अपना ब्लॉग जोड़ें

अपने ब्लॉग को  जोड़ने के लिये नीचे दिए हुए टेक्स्ट बॉक्स में अपने ब्लॉग का पता भरें!
आप नए उपयोगकर्ता हैं?
अब सदस्य बनें
सदस्य बनें
क्या आप नया ब्लॉग बनाना चाहते हैं?
नवीनतम सदस्य

नई हलचल

हे कृष्ण!

जय श्री कृष्ण!जन्माष्टमी के उपलक्ष में एक प्रयास निवेदित है,कृपया समीक्षा करें-त्याग,प्रेम अवतार श्यामप्रेम रीति तो सिखाइये।बृज-गोपियों सा त्याग रसकलिकाल में भी डालिये।।लोक-हित छोड़ा मंजु ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
vandana
Wings of Fancy
33

कृष्ण लीला ...डा श्याम गुप्त के पद...

 १.तेरे कितने रूप गोपाल ।सुमिरन करके कान्हा मैं तो होगया आज निहाल ।नाग-नथैया,  नाच-नचैया,  नटवर,  नंदगोपाल  ।मोहन, मधुसूदन, मुरलीधर, मोर-मुकुट, यदुपाल ।चीर-हरैया,    रास -रचैया,   &nb...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
258

''दिल की धड़कन हिंदुस्तान ब्लोगर सम्मान ''- परिणाम

                                  परिणाम''दिल की धड़कन हिंदुस्तान ब्लोगर सम्मान ''विजेता -सुश्री वंदना गुप्ता ''दिल की धड़कन हिंदुस्तान ब्लोगर सम्मान ''''सिन्दूरी सुबह है उजल...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
SHIKHA KAUSHIK
हम हिंदी चिट्ठाकार हैं
125

श्री कृष्ण जन्म अष्टमी पर शुभकामनाएं |

श्री कृष्ण जन्म अष्टमी पर शुभकामनाएं | जसोदा तेरा लल्ला कितना सलोना है ,पालने में झूलता चंदा सा खिलौना .कान्हा को बाँहों का झूला झुलाएंगे ,मीठी मीठी लोरी सुनाकर सुलायेंगें ,ममता की बरखा से ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
SHIKHA KAUSHIK
भारतीय नारी
58

व्यंग्य विडंबन : - डॉ. मेहता वागीश

व्यंग्य विडंबन :                                  -      डॉ. मेहता वागीश             चैनल वालों की मौज है। यकीन न हो तो कहीं भी रिमोट घुमाके देख लीजिए। ऐसा इन्द्रलोक कहाँ म...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
49

जनविरोधी राज्य व्यवस्था की पैदाइश हैं आसाराम जैसे ठग

                                                        अभी देश में तीन घटनाएं घटी हैं जो सत्ता के चरित्र को समझने में मदद करती हैं.मुम्बई में एक महिला फोटोग्राफ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
ramprakash anant
जन-विमर्श|Janvimarsh
44

Easy class notes on computer- introduction, characteristics and uses of computer

 computer is a electronic deviceWhat is computer?A Computer is an electronic device. It is a programmable machine. This is  digital machine that can accepts a data, stream of symbols, stores them, and processes them accordingly to set of instruction and pre defined rules. Computers most important property is that its generality and a digitalism. It can follow a sequence of instructions, which is called a program that operates on given data. A digital computer is basically an electronic...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
richa shukla
computer tech in Hindi language
218

मुझ अनाम को

मुझ अनाम को तुमने दिये कितने नामकभी राघव कभी राम कभी कान्हा कभी शाम ।सर्वव्यापी को किया बंदि पूजा घर मेंमसजिद, गिरजाघर, गुरुद्वारे, मंदिर में ।अपने मन के ही लिये किये सारे काम ।। कभी राघवमुझ अ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
49

वर्षों तक वन में घूम घूम - जय श्री कृष्णा

वर्षों तक वन में घूम घूमबाधा विघ्नों को चूम चूमसह धूप घाम पानी पत्थरपांडव आये कुछ और निखरसौभाग्य न सब दिन होता हैदेखें आगे क्या होता हैमैत्री की राह दिखाने कोसब को सुमार्ग पर लाने कोदुर्योधन...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Kshitij Tiwari (Lucky)
क्षितिज तिवारी (Lucky) सत्य का साथ देने वाला ...
69

20 मुस्लिम 28 इसाई अब अपने मूल धर्म वापस आ गए हैं

दुखद भरी खबरों के बीच एक सुखद खबर20 मुस्लिम 28 इसाई अब अपने मूल धर्म वापस आ गए हैं24 अगस्त को तमिलनाडु में तमिलनाडु vhp के कर्याकरी president shri. vedantham ने इस शुभ कार्य को सम्पन्न कियाआप सभी का हिन्दू धर्म में स...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Kshitij Tiwari (Lucky)
क्षितिज तिवारी (Lucky) सत्य का साथ देने वाला ...
75

इस बार 28 अगस्त को मनाई जाने वाली जन्माष्टमी तिथि राशि और नक्षत्र के अनुसार बहुत ही खास

द्वापर युग के बाद होगा ऐसा, जन्माष्टमी पर 5057 साल बाद दुर्लभ संयोग...इस बार 28 अगस्त को मनाई जाने वाली जन्माष्टमी तिथि राशि और नक्षत्र के अनुसार बहुत ही खास है। ज्योतिष के जानकारों के मुताबिक 5057 सा...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Kshitij Tiwari (Lucky)
क्षितिज तिवारी (Lucky) सत्य का साथ देने वाला ...
61

"मेरा कम्प्यूटर" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

मेरी बालकृति "नन्हें सुमन" सेएक बालकविता" मेरा कम्प्यूटर " यह मेरा कम्प्यूटर प्यारा,इसमें ज्ञान भरा है सारा।भइया इससे नेट चलाते,नई-नई बातें बतलाते।यह प्रश्नों का उत्तर देता,पल भर में गण...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
73

नौ दो ग्यारह होय, निवेशक धन बहु-रूपया

रूपया छा-सठ में फँसा, उन-सठ से हैरान |इक-सठ कब से मौन है, अड़-सठ सड़-सठियान |अड़-सठ सड़-सठियान, तीन-तेरह हो जाता |तीन-पाँच हर वक्त, पञ्च-जन माल खपाता |मची हुई है लूट, रपट आती है खुफिया |नौ दो ग्यारह होय, न...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
रविकर
"कुछ कहना है"
53

लीजिए !कलम आपके हाथ में हैं....

हम सब का एक कुदरती दायरा होता हैं,जिसकी परिधि में रहने के लिए प्रकृति हमे तैयार करती हैं |जीवन संघर्ष के दौरान Survival Instinct के लिए हम सब लोग अक्सर जाने-अनजाने इस दायरे से बाहर निकल कर नए नए कीर्तिमान स...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
ajay kumar
"मन की बातें"
114

हे कृष्ण कन्हैया, नन्द लला! अल्लाहो ग़नी, अल्लाहो ग़नी !!

फ़ोटो वरिष्ठ पत्रकार क़मर वहीद नक़वी की फेसबुक वाल से उड़ाया हिंदुस्तान। ऐसा मुल्क जो तमाम विपरीत झंझावतों के अपने विविध रंगों में आज भी मुस्कुरा रहा है। बक़ौल इक़बाल, यूनान, मिस्र, रोमां सब मिट गए ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Shahroz
Hamzabaan हमज़बान ھمز با ن
189

करुण पुकार |

आना आना रे गिरधारी तुझ बिन सूना ये संसार |              सूना ये संसार हम सब तुझ को रहे पुकार |                                चीर हरण करके तुमने सखियों को सबक सिखाया |चीर किये कम...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
247

व्यंग कविता:- " खाद्य सुरक्षा या वोट सुरक्षा "

सपनों के सौदागर अब बन गये देखो अन्नदाताएक से छीना, दुजे को बाँटा, इसमे क्या इनका जाता ?तुम भी खाओ, हम भी खायेंअब तो खाने का कानून हैमिल बाँट कर खाने मेमिलता बड़ा सकून हैतुम भी गाओ, हम भी गाऐं"लाज" भ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Suresh Rai
मन का दर्पण,मन की बात.
90

"रासरचैया कहकर मत बदनाम करो" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

योगिराज का सारे जग में, इतना मत अपमान करो।कृष्णचन्द्र को रासरचैया, कहकर मत बदनाम करो।।कर्म प्रधान बताया जिसने, गीता का शुभज्ञान दिया, भाई-बहन के पावन सम्बन्धों का जिसने मान किया,मानवता क...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
46

कृष्ण जन्म… …[सूरदास के पद]

आनंदै आनंद बढ्यौ अति ।देवनि दिवि दुंदुभी बजाई,सुनि मथुरा प्रगटे जादवपति ।विद्याधर-किन्नर कलोल मन उपजावत मिलि कंठ अमित गति ।गावत गुन गंधर्व पुलकि तन, नाचतिं सब सुर-नारि रसिक अति ।बरषत सुमन सु...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
50

किससे नफ़रत , किससे प्यार ?

किससे नफ़रत , किससे प्यार ?जानता हूँ जिंदगी बेबफा होती हैं,फिर भी क्यूँ,इससे इतना प्यार करता हूँ|हर पल इसकी खुशी की खातिर,सोचा करता हूँ|बचपन से मा-बाप का बात,शिक्षको का मार खाया,सब ने एक ही बात सम...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
vijay kumar
मैं और उनकी तन्हाई
145

बेटी को माना बोझ तो फिर जन्म क्यूं दिया ,

 न कुछ कहने की इज़ाज़त ,न कुछ बनने की इज़ाज़त ,न साँस लेने की इज़ाज़त ,न आगे बढ़ने की इज़ाज़त .      न आपसे दो बात मन की बढ़के कह सकूं ,      न माफिक अपने फैसला खुद कोई ले सकूं ,      जो आपको ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
SHIKHA KAUSHIK
WORLD's WOMAN BLOGGERS ASSOCIATION
59

आप सभी को कृष्ण जन्माष्टमी की बहुत बहुत शुभकामनायें

''श्री कृष्ण-जन्माष्टमी ''एक ऐसा पर्व जो सारे भारतवर्ष में पूरे हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है .अभी कुछ वर्षों से ये दो  दिन मनाया जाने लगा है .पंडितों ने इसे ''स्मार्त '' और ''वैष्णव ''में बाँट दि...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
SHALINI KAUSHIK
! कौशल !
65

कब लब होंगे आज़ाद कब लेंगें खुलकर साँस ?

कब लब होंगे आज़ाद कब लेंगें खुलकर साँस ?शोषित पीड़ित नारी ये सोच रही है आज !***************************कब तक बनकर  सीता अग्नि परीक्षा देंगी ?कब तक शुचिता -प्रमाणन की आज्ञा पूर्ण करेंगी ?कब मूक कंठ से अपने भी नि...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
SHIKHA KAUSHIK
भारतीय नारी
47

पत्ता पत्ता बूटा बूटा - एक चर्चा

पत्ता पत्ता बूटा बूटा....एक चर्चा यह ’मीर’ का मत्ला [एक शे’र] हैपत्ता पत्ता  बूटा बूटा  हाल   हमारा जाने है जाने न जाने गुल ही न जाने,बाग तो सारा जाने हैमीर का पूरा नाम मीर मुहम्मद तक़ी था म...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
आनन्द पाठक
उर्दू से हिंदी
95

आना श्याम...

टूट गये हैं दिलों के बंधन,उदास है हर घर आंगन,जन्म हुआ था प्रेम का जिससे,वो बंसी तुम  पुनः बजाओ...अस्त हो गया धर्म का सूरज,धुमिल हो गयी दिशा पूरव,पथ भ्रष्ट हैं आज सभी,गीता का अर्थ समझाओ...नहीं भाता ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
kuldeep thakur
man ka manthan. मन का मंथन।
59

अर्थ का अनर्थ (अब तो आ कान्हा जाओ)

अब तो आ कान्हा  जाओ, इस धरती पर सब त्रस्त हुए दुःख सहने को भक्त तुम्हारे आज क्यों  अभिशप्त हुए नन्द दुलारे कृष्ण कन्हैया  ,अब भक्त पुकारे आ जाओ प्रभु दुष्टों का संहार करो और&nbs...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Madan mohan saxena
मदन मोहन सक्सेना की रचनाएँ
56

कृष्ण लीला सार.....कृष्ण जन्माष्टमी पर डा श्याम गुप्त के पद.... डा श्याम गुप्त

 १.तेरे कितने रूप गोपाल ।सुमिरन करके कान्हा मैं तो होगया आज निहाल ।नाग-नथैया,  नाच-नचैया,  नटवर,  नंदगोपाल  ।मोहन, मधुसूदन, मुरलीधर, मोर-मुकुट, यदुपाल ।चीर-हरैया,    रास -रचैया,   &nb...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
52

ठेले बरबस खींचते, मन भर भर के प्याज

ठेले बरबस खींचते, मन भर भर के प्याज | पिया बसे परदेश में, यहाँ छिछोरे आज |यहाँ छिछोरे आज, बड़ा सस्ता दे जाते |रविकर नाम उधार, तकाजा करने आते |आया है सन्देश, बड़े हो रहे झमेले |जल्दी रुपये भेज, खड़े घ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
रविकर
रविकर-पुंज
61

सूरज धरि एक पाइप लगा दी

बाल कविता-101सूरज धरि एक पाइप लगा दीपूव उगै छथि दिनकर भैया, पश्चिममे भऽ जाइ छथि अस्तभरि दिन दौड़थि मेहनत करथि, होइ छथि नै कनिको पस्तओ छथि तँ धरती छै आ छै जीवनक चक्र चलैतगाछ-बिरिछ मुस्कैत गाबैत आ मे...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
AMIT MISHRA
30
अनकही
86


Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन