@Abhi की पोस्ट्स

'तुम'...

'तुम'क्या हो तुमठहरी हुई झीलगिरता हुआ झरनाबहती हुई नदीअथाह समंदरया फिरउसको भी समाहि...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
@Abhi
1

दिलवालों की दिवाली

दीवाली के अवसर पर दिल खोलकर खुशियाँ मनाइए साथ ही उन्हें ऐसे लोगों के साथ बाँटिए जिनके लिए ये अनमोल हैं। इनकी मेहनत आपके घरों को सजाती है। ...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
@Abhi
2

गरीब की दिवाली

खुशबुएँ सिधारींहेराई गयी मिटियारोई के आंख मूंदेछज्जे बैठी बिटियादिया-बाती तेल नाइना खावे को रोटियाउल्लू लक्ष्मी लै उड़े, पूजेसालिगराम की बटियाकपड़ा ना बताशा-खीलकहाँ मिले खुटियागरिबिया से ...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
@Abhi
3

जब हम...तब तुम

जब हम घर का आख़िरी दिया बुझा दें,जब हम भीतर आकरकिवाड़ की सांकल चढ़ा दें,जब हम इन पाँवों परहोंठों की लकीर सजा दें,जब हम बदन से लिबास कीदूरी बढ़ा दें,जब हम गुरुत्व हम-दोनों काकुल जमा कर दें,जब हम घनत्व ...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
@Abhi
4

स्टेचू ऑफ यूनिटी

प्रतिमाओं के अनावरण तो हो जाते हैं पर रख-रखाव के अभाव में धूल फांकती नजर आती हैं। विश्व की सबसे ऊँची प्रतिमा का गौरव हासिल होने के बाद सम्भवतः इस बात का भी ध्यान रखा जाए। सनद रहे कि कल लौहपुरु...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
@Abhi
7

बेड नंबर एट...और तुम

....अक्षत पिछले दो दिन से आई सी यू के आठ नम्बर  बेड पर मरणासन्न पड़ी तृषा की देखभाल कर रहा था....  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
@Abhi
4

हममें हमको बस...'तुम'दे दो

कुछ उलझा-उलझा सा रहने दोकुछ मन की हमको कहने दोआँखों से बोल सको बोलोकुछ सहमा-सहमा सा चलने दोहर बात गुलाबी रातों कीहया के पहरे बैठी हैहै रात अजब शर्मीली येहमको-तुमको यूँ निहार उठीअब हाथ कलेजे पर...  और पढ़ें
3 सप्ताह पूर्व
@Abhi
4

क्या यही प्यार है?

'सुनो न, ये मेहंदी कैसी लग रही''आज तुम पूरी की पूरी बहुत खूबसूरत लग रही हो'कहते हुए हैंग आउ&...  और पढ़ें
3 सप्ताह पूर्व
@Abhi
5

आओ न प्रेम को अमर कर दो

तुम्हारे लिए कोई कसम न होफिर भी पूरा जनम हैसात फेरे न सहीहम तेरे तो हैं,सुहाग का चूड़ा, ब...  और पढ़ें
3 सप्ताह पूर्व
@Abhi
2

माँ

1 माह पूर्व
@Abhi
3

Me too

1 माह पूर्व
@Abhi
3

Kindergarten

1 माह पूर्व
@Abhi
6

मेरी ऑटोबायोग्राफी..

दर्दतो लिखसकता है लिखनेवालापरस्वयं का दर्दलिखने कासाहसकहाँ से लाऊँ,तुम जितना समझो...  और पढ़ें
1 माह पूर्व
@Abhi
6

मैं स्मरण हूँ...

गंगा को समेटेरखता हिमालय पे चरण हूँ,नख से शिख तक करताभभूत का वरण हूँ,मैं इस सदी कादूसरा संस्करण हूँ,ध्यानी हूँ, दानी हूँऔर स्वाभिमानी हूँतांडव है मेरा मनोरमसती का विधाता हूँबसता हूँ कन्दराओं...  और पढ़ें
1 माह पूर्व
@Abhi
2

माँ होना...

मेरे भीतरकी स्त्री ने दमतोड़दिया था,जबमाँ सा ये कलेजा मजबूतकिया था।स्नेहदिया था, किस...  और पढ़ें
1 माह पूर्व
@Abhi
6

मेरी अनाया...

तुम्हारे अंदर होती जरा सी हरकतबढ़ा देती है मेरी आहट,तुम्हारी मासूम सी हथेलियों की छुअ&#...  और पढ़ें
1 माह पूर्व
@Abhi
8

मारक ज़हर

'बापू सहर जात हौ पेड़ा लेत आयो'कलुआ की बात सुनते ही नन्हकू ने खाली जेब में हाथ डाला।'सुनत हौ बप्पा की खांसी गढ़ाई रही न होते कौनो सीसी लाय देते सहर ते...इत्ते दिन ते परे-परे खाँसत हैं..करेजा हौंक जात ...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
@Abhi
4

...यक़ीनन हम इंतज़ार में हैं

कभी तो थोड़ा हंस दिया करोजब हम खुश होते हैं,कभी तो दिल बहला दिया करोजब ये आंसू रोते हैं,उस छोटी सी तिपाई परयाद है न,नुक्कड़ वाली दुकान मेंजब वो 'चाय'ठुकराई थी हमनेऔर वो खूबसूरत सा इतवारजब 'कॉफ़ी'का ऑ...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
@Abhi
2

Quote on Tarpan

2 माह पूर्व
@Abhi
3

सुसाइड नोट

GOOGLE IMAGEये मेरे आखिरी शब्दजो कल डायरी बन जाएंगे;एक भयंकर अंतर्द्वंद्व,उथल-पुथल का जीता-जागता उदाहरण हैंमैं, मेरे मैं कोमिट्टी में मिलाने जा रही हूँ,माँ, हो सके तो माफ कर देना मुझेइस देह पर बिना हक़ ...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
@Abhi
3
@Abhi
4

मेरा अस्तित्व

आज बच्चे को अस्पताल ले जाना था..ऑफिस से छुट्टी लेनी पड़ी..पहुंचने में देर हो गई नम्बर आने में वक़्त था..पतिदेव मुझपर बरस पड़े, 'तुम्हारी वजह से हुआ ये, ऑफिस में लंच के बाद पहुंचने को बोला था अब क्या कर...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
@Abhi
3

पाकीज़गी इश्क़ की

पुरकशिश, दिलकश सी है तुम्हारी छुअनकैसे रहते भला इश्क़ में नापाक हमवो इरादतन था तुम्हा&#...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
@Abhi
7

ऐसे तो रिटायर मत हो बाबूजी

आज बाबूजी उठे नहीं थेअम्मा काम समेटने में व्यस्तकि घर थोड़ा सा सही हो जाएतो उनके नहाने ...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
@Abhi
5

फ़रेब

2 माह पूर्व
@Abhi
6

Quote on mirror

2 माह पूर्व
@Abhi
4

Hindi quote on raksha bandhan

3 माह पूर्व
@Abhi
2

Hindi quote on ishq

3 माह पूर्व
@Abhi
3

Quote on beti

साँसें छीन ले तू, मेरे पर कुतरने से पहलेखुदाया तेरी ज़मीं पर सियासत बहुत है!PC: GOOGLE...  और पढ़ें
3 माह पूर्व
@Abhi
5

आहत भारत

नीलाभ छितरे गगन के तलेभावनाओं से बंजर जमीं परश्वेत शांति मध्य में समेटेगति की आभा, के&...  और पढ़ें
3 माह पूर्व
@Abhi
3
Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन  
हो सकता है इनको आप जानते हो!  
Arjun lal Shrivas
Arjun lal Shrivas
Korba,India
parmila
parmila
hisar,India
sakhi
sakhi
greater noida,India
propecia side effects
propecia side effects
QznrvCardsblNtJQEY,
Landon
Landon
New York,Marshall Islands
Abhishek Kumar
Abhishek Kumar
New delhi,India