ख़ुदा के वास्‍ते ! की पोस्ट्स

आज विश्‍व कविता दिवस पर विशेष...संस्कृत काव्यशास्त्र में महाकाव्य के प्रस्‍तुतकर्ता कौन थे

आज विश्‍व कविता दिवस है परंतु क्‍या हम जानते हैं कि संस्कृत काव्यशास्त्र में महाकाव्य (एपिक) का प्रथम सूत्रबद्ध लक्षण आचार्य भामह ने प्रस्तुत किया है और परवर्ती आचार्यों में दंडी, रुद्रट तथा...  और पढ़ें
1 माह पूर्व
ख़ुदा के वास्‍ते !
14

आज राही मासूम रजा की पुण्‍यतिथि है…

”कर्ज उतर जाता है एहसान नहीं उतरता” के ये शब्‍द हमने रजा साहब का संस्‍मरण लेख से हिंदी समय से साभार लिया हैयहाँ (बंबई में) कई दोस्त मिले जिनके साथ अच्छी-बुरी गुजरी। कृष्ण चंदर, भारती, कमलेश्...  और पढ़ें
1 माह पूर्व
ख़ुदा के वास्‍ते !
13

आज अज्ञेय के जन्‍मदिन पर बावरा अहेरी सहित 3 कविताऐं

आज 7 मार्च, 1911 को कसया, उत्‍तरप्रदेश में अज्ञेय का जन्म हुआ, शिक्षा का प्रारम्भ संस्कृत-मौखिक परम्परा से हुआ 1915 से ’19 तक श्रीनगर और जम्मू में। यहीं पर संस्कृत पंडित से रघुवंश रामायण, हितोपदेश, फार...  और पढ़ें
1 माह पूर्व
ख़ुदा के वास्‍ते !
14

Gabriel García Márquez के जन्‍मदिन पर पढ़िए उनकी लिखी कहानी- ऐसे ही किसी दिन

गूगल ने आज कोलंबियाई मूल के लेखक Gabriel García Márquez की 91वीं जयंती पर डूडल बनाकर मशहूर हुए इस साहित्‍यकार को याद किया है।गैब्रियल गार्सिया मार्खेज की किताब ‘हंड्रेड ईयर्स ऑफ सॉलिट्यूड’ ने उन्हें दुनि...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
ख़ुदा के वास्‍ते !
12

निराला के शब्‍द-क्रीड़ांगन में यमुना-गान

आज के दिन 16 फरवरी 1896- हिंदी के सुप्रसिद्ध कवि, साहित्यकार और लेखक सूर्यकांत त्रिपाठी निराला का जन्म हुआ था, हालांकि विकीपीडिया पर 21 फरवरी अंकित है परंतु पंचांग-तिथि के अनुसार इनके जन्‍म के संबं...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
ख़ुदा के वास्‍ते !
8

आज महाशिवरात्रि पर जानिए- क्‍या है महामृत्युंजय मंत्र की पूर्ण व्‍याख्‍या

आपने अकसर देखा सुना होगा धार्मिकजन किसी शारीरिक व मानसिक परेशानियों को दूर करने के लिए महामृत्युंजय मंत्र की आराधना-जाप के बारे में बताते हैं मगर ऐसा क्‍यों, यह जानने के लिए इस महामंत्र की व्...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
ख़ुदा के वास्‍ते !
12

Nida Fazli साहब ने हमेशा रोटी, चटनी और मां से जुड़े लफ़्जों को जिया

भारत सरकार द्वारा पद्मश्री से नवाजे गए निदा फ़ाज़ली की आज पुण्‍यतिथि है, उन्‍होंने आज ही के दिन 8 फरवरी 2016 को मुंबई में इस दुनिया को अलविदा कहा।निदा फ़ाज़ली हिंदुस्तानी तहजीब में ‘वाचिक-परंपर...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
ख़ुदा के वास्‍ते !
10

आज सुमित्रानंदन पंत की पुण्‍यतिथि है इस अवसर पर उनकी कुछ कविताएँ

आज सुमित्रानंदन पंत की पुण्‍यतिथि है इस अवसर पर उनकी कुछ कविताएँ सुमित्रानंदन पंत (२० मई १९०० - २८ दिसम्बर १९७७)  हिंदी साहित्य में छायावादी युग के चार प्रमुख स्तंभों में  से एक हैं। छाया...  और पढ़ें
4 माह पूर्व
ख़ुदा के वास्‍ते !
8

30 दिस. पुण्‍यतिथि है हिंदी गज़ल के पहले शायर दुष्यंत कुमार की, पढ़िए ये चुनिंदा रचनाएं

हिंदी गज़ल के पहले शायर और सत्ता के खिलाफ मुखर होकर खड़े होने वाले लेखक दुष्यंत कुमार की आज पुण्‍यतिथि है. उनकी गज़लों के कुछ शेर युवाओं की ज़ुबां पर चढ़े हुए हैं. 1 सितंबर 1933 को उत्तर प्रदेश के र...  और पढ़ें
5 माह पूर्व
ख़ुदा के वास्‍ते !
15

एक एक कर चले जा रहे हैं सभी...कुंवर नारायण जी को उन्‍हीं की 5 कविताओं से हम श्रद्धांजलि देते हैं

एक एक कर चले जा रहे हैं सभी...आज 'अयोध्‍या 1992'पर कविता से भगवान श्री राम को मौजूदा हालात के प्रति आगाह करने वाले कवि-साहित्‍यकार कुंवर नारायण जी भी चले गए। मैं आज उनको उन्‍हीं की कुछ कविताओं के द्...  और पढ़ें
5 माह पूर्व
ख़ुदा के वास्‍ते !
8

सबसे बड़ा हिन्‍दी उपन्‍यास ‘कृष्ण की आत्मकथा लिखने वाले मनु शर्मा को विनम्र श्रद्धांजलि

सबसे बड़ा हिन्‍दी novel लिखने वाले प्रख्‍यात साहित्यकार लेखक व चिंतक पद्मश्री मनु शर्मा का निधन हो गया। स्‍वच्‍छ भारत अभियान के नवरत्‍नों में शामिल थे मनु शर्मा। वरिष्ठ साहित्यकार और हिन्दी म...  और पढ़ें
5 माह पूर्व
ख़ुदा के वास्‍ते !
12

‘मैं चमारों की गली तक ले चलूंगा आपको’

अदम गोंडवी के जन्‍मदिन पर उनकी poemआज अदम गोंडवी का जन्‍मदिन है इस अवसर पर उनकी poem ‘मैं चमारों की गली तक ले चलूंगा आपको’ की बात ना की जाए यह कैसे हो सकता है.सामाजिक आलोचना के प्रखर कवि अदम गोंडवी की...  और पढ़ें
6 माह पूर्व
ख़ुदा के वास्‍ते !
16

एक श्रृद्धांजलि: याचना

आज रामधारी सिंह 'दिनकर'का जन्‍म दिन है तो लीजिए  पढ़िए उनकी ये रचना जो उनकी 'रेणुका'से ली गई है जिसे दिनकर ने १९३४ में लिखा था -याचना / रामधारी सिंह "दिनकर"प्रियतम! कहूँ मैं और क्या?शतदल, मृदुल जीव...  और पढ़ें
7 माह पूर्व
ख़ुदा के वास्‍ते !
22

नाज सच्चे इश्‍क पर है, हुनर का दावा नहीं... मेरा इर्फाने-कलम सालक ही कोई पाएगा

बादलों से लेकर चांद पर अपने शब्‍दों  के दस्‍तखत करने वाली अमृता प्रीतम 31 अगस्‍त को ही जन्‍मी थीं और  आज ही यानि 31 अगस्‍त को मेरी बेटी का भी जन्‍म दिन है...शायद इसीलिए मुझे अब और भी प्रिय लगती ...  और पढ़ें
8 माह पूर्व
ख़ुदा के वास्‍ते !
23

राम तुम्‍हारे जन्‍मदिन पर

राम तुम्‍हारे जन्‍मदिन पर बस वो ही कहना हैजो अनकहा रह जाए और अनकहा कह जाएसुनो राम! सिया, शबरी, अहिल्‍या, सब तुम्‍हारी बाट जोहती हैंआज भी ये सब कण कण में राम खोजती हैं।गीध व्‍याध वानर को अब कौन गल...  और पढ़ें
1 वर्ष पूर्व
ख़ुदा के वास्‍ते !
22

'वेबलेंथ'का खेल

भावों के विशाल पर्वत पर, उगतीखिलती आकाश बेल चढ़ती-कुछ हकीकतें और कुछ आस्‍था,का मेल होती है मित्रता।तय परिधियों के अरण्‍य मेंब्रह्म कमल सी एक बार खिलतीमन-सुगंध को अपनी नाभि में समेटने का खेल ह...  और पढ़ें
1 वर्ष पूर्व
ख़ुदा के वास्‍ते !
21

यूं आसमां न ताक...

यूं आसमां न ताक, ना नाप किसी परवाज कोकुछ परिंदे जमीं पर भी हैं, जो अपनी आंखों में,तेरी नज़र का आसमां सजाए बैठे हैं,महसूस किया है कभी तुमने,उस एक अनहद आसमां का ताप... जो सतरंगी सा सुलग रहा है- इनके पर...  और पढ़ें
1 वर्ष पूर्व
ख़ुदा के वास्‍ते !
20

कविता- ये गरल तुम्‍हें पीना होगा

सृष्‍टि की खातिर शिव ने तब एक हलाहल पीया था,अब एक हलाहल तुमको भी इसी तरह पीना होगा,समरस सब होता जाए, निज और द्विज में फर्क मिटे,आग्रह से अनाग्रह सब इसी तरह एक शून्‍य बनें ,जीवन के अविरल तट तक पहुं...  और पढ़ें
1 वर्ष पूर्व
ख़ुदा के वास्‍ते !
19

कृष्णा सोबती के जन्‍मदिन पर उनकी लिखी कहानी- दादी अम्मा

हिन्दी की फिक्शन एवं निबन्ध लेखिका कृष्णा सोबती का आज १८ फ़रवरी को जन्‍मदिन है, वे इसी दिन १९२५ को गुजरात (अब पाकिस्तान में) जन्‍मी थीं। वे अपनी संयमित अभिव्यक्ति और सुथरी रचनात्मकता के लिए जा...  और पढ़ें
1 वर्ष पूर्व
ख़ुदा के वास्‍ते !
22

वैक्‍यूम...

मैं कहती हूं कि-आकाश से धरती तक फैला वैक्‍यूम... खींचता है मुझे...उस तत्‍व की ओर,जो विलीन कर देता हैसारा अस्‍तित्‍व सारी सोचसारा अपने-पराये का स्‍पंदनसुख-दुख, राग-द्वेष, प्रेम-विरह,और मैं स्‍वयं ह...  और पढ़ें
1 वर्ष पूर्व
ख़ुदा के वास्‍ते !
23

व्यवहारिक संशोधनों का----- समय है ये

व्यवहारिक संशोधनों का----- समय है ये बदलते इस समय में रिश्तों की बुनियादें और उनमें प्रेम ,ढूढ़ रहे हैं - गढ़ रहे हैं नित नई परिभाषाएं अपनी .... प्रेम में भी व्यवहार बदल रहे हैं ये व्यवहारिक संशोधनो...  और पढ़ें
1 वर्ष पूर्व
ख़ुदा के वास्‍ते !
20

राष्ट्रीय ख्याति के अंबिका प्रसाद दिव्‍य पुरस्कारों हेतु पुस्तकें आमंत्रित

भोपाल। साहित्य सदन भोपाल द्वारा राष्ट्रीय ख्याति के उन्नीसवे अंबिका प्रसाद दिव्‍य स्मृति प्रतिष्ठा पुरस्कारों हेतु साहित्य की अनेक विधाओं में पुस्तकें आमंत्रित की गई हैं । उपन्यास, कहानी...  और पढ़ें
1 वर्ष पूर्व
ख़ुदा के वास्‍ते !
21

जैनेंद्र कुमार की प्रसिद्ध कहानी- एक रात

जैनेन्द्र कुमारकी प्रसिद्ध कहानी- एक रातप्रेमचंदोत्तर उपन्यासकारों में जैनेंद्रकुमार (२ जनवरी, १९०५- २४ दिसंबर, १९८८) का विशिष्ट स्थान है। हिंदी उपन्यास के इतिहास में मनोविश्लेषणात्मक पर...  और पढ़ें
1 वर्ष पूर्व
ख़ुदा के वास्‍ते !
20

बेटियां - दो कवितायें

       1. मेरी बेटियांमेरी बेटियां   मेरा जुनून हैं,ये मेरे मन में नाचते हर्फ हैं जो मुझे ताकत बख्शते हैंजो फरिश्ते हैं दोनों वो मेरी बेटियां हैं देखो उनके नन्हें पैरों की आवाज आज भी ...  और पढ़ें
2 वर्ष पूर्व
ख़ुदा के वास्‍ते !
23

प्रेमचंद की पुण्यति‍थ‍ि पर उनकी कहानी: पूस की रात

आज मशहूर कथाकार प्रेमचंद की पुण्यति‍थ‍ि है। इस अवसर पर आप भी पढि़ए उनकी प्रसिद्ध कहानी पूस की रात। कथा सम्राट प्रेमचंद ने हिन्‍दी के खजाने में कई अनमोल रत्‍न जोड़े हैं. महज आठ साल की उम्र म...  और पढ़ें
2 वर्ष पूर्व
ख़ुदा के वास्‍ते !
18

वहां- उस गांव में, कौन रहता है अब...?

वहां-  उस गांव में, कौन रहता है अब...?जहां सुबह तुलसी चौरे पर दिया बालतीजोर जोर से घंटियां हिलाती अम्मा से हम, सुबह अंधेरे ही उठा देने के गुस्से में,कहते अम्मा बस करो, हम जाग गए हैं,अम्मा आरती गाती...  और पढ़ें
3 वर्ष पूर्व
ख़ुदा के वास्‍ते !
20

भागा हुआ है खुदा

(1)मंदिर के अंधेरे कोने में जो फूलों से दबा बैठा है एक खुदा खौफ का मारा हुआ है आजकलइत्र चंदन से नहाने का शौक जब से लगा उसेगांव- मि‍ट्टी की खुश्बू से भागा हुआ है आजकलखेतों को जाती, कांख में दबी रोटी ...  और पढ़ें
3 वर्ष पूर्व
ख़ुदा के वास्‍ते !
20

राजस्थान पत्र‍िका के रविवार 12.04.2015 में प्रकाश‍ित मेरी कहानी - पगले का दान

राजस्थान पत्र‍िका के रविवार 12.04.2015 में प्रकाश‍ित मेरी कहानी - पगले का दान । पूरी कहानी पढ़पे के लिये कृपया लिंक पर क्लिक करें....  http://epaper.patrika.com/478049/Rajasthan-Patrika-Jaipur/12-04-2015#page/28/2...  और पढ़ें
3 वर्ष पूर्व
ख़ुदा के वास्‍ते !
20

रेडलाइट वाली औरतें

उस बस्ती की औरतें हैं या ये निशाचरों की है दुनिया , वे निकलती हैं रात को दिन का उजाला लेकरपाप क्या और पुण्य क्या वहां कोई तोल नहीं सकता ज़हर पीने वाली बना दी गईं पापी और हाथ झाड़ खड़ा होता है पुण्...  और पढ़ें
3 वर्ष पूर्व
ख़ुदा के वास्‍ते !
20

वह जो आज अदृश्‍य हो गई

(1)वह आत्‍मा...ही तो है अकेली जो !निराकार..निर्लिप्‍त भाव से ही,प्रेम का अस्‍तित्‍व बताने को -अपने विशाल अदृश्‍य शून्‍य में...प्रवाहित करती रहती है आकार,निपट अकेली पड़ गई आज वो.. जिसने स्‍वयं को करक...  और पढ़ें
3 वर्ष पूर्व
ख़ुदा के वास्‍ते !
21
Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन  
हो सकता है इनको आप जानते हो!  
kumar mukul
kumar mukul
new delhi,India
MAHENDRA NATH SIDDH
MAHENDRA NATH SIDDH
BIDASAR,India
KUMAR ONKAR SHAKTI
KUMAR ONKAR SHAKTI
GAYA,India
Padmnabh Gautam
Padmnabh Gautam
Baikunthpur,India
Mohd azad
Mohd azad
Loni,India
Shayari In Hindi
Shayari In Hindi
Ahmedabad,India