अपना ब्लॉग जोड़ें

अपने ब्लॉग को  जोड़ने के लिये नीचे दिए हुए टेक्स्ट बॉक्स में अपने ब्लॉग का पता भरें!
आप नए उपयोगकर्ता हैं?
अब सदस्य बनें
सदस्य बनें
क्या आप नया ब्लॉग बनाना चाहते हैं?
नवीनतम सदस्य

नई हलचल

प्रभू आपको आशिष दें। "जय मसीह"

 प्रभू आपको आशिष दें।     "जय मसीह"...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
KARTIKEY RAJ
समाज
235

मेरी क्रिसमस की शुभकामनाएं

Chritmas ka yeh pyara tyohaar…santa clause aaye aapke dwar…subhkamna hamari karey sweekar…MERRY CHRISTMASS...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
KARTIKEY RAJ
समाज
109

नंदिनी

वृताकार पथ पर,शैतानी मन लिए,लाल लाल आंखेलपलपाती जीभनिगलने को आतुर,फिरता है विषैला नाग .फुफकारता, बेखौफ रौंदने को तत्पर,सड़क पर, बसों मेंमेट्रो में , ट्रेनो मेंसभी जगह, मानवों का खाल पहने.बेबस स...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
KAVYASUDHA (काव्य सुधा)
KAVYA SUDHA (काव्य सुधा)
60

बलात्कार, विरोध और नगरवधू...खुशदीप

बलात्कार, विरोध और नगरवधू...नगरवधू !मेरे मन में बढ़ गया  तेरा सम्मान...नहीं उठते तेरे लिए कभी झंडे-बैनर,नहीं सहता कोई पानी की तेज़ बौछार,नहीं मोमबत्तियों के साथ निकलता मोर्चा, नहीं जोड़ता तुझ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
ATUL WAGHMARE
0

दँश

 कितना जर्जर ये लोकतँत्र है, इससे तो तानाशाही अच्छी,केवल हम दँश झेलते हैँ, सरकार यहाँ है नरभक्षी. जब लोकतँत्र के मँदिर मे, भगवान भ्रष्ट हो बैठा है, करता जनता का शोषण, जाने किस बल पर ऐ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
abhishek shukla
37

sanket 10 (संकेत-दस)

संकेत १० : हुस्न तबस्सुम निहां और आलोक पंडित की कविताओं पर केंद्रित है...सम्पूर्ण अंक पी.डी.एफ. फाइल में पढ़ें..संकेत दस ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
anwar suhail
संकेत
109

साने गुरुजी जयंती

साने गुरुजी उर्फ पांडुरंग सदाशिव साने यांची आज जयंती त्यांच्या पवित्र स्मृतीस छात्रभारती अहमदनगर तर्फे विनम्र अभिवादन !!!!स्वातंत्रसैनिक, समाजवादी विचारवंत, सामाजिक कार्यकर्ते, साहित्यिक...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Kedar bhope
केदार भोपे
96

प्रतिरोधक औषधियाँ

अनियमित दिनचर्या होने का प्रभाव शरीर की रोग-प्रतिरोध क्षमता पर पडता है। शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होने के कारण कई प्रकार के रोग शुरू होने लगते हैं।यदि उचित समय पर रोग से सम्बिधित प्...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Rajendra kumar
स्वस्थ जीवन: Healthy life
298

सेंटा क्लॉज़ का इंतज़ार है

जब क्रिसमस त्यौहार है आता, खुशियाँ छा जाती हैं मन में.जगमग करता है घर सारा,क्रिसमस ट्री सजता आँगन में.तरह तरह के केक हैं बनते,जिनको मिलजुल कर खाते.रौनक रहती है घर बाहर,मिलकर सब त्यौहार मनाते.स...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Kailash Sharma
बच्चों का कोना
76

दामिनी यानी बिजली................."फाल्गुनी"

वह हरदम चहकती रहती, बिंदास और बेबाक। अन्याय वह सहन कर ही नहीं सकती। यही कहा है 'दामिनी' के भाई ने। 'दामिनी' पूरे देश के लोगों के लिए एक टीवी चैनल ने यही नाम रखा है उस कन्या का। दामिनी यानी बिजली...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Yashoda Agrawal
मेरी धरोहर
88

धगधगत्या दिल्लीतील असंतोष .....!!!! The Anna Effect ....

धगधगत्या दिल्लीतील असंतोष   .....!!!!The Anna Effect ....दिल्लीत चालत्या बसमध्ये बलात्कार झालेल्या पीडित तरूणीला न्याय मिळावा यासाठी सलग सातव्या दिवशीही तरुणांनी रस्त्यावर उतरून तीव्र आंदोलन करत आहे...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Kedar bhope
केदार भोपे
50

तमाम चिंताओं व आक्रोश के बावजूद क्या हम में अगला बलात्कार रोक पाने की सामर्थ्य है ?...

...देश की राजधानी दिल्ली में चलती बस में हुऐ बर्बर बलात्कार ने मानो पूरे देश को तंद्रा से झकझोर कर जगा सा दिया है... इस तरह की घटनाओं की पुनरावृत्ति रोकने व दोषियों को जल्द से जल्द व कड़ी से कड़ी सज...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
प्रवीण शाह
33

आखिर कब तक ???

कब तक लूटती रहेगीरोज अस्मत सरे बाज़ार कब तक यूँ एक बेटी  रोज बेआबरू की जायेगी |कब तक चुकानी है कीमतउसको एक लड़की होने कीकब तक एक निर्दोष परयूँ अंगुली उठाई जायेगी |कब तक शोषित होगी नारी इस सभ्य ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
सु-मन (Suman Kapoor)
बावरा मन
59

ओ ! हिन्द की बेटी दामिनी ..

सुधीरमौर्य 'सुधीर'********************सलामकरताहूँ मेंतेरीहिम्मतकोओ! हिन्दकीबेटी'दामिनी'तुझेलड़नाहैमौतसे औरदेनाहैउसे शिकस्तउठ औरबिजलीकीतरह चमककरसार्थक करदे अपना नाम औरलिखदे उन...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
सुधीर मौर्य
ब्लाग तड़ाग
79

No Title

लहरों पे चलने वालों को तल की थाह नहीं होती,पाया जिसने संतोष धन, ज्यादा की चाह नहीं होती.मंजिल है पानी तो सीधी राह एक चला चल,टेढ़े चलने वालों की कोई राह नहीं होती.किसी की नजर से कभी गिर न जाना ‘नी...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
KAVYASUDHA (काव्य सुधा)
KAVYA SUDHA (काव्य सुधा)
52

ज़ख्म

क्षणिकाएँ .......(1)ज़िन्दगी ने दिए थे जो ज़ख्म उन्हें सहलाता रहा पीता रहा दर्द और जीता रहा शुक्रिया उनका जिन्होंने मरहम की और उनका भी शुक्रिया जिन्होंने मेरे ज़ख्मों को कुरेदा।(2)ऐ मेर...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
nilesh mathur
आवारा बादल
72

क्या यही है पुरुष !!-एक लघु कथा

 शहर में बलात्कार -आरोपियों को कड़ी सजा दिलाने हेतु उग्र आन्दोलन चल रहा था .युवक-युवतियां पूरे जोश व् गुस्से में अपनी भावनाओं का इज़हार कर रहे थे .सिमरन भी अपनी सहेलियों के साथ इस गुस्साई भीड़ का ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
SHIKHA KAUSHIK
मेरी कहानियां
56

All India Online Newspaper

Here I am giving some links where you read Indian newspapers have published in all major languages."English,Hindi,Urdu,Assamea,Bengali, Gujrati, Kannda, Konkani, Malyalam, Marathi, Oriya, Punjabi,Tamil and Telugu" यहाँ पर मै कुछ  ऐसे  लिंक दे रहा हूँ जहाँ पर आप भारत के सभी प्रमुख भाषाओं  में प्रका...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
ATUL WAGHMARE
0

हाथ में रुमाल ही सही

सफ़र में कोई आड़ ही सही टिमटिमाती लौ की सँभाल ही सही चढ़ा जो आसमाँ में है अपना ख्याल ही सही मन लगाने के लिए किसी राग का धमाल ही सही हो आँख में आँसू तो हाथ में रुमाल ही सही न हुई ईद त...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Sharda Arora
गीत-ग़ज़ल
87
Vivek Vaishnav
127

समाधान समस्याओं का,,,

नेता जी से -उनकी पत्नी ने पूछा - ?अजी, आखिर निरक्षरता, बेरोजगारी,व देश की अन्य समस्याये,पूर्ण रूपेण हल क्यों नही हो पाती,पहले तो नेता जी झुझलाये फिर उन्होंने,राजनीति के सारे राज समझाये!और बोले - य...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
dheerendra singh bhadauriya
काव्यान्जलि
63

"यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते" वाले देश में बलात्कार

पिछले कुछ दिनों से पूरा देश दिल्ली गैंगरेप की घटना से सदमे में है । ऐसे में बलात्कारियों को क्या सजा हो लोग इसकी चर्चा परिचर्चा में जुटे है|अधिकतम लोगों जिनमे हमारे कई राजनीतिज्ञ/ न्यायविद&n...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Sanu Shukla
राष्ट्र सर्वोपरि
107

बुकर का सफर

बुकरकासफर2012 केमैनबुकरफारफिक्शनकेपुरस्कारकीघोषणाहालमेहीमेकीगयीहै,जिसमेब्रितानीलेखिकाहिलेरीमांटेलविजयीरहीं.मैनबुकरफारफिक्शनपु. कामनवेल्थयाआयरलैण्डकेनागरिकद्वारालिखेगयेमौलिक...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
बृजेश नीरज
67

Poem

जबभीकरतीहूंमैं,मेरेघरकीसफाईपतानबींक्याहोजाताहै,मुझे,पुरानीचीजोंकोदेखकर,चाहतीहूंरखलूंउनसभीकोसमेटकरऔरसंजोलूंउन्हेजोछेड़देताहैंसारीअतीतकीयादें...अवचेतनपचलपरअंकित,वोसारीबातें...ज...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
बृजेश नीरज
69

दिलरुबा

PHOTO & GRAPHICS DESIGN BY R. K. SRIVASTAVA                            दिलरुबादिल में मंदिर की घंटी  जैसे  बजने लगी है,लो वो आ गई ,   मेरी  दिलरुबा आ गई है।चाँदनी रात में, चाँद के साथ में,चाँदनी में न...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
राकेश श्रीवास्तव
85

इस्लाम सच्चाई और समानता की शिक्षा देता है-भीमराव अम्बेडकर

‘‘...इस्लाम धर्म सम्पूर्ण एवं सार्वभौमिक धर्म है जो कि अपने सभी अनुयायियों से समानता का व्यवहार करता है (अर्थात् उनको समान समझता है)। यही कारण है कि सात करोड़ अछूत हिन्दू धर्म को छोड़ने के लिए सो...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Saleem Khan
हमारी अन्‍जुमन
217

तुम

तुम धोखे खाती रही और संभालती रहीदर्द ने बढ़ाये हाथ और तुम थामती रहीइन्ही सब के बीच रिश्ता प्यार का मिलाधरोहर न और को मिले तुम टालती रहीतुम आज की हो यही ज़माना कहता हैमिला जो लुटाती हो ज़...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Rajeev Sharma
कलम कवि की
49

लड़की

[चित्र - गूगल से साभार ]एक (1) -लड़की के रूप की  रजनीगंघा खिली है अभी-अभीउमंग जगी है उसमें अभी-अभी जीवन का रंग चटका है वहाँ अभी–अभी    जरूर उसका मकरंद पुरखों के संस्कारमाँ की ममता, पिता के साहस ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
सुशील कुमार
स्पर्श | Expressions
100
अल्लम्...गल्लम्....बैठ निठ्ठ्लम्...
58

तू .....जी ले ज़रा

पिछले दिनों इक मित्र की  चिट्ठी आई । जिसमे उन्होंने अपनी एक समस्या साझा की । मित्र की समस्या पढ़कर मुझे लगा की ना  जाने कितने लोग इस तरह की समस्या से गुजर रहे होंगे और जीवन को निराशा में डू...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
mamta vyas
मनवा
80


Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन