मेरी कहानियां की पोस्ट्स

स्वाभिमान - लघुकथा

स्वाभिमान - लघुकथा एक स्व-वित्तपोषित महाविद्यालय  में समाजशास्त्र विषय की प्रवक्ता  डॉ राखी प्रतिदिन समय पर महाविद्यालय  पहुंच जाती थी पर आज समय से बस न मिल पाने के कारण उसे देर हो गई. ...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
मेरी कहानियां
2

उचित निर्णय -कहानी

उचित निर्णय -कहानी'' ....आज पूरे पांच वर्ष हो गए अन्नपूर्णा से न मिले लेकिन ह्रदय आज जितना व्याकुल  हो रहा  है उतना पिछले पांच वर्षों में कभी  नहीं हुआ  | अन्नपूर्णा तो और लोग कहते थे ...मेरे लि...  और पढ़ें
3 माह पूर्व
मेरी कहानियां
1

औरत जात

सड़क पर नंगी लाश पड़ी थी. चारों ओर इकट्ठा लोग अनुमान लगा रहे थे - "लगता है बलात्कार करने के बाद मारकर  फेंक दिया है यहां.. आठ नौ साल की रही होगी.. पर मुद्दा ये है कि ये हिन्दू थी या मुस्लिम?"तभी भीड़ ...  और पढ़ें
11 माह पूर्व
मेरी कहानियां
13

गरमागरम मामला -लघुकथा

कॉलेज के स्टाफ रूम में  पुरुष सहकर्मियों के साथ यूँ तो रोज़ किसी न किसी मुद्दे पर विचार विनिमय होता रहता था पर आज निवेदिता को दो पुरुष सहकर्मियों कीउसके प्रति की गयी टिप्पणी और उससे भी बढ़कर प्...  और पढ़ें
1 वर्ष पूर्व
मेरी कहानियां
16

शर्मिंदा-लघुकथा...

शर्मिंदा-लघुकथा...''अरे चेयरमैन साब ! आपको क्या जरूरत थी आने की ......चपरासी को भेज देते ...मैं आपकी पसंद का सामान घर ही पहुंचवा देता .'' जनरल स्टोर पर पधारे विशिष्ठ अतिथि को देख स्टोर मालिक सोनू गदगद ...  और पढ़ें
2 वर्ष पूर्व
मेरी कहानियां
26

सूजी हुई आँखें-कहानी

''...बहू अगर चाहती है तो बेशक तुम अलग घर ले लो ..लेकिन याद रखना एक दिन तुम्हें मेरे पास वापस आना ही होगा .''माँ ने गंभीर स्वर में अपना निर्णय सुना दिया . सच कहूँ तो मेरी माँ से दूर जाकर रहने की रत्ती भर भ...  और पढ़ें
2 वर्ष पूर्व
मेरी कहानियां
33

बुलंद आवाज़ -कहानी

ये हत्या एक नेता की नहीं थी ; ये हत्या थी सौहार्द व् उदारतावाद के मूर्तिमान व्यक्तित्व की , जो परम्परागत सफ़ेद धोती पहने ;नंगे सीने ....घुस जाता था उस जुनूनी भीड़ में जो कभी हिन्दू-मुस्लिम के नाम पर त...  और पढ़ें
2 वर्ष पूर्व
मेरी कहानियां
29

"वो अच्छी लड़की नहीं है "

जब से युवा मोनिका की दोस्ती इसी वर्ष ऑफिस में आये उसकी की ही आयु के लक्ष्य के साथ ज्यादा बढी़ थी, तब से उसके बारह वर्ष बड़े बॉस का व्यवहार उसके साथ उतना मधुर नहीं रह गया था. पहले मोनिका को अपने ऑफ...  और पढ़ें
2 वर्ष पूर्व
मेरी कहानियां
28

'ये अश्लील है '

कौन सोच सकता था कि जो चौदह वर्षीय किशोर बाला भाभी की दो वर्षीय बिटिया को गोद में उठाये  लाड़ करता घूमता है वही उसके साथ दुष्कर्म कर डालेगा .ठीक-ठाक घर का शालीन सा प्रतीत होता किशोर .उसके माता-प...  और पढ़ें
3 वर्ष पूर्व
मेरी कहानियां
70

बलात्कारी..पति ?-कहानी

पंचायत अपना फैसला सुना चुकी थी .नीला के बापू -अम्मा , छोटे भाई-बहन बिरादरी के आगे घुटने टेककर पंचायत का निर्णय मानने को विवश हो चुके थे .निर्णय की जानकारी होते ही नीला ने उस बंद -दमघोंटू कोठरी की ...  और पढ़ें
4 वर्ष पूर्व
मेरी कहानियां
98

बदनाम रानियां -कहानी

बगल में बस की सीट पर बैठी खूबसूरत युवती द्वारा मोबाइल पर की जा रही बातचीत से मैं इस नतीजे पर पहुँच चूका था कि ये ज़िस्म फ़रोशी का धंधा करती है .एक रात के पैसे वो ऐसे तय कर रही थी जैसे हम सेकेंड हैण...  और पढ़ें
4 वर्ष पूर्व
मेरी कहानियां
100

जीवन-यात्रा

जीवन-यात्रामशहूर उद्योगपति की पत्नी और दो किशोर पुत्रों की माँ हेम जब भी एकांत में बैठती तब उसकी आँखों के सामने विवाह के पूर्व की  घटना का एक-एक दृश्य घूमने लगता .कॉलेज में उस दिन वो सरस से आखि...  और पढ़ें
4 वर्ष पूर्व
मेरी कहानियां
124

खोखली उदारवादिता -लघु कथा

  गौतम उदारतावादी स्वर में बोला -''लिव-इन कोई गलत व्यवस्था नहीं...आखिर कब तक वही पुराने..घिसे-पिटे सिस्टम पर समाज चलता रहेगा ..विवाह ....इससे भी क्या होता है ? गले में पट्टा डाल दिया बीवी के नाम का औ...  और पढ़ें
4 वर्ष पूर्व
मेरी कहानियां
101

''रिक्शावाले का प्यार !''

 रविता सीमा से मिलने उसके घर पहुंची तो सीमा की ख़ुशी का ठिकाना न रहा . एक दुसरे का हाल-चाल पूछते पूछते रविता बोली - '' पता है सीमा मैं जिस रिक्शा से आई हूँ उसका चालक बहुत ही रोमांटिक है .एक से एक रोम...  और पढ़ें
4 वर्ष पूर्व
मेरी कहानियां
97

''जागरूक महिलाएं !''

 भावना को सब्ज़ी मंडी से लौटते  हुए अचानक अपनी सहेली अनु मिल गयी .इधर-उधर की बातों के बाद दोनों की बातों के केंद्र में दोनों के बच्चे आ गए .भावना मुंह बनाते हुए बोली - क्या बताऊँ ! मेरा बेटा आठ स...  और पढ़ें
4 वर्ष पूर्व
मेरी कहानियां
112

''कॉलेज जाना है या शादी ब्याह में !''

 ''माँ मैं कौन सी पोशाक पहनूं ?'' चिया ने चहकते हुए माँ से पूछा तो माँ ने उदासीन भाव से कहा -'' कुछ भी जो शालीन हो वो पहन लो . चिया ने आर्टिफिशल ज्वेलरी दिखाते हुए माँ से पूछा -'' माँ ये माला का सैट कैसा ल...  और पढ़ें
4 वर्ष पूर्व
मेरी कहानियां
95

भगवान की गलती !

सिया ने माँ से पूछा -'' मैं कालेज की फ्रेंड्स के साथ बाहर कैम्प में चली जाऊं माँ दो दिन के लिए ?'' माँ बोली -'' पिता जी से पूछो ? '' सिया रसोईघर से कमरे में आई और पिता जी से पूछा कैम्प में जाने के लिए तो व...  और पढ़ें
4 वर्ष पूर्व
मेरी कहानियां
104

''और फूल बिखर गया ''

''और फूल बिखर गया ''उस कँटीले जंगल में वो अल्हड़ सी कली निर्भीक होकर मंद-मंद आती समीर के साथ झूल लेती और जब हंसती तो उसके चटकने की मधुर ध्वनि से हर काँटा ललचाई नज़रों से उसे देखने लगता .वो खुद को पत्त...  और पढ़ें
4 वर्ष पूर्व
मेरी कहानियां
79

''शायद यही प्यार है !''-लघु कथा

 रमन आज अपने जीवन के साठ वें दशक में प्रवेश कर रहा था . उसकी जीवन संगिनी विभा को स्वर्गवासी हुए पांच वर्ष हो चुके थे .रमन आज तक नहीं समझ पाया कि एक नारी की प्राथमिकताएं जीवन के हर नए मोड़ पर कैसे ब...  और पढ़ें
4 वर्ष पूर्व
मेरी कहानियां
77

हम इंसान हो गए -लघु कथा

हम इंसान हो गए -लघु कथा खुशबू कालेज जा रही थी . बीच रास्ते में उसकी सेंडिल की हील निकल गयी . पीछे से आती एक बाइक रुकी .खुशबू ने मुड़कर देखा तो ये साहिल था .साहिल बाइक से उतरा और उसकी सेंडिल हाथ में ...  और पढ़ें
4 वर्ष पूर्व
मेरी कहानियां
82

अहंकार और प्यार -लघु-कथा

अहंकार और प्यार -लघु-कथाबैंक अधिकारी रजत ने ज्वेलरी की दुकान से डायमंड रिंग खरीदी और इस भाव से भरकर उस पर एक नज़र डाली कि-''कोई भी पति अपनी पत्नी के लिए वेडिंग ऐनिवर्सरी का इससे ज्यादा महगा गिफ्...  और पढ़ें
4 वर्ष पूर्व
मेरी कहानियां
84

''भाव ही सबसे सुन्दर ''-लघु कथा

''भाव ही सबसे सुन्दर ''-लघु कथालड़के ने कहा 'तुम्हारी आँखें बहुत सुन्दर हैं !'' लड़की मुस्कुराई और बोली -'' आँखें नहीं ...इनमें तुम्हारे प्रति झलकता प्यार का भाव सुन्दर है !'' लड़का बोला -'' तुम्हारे हों...  और पढ़ें
4 वर्ष पूर्व
मेरी कहानियां
74

सबसे सुन्दर लड़का -लघु कथा

सबसे सुन्दर लड़का -लघु कथा वो खूबसूरत लड़की जब सड़क पर चलती थी तब अपने में ही खोई रहती . उसको खबर न होती कि कोई लड़का उसका पीछा कर रहा है . एक दिन एक संकरी गली में उस पीछा करने वाले लड़के ने आगे आकर उसका ...  और पढ़ें
4 वर्ष पूर्व
मेरी कहानियां
89

ख़राब लड़की

 ख़राब लड़की -storyइक्कीस वर्षीय सांवली -सलोनी रेखा को उसी लड़के ने कानपुर बुलाकर क़त्ल कर दिया जिसने उससे शादी का वादा किया था . लड़के के प्रेम-जाल में फँसी रेखा न केवल क़त्ल की गयी बल्कि अपने श...  और पढ़ें
4 वर्ष पूर्व
मेरी कहानियां
76

”प्रायश्चित-जनवाणी में प्रकाशित ”

''नीहारिका का कन्यादान मैं और सीमा नहीं बल्कि तुम और सविता  करोगे क्योंकि तुम दोनों को ही नैतिक रूप से ये अधिकार है .'' सागर के ये कहते ही समर ने उसकी ओर आश्चर्य से देखा और हड़बड़ाते हुए बोला -'' ये आ...  और पढ़ें
4 वर्ष पूर्व
मेरी कहानियां
70

ऐसी सुहागन से विधवा ही भली .'' -लघु- कथा

ऐसी सुहागन से विधवा  ही  भली .'' -लघु- कथा google se sabhar पति के शव के पास बैठी ,मैली धोती के पल्लू से मुंह ढककर ,छाती पीटती ,गला  फाड़कर चिल्लाती सुमन को बस्ती की अन्य महिलाएं ढाढस  बंधा रही थी  पल्...  और पढ़ें
4 वर्ष पूर्व
मेरी कहानियां
69

बेटी का हक़ -कहानी

बेटी का हक़ -कहानी सेवानिवृत बैंक-अधिकारी आस्तिक ने तौलिये से गीला चेहरा पोंछते हुए अपनी धर्मपत्नी मंजू से कहा - 'हर दहेज़ -हत्या के जिम्मेदार ससुरालवालों से ज्यादा लड़की के मायके वाले होते ...  और पढ़ें
4 वर्ष पूर्व
मेरी कहानियां
88

''दर्शन-प्रवचन -सेवा''-लघु कथा

''दर्शन-प्रवचन -सेवा''-लघु कथा चलने फिरने से लाचार सुशीला ने अपने  कमरे में पलंग पर पड़े-पड़े ही आवाज़ लगाईं -'' बिट्टू .....बिट्टू '' इस पर छह साल का प्यारा सा बच्चा दौड़कर आया और चहकते हुए बोला -''..हा...  और पढ़ें
4 वर्ष पूर्व
मेरी कहानियां
71

बेटी पराई

बेटी पराई -लघु कथावैदेही  के घर की चौखट पर कदम रखते ही सासू माँ चहक कर बोली -'' लो आ गयी बहू ....अब बना देगी चाय झटाझट  आपकी .'' वैदेही ने मुस्कुराकर सासू माँ की ओर देखा और पल्लू सिर पर ठीक करते हुए ...  और पढ़ें
4 वर्ष पूर्व
मेरी कहानियां
99

तो नैना हमारे साथ होती ..!

[published in ravivani [janwani sunday magazine] on 1 feb 2015]शानदार कोठी के लॉन में कुर्सियों पर आमने-सामने बैठी हुई नैना और पुनीता की जैसे ही आँखें मिली पुनीता गंभीरता की साथ बोली -'' हमेशा अपने ही बारे में सोचती रहोगी या कभी किसी ...  और पढ़ें
4 वर्ष पूर्व
मेरी कहानियां
80
Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन  
हो सकता है इनको आप जानते हो!  
Gangaraj Pandit
Gangaraj Pandit
Kathmandu,Nepal
Himanshu Goyal
Himanshu Goyal
Jaipur,India
propecia buy online
propecia buy online
BvsQHIuDXAogc,
Yogendra
Yogendra
Varanasi,India
IndrasiNh Solanki
IndrasiNh Solanki
Ahmedabad,India