पाँच लिंकों का आनन्द की पोस्ट्स

1131"अब नहीं लौट के आने वाला घर खुला छोड़ के जाने वाला"

जय मां हाटेशवरी....."अब नहीं लौट के आने वाला घर खुला छोड़ के जाने वाला"खून का रिश्ता ही सब कुछ नहीं होता.....कुछ रिश्ते धरती पर ही बनते हैं......जो खून के रिश्तों से कई गुणा मजबूत होते हैं.....हमारे परिवार ...  और पढ़ें
1 दिन पूर्व
पाँच लिंकों का आनन्द
0

1130....हम-क़दम का बत्तीसवाँ क़दम....

सादर अभिवादन...विस्तृत नभ का कोई कोनामेरा न कभी अपना होनापरिचय इतना इतिहास यहीउमड़ी कल थी मिट आज चलीमें नीर भरी दुख की बदली       ------------- महादेवी वर्मा इन पंक्तियों में छुपा सार संपूर्ण जीव...  और पढ़ें
2 दिन पूर्व
पाँच लिंकों का आनन्द
0

1129....खबर ‘दैनिक हिन्दुस्तान’ ने की है कवर

इस युग में भी होता है युद्ध.....कौरव कौन, कौन पांडव, टेढ़ा सवाल है.दोनों ओर शकुनि का फैला कूटजाल है..धर्मराज ने छोड़ी नहीं जुए की लत है.हर पंचायत में आज भी पांचाली अपमानित है..बिना क...  और पढ़ें
3 दिन पूर्व
पाँच लिंकों का आनन्द
0

1128... अवरुद्ध

सभी को यथायोग्यप्रणामाशीषजो राह शिला अवरुद्ध करेतू रक्त बहा और राह बना            पथ को शोणित से रन्जित कर            हर कन्टक को तू पुष्प बनाझंकृत हो रही अंतर्वीणा,फिर क्यों यह ...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
पाँच लिंकों का आनन्द
0

1127......लौटकर आऊंगा, कूच से क्यों डरूं?

ठन गई!मौत से ठन गई!मौत की उमर क्या है? दो पल भी नहीं,जिंदगी सिलसिला, आज कल की नहीं।मैं जी भर जिया, मैं मन से मरूं,लौटकर आऊंगा, कूच से क्यों डरूं?आज समूचा देश शोकाकुल है।स्वस्थ राजनीति के प्रतीक के र...  और पढ़ें
5 दिन पूर्व
पाँच लिंकों का आनन्द
0

1126...स्वतंत्रता का अर्थ उस पीढ़ी से पूछो जिसने पराधीनता का दर्द झेला है...

सादर अभिवादन। कल देश ने धूमधाम से मनाया 72 वाँ स्वाधीनता दिवस। हमें सदैव स्मरण रहनी चाहिए अपने स्वतंत्रता संग्राम की शौर्य और क़ुर्बानी से भरी अनमोल गाथा। नयी पीढ़ी में स्वतंत्रता के मूल्...  और पढ़ें
6 दिन पूर्व
पाँच लिंकों का आनन्द
0

1125..स्वाधीनता की अक्षुण्णता अधिकार के साथ कर्तव्य में ही समाहित..

।।शुभ सवेरा।।🇮🇳🙏🇮🇳पूरा देश आजादी का जश्न मना रहा है। 15 अगस्त की भोर आज तो धाता,धरती , धरनीधर भी मदिर हुई..लोग एक दूसरे को देशभक्ति के गीत ,शुभकामनाएँ के साथ मैसेज भेज रहे है।15 अगस्त 1947 एक ऐसी स...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
पाँच लिंकों का आनन्द
0

1124....सच कभी अपने को झूठ नहीं कहता है

सभी भारत वासियों को , १५ अगस्त की पूर्व संध्या पर भारतीय स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक बधाई और ढेरों शुभकामनाएँ ... एक विचार....एक बार किसी पत्रकार ने गुलज़ार से उनके पांच सबसे पसंदीदा गीतकारों...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
पाँच लिंकों का आनन्द
0

1123..हम-क़दम का इक्तीसवाँ अंक

हमारी उम्मीद नहीं थी आपकोहम आते ही नहीं...परनियति की इच्छा के विपरीत जा भी तो नहीं सकते...इस बार प्राप्त रचनाएँ....रचनाएँ सुविधानुसार लगाई गई है....आदरणीया रेणुबाला जीआनी ही थी मौत तो  इक दिन जा...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
पाँच लिंकों का आनन्द
0

1122.....मेघों से घिर गया अम्बर सारा

पहाड़ा याद है न11 एकम 1111 दूनी 22बस इसी तरह हमारी उम्र बढ़ती जा रही हैऔर....कमर का झुकाव बढ़ता जा रहा हैनज़र कमजोर?..कोई बात नहींचश्मा तो है न...पर कमर..इसका क्या करेंचलिए देखते हैं इसका भी इलाज होगा किस...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
पाँच लिंकों का आनन्द
0

1121... ग्रहण

11 अगस्त को साल 2018 का अंतिम सूर्यग्रहण लगने जा रहा है। हिंदू शास्त्रों के अनुसार ऐसा प्रेगनेंट महिला का सूर्य ग्रहण देखना अशुभ माना जाता है। कहा जाता है,(विभा नहीं कह रही) कि यदि कोई प्रेगनेंट ...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
पाँच लिंकों का आनन्द
0

1120....चलो फिर से आँँधियों को हवा देते हैं...

 संवेदनशीलता,भावुकता,ईष्या या आक्रोश सभी के अंतर्मन में निहित स्वाभाविक मानवीय गुण है।हमारा यह मानवीय रुप हमारे व्यक्तित्व के आध्यात्मिक, भावनात्मक और मानसिक विकास में सहायक होता ह...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
पाँच लिंकों का आनन्द
0

1119....तो घायल होकर कभी तूं नीड़ में लौट आता है...

सादर अभिवादन। सावन शिवरात्रि है आज। शिव जी के भक्त अपने आराध्य को प्रसन्न करने के लिये गंगा नदी से पात्रों में गंगाजल भरकर, काँवड़ में सजाकर कंधे पर रखकर; पैदल चलकर भक्ति-भाव व समर्पण ...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
पाँच लिंकों का आनन्द
0

1118..किंजल्क किरण बिखरी है..

।।प्रातः वंदन।।किंजल्क किरण  बिखरी है आज🍃नमन  है.. भारत के बहुमूल्य रत्नों में से एक अमूल्य रत्न राष्ट्रगान  के रचनाकार , बांग्ला कवि,साहित्यकार,चित्रकार ,दार्शनिक ,नोबेल पुरस्कार से...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
पाँच लिंकों का आनन्द
0

1117....भीड़ में थे जब अकेले,तन्हा दोस्तों को साथ अपने खड़ा पाया

जय मां हाटेशवरी.....कल मित्रता दिवस था......शायद अब सच्चे मित्रों के उदाहरण भी नहीं मिलते.....लगता है...मित्रता काये पावन रिश्ता भी खतरे में है.....इसी लिये आवश्यक्ता पड़ी होगी.....इस रिश्ते को बचाने के लिय...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
पाँच लिंकों का आनन्द
0

1116....हम-क़दम का तीसवाँ क़दम...

   चेतन या अवचेतन शरीर की वह अवस्था जिसमें तन सुसुप्तावस्था में होता और मस्तिष्क सक्रिय होता है, तब कुछ ऐसे विचारों का ताना-बाना बुनना जो यथार्थ और कल्पना के मिश्रण से उकेरा गया हो यही ...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
पाँच लिंकों का आनन्द
0

1115....किसी दिन ना सही, किसी शाम को ही सही, कुछ ऐसा भी कर दीजिये

सादर अभिवादनआप सभी का रविवार खुशनुमा बीतेवैसे किसी का बीता तो नहीं अब तकढेर सारे काम मुँह बाए खड़े मिलते हैंरविवार के दिन....ईश्वर करे आपकारविवार शुभ हो.....आइए चलें पठन-पाठन की ओर...वो तारे....पुरु...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
पाँच लिंकों का आनन्द
0

1114... छलावा

सभी को यथायोग्यप्रणामाशीषदुनिया को समझ ना पाने पर,जब जब खुद को समझाती हूँ।और खुद को समझ ना पाने पर,खुद प्रश्न चिह्न बन जाती हूँ।जब मन आहत हो जाता है,बुद्धि पत्थर हो जाती है,बिन ज़मीर जीते , जीत प...  और पढ़ें
3 सप्ताह पूर्व
पाँच लिंकों का आनन्द
0

1113....गुलामी आज़ाद कर रहे हैं, ये तो मनमानी है

विचार लो कि मर्त्य हो न मृत्यु से डरो कभी¸मरो परन्तु यों मरो कि याद जो करे सभी।मैथिली शरण गुप्त के नाम से 3 अगस्त  1886 को उदित हुआ जाज्वल्यमान सितारा साहित्य का सूर्य बन जायेगा ऐसा किसे ज्...  और पढ़ें
3 सप्ताह पूर्व
पाँच लिंकों का आनन्द
0

1112....इस गुलसितां से कोई, गुलों को चुरा गया....

सादर अभिवादन। आजकल एक्सप्रेस-वे तेज़ी से बन रहे हैं। ख़तरे उससे ज़्यादा तेज़ी से बढ़ रहे हैं।   कल एक कार आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे की सर्विस लेन में धसकी हुई ज़मीन से बने गड्ढे में गिर गयी। ...  और पढ़ें
3 सप्ताह पूर्व
पाँच लिंकों का आनन्द
0

1111...हाथों में गुब्बारे थामे शादमां हो जाएँगे..

।।शुभ सुबह।।"मैं मजदूर हूँ जिस दिन न लिखूं उस दिन मुझे रोटी खाने का अधिकार नहीं"उपर्युक्त प्रेमचंद जी की पंक्तियाँ जिंदगी को दिखाती है, बनाती है, समझाती है।सर्वप्रथम (31जुलाई) हिंदी साहित्य क...  और पढ़ें
3 सप्ताह पूर्व
पाँच लिंकों का आनन्द
0

1110....काश नगर में बगुले ना होते

जय मां हाटेशवरी.....मन-मोहक लगता है ये सावन.....हर तरफ भोले की जय-जयकार होती है.....प्रत्येक घर देवालय बन जाता है.....ये क्रम प्रत्येक महिने.....कभी शिवरात्रि के रूप में....कभी नवरात्रों के रूप में.....कभी दिवा...  और पढ़ें
3 सप्ताह पूर्व
पाँच लिंकों का आनन्द
0

1109....हम-क़दम का उन्तीसवां कदम

किस्मत, भाग्य, तकदीर, प्रारब्ध या लक मानव जीवन से जुड़ा वह चमत्कारिक शब्द है, जिसके आकर्षण से वशीभूत मनुष्य मन अपनी भौतिक जीवन की सफलता में सकारात्मकता और नकारात्मकता का निर्धारण करता है।कहत...  और पढ़ें
3 सप्ताह पूर्व
पाँच लिंकों का आनन्द
0

1108......चाँद भी पीले से लाल होना चाह रहा है

किसी को नाराज करेंगे तोगुसियाना लाज़िमी हैऔर गुसियाया हुआ प्राणीतो लाल-पीला होता ही हैये तो फिर चाँद है...कलविशेष दिन पर उसकोढांकने की कोशिश कर दिए तोपूरा लहू उसके चेहरे पर आ ही गया...............सादर ...  और पढ़ें
3 सप्ताह पूर्व
पाँच लिंकों का आनन्द
0

1107... उलझन

सभी को यथायोग्यप्रणामाशीषआसाढ़ में सूखा पड़ा तो चिंतासावन में बारिश शुरू हुई तो चिंताउलझनकविता के लिए वक्त निकालनाआपाधापी भरी जिंदगी में कुछ पलअपने लिए तलाशना हैकविता एक चाहत है ,अनुभूतियो...  और पढ़ें
4 सप्ताह पूर्व
पाँच लिंकों का आनन्द
0

1106....दिमाग बन्द करते हैं अपने चल, पढ़ाने वाले से पढ़ कर के आते हैं

"अपने सपनों को सच होने से पहले आपको सपना देखना होगा।""अगर आप सूरज की तरह चमकना चाहते है तो पहले सूरज की तरह जलना सीखो।""जीवन में कठिनाइयाँ हमे बर्बाद करने नहीं आती है, बल्कि यह हमारी छुपी हुई ...  और पढ़ें
4 सप्ताह पूर्व
पाँच लिंकों का आनन्द
0

1105...ये ग़मों की रात लम्बी है या मेरे गीत लम्बे हैं...

सादर अभिवादन।सावन का महीना परसों से आरम्भ हो जायेगा। हरीतिमा से आच्छादित धरा का सौंदर्य सावन में बहने वालीमनमोहक बयार और पक्षियों का प्यारा कलरव आदि हमारी कार्यक्षमता में वृद्धि करत...  और पढ़ें
4 सप्ताह पूर्व
पाँच लिंकों का आनन्द
0

1104..कोई खूशबू आती नहीं ..

।।प्रात:वंदन।।भीड़ तंत्र पर बात चली है बेरोजगार भटके युवकों की राह बदली हैपर कहते हैं.."भीड़ में सब लोग अच्छे कहाँ होते हैंअच्छे लोगों की भीड़ भी कहाँ होती है"इसी सोच के साथ रूख करते हैंं आज के लि...  और पढ़ें
4 सप्ताह पूर्व
पाँच लिंकों का आनन्द
0

1103...कहानी की भी होती है किस्मत, ऐसा भी देखा जाता है

सर्वप्रथम बधाइयाँ दें भाई कुलदीप जी कोउन्होंने नया नेटवर्क ले लिया है....अब वे "जियो" के साथ जिएँगे...वे नया सेटअप करवाने में व्यस्त हैंअगले सप्ताह से वे निर्बाध रूप से आया करेंगेआज फिर हमार...  और पढ़ें
4 सप्ताह पूर्व
पाँच लिंकों का आनन्द
0

1102..हम-क़दम का अट्ठाईसवाँ कद़म...हिंडोला

हिंडोला यानि झूलासबने जीवन में कभी न कभी झूला का आनंद तो अवश्य लिया होगा। झूला जीवन में उल्लास और उमंग का प्रतीक है। सावन के महीने में धरती की सुषमा द्विगुणित हो जाती है। चारों ओर बिखरी हरियाल...  और पढ़ें
4 सप्ताह पूर्व
पाँच लिंकों का आनन्द
0
Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन  
हो सकता है इनको आप जानते हो!  
Ashish Bartwal
Ashish Bartwal
dehradun,India
Bhasurak Hindusthani
Bhasurak Hindusthani
Jaipur,India
chanchal
chanchal
raj..,India
Shikha varshney
Shikha varshney
London,United Kingdom
राकेश श्रीवास्तव
राकेश श्रीवास्तव
कपूरथल,पंजाब ,भारत