अपना ब्लॉग जोड़ें

अपने ब्लॉग को  जोड़ने के लिये नीचे दिए हुए टेक्स्ट बॉक्स में अपने ब्लॉग का पता भरें!
आप नए उपयोगकर्ता हैं?
अब सदस्य बनें
सदस्य बनें
क्या आप नया ब्लॉग बनाना चाहते हैं?
नवीनतम सदस्य

नई हलचल

आह्वानी !

हे माँ दुर्गा !आओं तुम दुर्गति नाशिनी !नाश करो दु:ख कष्ट पीड़ित मानव का हे सिंह बाहिनी !आओं तुम दुर्गा  रूप में रक्षा करो नीरिह  जन को और बध करो कालेधन के स्वामी-महिषासुर को।आओं तुम काल...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Kalipad
अनुभूति
61

आप को सपरिवार नवरात्री की ढेरों शुभकामनाएं...सुगना फाऊंडेशन-मेघालासिया

        ॐ शं शैलपुत्री देव्यै: नम: नवरात्री की ढेरों हार्दिक शुभकामनाएं अखंड सौभाग्य , और मनचाहा वर देने वाली माँ शैलपुत्री , आप सभी के हर मनोकामना पूर्ण करे ऐसी शुभकामनाएं!  माता सभी क...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
  Sawai Singh Rajpurohit
378

प्रतिक्रिया......(कुँवर जी)

अभी अनामिका जी को यहाँ पढ़ा तो   सच में बोलती ही बंद हो गयी!कई दिन बाद स्वतः ही कुछ मौन से फूटा!आज वो ही आपके समक्ष!आज हम सब बुत से बन गए है!कोई प्रतिक्रिया कर ही नहीं रहे है है किसी भी कुरीति के ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
hardeep rana
kunwarji's
82

माँ शाकुम्भरी देवी शक्तिपीठ श्रद्धा का धाम-MAA SHAKUMBHRI DEVI

माता शाकुम्भरी देवी शक्तिपीठ में भक्तों की गहरी आस्था है। उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जिले में माता का सुंदर स्थान विराजमान है। सहारनपुर नगर से 25कि.मी तथा हरियाणा प्रांत के यमुनानगर से लगभग 50 क...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Praveen Gupta
हमारे तीर्थ स्थान और मंदिर - HAMARE TEERTH STHAN OUR MANDIR
181

माँ शाकुम्भरी देवी शक्तिपीठ श्रद्धा का धाम-MAA SHAKUMBHRI DEVI

माता शाकुम्भरी देवी शक्तिपीठ में भक्तों की गहरी आस्था है। उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जिले में माता का सुंदर स्थान विराजमान है। सहारनपुर नगर से 25कि.मी तथा हरियाणा प्रांत के यमुनानगर से लगभग 50 क...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
ATUL WAGHMARE
0

पश्चिम से सूर्योदय पूर्व में अस्त

सिकन्दर ने जब भारत पर आक्रमण किया तो सीमावर्ती राजा आम्भी ने सिकन्दर के आगे सम्पर्ण किया। उस के पश्चात सिकन्दर का दूसरे सीमावर्ती राजा पुरू से मुकाबला हुआ। यद्यपि पुरू हार गया था किन्तु उस य...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Praveen Gupta
हिन्दू - हिंदी - हिन्दुस्थान - HINDU-HINDI-HINDUSTHAN
158

ग़ज़ल

सजाए  मोत का तोहफा  हमने पा लिया  जिनसे ना जाने क्यों बो अब हमसे कफ़न उधर दिलाने  की बात करते हैं हुए दुनिया से  बेगाने हम जिनके एक इशारे पर ना ज...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Madan mohan saxena
ग़ज़ल गंगा
66

कोई तारा नहीं

कोई तारा नहीं , जुगनू भी नहीं हसरतों की आँख मिचोली भी नहीं अँधेरी रात में क्या क्या खोया बूझने को पहेली भी नहीं हाथ को हाथ न सूझे जो शबे-ग़म में कोई सहेली भी नहीं तुम आ जाते तो अच्छा था&...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Sharda Arora
गीत-ग़ज़ल
78

कुर्सी की पूजा

सुबह सुबह मैंने देखा, धूप देते नेता जी को।वो भी आज कर रहे हैं पूजा  भगवान को गाली देते थे जो। सारी सामग्री थी पूजा  की, मुर्ति वहाँ  न थी किसी की।ये सोचकर मैं हुआहैरान, कौन है नेता जी का भगव...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
kuldeep thakur
man ka manthan. मन का मंथन।
71

कवि का घर

( उन सच्चे कवियों को श्रद्धांजलिस्वरूप जिन्होंने फटेहाली में अपनी जिंदगी गुज़ार दी | )किसी कवि का घर रहा होगा वह..  और घरों से जुदा और निराला चींटियों से लेकर चिरईयों तक उन्मुक्त वास करते थे वह...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
सुशील कुमार
स्पर्श | Expressions
74

हमको मगर किसी ने पुकारा कभी न था

ऐसा नहीं कि रुकना गवारा कभी न थाहमको मगर किसी ने पुकारा कभी न थाहालाकि याद आता है अब भी बहुत हमेंवो शहर जिसमे कोई हमारा कभी न थाहम जिसके साथ-साथ थे उसके कभी न थेजो साथ था हमारे, हमारा कभी न थाकुछ ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Devendra Gehlod
Jakhira, Shayari Collection | जखीरा, उर्दू शायरी संग्रह
121
Vivek Vaishnav
130

मिशन इंडिया फाऊंडेशन का टीकाकरण अभियान पूरा

मिशन इंडिया फाऊंडेशन ने नारनौल में अक्टूबर 12,2012 को अपने 20,000 टीके लगाने के अभियान को प्राप्त किया . इस से सम्बंधित छ्प्पे समाचार को देखिये ....  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Akbar Khan
TheNetPress.Com
134

मूल्याँकन का मूल्याँकन

दो सप्ताह से व्यस्त नजर आ रहे थे प्रोफेसर साहब मूल्याँकन केन्द्र पर बहुत दूर से आया हूँ सबको बता रहे थे कर्मचारी उनके बहुत ही कायल होते जा रहे थे कापियों के बंडल के बंडल मिनटों में निपटा रह...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
डा0 सुशील कुमार जोशी
उल्लूक टाईम्स
52

राजपुरोहित है हम ..हम मेँ है दम,....श्री नरपत सिंह

राजपुरोहित है हमहम मेँ है दम,डर किसी से लगता नहीँसर किसी से झुकता नहीँ,पुरोहित कुल मेँ जन्म लिया हैदाता का नाम रोशन किया हैहमेँ नाज है खेतेश्वर महाराज सेहम तो है राजपुरोहित समाज से....!इज्जत करन...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
  Sawai Singh Rajpurohit
RAJPUROHIT SAMAJ
124

तेरे होंठ की सुर्खी...

तेरे होंठ की सुर्खी ले-ले करहर फूल ने आज किया सिंगारतेरे ज़ुल्फ़ की खुशबु मौसम मेंतेरे दम सेकालियों पे है निखारजिस महफ़िल में तुम आ जाववहां एक सुरूर आ जाता हैमेरे शानो पे जब सर रखती ह...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
सुधीर मौर्य
ब्लाग तड़ाग
82

श्री राम की सहोदरी : भगवती शांता सर्ग-4/सर्ग-5

श्री राम की सहोदरी : भगवती शांता पुन: प्रकाशित    भाग-1 कौशिकी-कोसी  सृन्गेश्वर महादेव भगिनी विश्वामित्र की, सत्यवती था नाम |षोडश सुन्दर रूपसी, हुई रिचिक की बाम ||  मत्तगयन्द सवैया नारि सँ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
रविकर
श्री राम की सहोदरी : भगवती शांता
143

आप जरा खुद आ कर देखिये ...!

किस तरह जिंदा हैं लोग....कैसे शर्मिंदा हैं लोग पाँच हज़ार से अधिक लोगों के हस्ताक्षरों सहित सौपा जाएगा माँगपत्रविकास के दावों के बीच देखें...किस तरह जिंदा हैं लोग....कैसे शर्मिंदा हैं लोग ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Rector Kathuria
कामरेड स्क्रीन
0

कांग्रेस के बनते-बिगड़ते समीकरण

                                                            पिछले दिनों हिन्दू समाचर पत्र में छपा ये कार्टून काफी चर्चों का विषय बना रहा है ,   बीएसपी पार्टी की रा...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Dolly Bansiwar
चर्चित विषय
143

खबरगंगा: रंगकर्म : मेरा प्रथम प्रेम

वो दिन भी खूब थे...तब जम कर नाटक किया करते थे ...कई सपने देखा करते..नाटको से ये कर देंगे..वो कर देंगे...क्रांति ला देंगे ...आन्दोलन खड़ा कर देंगे ....जब जीवन का संघर्ष सामने आया..तो सारे जोश की हवा निकल गयी.....  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
ATUL WAGHMARE
0

खबरगंगा: रंगकर्म : मेरा प्रथम प्रेम

वो दिन भी खूब थे...तब जम कर नाटक किया करते थे ...कई सपने देखा करते..नाटको से ये कर देंगे..वो कर देंगे...क्रांति ला देंगे ...आन्दोलन खड़ा कर देंगे ....जब जीवन का संघर्ष सामने आया..तो सारे जोश की हवा निकल गयी.....  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Manoj Pandey
प्रगतिशील ब्लॉग लेखक संघ
95

खबरगंगा: रंगकर्म : मेरा प्रथम प्रेम

वो दिन भी खूब थे...तब जम कर नाटक किया करते थे ...कई सपने देखा करते..नाटको से ये कर देंगे..वो कर देंगे...क्रांति ला देंगे ...आन्दोलन खड़ा कर देंगे ....जब जीवन का संघर्ष सामने आया..तो सारे जोश की हवा निकल गयी.....  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
ATUL WAGHMARE
0

बालों का रंग

करीब तीस-बत्तीस साल के बाद मिल रहे थे. इस बीच में हमारे बीच कोई भी सम्पर्क नहीं रहा था.साथ साथ मेडिकल कालेज में पढ़े थे पर मेडिकल कालेज के दिनों में हमारे बीच कोई विषेश दोस्ती नहीं थी. हमारी विषे...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
SUNIL DEEPAK
जो न कह सके
104

कॉलेज की प्रतियेगिता

हर साल की भांति इस साल भीप्रतियोगी परीक्षाएं शुरू हो गयीं ।टी . वी  का स्विच आफ हुआकिताबे   गुरु   हो        गयी ।दाखिले    को     है सब परेशानकट- आफ ने ले ली सबकी जानIIT,    IIM    पहाड...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Kshitij Ranjan
क्षितिज
85

अगीत साहित्य दर्पण( क्रमश:) अध्याय-५ ..भाग दो...

                                    अगीत की भाव संपदा (भाग दो )--पिछली पोस्ट से आगे ...              अनियंत्रित विकास हो या जीवन व्यापार अति ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Drshyam
अगीतायन
99

अगीत साहित्य दर्पण (क्रमश:) अध्याय-५-भाग एक ..अगीत की भाव संपदा ...ड़ा श्याम गुप्त ..

                                            अगीत की भाव-संपदा(भाग एक )        तत्कालीन कविता में संक्षिप्तता के साथ सहज भाव-सम...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Drshyam
अगीतायन
92

मेरा हाथ है किसी हाथ में

मेरी  रात  दिन  में  छुपी  हुई मेरा  दिन  छुपा  किसी  रात  में मेरी  ज़िन्दगी  कोई  राज़  है कोई  राज़  है  मेरी  ज़ात  में मै  जहाँ  कहीं  भी  भटक&nbs...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Akbar Khan
TheNetPress.Com
100

शहर की कविता

कांधे पर रखकरकविताओं का खाली थैलानिकल पड़ा हूँ मैंनजरें चुराताउस पहाड़ से,जो ताकता है मुझेअपने ठीहे से दिनरातऔर जिसे मैंअपनी  बालकनी से,जो भरता हैमेरा खालीपनउतरकर मेरे अन्दर,तब भी, जब किस...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Padmnabh Gautam
रचना डायरी
100

सौ संस्कारों के ऊपर भारी मजबूरी एक .... (कुँवर जी)

सौ संस्कारों के ऊपर भारी मजबूरी एक आचरण बुरा ही सही पर है इरादे नेक!खुद बोले खुद झुठलाये जो करे कह न पाए अजब चलन चला जग में चक्कर में विवेकभ्रष्टाचार से लड़ाई में हाल ये सामने आये विजयी मुस्कान ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
hardeep rana
kunwarji's
81


Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन