Diary की पोस्ट्स

दोहरापन (कहानी )

रूचि अभी अभी कॉलेज से आयी ही थी | कि सामने मेज पर पड़ी मिठाइयाँ व शरबत के खाली गिलासो को देखकर माँ से पूछ बैठी की माँ कोई मेहमान आया था क्या ?"हाँ आया था न तेरे ससुराल वाले आये थे "माँ जवाब  दे पाती उ...  और पढ़ें
4 माह पूर्व
Diary
7

खोई हुई मोहब्बत पार्ट --2

सुनी अपने घर के दरवाजे पर सिर टिकाए बैठी थी । और खुद से ही मन ही मन सवाल कर रही थी क्या रवि ने उसे पहचाना होगा क्या वो जान गया होगा कि मै वही सुनी हूं जो एक समय पर उसके साथ पढ़ा करती थी । जान गया होगा ...  और पढ़ें
12 माह पूर्व
Diary
19

एक ख़त तुम्हारे नाम

आज अचानक जाने क्यों तुम्हे एक ख़त लिखने का दिल कर रहा है तो लिख रही हू । जानती हू इतने सालो के बाद इस ख़त को लिखने का या उन यादो को याद करने का कोई मतलब नहीं है ।पर फिर भी लिख रही हू । लिख भी शायद इसलिए...  और पढ़ें
12 माह पूर्व
Diary
16

खमोशिया -The silent love story

31 दिसम्बर की सुबह थी बेहद ठंडी सुबह कोहरे ने पूरी सड़को को अपने आगोश में लिया हुआ था । सुबह के 5 बजे थे लड़का और लड़की बस स्टैंड पर एक बेंच पे बैठे हुए थे । दोनों अपने अपने घर जाने के लिए बसो का इंतज़ार ...  और पढ़ें
12 माह पूर्व
Diary
14

खोई हुई मोहब्बत

आज चार साल के बाद रवि अपनी पढ़ाई पूरी करके घर लौट रहा था। घर में बहुत ख़ुशी का माहौल था । रवि अपने घर में सबसे छोटा और लाडला था । इसलिए उसके आने की खबर सुनकर घरवालो की ख़ुशी का टिकाना न था । माँ तो सुब...  और पढ़ें
12 माह पूर्व
Diary
17

मासूम मोहब्बत part 4

आज समीर की बाते सुनकर अभी और भी ज्यादा  उलझ सा गया था । उसकी बातो ने अभी पर कुछ  ज्यादा  ही असर किया था । तभी तो इतनी कोशिश करने के बाद भी वो समीर की बातो को पल भर के लिए भी दिल से नहीं निकाल पा र...  और पढ़ें
12 माह पूर्व
Diary
22

मासूम मोहब्बत part 3

स्कूल पहुँच कर अभी बहुत खुश था । उसकी नजरे अब हर तरफ सिर्फ शिवि को ढूंढ रही थी । स्कूल के गेट से लेकर क्लास में पहुँचने तक उसने दिमाग में सिर्फ यही चल रहा था की वो शिवि से आज क्या कहेगा क्या पूछेग...  और पढ़ें
12 माह पूर्व
Diary
16

मासूम मोहब्बत part 2

और शायद दोस्ती ही रहती अगर शिवि उस दिन अपनी family के साथ घूमने न गई होती वो भी अभी को बिना बताये ।अभी रोज की तरह स्कूल जाने के लिए बस में बैठा तो उसने देखा शिवि नहीं आई थी उसने उसकी फ्रेंड से पूछा शिव...  और पढ़ें
12 माह पूर्व
Diary
17

मासूम मोहब्बत ( कहानी )

मेरी पहली कहानी है । अभी और शिवि कीइनकी कहानी मे जो चीज मुझे सबसे ज्यादा पसंद आई वो थी इनकी इनकी मासूमियतइसलिए मैंने इनकी कहानी को नाम दिया मासूम मोहब्बत ....... आईये जानते है इनके बारे में और इन...  और पढ़ें
12 माह पूर्व
Diary
14

क्या लिखू.......

तुम और तुम्हारी ये अजीबो गरीब फरमाइशे कई बार मुझे बहुत परेशान करती है जैसे आज परेशान कर रही है तुम्हारी एक खवाइश । तुमने तो कितनी आसानी से कह दिया न की तुम चाहती हो मै तुम्हारे लिए तुम्हारे बार...  और पढ़ें
12 माह पूर्व
Diary
17

इश्क़ की किताबो मे बसी एक दुनिया

तुम कभी किताबो की दुनिया मे गए हो । हा हा सही सुना है तुमने किताबो की दुनिया । अरे भई ऐसे का देख रहे हो । तुम्हे किताबो की दुनिया के बारे मे नही पता क्या ?    चलो कोइ बात नही हम बता देते है । तो स...  और पढ़ें
2 वर्ष पूर्व
Diary
17

कुछ लम्हे प्यार भरे ......

आज सुबह morning walk से लौटते समय यू ही चाय पीने का मन हुआ ।तो पार्क के सामने बने टी स्टोल पर रुक गईअभी वहा जाकर खड़ी ही हुई थी की वही साइड में रखी बेंच पर एक लड़का और लड़की को बैठे देखा। उम्र कोई जादा नहीं 14-15 ...  और पढ़ें
2 वर्ष पूर्व
Diary
18
 
Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन  
हो सकता है इनको आप जानते हो!  
KRISHNA MOHAN SINGH
KRISHNA MOHAN SINGH
New Delhi (North West Delhi),India
shobha
shobha
bhopal,India
Charuhas
Charuhas
Nagpur,India
Babita Singh
Babita Singh
Ghaziabad,India
Pramod Shah
Pramod Shah
jodhpur,India
c.cvbn58
c.cvbn58
all,India