the missed beat की पोस्ट्स

अंधेरे ही फैलाने को यहाँ उजाला निकलता हैं.....

यहाँ हरेक सुहागिन का बदस्तूर हलाला निकलता हैं,दून से दवरा पहुचते परियोजना का दिवाला निकलता हैं,कौन सा दामन पाक हैं किन हाथों पे क़लम रखूँ ,मदो की बंदरबाट में हर चेहरा काला निकलता हैं,पारदर्शित...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
the missed beat
0

बहुत गरूर था हमे,आसमानों में आशिया बनाना था....

बहुत गरूर था हमे,आसमानों में आशिया बनाना था,मगर किश्मत में टूटकर पंख,बस फड़फड़ाना था,लाख मुसीबतों को जीत,जैसे ही मंज़िल को पाना था,तमाम कमज़ोरियों को उसी वक़्त रास्ते पे आ जाना था,सिर फोड़े,दुनिया से ...  और पढ़ें
3 सप्ताह पूर्व
the missed beat
0

सब शिकायते एक खत में लिख कर बक्शे में बंद कर देते हैं....

सारी तकलीफ़ें सारी उलझनें ख़त्म कर देते हैं,सब शिक़ायतें एक  ख़त में लिख़उन्हें बक्से में बंद कर देते हैं.....फिर न तुम ज़िक्र करो कोई ना मैं कोई तंज क़सूखोल कर गाँठे सारी,सारी उधेड़ सब तुरपन बुनूँ,&nb...  और पढ़ें
4 सप्ताह पूर्व
the missed beat
0

तेरे जाने के बाद बहुत काम आये आंसू .....

कभी रोके,कभी पोछे,कभी छुपाये आँसू ,तेरे जाने के बाद बहुत काम आये आँसू ,कभी सोचा भी के ख़ुशी से तुम्हे जाने दे,लगे जो गले तो खुद ही उभर आये आँसू ,एक हम थे जो खामोश ज़हर पी गये,उसने तो जा जा के लोगो को दि...  और पढ़ें
1 माह पूर्व
the missed beat
4

मेरी हसरतो को कुचलकर शहनाईयां बजाना..

चाँद दिखाये मीरा तुम ज़हर पिलाना,मेरी हसरतो को कुचलकर शहनाईयां बजाना..अपने अंजाम में कुछ रोमानियत तो हो,हल्दी के हाथ से सज धज तुम मेरा गला दबाना,तुम तब भी मजबूर थी,अब भी मजबूरिया रही होगीमतलब नि...  और पढ़ें
1 माह पूर्व
the missed beat
3

शाम से दिल में सुलग रहा कोई....!!!

शाम से दिल में सुलग रहा कोई,बुझती हुई लकड़ियों में पक रहा कोई,हज़ार बार उम्मीद दम तोड़ती रही हैं,फिरभी दस्तक पर सज रहा कोई,यू तो कबसे रोना शिश्कना छोड़ चुका हूं,मेरे सब्र को बेसब्री से तक रहा कोई,ग़ज़ब ...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
the missed beat
3

तेज़ बारिस थी धूप मुह दिखाने लगी....!!!

तेज़ बारिस थी धूप मुह दिखाने लगी,चुनाव नजदीक है शायद,अयोध्या याद आने लगी,बमुश्किल इस कौम को अंधेरो से निकाला था,एक भीड़ फिर सच को जुठ बताने लगी,मुददत बाद जब शाम को घर वक़्त पे चला गया,गले लगा लिया मा...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
the missed beat
6

चिता की आग में जल रहा हूँ मै......

चिता की आग में जल रहा हूँ मै ,तेरे मिलने को मचल रहा हूँ मै,एक रोज़ कभी मिली थी फ़ुलो की सेज़,जबकि रोज़ काँटों पर चल रहा हूँ मै ,हर बात तेरी नसीब समझकर मानता  रहा,तेरे लिए कितना बदल रहा हूँ मैं,ये बेबसी ...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
the missed beat
5

बंद होके लिफाफे में,घर आ जाया तो करो .

रश्मे ख़त कभी कभी निभाया तो करो ,बंद होके लिफाफे में,घर आ जाया तो करो ...खुद ही सरका दो पह्लू ,हसीन ज़ानो से,घबरा कर फिर,दांतों तले उंगुलिया दबाया तो करो .हमको भी अपनी हदों का कुछ एहसास तो हो,पास बुल...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
the missed beat
5

पूजा की थाली तुलसी का पत्ता हैं माँ.....!!!

एक इबादत एक दुआ हैं माँ,मेरी सारी मन्नते मेरा ख़ुदा है माँ,हार जाती हैं जमाने भर की मुश्किलेहर उलझन को आसा हैं माँ,क्यो सफ़ेद चादर तूने ओढ़ लीअब्बा के बाद तुझे क्या हुआ हैं माँ,पुरानी खटिया सी कोने...  और पढ़ें
3 माह पूर्व
the missed beat
11

चाँदनी नीली रात फिर उफ़ान पे है.....

जो तेरा ज़िक्र  मेरी जुबान पे हैं चाँदनी नीली रात फिर उफ़ान पे है .. . !!!एक बार जो वो गुलबदन गुज़रा था यां से,उसकी खुशबु कबसे मेरे मकान पे है ,आज फ़िर वो सज सवर के घर से निकला हैं ,आज फ़िर  मेरा सब्र इम्...  और पढ़ें
3 माह पूर्व
the missed beat
9

बैठ के सुबह शाम को मैं लिखता रहा ,

   बैठ के सुबह शाम को,मैं लिखता रहा ,ख़त एक अन्जान को मैं लिखता रहा .नीद कम आंख नम होने लगी ,फिर भी ख्याल गुमनाम को मैं लिखता रहा ....और भी शै हैं मैंने जाना नही,सिर्फ तेरी मुस्कान को मैं लिखता रहा .....  और पढ़ें
3 माह पूर्व
the missed beat
7

बर्तन माझती कुम्हारिन के हुस्न पर ग़रीबी हावी हैं..!!!

किसी की आँख  हैं पीली किसीकी आँखे गुलाबी हैं,बर्तन माझती कुम्हारिन के हुस्न पर ग़रीबी हावी हैं..!!!प्रेम की दीपक तुमने हज़ारो किताबो में जला रखे,मुफलिशी और भूख को मैंने कलाम अपनी चढ़ादी हैं,तुम खु...  और पढ़ें
3 माह पूर्व
the missed beat
10

वजह की ज़िद में ज़िन्दगी का मज़ा नही ले पायेगा......!!!

ज़ुनून जब तेरा हद से गुज़र जाएगा,वजह मे फसेगा तो सारा खेल बिगड़जायेगा,इस कसमकश की वजह भी तभी जान पायेगा,दुनिया की तमाम वजहों से जब फ़रिक हो जायेगा,बारिशो में भीग कर देख,तेज़ धूम में घूमकर आ,वजह की ज़िद ...  और पढ़ें
3 माह पूर्व
the missed beat
9

कितने राज कल रात दफ़न हो गये....

सारी शिकायते सारे शिक़वे ख़त्म हो गये,कितने राज कल रात दफ़न हो गये,बड़े बेक़रार लोग भटकते रहे थे कई रोज़,सारे मसाइल मसले लिपट कर कफ़न हो गये,हज़ार बार की मिन्नतों से जो भी अब नही पिघलते,हम तुम बिछड़कर कित...  और पढ़ें
3 माह पूर्व
the missed beat
8

मुझसे हो नही पाया तुम कर नही सकते.....

जख्म ये उम्र भर तुम भर नही सकतेमुझसे हो नही पाया तुम कर नही सकते,छोड़ कर हाथ,तुमने दरिया मोड़ तो दिया हैंडूब तो सकते हो तुम इसमे तर नही सकते,कुछ हौसला कुछ हिम्मते तुमभी दिखानी होगी,हर बार तो श्रीक...  और पढ़ें
3 माह पूर्व
the missed beat
13

धूर्त ही बिसात हो तो ,हौसले कैसे बरकरार रखे....!!!

कौरवो संग चौसर में कैसे धर्म को साध रखेधूर्त ही बिसात हो तो ,हौसले कैसे बरकरार रखे,माना आखेट के जंगल में चीख़ों का चक्रव्यूह भी हैं,आँख ही न मींचले तो कैसे जीवित स्वमं को व्याध रखें,बस क्षण भर बि...  और पढ़ें
4 माह पूर्व
the missed beat
13

मुझसे यकीन बनकर तू लिपट क्यो नही जाता.....

ये ग़म का साग़र छलक क्यो नही जाता,जाते जाते वो पलट क्यो नही जाता...आँखों में तैरता हैं जो बदली बनकर,किसी जज़बात में बरस क्यो नही जाता,हौसले अपने पानी चौमास से उफनते है,वो रस्मो बंधिसो से रास्ते से हट...  और पढ़ें
4 माह पूर्व
the missed beat
11

कोई मीरा अभी ये काहा जान पायी हैं...

मैं ये कैसे कह दू गुलशन में बहार आयी हैं,इन अंधेरो ने तो सौ ऑंख रात रुलाई है,हर प्याला हर महफ़िल फ़क़द जहर का घुट यांहा,गोया कोई मीरा अभी ये काहा जान पायी हैं,ग़ज़ब इतेफाक़ हैं कमाल की परेशानी हैं,जिस ज...  और पढ़ें
4 माह पूर्व
the missed beat
9

क्या मै तुम्हारे तरीखे सीख पाऊँगा.....???

कोरा ही चला था सफ़र परजैसे जैसे लोग मिले अपना एक रंग छोड़  गये ,अपने हिसाब से ही तोड़  मरोड़ गये अपने तज़ुर्बो को तुम्ही ने चस्पाया तुम्ही ने हिंदू और मुसलवां बनायाकिसीने अछूत कहा किसीने शीश छुक़ा...  और पढ़ें
4 माह पूर्व
the missed beat
7

ये दो कमरे जो कभी घर न बन सके....

प्यार बहुत करते थे मगर हमसफर न बन सके,ये दो कमरे जो कभी घर न बन सके,यही था दोनो का फैसला तो सिर फोड़ना कैसा,जो नही था तकदीर में,वो उमर भर न बन सके,लाख चाहा आँख चुरा लू ज़माने भर की बेकारी से,ग़रीब का हशर...  और पढ़ें
4 माह पूर्व
the missed beat
8

तृष्णा का उपचार क्या हैं...?

कौन सी पिपासा है कौन धुन सवार है,मनुष्य को ये किसकी तलाश हैंधन की धुरी पर चलता जीवन,मृत तृष्णा  सा छलता जीवनलक्ष्य कोई नही बस एक दौड़ जारी हैंसब सिर एक बोझ भारी हैंपरस्पर संबंधो की किसको चिंता...  और पढ़ें
4 माह पूर्व
the missed beat
10

तू एक बार गले लगा के देख ले.....

सारे शिक़वे झट से मिटा के देख ले,तू एक बार गले लगा के देख ले...कितने बंदर हमने संसद पिछले सालों में भेजे हैंएक बार सदन में डमरू बजा के देख ले,तेरे कदमो में तमाम उम्र की गुलामी रख दी हैंजरा मुझे  घू...  और पढ़ें
4 माह पूर्व
the missed beat
10

तेरे मेरे मन के नगर झितिज के पार होंगे

   एक दिन ये सूरज,वो चाँद ,तेरे भी गले का हार होगा , तेरे मेरे मन का नगर झितिज के पार होगाहर पेट रोटी ,हर तन को कपड़ाहर आँख स्वप्न साकार होगातेरे मेरे मन का नगर झितिज के पार होगा.......जहा जुल्म न झूठ ...  और पढ़ें
4 माह पूर्व
the missed beat
11

क्या करूँ के मेरे पाँव मेरी चादर से ज्यादा हैं...!

क्या करूँ के मेरे पाँव मेरी चादर से ज्यादा हैंजुनून हैं के मेरे हक में मुक़द्दर से ज्यादा हैं,चिराग हूँ हज़ार अंधेरों के वजूद मिटा सकता हूँमेरी अहमियत तेरे तसव्वुर से ज्यादा हैवो शाह हो तो हो मु...  और पढ़ें
4 माह पूर्व
the missed beat
11

ज़िन्दगी आग हैं पानी डालते रहिये

ज़िन्दगी आग हैं पानी डालते रहियेहर मोड़ पर दिल का सिक्का उछालते रहिये,दिखने लगी हैं नमी,हसींन आँखों मेंअल्लाह उसका काजल सँभालते रहिये,धड़कने बेजान हो जाती है...  और पढ़ें
4 माह पूर्व
the missed beat
11

दुश्मन मिले हैं दोस्तों के लिबास में....

राजदार ने मिलादी जिंदगी खाक मेंदुश्मन मिले हैं दोस्तों के लिबास मेंघोसले उजाड़ गए परिंदे निकल गएक्या अब और रखा हैं तलाक मेंउसकी मौत ने भी इंकलाब पैदा कियाकुछ आग बची रह गयी थी राख़ में,गले भी मिल...  और पढ़ें
5 माह पूर्व
the missed beat
15

अपनी खताओ को दोहरा रहा हूँ मैं ....

   जाने कौन से उसूल जीये जा रहा हूँ मैं,अपनी खताओ को दोहरा रहा हूँ मैं ....सारी ख्वाहिशे ,सपने तमाम ,जाया हुये ,अपने ही फैसलों से पछता रहा हूँ मैं ...उस मासूम होठो की हँसी रोकती हैं कदम ,जबकी सदियो...  और पढ़ें
5 माह पूर्व
the missed beat
14

तेरी तू में,मेरी मै में,हम दोनों बर्बाद  हुए...!!!

सात फेरों के सारे वादे,खुदगर्ज़ी में ख़ाक हुएतेरी तू में,मेरी मै में,हम दोनों बर्बाद  हुएकुछ बातों का सुलझना जैसे अब नामुमकिन हैंजन्नत का सा वज़ूद था पर कश्मीर से हालात हुए,सौ मसलो का हल बस एक हल...  और पढ़ें
5 माह पूर्व
the missed beat
13

ये मौसम क्यों नही बदल जाता ...!!!

ये धूप क्यों नहीं छट्ती ,कोई बदरी क्यों नहीं उमड़ती .कोई सावन क्यों नही बुलाता ,ये मौसम क्यों नही बदल जाता ...भारी हैं बहुत मुशकिल समय ,उदास तू परेशां मैं .बेचैनी सी दिल पे छायी,बातो बातो में,आख छलछ...  और पढ़ें
5 माह पूर्व
the missed beat
9
Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन  
हो सकता है इनको आप जानते हो!  
Mohd saif
Mohd saif
lucknow,India
Sumit Singh
Sumit Singh
Bangalore,India
ramkumar upadhyay
ramkumar upadhyay
rehli dis sagar,India
सोनू ठाकुर
सोनू ठाकुर
मनाली {हिमाचल प्रदेश },India
Mukesh Srivastava
Mukesh Srivastava
Allahabad,India