अपना ब्लॉग जोड़ें

अपने ब्लॉग को  जोड़ने के लिये नीचे दिए हुए टेक्स्ट बॉक्स में अपने ब्लॉग का पता भरें!
आप नए उपयोगकर्ता हैं?
अब सदस्य बनें
सदस्य बनें
क्या आप नया ब्लॉग बनाना चाहते हैं?
नवीनतम सदस्य

नई हलचल

प्यार और वक्त...हिन्दी ब्लागर्स चौपाल चर्चा : अंक :028

 प्यार कभी मरता  नहीं   ,वक्त का  मुहताज  नहीं हैकिसी का भी प्यार  ….प्यार और वक्त काबहुत गहरा रिश्ता होता है .अगर किसी से  प्यार हो इज़हार करने में वक्त ना लगाओ ,इस वक्त का क्या ,यह &nbs...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
ललित चाहार
हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल
86

गजल : देश की तस्वीर धुंधली हो गई

गजल :  देश की तस्वीर धुंधली हो गई                                  -डॉ. वागीश मेहता नन्द लाल ,                                  भाव सहचर्य(सहचर )वीरेंद्र शर्मा (वीरुभ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
48

श्रुति मन्त्र सरीखी पावन जिनकी वाणी है , भारत का जन मन उन पर बलिहारी है।

श्रुति मन्त्र सरीखी पावन जिनकी वाणी है ,भारत का जन मन उन पर बलिहारी है। जगद्गुरु कृपालुजी महाराज का आज ९२ वां जन्मदिन है इस अवसर पर उन्हें समर्पित भाव :श्रुति मन्त्र सरीखी पावन जिनकी वाणी है ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
39

"शरदपूर्णिमा आ गयी" (चर्चा मंचःअंक-1403)

मित्रों।शनिवार की चर्चाकार श्रीमती वन्दना गुप्ता अभी पूरी तरह स्वस्थ नहीं हैं।इसलिए शनिवार की चर्चा मेंमेरी पसन्द के लिंक निम्नवत हैं।--"दोहे-शरदपूर्णिमा आ गयी"अमृत वर्षा कर रही, शरदपूर्...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
156

आनंद और दर्द

5 वर्ष पूर्व
Dayanand Arya
..जिंदगी के नशे में.……
70

शरद पूर्णिमा दोहे

शरदचन्द्र बरसा रहा ,अमृत चाँदनी आजधवल केश लहरा रही धरा पहनकर ताज //शरदपूर्णिमा रात है जैसे खिली कपाससागर चंदा खेलते आज डांडिया रास //रासोत्सव ले आ गया,शरद चाँदनी रात साजन से सजनी मिली,पाकर यह ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
सरिता भाटिया
गुज़ारिश
42

आईये जानते हैं कुछ आधुनिक एंव सुरक्षित इंटरनेट ब्राउजर्स के बारें में

मनोज जैसवाल : सभी पाठकों को मेरा प्यार भरा नमस्कार। आज की पोस्ट में मैं आपको जानकारी दूँगा कुछ आधुनिक एंव सुरक्षित इंटरनेट ब्राउजर्स के बारें में। आप गूगल क्रोम इंटरनेट इंटरनेट एक्सप्लोरर Mozl...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
manojjaiswalpbt
ultapulta
131

सपनों के सच होने पर क्या यकीन किया जा सकता है !!

साधू को स्वपन में खजाना दिखने और उसके बाद खुदाई चालु करने के कारण उन्नाव जिले का डोडिया खेड़ा गाँव अचानक मीडिया में चर्चित हो गया !  लेकिन क्या स्वपन में दिखाई देने वाली बातें सच भी हो सकती है ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
पूरण खण्डेलवाल
38

आज विवशता की लंका को आग लगाना है !!

संकट और विपत्ति से नहीं आँख चुराना है ,जीवन की हर बाधा से सीधे टकराना है !........................................................निज भुज बल पर हो विश्वास ,सबल मनोबल हो अपना ,हम यथार्थ में परिणत कर दें ,देखा है जो भी सपना ,आज विवशता क...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
SHIKHA KAUSHIK
WORLD's WOMAN BLOGGERS ASSOCIATION
53

आंतकीक ठौर बनैत जा रहल अछि मिथिला

प्रणव प्रियदर्शीअपन सांस्कृतिक छटा, सांप्रदायिक सौहार्द आ सहज जीवनक स्वर साधक मिथिला कें आब आतंकक गेहुमन डसि रहल अछि। अमन-चैनक ई धरती आतंकी फसल कें लहलहाइत देखि संशय मे परि गेल अछि। मिथिलाक ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
pranav priyadarshi
समय से संवाद
91

एहि नव पीढ़ीक भविष्य कें सम्हारू

विषाक्त पीढ़ीक कुकृत्य भोगक लेल विवश अछि नेनपनप्रणव प्रियदर्शी नेना सड़क पर नहि उतैर सकैत अछि। नेना स्वाद नहि पहिचान सकैत अछि। नेना सभ सं लडि़ नहि सकैत अछि। नेना प्रपंच नहि बुझि सकैत अछि। ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
pranav priyadarshi
समय से संवाद
76

बंद करो यह खून खराबा

जो जीवनभर साथ न छोड़े, मुझको ऐसा साथ चाहिए । जो प्राणांत तक हाथ न छोड़े, मुझको ऐसा हाथ चाहिए॥ दया करो इन अभिमानित, अति गौरवान्वित चेहरों पर मानव का सम्मान कर सके मुझको ऐसा माथ चाहिए ॥महल दु...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
jai bhardwaj
kabhee kabhee
59

यात्रा

प्रत्‍येक व्‍यक्ति समय के साथ साथ चारित्रिक विशेषताओं में भी यात्रा करता है और वह भविष्‍य में क्‍या बनेगा यह इस बात पर निर्भर करता है कि अतीत में वह क्‍या कर रहा है। --- डिक फ्रांसिस...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
रौशन जसवाल विक्षिप्‍त
32

व्यवस्थित किजिए डेस्कटॉप को

क्या आपके डेस्कटॉप पर कई सारे आइटम बिखरे पङे है और आपको समझ मेँ नही आता कि ईनको किस तरह मैनेज किया जाए, तो एसी हालत मे आप स्टार डॉक कि मदद ले सकते है। यह एक फ्रि सॉफ्टवेयर है जिसकि सहायता से आप अप...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Basant Khileri jat
Hindi Computer and Hacking Tips
159

Computer Files Size Allocation

01010101 = 8 Bit = 1 Byte = 1 Charactor1024 Byte = 1 KB (Kilo Byte)1024 KB = 1 MB (Mega Byte)1024 MB = 1 GB (Giga Byte)1024 GB = 1 TB (Terra Byte)...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
HARSHVARDHAN SRIVASTAV
Journey of भारत
65

जगद्गुरु कृपालुजी योग (JKYOG )क्या है ?

जगद्गुरु  कृपालुजी योग (JKYOG )क्या है ?इस योग के तहत योग के आध्यात्मिक(spiritual ) और कायिक (भौतिक ,material )योग के दोनों पहलुओं (तत्वों) का समावेश किया गया है। इस एवज योग के उस सनातन विज्ञान को आधार बनाया गय...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
54

WHAT IS TRUE YOG?

फैशनेबुल  (buzz word )है इन दिनों योगा। लेकिन योग के नाम पर क्रेश प्रोग्रेम बेचा जा रहा है उछल कूद का, पी टी का ,चंद कसरतों का जिसे खरीद कर लोग अपने आपको योगी बूझने लगते हैं। जितना ज्यादा पसीना न...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
53

योग के असली मायने हैं क्या ? जगदगुरु कृपालुजी (प्रणीत )योग क्या है ?

योग के असली मायने हैं क्या ?फैशनेबुल  (buzz word )है इन दिनों योगा। लेकिन योग के नाम पर क्रेश प्रोग्रेम बेचा जा रहा है उछल कूद का, पी टी का ,चंद कसरतों का जिसे खरीद कर लोग अपने आपको योगी बूझने लगते ह...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
44

हाकिमे शहर तेरी तलवार की फलयों से, किसी मज़लूम के खून की बू आती है।।

आम आदमी अपने को वोट की भागीदारी या इससे ज्यादा पार्टियों के नेताओं के समर्थन या विरोध की चर्चा तक ही अपने आप को सीमित रखता है | आम आदमी स्वंय राजनीति करने व्यवस्था में शासक -- संचालक बनने के लिए ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
loksangharsha
लो क सं घ र्ष !
41

"दोहे-शरदपूर्णिमा आ गयी" डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)

अमृत वर्षा कर रही, शरदपूर्णिमा रात।आज अनोखी दे रहा, शरदचन्द्र सौगात।।खिला हुआ है गगन में, उज्जवल-धवल मयंक।नवल-युगल मिलते गले, होकर आज निशंक।।निर्मल हो बहने लगा, सरिताओं में नीर।मन्द-मन्द चलन...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
66

स्वीकारोक्ति एक पुरुष की

स्वीकारोक्ति एक पुरुष कीमेरे नाम से मुझेजब पुकारती हैं एक लड़कीऔर तहाती हैं मेरे धुले हुए कपडेझुन्झुलाता हुआ मैंझिड़क देता हूँ अक्सरऔर तब भी खामोश रहती हैंबिना किसी उम्मीद केप्यार में होत...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
SHALINI KAUSHIK
WOMAN ABOUT MAN
67

हितचिंतक

काय साली जिंदगी आहे.....डॉक्टर ला वाटते तुम्ही आजारी पडावे....पोलिसाला वाटते तुम्ही काही तरी गुन्हा करावा....वकीलाला वाटते तुम्ही कुठेतरी कधीतरी कसतरी कायद्याच्या कचाट्यातअडकावे....अंतयात्रेचे...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
vaghesh
विनोद नगरी
60

बिहार में नक्सली हमले के बाद जातीय संघर्ष की आशंका

बिहार के नक्सल प्रभावित औरंगाबाद जिले में नक्सली घटनाएं आम रही हैं, लेकिन गुरुवार को भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (माओवादी) के संदिग्ध नक्सलियों द्वारा बारूदी सुरंग में विस्फोट कर रणवीर सेना क...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Journalist
मेरा संघर्ष
114

दार्जिलिंग: दुनिया के खुबसूरत पर्वतीय स्थलों में से एक

भारत के पश्चिम बंगाल में स्थित इकलौता पर्वतीय पर्यटन स्थल दार्जिलिंग दुनिया के खुबसूरत पर्वतीय स्थलों में से जाना जाता है। अपने खूबसूरती के कारण ही इसे पहाड़ियों की रानी कहा जाता है। यहां क...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Journalist
मेरा संघर्ष
365

उम्र पार की वो औरत

इक पड़ाव पर ठहर कर अपनी सोच को कर जुदा सिमट एक दायरे में करती स्व का विसर्जन चलती है एक अलग डगर उम्र पार की वो औरत |देह के पिंजर में कैद उम्र को पल-पल संभालती वक्त के दर्पण की दरार से निहारती अपने द...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
सु-मन (Suman Kapoor)
बावरा मन
70

नष्ट होते वनस्पति कवच से घातक बनते चक्रवात

नष्ट होते वनस्पति कवच से घातक बनते चक्रवातरमेश पाण्डेयपिछले दिनो आये फैलिन तूफान ने पूर्वी प्रदेशों में जमकर कहर बरपाया। इसके बाद यह सोचना जरूरी हो गया है कि आखिर यह चक्रवात इतने घातक क्यों ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
37

यथार्थवाद

यथार्थवाद हिंदी साहित्य में यथार्थवाद अंग्रेजी के रियलिजम के अनुवाद के रुप में प्रयुक्त हुआ है। यथार्थ का अर्थ है यथा+ अर्थ यानी जैसा है वैसा अर्थ। हिंदी साहित्य में यथार्थवाद बीसवीं शती के ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Dr. Neeraj Bhardwaj
पत्रकारिता@
36

रहस्यवाद

रहस्यवाद रहस्यवाद अपने में बहुत ही व्यापक विषय है। जहां तक हम बात करें हिंदी काव्यधारा की तो उसमें रहस्यवाद अपनी अलग ही पहचान रखता है। रहस्यवाद वह भावनात्मक अभिव्यक्ति है, जिसमें कोई साधक य...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Dr. Neeraj Bhardwaj
पत्रकारिता@
34

आई... शरद की पुरनम रात

आई... शरद की पुरनम रात कन्हाई।पूर्ण कला से चन्द्रदेव ने तृप्त किये तिहुं लोक,जड, चेतन सब मंत्रमुग्ध हो करते विविध विनोद।एक ओर चन्द्रदेव का जादू, दूजो मुरली की मनमोहक तान,छेवी, देव सभी एकटक हो, दे...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
42


Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन