डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
आपका ब्लॉग की पोस्ट्स

चिड़िया: बूँद समाई सिंधु में !

चिड़िया: बूँद समाई सिंधु में !: प्रीत लगी सो लगि गई, अब ना फेरी जाय । बूँद समाई सिंधु में, अब ना हेरी जाय ।। हिय पैठी छवि ना मिटे, मिटा थकी दिन-रैन । निर्मोही के ......  और पढ़ें
3 सप्ताह पूर्व
आपका ब्लॉग
2

चिड़िया: पुस्तक समीक्षा - "मन दर्पण"

चिड़िया: पुस्तक समीक्षा - "मन दर्पण": पुस्तक समीक्षा रचना – मन दर्पण. रचनाकार – माड़भूषि रंगराज अयंगर. प्रकाशक – बुक बजूका पब्लिकेशन्स, कानपुर. मूल्य – रु. 175 मात्र ......  और पढ़ें
1 माह पूर्व
आपका ब्लॉग
5

चिड़िया: जब शरद आए !

चिड़िया: जब शरद आए !: ताल-तलैया खिलें कमल-कमलिनी मुदित मन किलोल करें हंस-हंसिनी ! कुसुम-कुसुम मधुलोभी मधुकर मँडराए, सुमनों से सजे सृष्टि,जब शरद आए !!! ......  और पढ़ें
1 माह पूर्व
आपका ब्लॉग
4

चिड़िया: जीवन - घट रिसता जाए है...

चिड़िया: जीवन - घट रिसता जाए है...: जीवन-घट रिसता जाए है... काल गिने है क्षण-क्षण को, वह पल-पल लिखता जाए है... जीवन-घट रिसता जाए है । इस घट में ही कालकूट विष, अमृत है इस......  और पढ़ें
1 माह पूर्व
आपका ब्लॉग
4

चिड़िया: आनंद की खोज

चिड़िया: आनंद की खोज: आनंद की खोज आओ साथी मिलकर खोजें, जीवन में आनंद को, क्रोध, ईर्ष्या, नफरत त्यागें पाएँ परमानंद को... जीवन की ये भागादौड़ी, लगी रही ह......  और पढ़ें
2 माह पूर्व
आपका ब्लॉग
4

Laxmirangam: डिजिटल इंडिया - मेरा अनुभव.

Laxmirangam: डिजिटल इंडिया - मेरा अनुभव.: डिजिटल इंडिया – मेरा अनुभव. उस दिन मेरे मोबाईल पर फ्लेश आया. यदि आप जिओ का सिम घर बैठे पाना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें. मैंने क्लिक क......  और पढ़ें
2 माह पूर्व
आपका ब्लॉग
3

चिड़िया: रहिए जरा सँभलकर

चिड़िया: रहिए जरा सँभलकर: रहिए जरा सँभलकर  मंजिल है दूर कितनी,  इसकी फिकर न करिए बस हमसफर राहों के,  चुनिए जरा सँभलकर... काँटे भी ढूँढते हैं,  नजदीकियों के ......  और पढ़ें
2 माह पूर्व
आपका ब्लॉग
2

चिड़िया: खामोशियाँ गुल खिलाती हैं !

चिड़िया: खामोशियाँ गुल खिलाती हैं !: रात के पुर-असर सन्नाटे में जब चुप हो जाती है हवा फ़िज़ा भी बेखुदी के आलम में हो जाती है खामोश जब ! ठीक उसी लम्हे, चटकती हैं अनगिनत कलि......  और पढ़ें
2 माह पूर्व
आपका ब्लॉग
3

Laxmirangam: साजन के गाँव में.

Laxmirangam: साजन के गाँव में.: साजन के गाँव में. आज मत रोको मुझे, साजन के गाँव में, सुनो मेरी छम छम, बिन पायल के पाँव में. आलता मँगाऊँगी मैं, मेंहदी  रच......  और पढ़ें
2 माह पूर्व
आपका ब्लॉग
9

Laxmirangam: धड़कन

Laxmirangam: धड़कन: धड़कन संग है तुम्हारा आजन्म, या कहें संग है हमारा आजन्म. छोड़ दे संग परछाईं जहाँ, उस घनेरी रात में भी, गर तुम नहीं हो सा......  और पढ़ें
2 माह पूर्व
आपका ब्लॉग
4

एक ग़ज़ल : मिलेगा जब वो हम से---

 ग़ज़ल : मिलेगा जब भी वो हमसे---मिलेगा जब भी वो हम से, बस अपनी ही सुनायेगामसाइल जो हमारे हैं  , हवा  में  वो   उड़ाएगाअभी तो उड़ रहा है आस्माँ में ,उड़ने  दे उस कोकटेगी डॊर उस की तो ,कहाँ पर और जाय...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
आपका ब्लॉग
3

एक ग़ज़ल : छुपाते ही रहे अकसर---

एक ग़ज़ल : छुपाते ही रहे अकसर--छुपाते ही रहे अकसर ,जुदाई के दो चश्म-ए-नमजमाना पूछता गर ’क्या हुआ?’ तो क्या बताते हममज़ा ऐसे सफ़र का क्या,उठे बस मिल गई मंज़िलन पाँवों में पड़े छाले  ,न आँखों  में  ही अश...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
आपका ब्लॉग
9

एक ग़ज़ल : बहुत अब हो चुकी बातें----

ग़ज़ल : बहुत अब हो चुकी बातें------बहुत अब हो चुकी बातें तुम्हारी ,आस्माँ कीउतर आओ ज़मीं पर बात करनी है ज़हाँ कीमसाइल और भी है ,पर तुम्हें फ़ुरसत कहाँ हैकहाँ तक हम सुनाएँ  दास्ताँ  अश्क-ए-रवाँ कीमिलात...  और पढ़ें
3 माह पूर्व
आपका ब्लॉग
10

एक व्यंग्य : अनावरण एक गाँधी मूर्ति का-------

[ 2--अक्टूबर -- गाँधी जयन्ती के अवसर पर ---]डायरी के पन्नों से-----------------------एक व्यंग्य : अनावरण एक गाँधी मूर्ति का-------......नेता जी ने अपनी गांधी-टोपी सीधी की।रह रह कर टेढी़ हो जाया करती है। विशेषत: जब वह सत्ता ...  और पढ़ें
3 माह पूर्व
आपका ब्लॉग
8

Laxmirangam: मेरा जिन्न

Laxmirangam: मेरा जिन्न: मेरा जिन्न                     कल सुबह अचानक ही मेरी मौत हो गई.                मैं लाश लिए काँधे किसी दर निकल पड़ा,      ......  और पढ़ें
3 माह पूर्व
आपका ब्लॉग
7

एक व्यंग्य : रावण का पुतला---

 एक लघु कथा  : ----रावण का पुतला ---- आज रावण वध है । 40 फुट का पुतला जलाया जायेगा । विगत वर्ष 30 फुट का जलाया गया था } इस साल बढ़ गया रावण का कद। पिछ्ले साल से से इस साल बलात्कार अत्याचार ,अपहरण ,हत्या की ...  और पढ़ें
3 माह पूर्व
आपका ब्लॉग
11

एक व्यंग्य : रावण का पुतला---

 एक लघु कथा  : ----रावण का पुतला ---- आज रावण वध है । 40 फुट का पुतला जलाया जायेगा । विगत वर्ष 30 फुट का जलाया गया था } इस साल बढ़ गया रावण का कद। पिछ्ले साल से से इस साल बलात्कार अत्याचार ,अपहरण ,हत्या की ...  और पढ़ें
3 माह पूर्व
आपका ब्लॉग
12

जिन्दगी

जिन्दगीविवसता में  हाथ  कैसे  मल रही  है जिन्दगीमनुज से ही मनुजता को छल रही है जिन्दगीएक  छोटे  से  वतन  के  सत्य  में आभाव मेंरास्ते की पटरियों  पर  पल  रही  है जिन्दगी//0//फू...  और पढ़ें
3 माह पूर्व
आपका ब्लॉग
7

एक ग़ज़ल :- ये गुलशन तो सभी का है---

एक ग़ैर रवायती ग़ज़ल :---ये गुलशन तो सभी का है----ये गुलशन तो सभी का है ,तुम्हारा  है, हमारा हैलगा दे आग कोई  ये नही   हमको गवारा  हैतुम्हारा धरम है झूठा ,अधूरा है ये फिर मज़हबज़मीं को ख़ून से रँगने का ग...  और पढ़ें
3 माह पूर्व
आपका ब्लॉग
10

चिड़िया: बस, यूँ ही....

चिड़िया: बस, यूँ ही....: नौकरी, घर, रिश्तों का ट्रैफिक लगा,  ज़िंदगी की ट्रेन छूटी, बस यूँ ही !!! है दिवाली पास, जैसे ही सुना, चरमराई खाट टूटी, बस यूँ ही !!! ड......  और पढ़ें
3 माह पूर्व
आपका ब्लॉग
6

Laxmirangam: हिंदी दिवस 2017 विशेष - हमारी राष्ट्रभाषा

Laxmirangam: हिंदी दिवस 2017 विशेष - हमारी राष्ट्रभाषा: हमारी राष्ट्रभाषा. परतंत्रता की सदियों मे स्वतंत्रता आंदोलन में लोगों को एक जुट करने के लिए राष्ट्रभाषा शब्द का शायद प्रथम प्रयोग......  और पढ़ें
3 माह पूर्व
आपका ब्लॉग
8

चिड़िया: पाषाण

चिड़िया: पाषाण: पाषाण सुना है कभी बोलते, पाषाणों को ? देखा है कभी रोते , पाषाणों को ? कठोरता का अभिशाप, झेलते देखा है ? बदलते मौसमों से, जूझते द......  और पढ़ें
3 माह पूर्व
आपका ब्लॉग
12

Laxmirangam: दीपा

Laxmirangam: दीपा: दीपा हर दिन की तरह मुंबई की लोकल ट्रेन खचाखच भरी हुई थी. यात्री भी हमेशा की तरह अंदर बैठे , खड़े थे. गेट के पास कुछ यात्री हेंडल पकड़े ......  और पढ़ें
3 माह पूर्व
आपका ब्लॉग
8

Laxmirangam: दीपा

Laxmirangam: दीपा: दीपा हर दिन की तरह मुंबई की लोकल ट्रेन खचाखच भरी हुई थी. यात्री भी हमेशा की तरह अंदर बैठे , खड़े थे. गेट के पास कुछ यात्री हेंडल पकड़े ......  और पढ़ें
3 माह पूर्व
आपका ब्लॉग
7

Laxmirangam: आस्था : बहता पानी

Laxmirangam: आस्था : बहता पानी: आस्था : बहता पानी                 तैरना सीखने की चाह में,                 वह समुंदर किनारे                  अठखेलियाँ करन......  और पढ़ें
3 माह पूर्व
आपका ब्लॉग
10

चिड़िया: नुमाइश करिए

चिड़िया: नुमाइश करिए: दोस्ती-प्यार-वफा की, न अब ख्वाहिश करिए ये नुमाइश का जमाना है नुमाइश करिए । अब कहाँ वक्त किसी को जनाब पढ़ने का, इरादा हो भी, खत लिखने का,......  और पढ़ें
3 माह पूर्व
आपका ब्लॉग
7

चिड़िया: शब्द

चिड़िया: शब्द:शब्दमानव की अनमोल धरोहरईश्वर का अनुपम उपहार,जीवन के खामोश साज परसुर संगीत सजाते शब्द !!!अनजाने भावों से मिलकरत्वरित मित्रता कर लेते,और कभी परिचित पीड़ा केदुश्मन से हो जाते शब्द !!!...  और पढ़ें
3 माह पूर्व
आपका ब्लॉग
9

एक गीत : कुंकुम से नित माँग सजाए----

गीत : कुंकुम से नित माँग सजाए---कुंकुम से नित माँग सजाए ,प्रात: आती कौन ?प्राची की घूँघट अधखोलेअधरों के दो-पट ज्यों डोलेमलय गन्ध में डूबी डूबी ,तुम सकुचाती कौन?फूलों के नव गन्ध बिखेरेअभिमन्त्रित ...  और पढ़ें
4 माह पूर्व
आपका ब्लॉग
10
Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन  
हो सकता है इनको आप जानते हो!  
kamal
kamal
bilaspur,India
Abhimanyu Kumar Sharma
Abhimanyu Kumar Sharma
lucknow,India
suraj
suraj
lucknow,India
lori Ali
lori Ali
Indore,India
Pushpendra Kumar Singh
Pushpendra Kumar Singh
Greater Noida,India
Hari narayan dubey
Hari narayan dubey
Ganj basoda,India