अपना ब्लॉग जोड़ें

अपने ब्लॉग को  जोड़ने के लिये नीचे दिए हुए टेक्स्ट बॉक्स में अपने ब्लॉग का पता भरें!
आप नए उपयोगकर्ता हैं?
अब सदस्य बनें
सदस्य बनें
क्या आप नया ब्लॉग बनाना चाहते हैं?
नवीनतम सदस्य

नई हलचल

दुनिया
58
दुनिया
68

राज ठाकरे के स‌मर्थन में...

कुछ दिन पहले मुझे एक ईमेल प्राप्त हुआ। यह ईमेल मेरे एक अजीज दोस्त ने भेजा था। फारवर्डेड मेल था लिहाजा यह नहीं पता चल पाया कि इसका जनक कौन है। लेकिन यह जरूर बताना चाहूंगा कि जिस दोस्त ने मुझे यह ...  और पढ़ें
9 वर्ष पूर्व
RAVINDRA RANJAN
आशियाना Aashiyana
77

इधर स‌े गुजरा था स‌ोचा स‌लाम करता चलूं...

चुनाव के मौसम पर गर्मी का मौसम भारी पड़ने लगा है। मतदान की तारीख तेजी स‌े नजदीक आती जा रही है, लेकिन चुनाव प्रचार उतनी गति नहीं पकड़ रहा है। वजह, मौस‌म की मार। हिम्मत जुटाकर, कार्यकर्ताओं को जोश...  और पढ़ें
9 वर्ष पूर्व
RAVINDRA RANJAN
आशियाना Aashiyana
68

शिक्षा:ये क्या हुआ?

कल मेरी एक पहचान वाली ने मुझे अपने बेटे की हिन्दी मैं मदद करने के लिए कहा,क्यूंकि उसे हिन्दी नही आती और उसके बेटे की परीक्षा थी ,सो मैंने उसे शाम का समय दिया क्यूंकि मैं उस वक्त खाली होती हूँ.उसे...  और पढ़ें
9 वर्ष पूर्व
neha sharma
मेरी कहानी
58

सोचा भी न था कि ब्लॉगिंग का ये ईनाम मिलेगा!

डिप्रैशन में हूँ,परेशान हूँ लज्जित भी। मैंने जिस भाषा को अपनी कल्पना से भी दूर रखा, उसी भाषा का इसतेमाल करने का आरोप मुझ पर लगाया जाए तो भला एक संवेदनशील व्यक्ति के लिए इससे बड़ी शर्मिंदगी की बा...  और पढ़ें
9 वर्ष पूर्व
प्रकाश बादल
प्रकाश बादल
74
दुनिया
67
दुनिया
61

अशोक

दरवाजे पर का बूढ़ा अशोककहते हैं जिसे रोपा थामेरे दादा ने,खडा है अब भी,अब जबकिहमने बाँट ली हैउसके नीचे की एक एक पग धरतीघर,आंगन औरमन्दिर के देवता तक ।खड़ा है वह अब भीलुटाता हम पर अपनी छांह की आशीष...  और पढ़ें
9 वर्ष पूर्व
SHRI BILAS SINGH
कविता के बहाने
74

दूरियां

दूरियांमैं चली जाऊँ तो निराश मत होना.जीना ही तो है!एक सीधा-सा प्रश्नएक अटपटा-सा उत्तर.अपने अगले पलों में छिपाकर रखूँगी मैं तुम्हेंऔर तुम मुझे रखना.मौका पाते हीउन निधियों के हम सामने रख खोला कर...  और पढ़ें
9 वर्ष पूर्व
AJANTA SHARMA
अजन्ता शर्मा
58

मैं क्यों लिखता हूँ

मैं क्यों लिखताहूँ? यह एक ऐसा सवाल है कि मैं क्यों खाता हूँ... मैं क्यों पीता हूँ...लेकिन खाने और पीने पर मुझे रुपए खर्च करने पड़ते हैं और जब लिखता हूँ तो मुझे नकदी की सूरत में कुछ ...  और पढ़ें
9 वर्ष पूर्व
Ritesh
Satya: The Voice of Truth
72

उत्तर

उत्तरमरिचिका से भ्रमित हो वह प्रश्न कर बैठे हैंथोडा पास आकर देखेंजीवन बिल्कुल सपाट हैअपने निष्टुर आंखों सेजो आग उगलते रहते हैंउनपर बर्फ सा गिरतामेरा निश्छल अट्टहास हैजीवन ने फल जो दियावह अ...  और पढ़ें
9 वर्ष पूर्व
AJANTA SHARMA
अजन्ता शर्मा
60

जीवन की इस राह में कभी भी ,कहीं भी अन्धकार में प्रकाश को खोजा जा सकता है...  और पढ़ें
9 वर्ष पूर्व
Himanshu
आँगन.. जो बाहर होकर भीतर है
51

तुम फ़िर आना .....

तुम फ़िर आनाहम फ़िर बैठेंगे चल करजमुना की ठंडी रेत परऔर करेंगे बातेंदेर तककविता की,कहानियों कीऔर तितलियों की तरहउड़ती फिरती लड़कियों की।तुम फ़िर आनामौसम के बदलने की तरहहम फ़िर बैठेंगे चल करकंप...  और पढ़ें
9 वर्ष पूर्व
SHRI BILAS SINGH
कविता के बहाने
87

मौत जिंदगी में तब्दील होती जा रही है

________________________________________________________"अनवर भाई की कहानी ख़ुद उनकी जुबानी......."वक़्त के कगार पर अलसाई सी मौत खड़ी है। अपने नरमीले हांथों से जिंदगी को गुदगुदाती,जिंदगी पर हंसती, मुस्कुराती,उसे पागल बनाती। कुछ ऐसे ज...  और पढ़ें
9 वर्ष पूर्व
Ritesh
Satya: The Voice of Truth
72

तू क्यूककर लिखता है

मेराजन्मउत्तरप्रदेशकेखड़ीबोलीकहेजानेवालेमेंरठजिलेमेंहुआ।लेकिनपढ़ाईमईकीभूमिबनाइलाहाबाद।प्रयागमेंलगीमहादेवीवर्माजीकीप्रतिमाहमेशाहीमुझेउत्सुककरतीकीमैंभीकुछलिखाकरूँ।बेहदख...  और पढ़ें
9 वर्ष पूर्व
Ritesh
Satya: The Voice of Truth
55

क्या ये मीटर में हैं!

देखिये रदीफ और काफिया! ये ज़रूर बताएं कि ये मीटर में हैं या नहीं। ये संभव और वैभव है मेरे जुड़वाँ बेटे।...  और पढ़ें
9 वर्ष पूर्व
प्रकाश बादल
प्रकाश बादल
92

ज़ख़्म दिल का मेरे तुम हरा मत करो

शायिरा: असमा 'शब' आगराज़ख़्म दिल का मेरे तुम हरा मत करोबेरूख़ी से मिलो तो तुम मिला मत करोवह अगर...[यह काव्य का सारांश है, पूरा पढ़ने के लिए फ़ीड प्रविष्टी शीर्षक पर चटका लगायें...]...  और पढ़ें
9 वर्ष पूर्व
विनय प्रजापति 'नज़र'
ग़ज़लों के खिलते गुलाब
141

स्वयं को मेरा बना जाओ तुम.....

साँसो में तुम रहो,यादों में तुम रहोमेरे दिल में रहो ,बस रहती रहोइस से ज्यादा भी क्या ,हँसी एहसास होमैं भी सुनता रहूँ ,तुम भी कहती रहोतन में भी मन में भी बस समां जाओ तुमरूप की सम्पदा यूँ लुटा जाओ त...  और पढ़ें
9 वर्ष पूर्व
Himanshu
आँगन.. जो बाहर होकर भीतर है
86

प्रेम का अंतहीन सफर

LOVE IS NOT A RELATIONSHIP Love relates, but it is not a relationship। A relationship is something finished। A relationship is a noun; the full stop has come, the honeymoon is over। Now there is no joy, no enthusiasm, now all is finished. You can carry it on, just to keep your promises. You can carry it on because it is comfortable, convenient, cozy. You can carry it on because there is nothing else to do. You can carry it on because if you disrupt it, it is going to create much trouble fo...  और पढ़ें
9 वर्ष पूर्व
Himanshu
आँगन.. जो बाहर होकर भीतर है
106

motivation

A man found a cocoon of a butterfly. One day a small opening appeared. He sat and watched the butterfly for several hours as it struggled to force its body through that little hole. Then it seemed to stop making any progress. It appeared as if it had gotten as far as it could, and it could go no further.So the man decided to help the butterfly. He took a pair of scissors and snipped off the remaining bit of the cocoon.The butterfly then emerged easily. But it had a swollen body and small, shrive...  और पढ़ें
9 वर्ष पूर्व
Himanshu
आँगन.. जो बाहर होकर भीतर है
89

चल सको तोः चलो

safar mein dhoop to hogi jo chal sako to chalosabhi hain bheed mein tum bhi nikal sako to chaloidhar udhar kai manzil hain chal sako to chalobane banaaye hain saaNche jo Dhal sako to chalokisi ke waasate raahen kahaaN badalati haintum apane aap ko Khud hi badal sako to चलो yahaaN kisi ko koi raastaa nahi deta mujhe giraake agar tum sambhal sako to chaloyahi hai zindagi kuchh Khaak chand ummeeden inhi khilono se tum bhi bahal sako to chalohar ik safar ko hai mahafoos raaston ki talaash hifa...  और पढ़ें
9 वर्ष पूर्व
Himanshu
आँगन.. जो बाहर होकर भीतर है
103

एक स्वपन आँख में आया था

एकस्वपनआँखमेंथा।कोख में उसे छुपाया था ।कुछ दिन भी न छिप पाया , झट गोद में आकर मुस्काया।हसी खेल में गोद से भी खिश्का मेराआँचल था ।मै जरा ठिठका फ़िर आँचल तक सिर से फिसला ।जब घर से बाहर वो निकला था...  और पढ़ें
9 वर्ष पूर्व
Ritesh
Satya: The Voice of Truth
62

...बहरे आवाज़ों के बीच।

स्कूल डायरी से एक और ग़ज़ल आपकी नज़र कर रहा हूँ: कई रोज़ हो बेशक ठहरे आवाज़ों के बीच।क्या माने रखते हैं बहरे आवाज़ों के बीच॥चुपके से वो सन्नाटों में ज़हर घोल कर चले गये,आप दे रहे हैं पहरे आवाज़ों के बीच।...  और पढ़ें
9 वर्ष पूर्व
प्रकाश बादल
प्रकाश बादल
85

स्टोव! मेरे स‌वालों का जवाब दो

स्टोव तुम स‌सुराल में ही क्यों फटा करते हो?मायके में क्यों नहीं ?स्टोव तुम्हारी शिकार बहुएं ही क्यों होती हैं?बेटियां क्यों नहीं ?स्टोव तुम इतना भेदभाव क्यों करते हो ?स‌मझते क्यों नहीं ?स्टोव ...  और पढ़ें
9 वर्ष पूर्व
RAVINDRA RANJAN
आशियाना Aashiyana
85

....चोंच में घर.....

आज अचानक एक डायरी हाथ लगी, जो उस समय की थी जब मैं स्कूल में पढ़ता था, उस डायरी में कई रचनाएं मिली जिनमेंसे अधिकतर खारिज कर दी लेकिन कुछ मुझे अच्छी लगीं उनमें से एक रचना आपके समक्ष प्रस्तुत कर रहा ह...  और पढ़ें
9 वर्ष पूर्व
प्रकाश बादल
प्रकाश बादल
87

पूर्ण

(८ मार्च - महिला दिवस के अवसर पर )पूर्णतुम मुझसे डरो !क्योंकि मैं खुद को रोकना नहीं जानती.तुम मुझसे डरो !क्योंकि मैं समस्याओं के टीले पर खडी होकर भीउन्मादित हो हंसती हूँ.तुम डरो !क्योंकि तुम्हार...  और पढ़ें
9 वर्ष पूर्व
AJANTA SHARMA
अजन्ता शर्मा
53

आईना

आईनाकाश !कि तुम आईना ही बन जाते ,मैंठिठकी खड़ी रहती ,औरतुम मेरा चेहरा पढ़ पाते ,मेरे एक एक भाव सेहोती रहती मैं ज़ाहिर ,तुमअपलक निहारते मुझेऔरबांछ्ते मेरे माथे की लकीर ,मेरे हाथ बढ़ाए बिनातुममुझे एक...  और पढ़ें
9 वर्ष पूर्व
AJANTA SHARMA
अजन्ता शर्मा
63

एकाकार

एकाकारएक आकार बनमेरे मानस में तुम्हारा स्थापनमुझे ठहरा गया है.न अब कोई प्रतीक्षा है.न भय है तुम्हारे जाने का.मेरी दीवारें भीअब तुम्हें खूब पहचानती हैंमहका करती हैं वोतुम्हारी खुश्बू की भां...  और पढ़ें
9 वर्ष पूर्व
AJANTA SHARMA
अजन्ता शर्मा
55

सूत सी इच्छाएं...

सूत सी इच्छाएं...रोते रोतेजी चाहता है,मोम की तरह गलती जाऊं.दीवार से चिपककरउसमें समा जाऊं.पर क्या करुं!हाड-मांस की हूं जो!जलने पर बू आती है.औरसामने खडा वोमुझसे दूर भागता है.मेरी सूत सी इच्छाओं को...  और पढ़ें
9 वर्ष पूर्व
AJANTA SHARMA
अजन्ता शर्मा
59


Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन