अपना ब्लॉग जोड़ें

अपने ब्लॉग को  जोड़ने के लिये नीचे दिए हुए टेक्स्ट बॉक्स में अपने ब्लॉग का पता भरें!
आप नए उपयोगकर्ता हैं?
अब सदस्य बनें
सदस्य बनें
क्या आप नया ब्लॉग बनाना चाहते हैं?
नवीनतम सदस्य

नई हलचल

ऐसे समाज को फांसी पर लटका दो -लघु कथा

 अस्पताल के बाहर मीडियाकर्मियों व् जनता की भीड़ लगी थी .अन्दर इमरजेंसी में गैंगरेप  की शिकार युवती जिंदगी व् मौत से जूझ रही थी .मीडियाकर्मी आपस में बातचीत कर रहे थे -''अरे भाई लड़की का नाम व् पत...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
SHIKHA KAUSHIK
मेरी कहानियां
83
कार्टूनिस्ट-मयंक खटीमा (CARTOONIST-MAYANK)
128

मेगा मेमोरी और रामलुभावन

उस दिन मेरा मन बहुत उदास था. हाँलाकि मेरा मित्र राजेश एक जानी-मानी एयरलाईन कम्पनी में डिप्टी मार्केटिंग ऑफिसर बन गया था और मुझे पत्नी के साथ गोवा आने-जाने का हवाई टिकट गिफ्ट में देने के लिए कई ब...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
केशव कहिन
13

गीत-------प्रेम पाती मिली...डा श्याम गुप्त

प्रेम पाती मिली, मन कमल खिल गया,हम को ऐसा लगा, सब जहाँ मिल गया ॥चाँद-तारे  धरा पर उतरने लगे ,पुष्प कलियों से हिलमिल के इठ्लारहे।देके आवाज़ गुपचुप  बुलाते मुझे ,कोई प्यारा मधुर बागवाँ मिल गया॥अ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
  Sawai Singh Rajpurohit
एक ब्लॉग सबका
84

केवल भ्रम है...

कहां मरा है कीचक अभी,कीचक न मरेगा कभी,अगर कीचक मर जाता,अबलाओं को कैसे नोच पाता।कीचक को तुमने मार दियाभीम ये तुम्हारा भ्रम है। गांव शहर हर मोड़ पर,खडा है हैवानियत ओड़ कर,मासूम नारियों पर करता ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
kuldeep thakur
man ka manthan. मन का मंथन।
69

कुछ होम्योपैथिक गुर

जैसा की हमने पहले भी कहा है की होमियोपैथी  चिकित्सा रोग के आधार पर न होकर रोगी के मन और तन के लक्षण का अध्ययन करके किया जाता है। यहाँ पर मैंने प्राथमिक तौर पर एवम आकस्मिक समय पर रोग के आधार प...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Rajendra kumar
स्वस्थ जीवन: Healthy life
516

गांधारी के राज में नारी !

 ( गूगल के सौजन्य से )पढ़ा है महाभारत मेंद्रौपदी का चीर हरण हुआ था सभा मेंसभी मर्द थे ,पर चुप थे ,भय से ,अचरज से ,कोई न आया बचाने द्रौपदी कोलाज बचाया केवल कृष्ण  ने।आज" भारत महान" की राजधानी ....दिल्...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Kalipad
अनुभूति
57

श्री गीता जी की जन्मस्थली ज्योतिसर

कुरुक्षेत्र की रणभूमि में जहां पर गोविंद ने अपने मोहग्रस्त सखा पार्थ (अर्जुन) को गीता ज्ञान प्रदान करके अपने विराट रूप के दर्शन करवाए वह स्थान आज भी ज्योतिसर के नाम से जाना जाता है। ज्योतिसर अ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Praveen Gupta
हमारे तीर्थ स्थान और मंदिर - HAMARE TEERTH STHAN OUR MANDIR
154

श्री गीता जी की जन्मस्थली ज्योतिसर

कुरुक्षेत्र की रणभूमि में जहां पर गोविंद ने अपने मोहग्रस्त सखा पार्थ (अर्जुन) को गीता ज्ञान प्रदान करके अपने विराट रूप के दर्शन करवाए वह स्थान आज भी ज्योतिसर के नाम से जाना जाता है। ज्योतिसर अ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
ATUL WAGHMARE
0

कलाल-कलवार-कराल वैश्य

पिछड़ी  जातियों के संदर्भ में अक्सर कलाल शब्द सुनते आए हैं। कलार या कलाल मूलतः वैश्यों के उपवर्ग है जो जातिवादी समाज में विकास की दौड़ में लगातार पिछड़ते चले गए। अब इन्हें अन्य पिछड़ावर्ग म...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Praveen Gupta
हमारा वैश्य समाज - HAMARA VAISHYA SAMAJ
214

ग़ज़ल ( गुजारिश )

  तेरी दुनियां में कुछ बंदें, करते काम क्यों गंदेंकिसी के पास कुछ भी ना, भूखे पेट सो जाये जो सीधे सादे रहतें हैं मुश्किल में क्यों रहतें हैतेरी बातोँ को तू जाने, समझ अपनी ना कुछ आयेमेरे मालिक ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Madan mohan saxena
ग़ज़ल गंगा
86

'पुरुष' होने का दंभ

बलात्कार जैसी घटनाओं के लिए पुरुषों में 'पुरुष' होने का दंभ भी एक कारण है। पुरुषों को बचपन से यह ही यह अहसास दिलाया जाता है कि वह पुरुष होने के कारण महिलाओं से 'अलग' हैं, उनका होना ज्यादा अहमियत र...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Shah Nawaz
35

आत्म-समर्पण

PHOTO-KRISHNA, MODEL & GRAPHICS DESIGN BY R. K. SRIVASTAVA     आत्म-समर्पणबीते       हुए,  हर   एक पल कोचाहकर भी, भुलाया नहीं जातादिल से सभी बातों  कोयूँ ही लगाया नहीं जाताजिस पल तुम मिली, उस पल कोचाहे  तो  भी  मिट...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
राकेश श्रीवास्तव
81

भगवान् राम की वंश परंपरा - Genology of Bhagwaan Ram

वैवस्वत मनु के दस पुत्र थे- इल, इक्ष्वाकु, कुशनाम, अरिष्ट, धृष्ट, नरिष्यन्त, करुष, महाबली, शर्याति और पृषध।भगवान् राम का जन्म इक्ष्वाकु के कुल में हुआ था। मनु के दूसरे पुत्र इक्ष्वाकु से विकुक...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Praveen Gupta
हिन्दू - हिंदी - हिन्दुस्थान - HINDU-HINDI-HINDUSTHAN
190

बलात्कार

मैंने कभी नहीं सुना या पढ़ा कि जानवर बलात्कार करते है. ये सब "शुभ" कार्य , सिर्फ हम इंसान ही करते है . शर्म आती है मुझे . क्या हम जानवरों से भी गए गुजरे है . हमारी मानसिकता कितनी घृणित हो चुकी है . हैरत...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
vijay kumar sappatti
बस यूँ ही..........WRITINGS OF SILENCE......
79

आल्लेलुइआ

ये घटना है बहुत सिंपल पर लगती गड़बड़झालाक्लास में एक शैतानी बच्चा नाम नटखट लालाटीचर उससे सवाल का जवाब पूछते घबरातीअगर वो पूछता तो उनका जवाब भी नही देपातीथा स्कूल का इंस्पेक्शन ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Rajeev Sharma
कलम कवि की
48

मुस्लिम और हिन्दू महिलाओं के विवाह-विच्छेद से सम्बंधित अधिकार

आज मैं आप सभी को जिस विषय में बताने जा रही हूँ उस विषय पर बात करना भारतीय परंपरा में कोई उचित नहीं समझता क्योंकि मनु के अनुसार कन्या एक बार ही दान दी जाती है किन्तु जैसे जैसे समय पलटा वैसे वैसे ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
SHALINI KAUSHIK
कानूनी ज्ञान
276
मेरी बात तेरी बात...
71

ऐश की महफ़िल रोज सजाए

ऐश की महफ़िल रोज सजाए मिल के सब शैतानगलियों-गलियों तन्हा भटके दुनिया में इंसानकिसकी बात को सच मै जानू, किसपे भरोसा रक्खूपंडित मुल्ला-नेता-अफसर सब दे झूठा ज्ञानझूठ बोल के धोखा दे जो कहलाये होशि...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Devendra Gehlod
Jakhira, Shayari Collection | जखीरा, उर्दू शायरी संग्रह
98

प्रलय-....बाकी है ??

सुना है 21 दिसंबर को प्रलय आने वाली है ..पर क्या प्रलय आने में कुछ बाकी बचा है ?.भौतिकता इस कदर हावी है की मानवता गर्त में चली गई है, बची ही कहाँ है इंसानों की दुनिया जो ख़तम हो जाएगी।मन बहुत खर...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Shikha varshney
स्पंदन SPANDAN
62

ऐसा धोखा मत देना -लघु कथा

[दैनिक जनवाणी में 16-12-2012 को प्रकाशित ]ऐसा धोखा मत देना -लघु कथा'अम्मी ...मैं  ज़रा शबाना के घर होकर आ रही हूँ .''ये कहकर जूही ने अपनी जीभ हल्की सी काट  ली क्योंकि वो जानती थी कि  वो झूठ  बोल रही है .वो...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
SHIKHA KAUSHIK
मेरी कहानियां
64

World Newspapers Online(English..)

Here you read famous English Newspapers :-Indian English Newspaper       All Indian English Newspaper World Newspaper Directory  World All Language Newspaper Chinese NewspaperFamous Chineese Newspapers Voice of AmericaUSA International Herald Tribune USA B B C NewsUK The TelegraphUK Fainancial TimesUK The GuardianUK The ObserverUK The  TimesUK Daily Mail UK The SunUK Daily MirrorUK ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
ATUL WAGHMARE
0

कोई मुझसे रूठा है

कोई  मुझसे रूठा है इस तरहसामने है पर मुँह छुपा के बैठा है.बुझते हुए चरागों से गिला क्या,जब   आफ़ताब  मुँह फिरा के बैठा है.पानी है गहरा , टूटी है नाव मैं हूँ दरिया में, नाखुदा किनारे बैठा ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
KAVYASUDHA (काव्य सुधा)
KAVYA SUDHA (काव्य सुधा)
58

समीक्षा

तूफान था आया गुजर गयाकिधर से आया किधर गया कल जो डाला छप्पर था आज फिर से उजड़ गया एक बार फिर ली परीक्षाधैर्य ने की जीवन समीक्षापुन: जोड़ कर टुटा जीवनफिर टुटा टुटा सँवर गया...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Rajeev Sharma
कलम कवि की
51

वजूद,,,

काश-तुम्हारे भी एक बेटी होतीप्यार से उसका नाम रखते ज्योती,सहमी सहमी सिमटी सी-गुलाबी कपड़ों लिपटी सी-टुकुर टुकुर निहारती,जैसे बेरहम दुनिया को देखना चाहती, उसका हंसना बोलना और मुस्कराना,तुम्ह...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
dheerendra singh bhadauriya
काव्यान्जलि
60

चलो,वोट करें।

गुजरात चुनाव पर्व-२०१२....  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Markand Dave
M.K.TVFilms - HINDI ARTICLES
182

और आखिर खत्म हो ही गयी दुनिया...

...गतांक... से आगे...आबाद होना स्टेशनों का* अपने विश्व विद्मालय के इतिहास में सबसे कम उम्र में अर्थशास्त्र की प्रोफेसर बनने वाली कार्ला हमेशा की तरह सुबह विभाग को जाने घर से निकली और रोजाना की तरह ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
प्रवीण शाह
37

ग़ज़ल इस्मत बचाए फिर रही है.......

एक भी  शे’र अगर हो जाए विजेंद्र शर्माकी क़लम से इसमें कोई शक़ नहीं कि अदब की जितनी भी विधाएं हैं, उनमे सबसे मक़बूल ( प्रसिद्ध ) कोई विधा है, तो वो है ग़ज़ल ! दो मिसरों में पूरी सदी की दास्तान बय...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Shahroz
Hamzabaan हमज़बान ھمز با ن
189

बाकी है

उसकी गली में मेरे कदमो के निशान बाकी हैं,मेरे दिल पे अभी जख्मों के निशान बाकी है.मेरे मन की बेचैनी, इस बात की निशानी है,मेरे जिस्म में अब भी जज़्बात बाकी है.सहेज कर रखते हो मिटा क्यों नहीं देते ,क...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
KAVYASUDHA (काव्य सुधा)
KAVYA SUDHA (काव्य सुधा)
71

घायल लोकतंत्र

लोकतंत्र घायल पड़ा है, न्याय लहूलुहान पड़ा है,सुनाई देती है संसद में, नेताओं की उच्छ आकांक्षाएं।बिछी हुई है शकुनी की चौसर, भारत मां लगी है दाव पर,सोच रहे हैं धर्मराज, कहीं कृष्ण न आ जाए।राजधानी ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
kuldeep thakur
man ka manthan. मन का मंथन।
65


Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन