अपना ब्लॉग जोड़ें

अपने ब्लॉग को  जोड़ने के लिये नीचे दिए हुए टेक्स्ट बॉक्स में अपने ब्लॉग का पता भरें!
आप नए उपयोगकर्ता हैं?
अब सदस्य बनें
सदस्य बनें
क्या आप नया ब्लॉग बनाना चाहते हैं?
नवीनतम सदस्य

नई हलचल

Wild flowers - Fiori selvatici - जँगली फ़ूल

South Africa: I knew the saying "Beauty lies in the eyes of the beholder", but I have really understood it only after I developed my passion for photography. Today's images are of plants growing on the south-west coast of South Africa. You may not wish to have them in your home or your courtyard. However, if you just stop for a moment and look at them properly, you see how beautiful they really are!दक्षिण अफ्रीकाः "सुन्दरता देखने वाले...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
SUNIL DEEPAK
Chayachitrakar - छायाचित्रकार
70

104. चीन

       खतरे को देखकर शुतुर्मुर्ग द्वारा रेत में मुँह छुपाने या बिल्ली को आते देख कबूतर द्वारा आँखें बन्द कर लेने के जो मुहावरे हैं, वे चीन से सम्बन्धित हमारी नीतियों में साफ झलकते हैं।...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
जयदीप शेखर
देश-दुनिया
60

103. "विनिवेश" के मुकाबले मेरी नीति

       सरकारी उपक्रमों, खासकर मुनाफा कमाने वाले उपक्रमों में "विनिवेश" का कार्यक्रम हो सकता है कि 1991 में शुरु हुए उदारीकरण के साथ ही शुरु हो गया हो, मगर मेरे जेहन में भाजपा के नेतृत्व वाल...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
जयदीप शेखर
देश-दुनिया
58

102. तिरंगा

       पिछले दिनों धर्मशाला में क्रिकेट का एक मैच हुआ था। मैच से एकदिन पहले वहाँ के स्टेडियम का एक छायाचित्र अखबारों में छपा था तथा सोशल मीडिया में प्रसारित हुआ था- तस्वीर में एक युवक स...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
जयदीप शेखर
देश-दुनिया
74

पत्थर नौचाणी के लिये

पातर नौचानियां ,सात किलोमीटर दूर था और आखिर में मैने ये फैसला किया कि मुझे चलना ही है । अगर मै आज पातर नौचानियां तक पहुंच जाता हूं तो मै अपना एक दिन बचा लूंगा । ये सोचकर मैने कुंवर सिंह को कहा कि ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
ATUL WAGHMARE
0

पत्थर नौचाणी के लिये

पातर नौचानियां ,सात किलोमीटर दूर था और आखिर में मैने ये फैसला किया कि मुझे चलना ही है । अगर मै आज पातर नौचानियां तक पहुंच जाता हूं तो मै अपना एक दिन बचा लूंगा । ये सोचकर मैने कुंवर सिंह को कहा कि ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Manu
yatra (यात्रा ) मुसाफिर हूं यारो .............
82

अफ़रोज़ ,कसाब-कॉंग्रेस के गले की फांस

अफ़रोज़ ,कसाब-कॉंग्रेस के गले की फांस दिल्ली गैंगरेप कांड के एक आरोपी अफ़रोज़ के नाबालिग होने के कारण उसकी इस कांड में सर्वाधिक वहशी संलिप्तता होने के बावजूद उसे नाममात्र की ही सजा मिलने की बात ह...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
SHIKHA KAUSHIK
WORLD's WOMAN BLOGGERS ASSOCIATION
54

ये क्या कर रहे हैं दामिनी के पिता जी ?

ये क्या कर रहे हैं  दामिनी के पिता जी ?दामिनी गैंगरेप कांड अब न्यायालय में  विचाराधीन है और न्यायालय अपनी प्रक्रिया के तहत इसके विचारण व् निर्णय में त्वरित कार्यवाही के लिए प्रयत्न शील हैं...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
SHALINI KAUSHIK
! कौशल !
42

इको सेंसेटिव जोन

          कॉर्बेट नॅशनल पार्क के बिजरानी रेंज में हुए बाघ के शिकार का एक और आरोपी वन विभाग के हत्थे चढ़ गया है। आरोपी रियासत उर्फ़ मलखान को वन कर्मियों ने रामनगर के भवानीगंज से गिरफतार किय...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
ATUL WAGHMARE
0

इको सेंसेटिव जोन

          कॉर्बेट नॅशनल पार्क के बिजरानी रेंज में हुए बाघ के शिकार का एक और आरोपी वन विभाग के हत्थे चढ़ गया है। आरोपी रियासत उर्फ़ मलखान को वन कर्मियों ने रामनगर के भवानीगंज से गिरफतार किय...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
corbettnews
कॉर्बेट न्यूज़
79

अदब से झुकने की तहज़ीब खानदान की है .............सचिन अग्रवाल 'तन्हा'

हवा जो नर्म है ,साज़िश ये आसमान की हैवो जानता है परिंदे को ज़िद उड़ान की है............मेरा वजूद ही करता है मुझसे ग़द्दारीनहीं तो उठने की औकात किस ज़ुबान की है ............हमारे शहर में अफ़सर नयी जो आई हैसुना है म...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Yashoda Agrawal
मेरी धरोहर
86

TRAVEL GUIDE HOW TO REACH IN HIMACHAL PRADESH

Travel Guidelines for newly visited peoples in Himachal Pradesh:All the persons or tourist who visits in Himachal Pradesh fist time get all the valuable information about Himachal here. I am here for proving all the necessary information about Himachal as travel guide.                                     Una is located in Himachal Pradesh. In Himachal total twelve districts Una is one of them. The tota...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Manu
Kangra Valley
123

सफर

यूं ही दरो-दीवार में कैद ये उम्र गुजरीखुली आबो-हवा में चलो सफर करते हैंरात भर जगने से बोझल हो गयीं आंखेंलेकिन नींद और ख्वाबों की बात करते हैंपेट की खातिर शरारों पर चलता आदमीलोग उसके करतब की ता...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
ATUL WAGHMARE
0

सफर

यूं ही दरो-दीवार में कैद ये उम्र गुजरीखुली आबो-हवा में चलो सफर करते हैंरात भर जगने से बोझल हो गयीं आंखेंलेकिन नींद और ख्वाबों की बात करते हैंपेट की खातिर शरारों पर चलता आदमीलोग उसके करतब की ता...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
बृजेश नीरज
Voice of Silent Majority
52

रोज डे पर रोज दे...

रोज डे को रोज देकर दिया इजहार,बिना भूख जूते खाकरमहसूस किया इनकार।महसूस किया इनकारऔर सिर पर सूजन,एन्टीबायोटिक लेनी पड़ीचढ़वायी ग्लूकोजन।लेने के देने पड़ेभारी मिल गये डोज,सैंडिल ही आते नजर,जब भ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Dharm Raj Sharma
Dharm Raj Sharma
37

માસિક પત્રક 1થી5 6થી8 અલગ કોલમ ભોગોલિક માહિતીBHARATNA KANTIVIRO.pptxmughalshasan.ppt ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
vipul
સિણધઇ પ્રાશાળામાંઆપનું હાર્દિક સ્વાગત છે.
14

Teri mohobbat

कांपती ठण्ड मैं तेरे हाथों को सहलाती रही,तेरे लिए दुनिया में बुरी कहलाती रहीजवाब जानती फिर भी सवाल करती,तेरे आवाज़ से अपना दिल खुशहाल करतीजानकर अपनी जुल्फों को उलझाती,तेरी उंगलियाँ उन्हें ब...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Rajshree
Swaying Hearts
67

रिश्वत लिए वगैर...

रिश्वत लिए वगैर...टिप्पणी नही करेगेंअब बिना लिये वगैर,हम दाद नही देगें  , कुछ खाए पिए वगैर!टिप्पणी विहीन रचना को श्रीहीन समझिए,त्यौहार मुहर्रम का हो  , जैसे ताजिऐ बगैर!लेख लिख  टुकड़े में कर क...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
dheerendra singh bhadauriya
काव्यान्जलि
65

मोहब्बत

तुम्हारी बेवफ़ाई तुम्हारे काम ना आईमोहब्बत हमारी, उसे कम ना कर पाईकुछ ऐसा तो करो मोहब्बत से डर लगेवर्ना नफ़रत मोहब्बत को देगी बधाईहमे शौक नही है मोहब्बत करने कापर पता ना चला कम्बखत कब आई...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Rajeev Sharma
कलम कवि की
49

आत्‍मविश्‍वास

आत्‍मविश्‍वास जैसा कोई मित्र नहीं है। जो आत्‍मविश्‍वास हम स्‍वयं अपने में रखते है उसका अधिकांश भाग उस विश्‍वास से उत्‍पन्‍न होता है जो हम दूसरों में रखते है। --- रोशफाउकाल्‍ड...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
रौशन जसवाल विक्षिप्‍त
21

Vo Raat

वोएकअकेलीरात ,कहनेकोथे, सबमेरेसाथ परशायदथी,वोएकअकेलीरात आखेंबंदहुईतोलगा,कोईहैमेरेपास, उसएकअकेलीरात,जिसनेसरकोसहलाया, जुल्फोंकोसुलझाया,प्यारकाएहसासकराया ....तबमैंनेदेखावोतोवह...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Rajshree
Swaying Hearts
73

No Title

प्रत्येक व्यक्ति के जीवन मे चार माताएँ होती है -१ जन्म दात्री जननी २ गो माता ३ भूमाता और ४ है जगन्माता परमेश्वरी | यहाँ हम गो माता कि महिमा पर विचार करेंगे | पूज्या गो माता कोई साधारण पशु नहीं है ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Shanti
ज्योति-कलश
79

दो दिन बच्चन संग, चलो गुजरात गुजारें -

जा रे रोले दुष्ट-मन, जार जार दो बार ।जरा-मरा कोई नहीं, दिखे जीव *इकतार ।दिखे जीव *इकतार, पले हैं भले "गो-धरा" ।जब उन्नत व्यापार, द्वंद-हथियार भोथरा ।अव्वल है यह प्रांत, सही नीतियाँ सँवारे।दो दिन ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
रविकर
"कुछ कहना है"
44

स्त्री

माँ है,बहन है,अर्द्धांगिनी है फिर भी ..........प्रश्न क्यूँ है हत्या क्यूँ है हादसे क्यूँ हैं !!!रश्मि प्रभा ===================================================================क्या समझा है जमाना उसे किसी ने समझा भोग्या उसे किसी ने...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Ravindra Prabhat
वटवृक्ष
60

"उत्तर-अमर भारती-पहेली-104" (श्रीमती अमर भारती)

अमर भारती साप्ताहिक पहेली-103का सही उत्तर है!सहस्त्रधारा, देहरादून (उत्तराखण्ड)श्रीमती राजेश कुमारीने दूसरी बार सबसे पहले पहेली का सही उत्तर दिया,और आज की पहेली की विजेता रहीं!आपके प्रतिभ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
1

Shopkeeper - Negoziante - लाला

Rome, Italy: Old style sari and clothe shops in India have shopkeepers sitting cross-legged, waiting for clients. I was reminded of them when I saw the lemurs, originally from Madagascar, in the Rome zoo. They are funny looking animals, the size of a rabbit, with owlish shining round eyes, rat-like mouth and a cat-like long tail.रोम, इटलीः पुरानी दिल्ली में कपड़े या साड़ियों की दुकानों में पालथ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
SUNIL DEEPAK
Chayachitrakar - छायाचित्रकार
34

कहने को ज़िन्दगी है

देखो तो मुहब्बत की हर राह , किस ओर निकलती है कहने को ज़िन्दगी है , हर बार ही छलती है सूरज के मुहाने से , दिन निकलता है चन्दा तेरी गलियों में अश्क की रात भी ढलती है मुहब्बत है इबादत, बेशक छु...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Sharda Arora
गीत-ग़ज़ल
70

पत्रकार राजेन टोडरिया का निधन अपूर्णीय क्षति

मैं संजौली में था, ज्ञान ठकुर के घर... ज्ञान को किसी का फोन आया, 'राजेन टोडरिया का निधन हो गया है'  और ज्ञान ने मुझे बताया ? बाहर बर्फीला तूफान चल रहा था, बड़ी देर से... तूफ़ान ऐसा कि घरों के छतों से,  ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
प्रकाश बादल
प्रकाश बादल
127

चाहतें ....

तुम्हारी सुबह हमारी रातें होंगी ...... अब तो ख्वाबो में ही अपनी मुलाकातें होंगी ..... तुम बिन बोझिल मेरी सांसें होंगी ... तेरी यादें ही अब प्यार की सौगातें होंगी .... अब होगा जीना कुछ इस तरह की ..... आँखों मे...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
parul'pankhuri'
Os ki boond
79


Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन