अपना ब्लॉग जोड़ें

अपने ब्लॉग को  जोड़ने के लिये नीचे दिए हुए टेक्स्ट बॉक्स में अपने ब्लॉग का पता भरें!
आप नए उपयोगकर्ता हैं?
अब सदस्य बनें
सदस्य बनें
क्या आप नया ब्लॉग बनाना चाहते हैं?
नवीनतम सदस्य

नई हलचल

सिया राम मय जगत है,जन जन का आधार, मिथ्या सब संसार है, प्राणी यह है सार l सिया राम मय जगत है,जन जन का आधार, मिथ्या सब संसार है, प्राणी यह है सार l ...  और पढ़ें
1 घंटे पूर्व
Dr. Harimohan Gupt
Dr. Hari Mohan Gupt
1

झूठे बाज़ार में औरत

एक पूरा युगअपने भीतर जी रही है स्त्री,कहती है ख़ुद को नासमझ,उगाह नहीं पायी अब तकअपनी अस्मिता का मूल्य,मीडिया की बनाई छवि मेंघुट-घुट कर होंठ सी लेती है स्त्री,सड़कों पर कैंडल मार्च करती भीड़ मेंअस...  और पढ़ें
2 घंटे पूर्व
Aparna Bajpai
Bol Skhee Re ( साहित्यिक सरोकारों से प्रतिबद्ध )
1

प्रेम

हर किसी के वास्ते ठहरा नहीं जाता। टोटकों से प्रेंम सच गहरा नहीं जाता।नेह उर  में हो अग&...  और पढ़ें
2 घंटे पूर्व
विमल कुमार शुक्ल
मेरी दुनिया
1

राजनीति में बाबा-संस्कृति

हाल में मध्य प्रदेश ने राज्य में पाँच बाबाओं को राज्यमंत्री का दर्जा दिया है। इनमें एक हैं कम्प्यूटर बाबा, जिनकी धूनी रमाते तस्वीर सोशल मीडिया में पिछले हफ्ते वायरल हो रही थी। तस्वीर में भोप...  और पढ़ें
3 घंटे पूर्व
Pramod Joshi
जिज्ञासा
1

दोहे "बातों में है बात" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

सभी तरह की निकलती, बातों में से बात।बातें देतीं हैं बता, इंसानी औकात।।--माप नहीं सकते कभी, बातों का अनुपात।रोके से रुकती नहीं, जब चलती हैं बात।।--जनसेवक हैं बाँटते, बातों में खैरात।अच्छी लगती सभ...  और पढ़ें
4 घंटे पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
1

"मेघ"राधा तिवारी 'राधेगोपाल'

                     मेघसर्व सुख दाता विधाता, हो मेरे मन भावना। नभ में मेघ बुलाकर करते, मौसम अतिसुहावना।। बारिशों की बूँदों से, पत्ते झूमें लहर हिलोर । तुम बसन्त में कर जाते हो, मन...  और पढ़ें
5 घंटे पूर्व
राधे गोपाल
राधे का संसार
1
1

लालसा

   नेजाहुआलकोयोटल (1402-1472) उच्चारण करने में कठिन परन्तु बहुत सार्थक नाम है। इस नाम का अर्थ होता है “भूखा कोयोट”, (कोयोट भेड़िए की जाति का जंगली जानवर है), और इस नाम वाले व्यक्ति के लेख एक आत्मिक भू...  और पढ़ें
14 घंटे पूर्व
Roz Ki Roti
रोज़ की रोटी - Daily Bread
3

रेस्टोरेंट में..ग्राहक : ये पुलाव में इतने पत्थर क्यों आ रहे हैं भाई?वेटर : सर, आपने 'कश्मीरी पुलाव'ऑर्डर किया है!😅😅...  और पढ़ें
14 घंटे पूर्व
Upendra Gughane
hindisahityamanjari
3

बाजारीकरण ने नारी के जननी होने की युगों पुरानी गरिमा को कलंकित करने का काम किया है ? 19-4-18

बाजारीकरण ने नारी के जननी होने की युगों पुरानी गरिमा को कलंकित करने का काम किया है ?पिछले 15-20 सालो से महिला सशक्तिकरण एक बहुचर्चित मुद्दा बना हुआ है | महिलाओं में सुन्दर दीखने - दीखाने का चलन बढ़त...  और पढ़ें
15 घंटे पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
1

रेलवे का 'स्पेशल'स्वच्छता अभियान ?

हबीबगंज (भोपाल)दिन बुधवार, समय 5 बजकर 30 मिनट, लेकिन गाड़ी छूट न जाए इसलिए सभी यात्री समय से आधा घंटा पहले पहुंच गए। अब आपको गाड़ी का नंबर और नाम बताते हैं। गाड़ी का नंबर 01665 है और ये हबीबगंज से अगरतल...  और पढ़ें
15 घंटे पूर्व
सुनील सिंह
पहचान पत्र
3

फॉलो करें ये 10 टिप्स जो साड़ी में आपको स्लिम और लम्बा दिखाएंगे | Look tall and gorgeous in saree

साड़ी ऐसा भारतीय परिधान है जो हर लड़की पर फबता है। समय के साथ साड़ी ड्रेपिंग और डिजाइंस में भले ही बदलाव आते रहे हों लेकिन लोकप्रियता कभी कम नहीं हुई। साड़ी में सबसे खूबसूरत दिखने के लिए जरूरी है क...  और पढ़ें
18 घंटे पूर्व
shweta
offbeat news
3

अनजाना

वो  देखो  उसकी  मुट्ठी में, एक दाना भुना सा हैलंगोटी उसके तन पर  है, माथा कुछ तना सा हैभले ही काया श्यामल हो, हृदय में गंग - धारा हैन जाने क्यों फिर से 'जय', अनजाना बना सा हैhttp://kadaachit.blogspot.in/ ...  और पढ़ें
18 घंटे पूर्व
jai bhardwaj
kabhee kabhee
3

समय

जिन्होंने मुझसे सीखा था ककहरा अपने जीवन का जिन्हे हमने दिखाया था, दर्पण उनके निज-मन का समय  बीता,  दृष्टि रूठी,  हृदय  की  धड़कने बदलीं वो देखो आज आये हैं,  लिए हाथों  में  सिर 'जय'...  और पढ़ें
19 घंटे पूर्व
jai bhardwaj
kabhee kabhee
4

देश को बेइज्‍ज़त करने के कुत्‍सित-अभियान... क्‍या ये देशद्रोह नहीं

सूचनाओं की बेलगाम आवाजाही एक ओर जहां कानून-व्‍यवस्‍था और  शासन-प्रशासन पर सवालिया निशान लगाती है वहीं दूसरी ओर समाज  को भी संवेदनाहीन बनाने का काम करती है। पिछले लगभग तीन चार  साल से मैं ...  और पढ़ें
21 घंटे पूर्व
Alaknanda singh
अब छोड़ो भी
4

बगैर चीनी का केक प्राकृतिक चीजों से बनाये cake without sugar recipe in hindi

                डायबिटीज वालों के लिये स्पेशल केक बगैर चीनी का केक ना चीनी ना  कैमिकल डालें केवल प्राकृतिक चीजो से बनाये ये प्राकृतिक मिठास वाला केक जो खाने में बहुत स्वादिष्ट हैं और...  और पढ़ें
21 घंटे पूर्व
Seema Kaushik
सीमा की रसोई (Seema Ki Rasoi)
7

अनार से बनाये ये जबरदस्त केक सस्ता व सरल केक anar ka cake banane ki recipe

अनार का बर्थ डे केक सरल व सस्ता होने के साथ-साथ स्वाद में भी कम नही होता हैं जिसके कारण आजकल बर्थ डे पर इस केक को बनाना बहुत ही पसन्द किया जाता हैं आप भी हमारे द्वारा बताई गई विधि से अनार का बर्थ ड...  और पढ़ें
22 घंटे पूर्व
Seema Kaushik
सीमा की रसोई (Seema Ki Rasoi)
5

अतृप्त

एक नन्हा सा पंछी बैठा था एक टहनी पर चुपचाप प्रकृति की गोद में बुन रहा था सपनों का आकाशऊपर ऊँचाई पर उड़ती चीलों को देख स्वयं से बोलाएक दिन मुझे भी स्पर्श करना है यह अनन्त आकाशअन्य रंगीले पक्षिय...  और पढ़ें
22 घंटे पूर्व
jai bhardwaj
kabhee kabhee
3

हमें जहाँ की कहाँ पड़ी है .... नीतू ठाकुर

मरती है तो मर जाने दो हमें जहाँ की कहाँ पड़ी है पागल है लड़की की माँ जो न्याय की खातिर जिद पे अड़ी है शोक प्रदर्शन खत्म हो चुका अब घरवालों को सहने दो प्रेम नगर के वासी हैं हम प्रेम नगर म...  और पढ़ें
23 घंटे पूर्व
Nitu Rajnish Thakur
MAN SE- Nitu Thakur
3

जो सोचते हैं जग भला,तो हुआ उनका भला, मन मिलेंगे दूर होगा, दूरियों का सिलसिला l आपसी सद भाव का जो पाठ पढ़ते सर्वदा, देश हित में सोचते, सम्मान उनको ही मिला l ...  और पढ़ें
1 दिन पूर्व
Dr. Harimohan Gupt
Dr. Hari Mohan Gupt
3

कांग्रेस की सैन्य नीति ठीक, पर कूटनीतिक मोर्चा अभी खाली है

साभारः पत्रिकाडॉटकॉम✍ त्वरित टिप्पणी@बरुण सखाजीबीते एक दशक से राजनीति के केंद्र में संवाद और छवि ने अपना स्थान और मजबूत किया है। अब सत्तर के दौर की छवि से बेखबर राजनीति नहीं होती। न ही नेतृत...  और पढ़ें
1 दिन पूर्व
Barun Sakhajee
आम आदमी सरकारी चंगुल में......
3

गीत "गुलमोहर! फिर भी हँसते जाते हो" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

सहते हो सन्ताप गुलमोहर!फिर भी हँसते जाते हो।लू के गरम थपेड़े खाकर,अपना “रूप” दिखाते हो।।ताप धरा का बढ़ा मगर,गदराई तुम्हारी डाली है,पात-पात में नजर आ रही,नवयौवन की लाली है,दुख में कैसे मुस्काते...  और पढ़ें
1 दिन पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
3

चर्चा - 2945

1 दिन पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
3

1007...कदम कदम बढ़ाये जा ...

सादर अभिवादन। नोट फिर चले हैं चाल मतवाली !लोग खड़े कतार में एटीएम ख़ाली !!आइये अब आपको आज की पसंदीदा रचनाओं की ओर ले चलें -सोशल मिडिया में साहित्य की तासीर पर छिड़ी बहस पर प्रकाश डालता एक गंभी...  और पढ़ें
1 दिन पूर्व
Yashoda Agrawal
पाँच लिंकों का आनन्द
3

पाषाण यहाँ बसते.....उर्मिला सिंह

कैसे मन्जिल तक पहुँचे, छाया  घोर अँधेरा है!कदम कदम यहाँ दरिंदो का लगा हुआ मेला है!मन  कहता  सपनो  को  पूरा  कर लूँ,डर कहता दरिंदो से अपने को बचालूँ,      कैसे अर्जुन बन लक्ष्य साधू ह...  और पढ़ें
1 दिन पूर्व
Yashoda Agrawal
मेरी धरोहर
3

=== मलंग ===

=== मलंग ===पुष्प से सुगंध कोमन से अंतरंग कोमधुप से पराग कोमुझसे मेरी आग कोकैसे  मैं उधार दूँ ?या इन्हे ही मार दूँ !ठिठक गए हैं कदमपूर्ण सजग किन्तु मनबदल रहे हैं  रंग ढंगशशक से बना कुरंग ||1...  और पढ़ें
1 दिन पूर्व
jai bhardwaj
kabhee kabhee
3

कौन रोकेगा जाति का जहर ?

भारतीय राजनीति की जड़ में जातिवाद का जहर इस तरह घुल गया है कि उसे जड़ से मिटाना अभी संभव नहीं दिख रहा है। बीजेपी नीत मोदी सरकार दलितों को रिझाने के लिए अध्यादेश लाने की तैयारी में है तो वहीं वो ...  और पढ़ें
2 दिन पूर्व
सुनील सिंह
पहचान पत्र
3

प्रेम

   मेरी सहेली की बच्ची को दौरे पड़ने लगे, इसलिए वे उसे एम्बुलेंस में लेकर अस्पताल की ओर तेज़ी से जा रहे थे। रास्ते भर बच्ची की माँ का हृदय तेज़ी से धड़कता रहा, वह उसके लिए प्रार्थना करती जा रही थी। ...  और पढ़ें
2 दिन पूर्व
Roz Ki Roti
रोज़ की रोटी - Daily Bread
3

आज का ज्ञानऑफ़िस के लिए जाते वक़्त जो कुत्ता सोते हुए मिलता हैवही वापस आते वक़्त भी अगर सोते हुए मिल जायतो...समझ जाना जिंदगी कुत्ते से भी बदतर हो गयी है...  और पढ़ें
2 दिन पूर्व
Upendra Gughane
hindisahityamanjari
3

आँसू

हमारे   नयन   देखें   जब  तुम्हारी पलक में पानी मानता मैं स्वयं को तब, जगत का तुच्छतम प्राणीकहो तो  आग  में  कूदूँ, रहूँ  इसमें अहर्निश 'जय'हमें तो आग से बढ़कर, जला देता  है  यह&n...  और पढ़ें
2 दिन पूर्व
jai bhardwaj
kabhee kabhee
3
पिछला123456789...23862387अगला


Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन