अपना ब्लॉग जोड़ें

अपने ब्लॉग को  जोड़ने के लिये नीचे दिए हुए टेक्स्ट बॉक्स में अपने ब्लॉग का पता भरें!
आप नए उपयोगकर्ता हैं?
अब सदस्य बनें
सदस्य बनें
क्या आप नया ब्लॉग बनाना चाहते हैं?
नवीनतम सदस्य

नई हलचल

सात्त्विक त्याग

कार्यमित्येव यत्कर्म नियतं क्रियतेअर्जुन। सङ्गं त्यक्तवा फलं चैव स त्यागः सात्त्विको मतः।।हे अर्जुन ! जब मनुष्य नियत कर्तव्य को करणीय मान कर करता है तथा समस्त भौतिक संगति और फल की आसक्ति ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
somendra
Gita Gyanpeeth
61

भावनाओं से परे...बदल रही है राज ठाकरे की एमएनएस।

सियासत की जुबान सिर्फ शब्दों की नहीं होती है। इसे समझने के लिये शब्दों के बीच दिये जाने वाले संकेतों को पकडना होता है। बिना कहे की जाने वाली हरकतों पर गौर करना पडता है। बीते चंद दिनों से ऐसे ही ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Jitendra Dixit
ADDRESS TO THE NATION.
54
सिनेमा गीत-संगीत
130

सूनापन कितना खलता है

सूनापन कितना खलता हैआँखों से दर्द टपकता हैहोंठों से हँसना पड़ता हैदोनों की बाहें थाम यहाँ,जीवन भर चलना पड़ता हैसूनापन कितना खलता हैमझधार में मांझी  रोता हैलहरों के बोल समझता है है वेग तेर...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Vikram singh
vikram7
49

स्मरणीय हीरा ,'अपनों 'की राख का स्मारक अस्थिकलश से स्मरणीय अस्थि -हीरे तक का सफर

स्मरणीय हीरा ,'अपनों 'की राख का स्मारक अस्थिकलश से स्मरणीय अस्थि -हीरे तक का सफर पैसे से आदमी क्या नहीं कर सकता। अपने प्रियजनों के देह अवशेषों को  (देह के अंत )के बाद उनकी राख गंगा में न बहा...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
34
technik ki duniya!technology in the world!
63

Night Heron

Red trees in evening's darkening glowBreeze cat-footed,stealthy,alertLike an ashen bird's first awakening your eyes Take in the night Eight night herons voyage onEight silent pilgrims or prospectorsIn the distance mountains loomLike destinyWith the bitter reluctance of a waking child A star begins to blink the landscape blursno more the song of the cicadashere let us partAnd peal off the pearly flowers ofrainy afternoonsOne by one only to move on like night her...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Rajeev Kumar Jha
khamosh dil ki dhadkane
97
technik ki duniya!technology in the world!
42

पुरुषीय -नैतिकता :कहानी

''हत्यारे को फांसी दो ...फांसी दो .....फांसी दो ...!!!'' के नारों से शहर की गली गली गूँज रही थी .अपनी ही पत्नी की हत्या कर सात हिस्सों में लाश को काटकर तंदूर में भून डालने वाले विलास को फांसी दिए जाने की वका...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
SHIKHA KAUSHIK
भारतीय नारी
28

God of knowledge - Dio della conoscenza - ज्ञान देवता

Naivasha, Kenya: Today's images have ibis birds that were considered by ancient Egyptians as the symbols of Thoth, the god of knowledge, science and writing. I think that this kind of thinking where stars, planets, earth, sky, humans, plants, animals and birds are all part of one divine world, made us more aware about the nature. This kind of thinking is alive in many religions even today.नईवाशा, कीनियाः आज की तस्वीरों में इबिस प...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
SUNIL DEEPAK
Chayachitrakar - छायाचित्रकार
36

शर्म

"अज्ञानी होना उतने शर्म की बात नहीं है, जितना कि सीखने की इच्छा ना रखना।- बेंजामिन फ्रैंकलिन"...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
रौशन जसवाल विक्षिप्‍त
23

सीखो

"दूसरों की गल्तियों से सीखो, अपने ही ऊपर प्रयोग करके सिखने से तुम्हारी आयु कम पड़ेगी।-चाणक्य...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
रौशन जसवाल विक्षिप्‍त
22

निर्माण

अपनी क्षमताओं को जान कर और उनमे यकीन करके ही हम एक बेहतर विश्व का निर्माण कर सकते हैं।- दलाई लामा"...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
रौशन जसवाल विक्षिप्‍त
22

साधारण

"साधारण से दिखने वाले लोग ही दुनिया के सबसे अच्छे लोग होते हैं, यही वजह है कि भगवान ऐसे बहुत से लोगों का निर्माण करते हैं। -अब्राहम लिंकन"...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
रौशन जसवाल विक्षिप्‍त
21

इलाहाबादनामा {पांचवी क़िस्त}

              पिछले पोस्ट में आप उस चौराहे पर पहुंचे थे जहाँ से झूंसी,संगम ,नैनी,और बैरहना की ओर मार्ग जाता हैं |आईये आपको नये यमुना ब्रिज की दिशा  से होते हुए औद्योगिक क्षेत्र...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
ajay kumar
"मन की बातें"
113

"मेरा झूला बड़ा निराला" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

मेरी बालकृति नन्हें सुमन से एक बालकविता"मेरा झूला बड़ा निराला"मम्मी जी ने इसको डाला।मेरा झूला बडा़ निराला।।खुश हो जाती हूँ मैं कितनी,जब झूला पा जाती हूँ।होम-वर्क पूरा करते ही,मैं इस पर आ जा...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
82

‘बीच’-ट्रिप टू फ्लोरिडा'

अस्त-व्यस्त अकुलायी लपटेंअकबर का प्रभाहीन स्वर्ण-क्षत्र  याचनारत श्रद्धालु यत्र-तत्र सर्वत्र बस इतना ही ज्वालामुखी मंदिर का विस्तार उसपर ये कुहासा और ठाड़ कहो क्या है रोमांच भरने को वहां ? ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
निहार रंजन
बातें अपने दिल की
86

'आप' ने ओखली में सिर दिया

तीखे तीर कर रहे हैं ‘आप’ का इंतज़ारप्रमोद जोशीवरिष्ठ पत्रकार, बीबीसी हिंदी डॉटकॉम के लिए मंगलवार, 24 दिसंबर, 2013 को 06:38 IST तक के समाचारFacebookTwitterGoogle+शेयर करेंमित्र को भेजेंप्रिंट करेंहिंदी की कहावत ह...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Pramod Joshi
जिज्ञासा
28

मंगलवारीय चर्चा 1471 --"सुधरेंगे बिगड़े हुए हाल"

आजकीमंगलवारीय चर्चामेंआपसबकास्वागतहैराजेशकुमारीकीआपसबकोनमस्ते, आपसबकादिनमंगलमयहो, अबचलतेहैंआपकेप्यारेब्लॉग्स पर जीवन ही संभव नहीं है मेरी....Abhishek Prasad at ख़ामोशी Junbishen 120Munkir at Junbi...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
37

साफ़ हो गया अंतर राहुल-अरविन्द का

आख़िरकार साफ़ हो गया कि दिल्ली में ''आप''पार्टी सरकार बनाएगी और उसके मुखिया होंगे 'अरविन्द केजरीवाल 'और एक यही बात साफ कर गयी 'अंतर राहुल गांधी व् अरविन्द केजरीवाल का ',कहने वाले इस बात पर यही कहेंग...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
SHALINI KAUSHIK
! कौशल !
35

बदचलन कहने को ये मुंह खुल जाते हैं .

 अबला समझके नारियों पे बला टलवाते हैं,चिड़िया समझके लड़कियों के पंख कटवाते हैं ,बेशर्मी खुल के कर सकें वे इसलिए मिलकरपैरों में उसे शर्म की बेड़ियां पहनाते हैं .……………………………………………………………………...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
SHIKHA KAUSHIK
भारतीय नारी
37

दूसरी दुनिया के अवशेष : सिनेमा

दूसरी दुनिया के अवशेष : एक था सोवियत संघ :सिनेमा आवारा हूँ, आवारा हूँया गर्दिश में हूँ, आसमान का तारा हूँ - शैलेन्द्र                        इस विषय पर आज की अपनी बात शुरू करने के लिये म...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
अमित कुमार
66

पुरुषीय -नैतिकता :कहानी

''हत्यारे को फांसी दो ...फांसी दो .....फांसी दो ...!!!'' के नारों से शहर की गली गली गूँज रही थी .अपनी ही पत्नी की हत्या कर सात हिस्सों में लाश को काटकर तंदूर में भून डालने वाले विलास को फांसी दिए जाने की वका...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
SHIKHA KAUSHIK
मेरी कहानियां
48

खाली करो सिंहासन कि जनता खुद जनार्दन बनी है

लो जी और ताव दिलाओ , आम आदमी को , वो सलमान खान का नयका वाला डायलॉग सुने हैं कि नहीं , "आम आदमी सोता हुआ शेर है , उसे उंगली मत करो , जाग गया तो चीड फ़ाड कर रख देगा "और फ़िर जब शेर भी ऐसा कि पिछले साठ सालों से ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
अजय कुमार झा
कुछ भी...कभी भी..
81

सिगारेट

सिगरेट चं एक मजेशीर सत्य...!!!.....सिगरेट चा धूर नेहमी अश्याच व्यक्तीकडेजातो जो सिगरेट ओढत नाही...बरोबर ना???इंटरनेटवर अमर्याद मोफत जागा कशी मिळवता येईल?...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
vaghesh
विनोद नगरी
49

प्यारे सांता आ जाओ

प्यारे सांता आ जाओसूखा बीता वर्षा आईसंग में बड़ी तवाही लाईहिमालय ने ली अंगराईउत्तराखंड की नींव हिलाईपीछे दौड़ा फाइलीन आयासंकट का वादल मँडरायासब संकट दूर भगा जाओमेरे प्यारे सांता आ जाओन गुड़ि...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
AMIT MISHRA
25

सेनूर छै अनमोल (भाग-8)

सेनूर छै अनमोल (भाग-8)मुरली- एँ रौ, हमरा किए हएत झगड़ा !हमर कनियाँ छथिये चानक टुकड़ा, फूल कुमारी, दूधक छाल्ही, हमरा किए हएत झगड़ा !हम तँ सदिखन प्रेमक वाटिकामे विचरण करैत रहैत छी ।(राधा दिस घुमैत) की यै, ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
AMIT MISHRA
24

"सुधरेंगे बिगड़े हुए हाल" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

चमकेगा अब गगन-भाल।आने वाला है नया साल।।आशाएँ सरसती हैं मन में,खुशियाँ बरसेंगी आँगन में,सुधरेंगे बिगड़े हुए हाल।आने वाला है नया साल।।होंगी सब दूर विफलताएँ,आयेंगी नई सफलताएँ,जन्मेंगे फि...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
38

ट्रैफिक हवलदार, केले वाला और राजू

समय : शाम ४ बज कर १० मिनटस्थान : पुणे शहर का एक प्रमुख चौराहापात्र: ट्रैफिक हवलदार, केले वाला और राजूराजू तेज गति से अपनी धून में अपनी दुपहिया गाडी पे कानो में हैडफ़ोन लगाकर चला आ रहा था, सामने चौ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Pritesh Dubey
Pritesh - Cut to Cut
58


Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन