है", शांत...  और पढ़ें
22 घंटे पूर्व
Yashoda Agrawal
पाँच लिंकों का आनन्द
0

कैसे ये बच्चा सुधर गया...राजेश रेड्डी

यूँ देखिये तो आँधी में बस इक शजर गयालेकिन न जाने कितने परिन्दों का घर गयाजैसे ग़लत पते पे चला आए कोई शख़्ससुख ऐसे मेरे दर पे रुका और गुज़र गयामैं ही सबब था अबके भी अपनी शिकस्त काइल्ज़ाम अबकी बार भी ...  और पढ़ें
23 घंटे पूर्व
Yashoda Agrawal
मेरी धरोहर
0

प्रश्न

उग आते हैं कुछ प्रश्न ऐसेजेहन की जमीन परजैसे कुकुरमुत्तेऔर खींच लेते हैंसारी उर्वरता उस भूमि कीजो थी बहुत शक्तिशालीजिसकी उपज थी एकदम आलापर जब उग आते हैंऐसे कुकुरमुत्तेजिनकी जरुरत नहीं थी क...  और पढ़ें
1 दिन पूर्व
Sudha
Meri Jubani
3

सफर कुछ अलग-सा

कागज की नाव बनाकर उसे बारिश के पानी में छोडना और तेजी से ओझल होते देखना मन में जैसी ख़ुशी का संचार करता था, वैसी ख़ुशी मोटर बोट खिलौने में कहाँ मिलती थी  ? कुछ ऐसे ही उम्मीदों के साथ पिछले रव...  और पढ़ें
1 दिन पूर्व
Chetna Vardhan
bas do minute
5

सुबह का अखबार पकाये हुऐ ताजे समाचार और प्रिय कागा तेरी सुरीली आवाज एक जैसी आदतों में शामिल आदतें

काँव काँव कर्कश होती है कभी कह भी दिया होता है किसी ने तो ऐसा भी तो नहीं होता है कि मुँडेर पर आना ही छोड़ दो निर्मोही मोह होता ही है भंग होने के लिये चल लौट आ और बैठ ले सुबह सवेरे पौ फटते ही मेरे ही द...  और पढ़ें
1 दिन पूर्व
डा0 सुशील कुमार जोशी
उल्लूक टाईम्स
0

बेंच से क्या होगा ?

                        पश्चिमी यू.पी.उत्तर प्रदेश का सबसे समृद्ध क्षेत्र है .चीनी उद्योग ,सूती वस्त्र उद्योग ,वनस्पति घी उद्योग ,चमड़ा उद्योग आदि आदि में अपनी पूरी धाक रखते हुए कृ...  और पढ़ें
1 दिन पूर्व
SHALINI KAUSHIK
! कौशल !
6

शान्त

   वर्षों पहले मैं पत्रों का उत्तर कुछ ही सप्ताह के अन्दर दे देता था, और मेरे साथ पत्राचार करने वाले इससे प्रसन्न रहते थे। फिर फैक्स मशीनें आ गईं, और उत्तर कुछ ही दिनों के भीतर दिए जाने लगे। आ...  और पढ़ें
1 दिन पूर्व
Roz Ki Roti
रोज़ की रोटी - Daily Bread
4

पर्स

कल सभी को मुफ्त में पर्स बाँटे जायेंगे।हाथ फैलाना सम्भलकर हाथ काटे जायेंगे।क्या हु...  और पढ़ें
1 दिन पूर्व
विमल कुमार शुक्ल
मेरी दुनिया
4

गुलामी कही गयी नही दुःख हमारी चमड़ी को छूकर जाती है -- प्रो चन्द्रकला त्रिपाठी -- 22-2-18

गुलामी अभी भी है कहीं गयी नही- दुःख हमारी चमड़ी को छूकर जाती है - प्रो चन्द्रकला त्रिपाठीपृथ्वी अपनी गति की दिशा के विपरीत नही जाती , मनुष्य की चेतना भी विकास के उलट नही जाती | मनुष्य को ऊँचाइया और...  और पढ़ें
1 दिन पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
2

चोर चोर सब भाई हैं, व्यर्थ मचाते शोर, वही पकड़ में आ सका,जो होता कमजोर. नीचे से ऊपर तलक, यहाँ कमीशन खोर, कभी पकड़ में आगये, तो नीचे वाला चोर....  और पढ़ें
1 दिन पूर्व
Dr. Harimohan Gupt
Dr. Hari Mohan Gupt
4

हौसलों को उड़ान दे...

ना मंजिलें न मुकाम दे,ना मख़मली सी शाम दे...नहीं भूलना मुझे वक़्त तू,मेरे हौसलों को उड़ान दे...जिस गली से गुज़र गया,उस राह को आबाद रख...जिस शहर में हूँ जी रहा,उसे कोई तो पहचान दे...आयेंगे खैरियत पूछने,जिन्...  और पढ़ें
2 दिन पूर्व
रवीन्द्र पाण्डेय
कुछ ऐसा भी... Kuchh Aisa Bhi...
5

ऐतिहासिक तथ्य चीख-चीख कर गांधी-नेहरू परिवार की हकीकतों से पर्दा उठा रहा है

हरेश कुमारडॉक्टर राजेंद्र प्रसाद के कमरे से नेहरू के निर्देश पर डायलिसिस मशीन हटा ली गई थी, इस तथ्य को आप पटना जाकर पता कर सकते हैं जाकर। वो सीलनभरे कमरे में रहने को मजबूर थे। डॉक्टर राजेंद्र ...  और पढ़ें
2 दिन पूर्व
Haresh
Information2media
5

चाहै घोटाला महा करौ - अवधी व्यंग कविता

बेटवा जो करौ सो बड़ा करौचाहै घोटाला महा करौहम काटा उमिर कलर्की माकुछ कइ पावा ना जिनगी मातुम किहेव न बेटवा अस गल्तीखूब फूंक फूंक के गोड़ धरौबेटवा जो करौ सो बड़ा करौचाहै घोटाला महा करौबिन भेष क...  और पढ़ें
2 दिन पूर्व
bhavna pathak
bhonpooo.blogspot.com
4

सर्व शिक्षा अभियान

यह चित्र गूगल से लिया गया है |शर्मीली...... एक ग्यारह वर्षीय लड़की जो अपने नाम की ही तरह काफी  शर्मिली है | शर्मीली फैज़ाबाद जिले के सोनापुर गाँव की रहने वाले रमेश नामक कुम्हार की इकलौती लड़की थी | रम...  और पढ़ें
2 दिन पूर्व
rishabhshukla
........... मेरे मन की
3

अद्भुत संयोग

नेता जी के आगमन पर शर्मा जी ने प्रसन्नता के भाव चेहरे पर लाते हुए कहा - "अद्भुत संयोग है की नेता जी स्वयं यहाँ पधारे|"चौबे जी पास में खड़े थे उन्होंने कहा - "यह सच में अद्भुत संयोग ही है की नेता जी चुन...  और पढ़ें
2 दिन पूर्व
rishabhshukla
हिंदी साहित्य का झरोख़ा
5

प्रश्न का उत्तर प्रश्न नही हो सकता है....नीतू ठाकुर

पा लेना ही प्रेम नहीं हो सकता है, सब कुछ खोकर भी क्या प्रेम पनपता है? प्रश्न किया जब जब मेरे मनमीत ने उत्तर देने जन्म लिया एक गीत ने जीवन की परिभाषा क्या है क्योँ जानें ?सत्य असत्य के भेद...  और पढ़ें
2 दिन पूर्व
Nitu Rajnish Thakur
MAN SE- Nitu Thakur
4

शादी मुबारक इमरान भाई

'इमरान (भाई) खान को तीसरी शादी मुबारक।'इतना स्टेटस लिख मैंने अपने फेसबुक पेज पर शेयर किया ही था कि मुझे तरह-तरह के ताने दिए जाने लगे। पहली आपत्ति तो लोगों को यही थी कि मैंने पड़ोसी (दुश्मन) मुल्क क...  और पढ़ें
2 दिन पूर्व
Anshu Mali Rastogi
चिकोटी
5
पिछला123456789...23872388अगला


Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन