अपना ब्लॉग जोड़ें

अपने ब्लॉग को  जोड़ने के लिये नीचे दिए हुए टेक्स्ट बॉक्स में अपने ब्लॉग का पता भरें!
आप नए उपयोगकर्ता हैं?
अब सदस्य बनें
सदस्य बनें
क्या आप नया ब्लॉग बनाना चाहते हैं?
नवीनतम सदस्य

नई हलचल

वंदे मातरम् गाने पर बच्चों पर जिहादियोंद्वारा जानलेवा हमला

देशद्रोही सांसद शफिकूर रहमान बर्क ने खुलेआम कहा कि आनेवाले संसद के सत्र में ‘वंदे मातरम’ गीत नही गाऊंगा क्यूंकि इस्लाम इसकी अनुमती नही देता । अब देशद्रोही धर्मांध ‘वंदे मातरम’ गानेवालो बच्...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Kshitij Tiwari (Lucky)
क्षितिज तिवारी (Lucky) सत्य का साथ देने वाला ...
55

वन्देमातरम बोलना बच्चो को महँगा पड़ा |

    हद हो गयी भाई मुल्लो की -तुम गाते रहो हिन्दू  -मूल्ले भाई-भाई के  गाने इस देश में वन्देमातरम बोलना बच्चो को महँगा पड़ा |{उत्तप्रदेश जिला सहारनपुर , कुतुबपुर गाँव मे }------------------------------------ जाग ज...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Kshitij Tiwari (Lucky)
क्षितिज तिवारी (Lucky) सत्य का साथ देने वाला ...
56

मधुशाला [1:5] हरिवन्श राय बच्चन।

मृदु भावों के अंगूरों की आज बना लाया हाला,प्रियतम, अपने ही हाथों से आज पिलाऊँगा प्याला,पहले भोग लगा लूँ तेरा फिर प्रसाद जग पाएगा,सबसे पहले तेरा स्वागत करती मेरी मधुशाला।।१।प्यास तुझे तो, विश्...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
kuldeep thakur
कविता मंच।
61

Light & shade - Chiaroscuro - रोशनी व छाया

Corolla,Monti d'Oro (VI), Italy: The ever-changing patterns of light and shade on the leaves in the forest.कोरोल्ला, मोन्ती दोरो, इटलीः जँगल में पत्तियों पर रोशनी और छाया के हर पल बदलते स्वरूप.Corolla, Monti d'Oro (VI), Italia: Il continuo cambiamento del chiaroscuro della luce sulle foglie nella foresta.***...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
SUNIL DEEPAK
Chayachitrakar - छायाचित्रकार
34

गैरसमज

आजच्या काळात शिक्षकांचा सर्वात मोठा गैरसमज.......!!!............विध्यार्थ्यांना वर्गातून बाहेर काढणे ही शिक्षा आहे!!!...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
vaghesh
विनोद नगरी
52

65. "कृष्ण-सुन्दरी"

       पिछले-से-पिछले हफ्ते साहेबगंज स्टेशन पर ढाई बजे वाली हमारी पैसेन्जर ट्रेन छूट गयी थी। अब ढाई घण्टे बाद अगली ट्रेन थी। मैंने इस समय का सदुपयोग किया- "कृष्णसुन्दरी" की छायाकारी कर...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
जयदीप शेखर
कभी-कभार
63

असली लूटेरे कौन?

एक बैँक लूट के दौरान लुटेरों के मुखिया ने चेतावनी देतेहुएकहाये पैसा देश का है और जान आपकी अपनीसब लोग लेट जाओ तूरंत ... क्विकसब लोग लेट गये ![इसे कहते हैँ - 'Mind Changing Concept']एक महिला उत्तेजक मुद्रा मेँ लेट...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
vaghesh
हिंदी ठहाका
142

"नाग ने आदमी को डसा" (रविवासरीय चर्चा-अंकः1341)

मित्रों!आज प्रियवर अरुण शर्मा 'अनन्त' जी का नेट नहीं चल रहा है। इसलिए आज भी मेरी ही पसन्द के कुछ लिंक देखिए।(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')हर दीवार पे टंका एक ही चेहरा ! दीवार पर टंका वो चेहरा पास...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
131

क्योंकि विलेन भी कभी हीरो था ...

.-सौम्या अपराजितालम्बे अन्तराल के बाद हिंदी फिल्मों का दमदार और जोरदार विलेन लौट आया है। एक बार फिर विलेन की हुंकार से सिल्वर स्क्रीन थर्राने लगा है। फिर से विलेन ने स्क्रीन पर खौफ का माहौल का...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Somya
सौम्य वचन
100

महासंतोषी क़स्बा कांधला [शामली ]

View mapKandhlaKandhla is a city and a municipal board in Muzaffarnagar district in the Indian state of Uttar Pradesh.महासंतोषी क़स्बा कांधला [शामली ]हिन्दू मुस्लिम एकता की मिसाल ,बागों की भूमि ,देश के सभी बड़े शहरों में नाम कमाने वाली प्रतिभाओं की जन्मस्थली कांधल...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
SHALINI KAUSHIK
! कौशल !
37

अतिथि शिक्षक की जायज माँगोँ को सरकार ने नही मानी

म.प्र. अतिथि शिक्षक की जायज माँगोँ को सरकार ने नही मानी
म० प्र० अतिथि शिक्षक संघ ने शाहजहाँ पार्क भोपाल में 5 दिनो...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Kailash Kumar
19

Kailash Kumar

5 वर्ष पूर्व
Kailash Kumar
16

विलग जनि मानो उधौ प्यारे , यह मथुरा की काजर कोठरि ,

भ्रमरगीत से एक पद और विलग जनि मानो उधौ प्यारे ,यह मथुरा की काजर कोठरि ,जेहिं आवत तेहिं कारे।तुम कारे ,सुफलक सुत  कारे ,कारे मधुप भंवारे।तिन के संग अधिक छवि उपजत ,कमल नैन मनियारे ,रै यमुना ज्यो...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
37

कबीरा सो धन संचिये, जो आगे को होय , सीस चढ़ाये पोटली जात ना देखा कोय।

  कबीरदासजब लग नाता जगत का, तब लग भगती ना होयनाता तोड़े हर भजे, भगत कहावे सोय.हद हद जाए हर कोई, अनहद जाए ना कोय ,हद अनहद के बीच में रहा कबीरा सोय.माला कहे है काठ की, तू क्यों  फेरे मोयमन का मन...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
39

Rohan

Beautiful song by Rahat Fateh Ali Khan
5 वर्ष पूर्व
Rohan
65

आईडिया

पोरगी पटली की नाही हे ओळखायचं कसं?......तिच्यामागून गुपचूप जा. ''भौ...'' करूनतिला घाबरवा.......ती नंतर हसली, तर समजा पटली............ आणि संतापली, तर लगेच म्हणा...................'' दिदी घाबरली!!!!!''खि खि खि खि.......  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
vaghesh
विनोद नगरी
60

ये भी सही है - अब मनुष्य का मूत्र बेकार नहीं जाएगा !

"Using the ultimate waste product as a source of power to produce electricity is about as eco as it gets," said Dr. Ioannis Ieropoulos of the Bristol Robotics Laboratory in England. His lab has created electricity by passing human urine through stacks of microbial cells. They react with compounds like chloride, sodium and potassium to give off a charge that's enough to make a brief call.अरे ओ छोटू !!हाँ चाचा !कछु सुनत रहो की नाय ?...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Manoj
डायनामिक
41

"सरकारी बैंक" तथा "ईटालियन सैलून"

       कल के अखबार में खबर थी कि झारखण्ड के मुख्यमंत्री नाराजगी जता रहे हैं कि बैंक वाले ठीक से काम नहीं करते, जिस कारण राज्य की गरीब जनता आज भी महाजनों के चंगुल में फँसी है। इस "महाजनी" ल...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
जयदीप शेखर
देश-दुनिया
64

बतहा संसार

बतहा संसारभोरसँ साँझ धरिसाँझसँ भोर धरिअसलमे भोरसँ भोर धरिभटकैत रहैत अछि लोकएकटा सुख्खल रोटीक लेलदौड़ैत रहैत अछि ओअपनासँ पैघ लोक आगू-पाछूठिठियाइत अछि ओ पैघ लोकसड़ल, गेन्हाएल आम जकाँफेक दैत अ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
AMIT MISHRA
25

"अब तक भटक रही हूँ मैं" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

मित्रों!अपने काव्य संकलन सुख का सूरज सेएक ग़ज़ल पोस्ट कर रहा हूँ!"अब तक भटक रही हूँ मैं"टेढ़े-मेढ़े गलियारों में.अब तक भटक रही हूँ मैं।कब तलाश ये पूरी होगी,अब तक अटक रही हूँ मैं।ना जाने कितनों क...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
67

"भारत माँ को आजाद किया" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)

यातनाएँ झेलीं लेकिन, भारत माँ को आजाद किया। स्वतन्त्रता की बलिवेदी पर, जीवन का बलिदान दिया।चाटुकार सत्ता पर बैठे, भूल गये बलिदानों को। आज शहीदों के वंशज तो, झेल रहे अपमानों को। जो नाखूनों को क...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
46

धूप भी चांदनी-सी लगती है...

फ़िरदौस ख़ानआधुनिक उर्दू शायरी के क्रांतिकारी शायर अली सरदार जाफ़री ने अपनी क़लम के ज़रिये समाज को बदलने की कोशिश की. उनका कहना था कि शायर न तो कुल्हा़ड़ीकी की तरह पेड़ काट सकता है और न इंसानी...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Firdaus Khan
Firdaus Diary
47
जज़्बात...दिल से दिल तक
65

Wild Nature

5 वर्ष पूर्व
Pareevrajak
परिव्राजक
82

जानिए हैकिंग की शब्दावली

आजकल इंटरनेट के माध्यम से वेबसाइट्स को हैकिंग और अन्य तरह के नुकसान पहुँचाने व अन्य प्रकार की परेशानियाँ पैदा करने की बहुत सी खबरें आ रही हैं। कुछ साल पहले अफगान आतंकवादियों के समर्थकों द्वा...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
ललित चाहार
Tech Education HUB
109

मिस्र को किस तोड़ पर ले आई 'क्रांति'

फरवरी 2011, जब देश की जनता ने तत्‍कालीन राष्‍ट्रपति मुबारक हुस्‍नी को पद से उतारते हुए तहरीर चौंक पर आजादी का जश्‍न मनाया था, तब शायद उसको इस बात का अहसास तक न हुआ होगा कि आने वाले साल उसके लिए किस ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Kulwant Happy
Fast Growing Hindi's Website
81

*परिवर्तन*

परिवर्तन है सत्य सदाअपनाना इसको सीखे।इसमे ही है नव-जीवननूतन पथ बुनना सीखें।।नूतनता खुशियों की जननीउत्सव नित्य मनायें हम।खुश रहकर कुसमय काटें,समय से न कट जाएं हम।जीवन-रंग सजाने कोनयन-अश्रु ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
vandana
Wings of Fancy
29

रेलवे द्वारा दृष्‍टि‍हीन यात्रि‍यों लिए नई सुवि‍धा

16-अगस्त-2013 19:16 ISTयात्री डि‍ब्‍बों में होगा ब्रेल चि‍ह्नों का प्रयोगअपने सामाजि‍क दायि‍त्‍व के रूप में रेलवे ने वि‍शि‍ष्‍ट रूप से सक्षम यात्रि‍यों की सहायता के लि‍ए, भारतीय रेलवे ने दृष्‍टि‍ ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Rector Kathuria
रेल स्क्रीन
0

इण्डोनेशिया की प्राचीन हिन्दू संस्कृति | Hindu-Vedic Culture of Ancient Indonesia

७वीं - ८वीं सदी तक इण्डोनेशिया में पूर्णतया हिन्दू-वैदिक संस्कृति ही विद्यमान थी इसके आज भी अनेकों प्रमाण मिल रहे है तथा कई तो निर्भय होकर मूरत रूप में खड़े है निम्न जानकारी लाल कृष्ण आडवा...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
हंसराज 'सुज्ञ'
॥ भारत-भारती वैभवं ॥
367

एक ग़ज़ल : वो शहादत पे सियासत कर गए...

वो शहादत पे सियासत कर गएमेरी आंखों में दो आँसू भर गए लोग तो ऐसे नहीं थे, क्या हुआ ?लाश से दामनकशां ,बच कर गए देखने वाले तमाशा देख करराह पकड़ी और अपने घर गए ये शराफ़त थी हमारी ,चुप रहेक्य...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
आनन्द पाठक
गीत ग़ज़ल औ गीतिका
38


Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन