विमल कुमार शुक्ल
मेरी दुनिया की पोस्ट्स

लोकतंत्र खतरे में

तुम रस्सी के उधर रहो, मैं रहूँ प्रिये उस ओर|लोकतंत्र खतरे में पड़ गया, यही मचायें शोर|लेखक या साहित्यकार बन, लौटा दें ईनाम|या फिर जज बन कांफ्रेंस करें, पलटा दें हम्माम|कृपया पोस्ट पर कमेन्ट करके अ...  और पढ़ें
1 दिन पूर्व
मेरी दुनिया
1

अभिमन्यु

अर्जुन होना जीवन रण में नहीं बहुत आसान|कृष्ण सारथी होंगे जिसके जिये वही मैदान|जीवन के हर चक्रव्यूह का मैं ही द्रोणाचार्य|निज वध को अभिमन्यु बनूं मैं इतना भी अनिवार्य|उर में बचकानापन हावी बुद...  और पढ़ें
3 दिन पूर्व
मेरी दुनिया
2

प्रिये

मत बिस्तर अभी उघाड़ प्रिये, हैं काँप रहे सब हाड़ प्रिये|इतना मत खोल किवाड़ प्रिये, है शीती रही दहाड़ प्रिये|वो देखो पेड़ों की चोटी, कुहरे का खड़ा पहाड़ प्रिये|ये ओला भरी रजाई है, या गारे भरा तगाड़ ...  और पढ़ें
3 दिन पूर्व
मेरी दुनिया
2

विक्रमशिला

यह स्थान बिहार के भागलपुर जिले में स्थित था| यहाँ गंगा नदी के किनारे एक विख्यात महाविहार था जिसकी स्थापना पाल शासक धर्मपाल ने की थी| 11वीं शताब्दी में यह महाविहार एक विश्वविद्यालय के रूप में वि...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
मेरी दुनिया
3

नवद्वीप या नदिया

यह स्थल मध्यकाल में बंगाल की राजधानी रहा है| 1204-05 में मुहम्मद गोरी के सिपहसालार इख्तियारुद्दीन-बिन-बख्तियार खिलजी ने जब बंगाल की राजधानी नदिया में प्रवेश किया तो यहाँ का शासक लक्ष्मणसेन भाग ख...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
मेरी दुनिया
3

नगर

वर्तमान में राजस्थान टोंक जिला माना जाता है महाभारतकालीन कार्कोट नगर है| यहाँ से दूसरी व तीसरी शताब्दी के ब्राह्मी लिपि में अंकित “मालवानामजयः” नाम से एक लेख मिला है| यहाँ से आहत एवं गोल तथा च...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
मेरी दुनिया
3

देवल

यह स्थल आजकल समुद्र में डूब गया है, किन्तु किसी समय यह सिन्धु नदी के मुहाने पर स्थित एक बन्दरगाह था| इसे दीदूल सिंध के नाम से भी जाना जाता है| मोरलैण्ड ने “इंडिया ऐट द डेथ ऑफ़ अकबर” में लिखा है कि म...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
मेरी दुनिया
2

कालीकट

यह स्थल केरल के मालाबार तट पर है| 27 मई 1498 को पुर्तगाली नाविक वास्कोडिगामा समुद्री मार्ग से इस स्थान पर पहुँचा| जहाँ हिन्दू शासक जमोरिन ने उसका स्वागत किया| 1790 में यह अंग्रेजों के अधिकार में आया| &nbs...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
मेरी दुनिया
2

पैठान

यह स्थल महाराष्ट्र के औरंगाबाद जनपद में गोदावरी नदी के उत्तरी किनारे पर है| प्राचीनकाल में इसे प्रतिष्ठान नाम से जाना जाता था| यह एक पौराणिक नगर है, पुराणों के अनुसार इसकी स्थापना ब्रह्मा ने क...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
मेरी दुनिया
2

नानाघाट

यह स्थान महाराष्ट्र के पुणे जनपद में है| यहाँ स्थित एक गुफा में सातवाहन नरेश शातकर्णी की नागानिका का एक अभिलेख है| जिससे ज्ञात होता है कि शातकर्णी ने अनेक अश्वमेध व राजसूय यज्ञ किये थे| उसने ब्...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
मेरी दुनिया
2

बिजली का करेंट

ड्रेसएकसुन्दरसीबालहोंसजीलेबन्धु,गमछेपरडालनेकोसेंटहोनाचाहिये|पैरों में भूरे रंग की स्लीपरें हो हल्की सी,खद्दर के कुर्ते पर पैंट होना चाहिये|आँखों पे ऐनक हो नाक पर खिसके जो,पान रंगे होंठ प...  और पढ़ें
5 दिन पूर्व
मेरी दुनिया
2

मैं और वो

वो हर मर्ज की दवा है, मैं शेर हूँ वो सवा है|मैं भी हूँ सुगंध सा,लेकिन वो हवा है|कृपया पोस्ट पर कमेन्ट करके अवश्य प्रोत्साहित करें| कृपया पोस्ट पर कमेन्ट करके प्रोत्साहित अवश्य करें|...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
मेरी दुनिया
1

गुलबर्गा

वारंगल वंश के काकतीयों ने इस नगर को बसाया था| मुहम्मद बिन तुगलक ने इसका नाम अह्सानाबाद रखा| बहमनी वंश के संस्थापक अलाउद्दीन हसन ने इसे 1347 ईस्वी में बहमनी राज्य की राजधानी बनाया| 1425 ईस्वी तक गुलब...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
मेरी दुनिया
1

काँगड़ा

यह स्थल हिमाचल प्रदेश में स्थित है| इसका प्राचीन  नाम त्रिगर्त है| इस पर 1909 में महमूद गजनवी ने आक्रमण किया और उसे अपने अधिकार में लिया| 1360 में यहाँ का शासक रामचन्द्र था जिसने फिरोजशाह तुगलक के स...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
मेरी दुनिया
1

सामान्य ज्ञान कक्षा -5

समय-15 मिनट                                           पूर्णांक -20 नोट:- सभी प्रश्नों के चार उत्तर दिए गये हैं| जिनमे से एक सही है, जो उत्तर सही ...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
मेरी दुनिया
1

सामान्य ज्ञान कक्षा -4

समय-15 मिनट                                               पूर्णांक-20 नोट:- सभी प्रश्नों के चार उत्तर दिए गये हैं| जिनमे से एक सही है, जो उ...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
मेरी दुनिया
4

भय और बच्चे

आज जिन बच्चों को शिक्षित करने का प्रयास कर रहा हूँ कभी उनके माता-पिता को शिक्षा प्रदान की है। यूँ तो एक दीर्घ समयावधि व्यतीत हो गयी किन्तु लगता है, जैसे कल की ही बात है। मुझे स्मरण है कि जब मैं कक...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
मेरी दुनिया
3

कलिंग नगर

यह स्थल उड़ीसा के गंजाम जिले में स्थित है| अशोक ने 261 ईसा पूर्व में इसी कलिंग देश को जीता था| इस नगर का उल्लेख राजा खारवेल के हाथी गुम्फा अभिलेख से प्राप्त होता है| खारवेल ने इस नगर का पुनरुद्धार कर...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
मेरी दुनिया
2

बुरहानपुर

यह स्थल महाराष्ट्र में ताप्ती नदी के किनारे है| इसे 14वीं शताब्दी में खानदेश के फारूकी वंश के सुल्तान मलिक अहमद के पुत्र द्वारा बसाया गया और अपनी राजधानी बनाया गया| खानदेश के सुल्तान बुरहानुद्...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
मेरी दुनिया
4

बीजापुर

 बीजापुर नगर कर्नाटक में भीमा और कृष्णा नदियों के दोआब में स्थित है| इस नगर की स्थापना युसूफ आदिलशाह ने की थी| विजयनगर के विरुद्ध संघ बनाने एवं तालीकोटा के युद्ध में उसे हराने में बीजापुर की ...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
मेरी दुनिया
4

बसौली

 यह स्थल जम्मू के जसरोटा जिले में रावी नदी के दाहिने ओर बलोर से 19 किमी दूर पर है| यहाँ अब केवल महलों के खण्डहर मात्र बचे हैं| कुलु के राजकुमार भोगपाल ने राणा बिल्लो को हराकर 765 ईस्वी में इस राज्य ...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
मेरी दुनिया
4

गढ़वा

यह स्थल उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद जिले की करछना तहसील में है| यहाँ से गुप्तकाल के 4 स्वतंत्र अभिलेख प्राप्त हुए हैं| 1 चन्द्रगुप्त द्वितीय, 2 कुमारगुप्त प्रथम तथा 1 स्कन्दगुप्त के समय का है| स्कन्...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
मेरी दुनिया
4

चंबा

हिमाचल प्रदेश की पहाड़ियों में रावी नदी के तट पर चंबा वर्तमान में एक प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है| इसका नाम चंबा वर्मन वंश की राजकुमारी चम्पा के नाम पर पड़ा| यह नगर मन्दिरों व कलाकौशल के लिए भी प्रसिद...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
मेरी दुनिया
4

गोलकुंडा

 यह स्थान आंध्रप्रदेश के हैदराबाद से 7 मील पश्चिम में है, यहाँ देवगिरि के यादवों व वारंगल के काकतीयों का अधिकार रहा| 1310 में यह खिलजी सल्तनत का हिस्सा बना उसके बाद यह मुक्त हो गया| 1425 में यह बहमनी ...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
मेरी दुनिया
3

कोटा

कोटा शहर राजस्थान में चम्बल नदी के किनारे स्थित है वर्तमान में अपने कोचिंग इंस्टीट्यूट्स के कारण जाना जाता है| किसी समय अकेलगढ़ के नाम से जाना जाता था| यह नगर 1274 से 1624 तक करीब साढ़े तीन सौ वर्षों तक...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
मेरी दुनिया
3

कालिंजर

यह स्थान उत्तर प्रदेश के बाँदा जिले में है| यहाँ के किले को चन्द्रवर्मन चन्देल ने बनवाया था| महमूद गजनवी ने 1022 में बुन्देलखण्ड के गणशासक से इसे लेने का प्रयास किया किन्तु अंततः उसे संधि करनी पड़...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
मेरी दुनिया
2

कायल

यह स्थान केरल के जनपद तेन्नावेली में ताम्रपर्णी नदी के तट पर है| इस स्थान का वर्णन मार्कोपोलो ने अपने यात्रा वृत्तान्त में किया है| उस समय यह एक प्रसिद्ध बन्दरगाह था| मार्कोपोलो यहाँ 1288 व 1299 में ...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
मेरी दुनिया
2

जुन्नार

यह स्थल महाराष्ट्र राज्य के पुणे से ४० मील उत्तर में है| यहा 150 शैल गुहायें जिनमें से 10 चैत्य तथा शेष बौद्ध विहार हैं| इन गुहाओं का समय पहली से दूसरी शताब्दी का है| इन गुहाओं में मूर्ति नहीं है किन...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
मेरी दुनिया
2

पंडुआ

 लखनौती से 20 मील दूर यह स्थान अलाउद्दीन अलीशाह के समय में बंगाल की राजधानी था| 1360 में सिकन्दर शाह  के काल में बनी ‘अदीना मस्जिद’ के भग्नावशेष यहाँ अभी मौजूद हैं| इसमें सिकन्दरशाह की कब्र भी ह...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
मेरी दुनिया
2
Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन  
हो सकता है इनको आप जानते हो!  
asha lata saxena
asha lata saxena
Ujjain,India
sanjay singh
sanjay singh
Allahabad,India
accutane side effects
accutane side effects
vOaZljALUVWIoRJWCk,
Pharmb60
Pharmb60
Oakland,Afghanistan
d k bhatt
d k bhatt
ahmedabad,India