श्रीमद् भगवद् गीता की पोस्ट्स

अथ प्रथमोऽध्यायः- अर्जुनविषादयोग

                          ( दोनों सेनाओं के प्रधान-प्रधान शूरवीरों की गणना और सामर्थ्य का कथन )                                                   धृतराष्ट्र उवा...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
श्रीमद् भगवद् गीता
0

दोनों सेनाओं की शंख-ध्वनि का कथन

                   तस्य सञ्जनयन्हर्षं कुरुवृद्धः पितामहः ।                 सिंहनादं विनद्योच्चैः शंख दध्मो प्रतापवान्‌ ॥भावार्थ :  कौरवों में वृद्ध बड़े प्रतापी पितामह ...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
श्रीमद् भगवद् गीता
0

मोह से व्याप्त हुए अर्जुन के कायरता, स्नेह और शोकयुक्त वचन

                                                             अर्जुन उवाच                      दृष्टेवमं स्वजनं कृष्ण युयुत्सुं समुपस्थितम्‌ ॥            &nb...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
श्रीमद् भगवद् गीता
0

अथ द्वितीयोऽध्यायः- सांख्ययोग

 ( अर्जुन की कायरता के विषय में श्री कृष्णार्जुन-संवाद )                                     संजय उवाच                   तं तथा कृपयाविष्टमश्रुपूर्णाकुलेक्षणम्‌ ।  &nb...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
श्रीमद् भगवद् गीता
0

सांख्ययोग का विषय

                                                       श्री भगवानुवाच                       अशोच्यानन्वशोचस्त्वं प्रज्ञावादांश्च भाषसे ।                ...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
श्रीमद् भगवद् गीता
0

क्षत्रिय धर्म के अनुसार युद्ध करने की आवश्यकता का निरूपण

                      स्वधर्ममपि चावेक्ष्य न विकम्पितुमर्हसि ।                 धर्म्याद्धि युद्धाच्छ्रेयोऽन्यत्क्षत्रियस्य न विद्यते ॥भावार्थ : तथा अपने धर्म को देखकर भ...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
श्रीमद् भगवद् गीता
0

कर्मयोग का विषय

                      एषा तेऽभिहिता साङ्‍ख्ये बुद्धिर्योगे त्विमां श्रृणु ।                        बुद्ध्‌या युक्तो यया पार्थ कर्मबन्धं प्रहास्यसि ॥भावार्थ : हे पार्थ! य...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
श्रीमद् भगवद् गीता
0

स्थिरबुद्धि पुरुष के लक्षण और उसकी महिमा

                                                         अर्जुन उवाच                    स्थितप्रज्ञस्य का भाषा समाधिस्थस्य केशव ।                    स्थि...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
श्रीमद् भगवद् गीता
0

अथ तृतीयोऽध्यायः- कर्मयोग

(ज्ञानयोग और कर्मयोग के अनुसार अनासक्त भाव से नियत कर्म करने की श्रेष्ठता का निरूपण)                                         अर्जुन उवाच                       ज्यायस...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
श्रीमद् भगवद् गीता
0

ज्ञानवान और भगवान के लिए भी लोकसंग्रहार्थ कर्मों की आवश्यकता

                        यस्त्वात्मरतिरेव स्यादात्मतृप्तश्च मानवः ।                      आत्मन्येव च सन्तुष्टस्तस्य कार्यं न विद्यते ॥भावार्थ : परन्तु जो मनुष्य आत्मा मे...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
श्रीमद् भगवद् गीता
0

अज्ञानी और ज्ञानवान के लक्षण तथा राग-द्वेष से रहित होकर कर्म करने के लिए प्रेरणा

                          सक्ताः कर्मण्यविद्वांसो यथा कुर्वन्ति भारत ।                    कुर्याद्विद्वांस्तथासक्तश्चिकीर्षुर्लोकसंग्रहम्‌ ॥भावार्थ : हे भारत! कर्म ...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
श्रीमद् भगवद् गीता
0

काम के निरोध का विषय

                                           अर्जुन उवाच                             अथ केन प्रयुक्तोऽयं पापं चरति पुरुषः ।                         अनिच्छ...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
श्रीमद् भगवद् गीता
0

अथ चतुर्थोऽध्यायः- ज्ञानकर्मसंन्यासयोग

              (  सगुण भगवान का प्रभाव और कर्मयोग का विषय )                                     श्री भगवानुवाच                       इमं विवस्वते योगं प्रोक्तवानह...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
श्रीमद् भगवद् गीता
0

योगी महात्मा पुरुषों के आचरण और उनकी महिमा

                       यस्य सर्वे समारम्भाः कामसंकल्पवर्जिताः ।                        ज्ञानाग्निदग्धकर्माणं तमाहुः पंडितं बुधाः ॥भावार्थ : जिसके सम्पूर्ण शास्त्रसम्...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
श्रीमद् भगवद् गीता
0

फलसहित पृथक-पृथक यज्ञों का कथन

                  ब्रह्मार्पणं ब्रह्म हविर्ब्रह्माग्रौ ब्रह्मणा हुतम्‌ ।                     ब्रह्मैव तेन गन्तव्यं ब्रह्मकर्मसमाधिना ॥भावार्थ : जिस यज्ञ में अर्पण अर्था...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
श्रीमद् भगवद् गीता
0

ज्ञान की महिमा

                      श्रेयान्द्रव्यमयाद्यज्ञाज्ज्ञानयज्ञः परन्तप ।                        सर्वं कर्माखिलं पार्थ ज्ञाने परिसमाप्यते ॥भावार्थ : हे परंतप अर्जुन! द्रव्य...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
श्रीमद् भगवद् गीता
0

अथ पंचमोऽध्यायः- कर्मसंन्यासयोग

                        ( सांख्ययोग और कर्मयोग का निर्णय )                                      श्रीभगवानुवाच                    सन्न्यासं कर्मणां कृष्ण पुनर्यो...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
श्रीमद् भगवद् गीता
0

सांख्ययोगी और कर्मयोगी के लक्षण और उनकी महिमा

                  योगयुक्तो विशुद्धात्मा विजितात्मा जितेन्द्रियः ।                    सर्वभूतात्मभूतात्मा कुर्वन्नपि न लिप्यते ॥भावार्थ : जिसका मन अपने वश में है, जो जितेन्द...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
श्रीमद् भगवद् गीता
0

भक्ति सहित ध्यानयोग का वर्णन

                     स्पर्शान्कृत्वा बहिर्बाह्यांश्चक्षुश्चैवान्तरे भ्रुवोः ।                     प्राणापानौ समौ कृत्वा नासाभ्यन्तरचारिणौ ॥                    &...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
श्रीमद् भगवद् गीता
0

अथ षष्ठोऽध्यायः- आत्मसंयमयोग

                ( कर्मयोग का विषय और योगारूढ़ पुरुष के लक्षण )                                   श्रीभगवानुवाच                   अनाश्रितः कर्मफलं कार्यं कर्म करोत...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
श्रीमद् भगवद् गीता
0

आत्म-उद्धार के लिए प्रेरणा और भगवत्प्राप्त पुरुष के लक्षण

                      उद्धरेदात्मनाऽत्मानं नात्मानमवसादयेत्‌ ।                   आत्मैव ह्यात्मनो बन्धुरात्मैव रिपुरात्मनः ॥भावार्थ : अपने द्वारा अपना संसार-समुद्र से ...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
श्रीमद् भगवद् गीता
0
 
Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन  
हो सकता है इनको आप जानते हो!  
TANWEER ALAM
TANWEER ALAM
Purnia,India
d k bhatt
d k bhatt
ahmedabad,India
JHAJJAR IT HUB
JHAJJAR IT HUB
Jhajjar,India
Vivek Vaishnav
Vivek Vaishnav
raipur,India
DHARAMVEER ARYA
DHARAMVEER ARYA
JIND,India

Marstrand,Sweden