श्री राम की सहोदरी : भगवती शांता की पोस्ट्स

Shanta (Ramayana)

Shanta (Ramayana)Shanta is a character in the Ramayana. She was the daughter of Dasharatha andKausalya, adopted by the couple Rompad and Vershini.[1] Shanta was a wife ofRishyasringa.[1] The descendants of Shanta and Rishyasringa are Sengar Rajputs who are called the only Rishivanshi rajputs.LifeShanta was a daughter of Maharajah Dasharatha and Kausalya, but was adopted by the king (rajah) of Angadesh, Raja Rompad, and he...  और पढ़ें
1 वर्ष पूर्व
श्री राम की सहोदरी : भगवती शांता
30

श्री राम की सहोदरी : भगवती शांता सर्ग-४

  भाग-1 कौशिकी-कोसी सृन्गेश्वर महादेवभगिनी विश्वामित्र की, सत्यवती था नाम |षोडश सुन्दर रूपसी, बनी रिचिक की बाम ||  मत्तगयन्द सवैया नारि सँवार रही घर बार, विभिन्न प्रकार धरा अजमाई ।क...  और पढ़ें
2 वर्ष पूर्व
श्री राम की सहोदरी : भगवती शांता
31

श्री राम की सहोदरी : भगवती शांता सर्ग-3

भाग-1शान्ता के चरणशान्ता चलती घुटुरवन, सारा महल उजेर |राजकुमारी को रहे, दास-दासियाँ घेर ||सबसे प्रिय लगती उसे, अपनी माँ की गोद |माँ उच्चारे तोतली, होवे परम-विनोद ||कौला दालिम जोहते, बैठे अपनी बाट |...  और पढ़ें
2 वर्ष पूर्व
श्री राम की सहोदरी : भगवती शांता
26

सर्ग-२ भाग-1 जन्म-कथा

 सर्ग-२ भाग-1जन्म-कथा हरिगीतिका भयभीत कौशल्या रहे चिंता-ग्रसित दिखती सदा । आतंक फैला शत्रु का, कैसे टले यह आपदा । कुलदेवता रक्षा करो, इस भ्रूण की तुम सर्वदा । अथ देवि-देवों क...  और पढ़ें
2 वर्ष पूर्व
श्री राम की सहोदरी : भगवती शांता
33

shanta SARG-1

सोरठा वन्दऊँ पूज्य गणेश, एकदंत हे गजबदन  |जय-जय जय विघ्नेश, पूर्ण कथा कर पावनी ||1||वन्दौं गुरुवर श्रेष्ठ, कृपा पाय के मूढ़-मति,गुन-गँवार ठठ-ठेठ, काव्य-साधना में रमा ||2||गोधन-गोठ प्रणाम, कल्प-वृक्ष गौ-...  और पढ़ें
2 वर्ष पूर्व
श्री राम की सहोदरी : भगवती शांता
38

मर्यादा पुरुषोत्तम राम की सगी बहन : भगवती शांता

दिनेश चन्द्र गुप्ता ,रविकर वरिष्ठ तकनीकी सहायक इंडियन स्कूल ऑफ़ माइंस धनबाद झारखण्डपिता:  स्व. सेठ लल्लूराम जी गुप्ता माता : स्व. मुन्नी देवी धर्म-पत्नी : श्रीमती सीमा गुप्ता सुपुत्र : कुमार श...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
श्री राम की सहोदरी : भगवती शांता
184

श्री राम की सहोदरी : भगवती शांता सर्ग-1 / 2/ 3

उन्नीस दग्धाक्षर हैं — ट, ठ, ढ, ण, प, फ़, ब, भ, म, ङ्, ञ,  त, थ, झ, र, ल, व, ष,  ह।  — इन उन्नीस वर्णों का पद्य के आरम्भ में प्रयोग वर्जित है. इनमें से भी झ, ह, र, भ, ष त्याज्य हैं-श्री राम की सहोदरी : भगवती शांता &...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
श्री राम की सहोदरी : भगवती शांता
158

श्री राम की सहोदरी : भगवती शांता सर्ग-4/सर्ग-5

श्री राम की सहोदरी : भगवती शांता पुन: प्रकाशित    भाग-1 कौशिकी-कोसी  सृन्गेश्वर महादेव भगिनी विश्वामित्र की, सत्यवती था नाम |षोडश सुन्दर रूपसी, हुई रिचिक की बाम ||  मत्तगयन्द सवैया नारि सँ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
श्री राम की सहोदरी : भगवती शांता
148

सर्ग-4 : भगवान् राम की सहोदरा (बहन) : भगवती शांता परम :

Shanta (Ramayana)Shanta is a character in the Ramayana. She was the daughter of Dasharatha and Kausalya, adopted by the couple Rompad and Vershini.[1] Shanta was a wife of Rishyasringa.[1] The descendants of Shanta and Rishyasringa are Sengar Rajputs who are called the only Rishivanshi rajputs.LifeShanta was a daughter of Maharajah Dasharatha and Kausalya, but was adopted by the king (rajah) of Angadesh, Raja Rompad, and her aunt Vershini, an elder sister of Kausalya. Vershini had no children, a...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
श्री राम की सहोदरी : भगवती शांता
125

भगवान् राम की सहोदरा (बहन) : भगवती शांता परम : सर्ग-3

 सर्ग-3  भाग-1 भगिनी शांताशान्ता के चरणचले घुटुरवन शान्ता, सारा महल उजेर |दास-दासियों ने रखा, राज कुमारी घेर ||सबसे प्रिय उसको लगे, अपनी माँ की गोद |माँ बोले जब  तोतली, होवे महा विनोद ||कौला दाल...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
श्री राम की सहोदरी : भगवती शांता
155

सर्ग-2 : शिशु-शांता (भगवान् राम की बहन)

भगवती शांता परम सर्ग-5 : इतिभगवती शांता परम सर्ग-4 : भार्या शांताभगवती शांता परम सर्ग-3 : भगिनी शांताभाग-1जन्म-कथा  कौशल्या भयभीत हो, ताके संबल एक |पावे रक्षक भ्रूण का,  दीखे शत्रु अनेक ||चारों  द...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
श्री राम की सहोदरी : भगवती शांता
224

भगवान् राम की सहोदरा : भगवती शांता परम सर्ग-1: अथ - शांता

 सोरठा     वन्दऊँ श्री गणेश, गणनायक हे एकदंत |जय-जय जय विघ्नेश, पूर्ण कथा कर पावनी ||वन्दऊँ गुरुवर श्रेष्ठ, कृपा पाय के मूढ़ मति,गुन-गँवार ठठ-ठेठ, काव्य-साधना में रमा ||गोधन-गोठ प्रणाम, कल्प-वृक...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
श्री राम की सहोदरी : भगवती शांता
337

सर्ग-5

पुराना ड्राफ्टभगवती शांता परम सर्ग-5 : इति...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
श्री राम की सहोदरी : भगवती शांता
103

भगवती शांता परम सर्ग-5 : इति

चंपा-सोम कई दिनों का सफ़र था, आये चंपा द्वार |नाविक के विश्राम का, बटुक उठाये भार ||राज महल शांता गई, माता ली लिपटाय |मस्तक चूमी प्यार से, लेती रही बलाय ||गई पिता के पास फिर, पिता रहे हरसाय |स्वस्थ पित...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
श्री राम की सहोदरी : भगवती शांता
133

भगवती शांता परम सर्ग-4 : भार्या शांता

कौशिकी-कोसी  सृन्गेश्वर महादेव भगिनी विश्वामित्र की, सत्यवती था नाम |षोडश सुन्दर रूपसी, हुई रिचिक की बाम ||दुनिया का पहला हुआ, यह बेमेल विवाह |बुड्ढा खूसट ना करे, पत्नी की परवाह || वाणी अति वाच...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
श्री राम की सहोदरी : भगवती शांता
358

भगवती शांता परम सर्ग-2 : शिशु - शांता

जन्म-कथा  कौशल्या भयभीत हो, ताके संबल एक |रक्षा होवे भ्रूण की,  दीखे शत्रु  अनेक ||चारों  दिशा  उदास  हैं,  फैला  है आतंक |जिम्मेदारी कौन ले,   मारे  दुश्मन  डंक || सारे देवी-देवता,...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
श्री राम की सहोदरी : भगवती शांता
211

भगवती शांता परम : सर्ग-1 अथ

सर्ग-1अथ - शांता  सोरठा     वन्दऊँ श्री गणेश, गणनायक हे एकदंत |जय-जय जय विघ्नेश, पूर्ण कथा कर पावनी ||1||वन्दऊँ गुरुवर श्रेष्ठ, जिनकी किरपा से बदल,यह गँवार ठठ-ठेठ, काव्य-साधना में रमा ||2||गोधन को परन...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
श्री राम की सहोदरी : भगवती शांता
305

मेरी त्वरित टिप्पणियां और लिंक -5

 मैं....तन्मय तन्मात्रा हो हे सखी, शब्द, रूप, रस, गन्ध |सस्पर्श पञ्च-भूतियाँ, सांख्य-मत से बन्ध ||कार्य में अपने हे सखी, रहो सदा लवलीन |तन्नी नित खुरचा करे, मन-पट हुई मलीन || हरिगीतिका छंद भारतीय ...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
श्री राम की सहोदरी : भगवती शांता
100

मेरी टिप्पणियां और लिंक -4

पत्नी और पतिदेवेन्द्र पाण्डेय बेचैन आत्मा  (1) करे आत्मा फिर हमें, अन्दर से बेचैन |ढूंढ़ दूसरी लाइए, निकसे अटपट बैन |निकसे अटपट बैन, कुकर की सीटी बाजी |समझे झटपट सैन, वहीँ से बकता हाँजी |गर रबि...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
श्री राम की सहोदरी : भगवती शांता
94

मेरी टिप्पणियां और लिंक -3

चला बिहारी ब्लॉगर बननेबाद मरने के मेरे मर-मर के जी रहे हैं सालों से मित्र हम तो-वो मौत क्या अलहदा कुछ और कष्ट देगी ||जब आग में जलेगा, नब्बे किलो का लोथा- पानी-पवन गगन यह धरती भी अंश लेगी || मोबाइल हुआ...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
श्री राम की सहोदरी : भगवती शांता
107

मेरी टिप्पणियां और लिंक-2

आज अपने गिरेबान में झांक कर देखें- अज़ीज़ बर्नीखरी-खरी बातें कहीं, जज्बे को आदाब |स्वार्थी तत्वों को सदा, देते रहो जवाब ||बड़ी कठिन यह राह है,  संभल के चलिए राह |अपने  ही  दुश्मन  बने,  पचती  ...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
श्री राम की सहोदरी : भगवती शांता
109

मेरी टिप्पणियां और लिंक ||

चर्चा -मंच  श्रम - सीकर अनमोल है,  चुका सकें न मोल |नत - मस्तक गुरुदेव है,  सारा यह भू-गोल ||मन और झील कभी नहीं भरतीमन-का  मनमथ-मनचला, मनका पावै ढेर |मनसायन वो झील ही,  करती रती  कुबेर |करती रती&nbs...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
श्री राम की सहोदरी : भगवती शांता
105

मेरी टिप्पणियां और लिंक ||

पत्नी पीड़ित की व्यथादर्द से जब छटपटा कर,  आह  भरती है जुबाँ |लगता है रविकर वाह सुनती हैं हमारी मेहरबाँ ||चर्चित बाबा के चक्कर में..चर्चित बाबा, चंचल बाला |शैतानों कीलगती खाला ||प्रेम नजरजोउसन...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
श्री राम की सहोदरी : भगवती शांता
109

मेरी टिप्पणियां -- इस सप्ताह -4

"मुक़द्दस टोपी"(१)मोदी  टोपी  पहनते, क्या खो  जाता तोर ??सेक्युलर का काला हृदय, खिट-पिट करता और |खिट-पिट करता और, उतरती  उनकी टोपी |वोट  बैंक  की  नीत,   बघेला   बेहद   कोपी |कटते हिन्...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
श्री राम की सहोदरी : भगवती शांता
107

मेरी टिप्पणियां -- इस सप्ताह ||

काश यूँ होता....बाला बड़ी बहादुर है, बस बही भावना में थोड़ी |बालक बरताव बनाए रख, बाला है सोणी-सोणी |दुनिया बेशक अच्छी है, बस बदल नजरिया उसका तू-कुछ सामंजस स्थापित कर, बदले वो थोड़ी -मोड़ी ||जीवन भी संघर...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
श्री राम की सहोदरी : भगवती शांता
117

मेरी टिप्पणियां -- इस सप्ताह ||

ख़ुशी का मन्त्र है यारो, नहीं रोना न शर्मिंदा |बुरी बातों को भूलो जी, रहो बिंदास फिर जिन्दा |बढे पेट्रोल सब्जी दुग्ध, राशन बम इलेक्ट्रिक बिल-पुरानी दुश्मनी भूलो, रखो न याद आइन्दा 8888888888888888...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
श्री राम की सहोदरी : भगवती शांता
105

मेरी टिप्पणियां -- इस सप्ताह ||

खनन उपक्रम का, बेबस राजधर्म का लूट-तंत्र बेशर्म का, सुवाद अंगूरी है |राजपाट पाय-जात, धरती का खोद-खाद लूट-लूट खूब खात, यही तो जरुरी है |कहीं कांगरेस राज, भाजप का वही काज छोट न आवत  बाज, भेड़-चाल पूरी ह...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
श्री राम की सहोदरी : भगवती शांता
106

करता घंटा काम

घोडा  चाबै  घास-तृण, अजगर  लीलै जीव,ढाई  घर  ये  नापता,  वो   लागै   निर्जीव |वो  लागै निर्जीव, सरिस सरकारी अफसर,करता घंटा काम, खाय पर सबकुछ भरकर |कर उद्यम-सुविचार, जिओ चाहे कुछ थोड...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
श्री राम की सहोदरी : भगवती शांता
238

चर्चा-मंच की प्रस्तावना

  बड़ी अदालत  था  गया, खुदा का बंदा एक,  कातिल को फांसी मिले,  मारा   बेटा  नेक |  मारा  बेटा  नेक, हुआ  आतंकी  हमला ,कातिल मरणासन्न, भूलते अब्बू बदला |जज्बा तुझे सलाम, जतन से शत्र...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
श्री राम की सहोदरी : भगवती शांता
118
 
Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन  
हो सकता है इनको आप जानते हो!  
mukesh tharna
mukesh tharna
kota,India
भारत सिह
भारत सिह
दिल्ली मे रहता हु,India
Piush Trivedi
Piush Trivedi
Bhopal,India
Megan
Megan
New York,Iraq
sanjay siddharthi
sanjay siddharthi
indore,India