अपना ब्लॉग जोड़ें

अपने ब्लॉग को  जोड़ने के लिये नीचे दिए हुए टेक्स्ट बॉक्स में अपने ब्लॉग का पता भरें!
आप नए उपयोगकर्ता हैं?
अब सदस्य बनें
सदस्य बनें
क्या आप नया ब्लॉग बनाना चाहते हैं?
नवीनतम सदस्य

नई हलचल

सबसे ख़तरनाक होता है

सबसे ख़तरनाक होता हैहमारे सपनों का मर जानाकुछ भी बन बस कायर मत बन।पाश की यह लाइन जीने की कला सिखाती है भारतीय शिक्षा आन्दोलन की शुरुआत  डोरैजियो नाम के एक आयरिश और बंगाली  पिता-- माता की संत...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
loksangharsha
लो क सं घ र्ष !
49

115. "काली शक्ति" (The Dark Power)

        लम्बे समय से मेरे मन में यह सन्देह पल रहा है कि एक "काली शक्ति" है इस देश में, जिसने गुप्त रुप से यह प्रण ले रखा है कि वह- 1. इस देश को अर्थिक रुप से दिवालिया बनाकर रहेगी; 2. यहाँ राजनीत...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
जयदीप शेखर
देश-दुनिया
160

canon x50 hs , its called wow only

हाल ही में मैने कैनन का एक प्रसिद्ध कैमरा खरीदा । इसकी जरूरत मुझे काफी दिनो से महसूस हो रही थी । मेरे पास फिलहाल एक कैमरा है निकोन का 12 मेगा पिक्सल का जो कि जून 2012 में मैने नार्थ इस्ट के टूर में अप...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Manu
yatra (यात्रा ) मुसाफिर हूं यारो .............
64

एक मुलाकात

दीप्ति नवल का व्यक्तित्व बहुआयामी है| वे कवयित्री और चित्रकार होने के साथ साथ एक कुशल छायाकार भी हैं| इसके अतिरिक्त उन्हें संगीत से भी बहुत लगाव है और वे खुद भी कई वाद्य यंत्र बजा लेती हैं| उनकी...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Ravindra Prabhat
परिकल्पना
73

Voices of Indian women

 Voices of Indian womenShaswati Roy Chaoudhary, 23, who works for an online fashion company holds a bottle of pepper spray in a public park in New Delhi.A salesgirl applies lipstick inside a shop with bottles of pepper spray displayed for sale in New Delhi.Baishali Chetia, 30, a freelance visual artist, takes part in a Krav Maga class, an Israeli self defence technique, in New Delhi.Sweety, 22, a student, takes a self defence class in New Delhi....  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
SHIKHA KAUSHIK
WORLD's WOMAN BLOGGERS ASSOCIATION
67

आरम्भ से - अशोक आंद्रे

Sunday, August 28, 2011अशोक आंद्रेसाकार करने के लिए कविताएँ रास्ता ढूंढती हैं पगडंडियों पर चलते हुए तब पीछा करती हैं दो आँखें उसकी देह पर कुछ निशान टटोलने के लिए. एक गंध की पहचान बनाते हुए जाना कि&nb...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Ravindra Prabhat
वटवृक्ष
109

''एक हल्की बात कर देती है किरदार तार-तार !''

 ये पोस्ट पूर्व में एक पुरुष ब्लोगर की टिप्पणी पर प्रकाशित की थी -''एक हल्की बात कर देती है किरदार तार-तार !''ब्लॉग जगत अपने मूल स्वरुप में बुद्धिजीवियों का समूह है .ब्लॉग जगत में ऐसी हल्की बात क...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
SHALINI KAUSHIK
WOMAN ABOUT MAN
64

जानिए कब -कब नेता भी सच बोलता है

जानिए  कब -कब   नेता  भी  सच  बोलता  है  ,पीड़ा  मन  में  हो  तब  जुबान  खोलता  है , या उपेक्षा से जब उसका  खून  खौलता  है , नफा -नुकसान  लगा  ठीक  तरह  तौलता  है  !  &n...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
SHIKHA KAUSHIK
नेता जी क्या कहते हैं ?
51
Binod Ringania
63

टिके "वा-टिके" सीय, डराती दुष्टा कुलटा -

त्रिजटा के प्रति [ २८ कविताएं] रवीन्द्र दास  अलक्षितजटाटीर-कैलाश पर, जमते रक्तस्नायु |रावण सीता को हरे, लड़ कर मरा जटायु |लड़ कर मरा जटायु, मोक्ष प्रभु राम दिलाते |क्षिति जल पावक वायु, गगन कुछ ना...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
रविकर
"लिंक-लिक्खाड़"
55

Little India -Piccola India - छोटा भारत

New York, USA: There is Little India too. It is not on Manhatten like the China Town or the Little Italy, rather it is in Queens at Jackson Heights. Twenty five years ago, when I had gone there people had advised - go carefully, don't take any valuables with you, if someone shows a knife or a gun and asks for money, give him everything without arguing. This time, it was nothing like that. Jackson Heights even has a metro station now.न्यूयोर्क, अमरीकाः यहाँ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
SUNIL DEEPAK
Chayachitrakar - छायाचित्रकार
177

जमायते इस्लामी द्वारा हिंसा

बांग्लादेश साम्प्रदायिकता का पुनरूत्थानहमारा पड़ोसी मुल्क बांग्लादेश, इस्लामवादी जमायते इस्लामी द्वारा की जा रही हिंसा से हलकान है। इस हिंसा में अब तक 50 से अधिक लोग मारे जा चुके हैं। कई घायल...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
loksangharsha
लो क सं घ र्ष !
37

तुम

मैंमहसूसकरताहूँजबभीअंदरतकबिखरातुम्हारेकदमोंकीआहटफिरसेसमेटदेतीहैमेराअंर्तमनचेतनशून्यसेचैतन्यतालौटआतीहैमेरेपासतुम्हारामुस्कराताचेहरामेरीआंखोंकेसामनेहोताहै        &...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
बृजेश नीरज
Voice of Silent Majority
53

सुन्‍दरता

विश्‍व की सबसे सुंदर वस्‍तुओं को देखा या छुआ भी नहीं जा सकता  उन्‍हे केवल दिल से महसूस किया जा सकता है। --- हेलन केलर ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
रौशन जसवाल विक्षिप्‍त
31
THE MUSIC OF MY LIFE : मेरे जीवन का संगीत
75

education in mountains ,गांव के बच्चे पढाई

वैसे तो बच्चे भगवान का रूप होते हैं चाहे वो मैदान के हों या पहाड के पर यहां पहाड पर बच्चो का अलग ही रूप देखने को मिलता है जो कि हमारे यहां करीब पन्द्रह से बीस साल पहले हुआ करता था । न्श्छिलता के अ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Manu
yatra (यात्रा ) मुसाफिर हूं यारो .............
104

महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएं

महाशिवरात्रि हिन्दुओंकाएकप्रमुखत्योहारहै।भगवानशिवकायहप्रमुखपर्व फाल्गुन कृष्ण चतुर्दशी कोशिवरात्रिपर्वमनायाजाताहै।प्रलयकीवेलामेंइसीदिनप्रदोषकेसमयभगवानशिवतांडवकरत...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
KARTIKEY RAJ
समाज
269

सोचो नदियाँ क्या कहती है!

सोचो नदियाँ क्या कहती है!चलती रहती वह हर क्षण अपने पथ पर हर तृषित का करती है वो रसमय अधर पावस शरद की परवाह नहीं करती है वो उत्तुंग शिखर से च्युत हो आह नहीं करती है वो बेहैफ धरा पर चाल लिए वो अमलार...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
निहार रंजन
बातें अपने दिल की
150

महाशिवरात्रि की शुभकामनायें - नीलकंठ की जय

बम बम भोले शम्भु | जय कारा भोलेनाथ का | हर हर महादेव | महाशिवरात्रि के अवसर पर आप सभी को हार्दिक शुभकामनायें और भोलेबाबा को कोटि कोटि चरणस्पर्श और नमन | मेरी ओर से प्रभु की वंदना में छोटा सा प्रया...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
तुषार राज रस्तोगी
तमाशा-ए-जिंदगी
235

मासूम बच्चियों के प्रति यौन अपराध के लिए आधुनिक महिलाएं कितनी जिम्मेदार? रत्ती भर भी नहीं .

मासूम बच्चियों के प्रति यौन अपराध के लिए आधुनिक महिलाएं कितनी जिम्मेदार? रत्ती भर भी नहीं .''आंधी ने तिनका तिनका नशेमन का कर दिया ,पलभर में एक परिंदे की मेहनत बिखर गयी .''फखरुल आलम का यह शेर उजागर ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
SHALINI KAUSHIK
! कौशल !
44

दोहे

माटीकहेकुम्हारसे,कैसीजगकीरीति।मुझसेहीनिर्मितहुआ,करेनमोसेप्रीति।।समयचाकहैघूमता, क्यूंनकरेविचार।।चाकचढ़ातोगढ़गया,समयगएबेकार।।अपनीअपनीकारनी,अपनेअपनेसाथ।थमा कहींयहचाकतो,कछुनह...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
बृजेश नीरज
Voice of Silent Majority
65

रामगोपाल की आज्ञा रहो मीडिया चुप

 सच्चाई की रौशनी से बेहतर अँधेरा घुप्प ,अँधेरे में जायेंगे गुनहगार सब छुप्प ,नवा -नवा सी .एम् .लल्ला ;नेता जी का सुत ,रामगोपाल की आज्ञा रहो मीडिया चुप !!            शिखा कौशिक 'नूतन '  सन्दर्...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
SHIKHA KAUSHIK
नेता जी क्या कहते हैं ?
53

वरदान देदो....डा श्याम गुप्त का गीत ....

                           अंतर्राष्ट्रीय स्त्री सशक्तीकरण दिवस पर एक कोमल-कान्त स्वरों युक्त रचना ....सुमुखि !अब तो प्रणय का वरदान देदो ॥जल उठें मन दीप , ऐसी-मद...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
SHIKHA KAUSHIK
भारतीय नारी
53

इस तरह बेचें सब्जियां

हर उत्पाद की मार्केटिंग के दौर में अब समय आ गया है सब्जियों की मार्केटिंग का। यह ऐसा उत्पाद है जिसकी जरूरत हर वर्ग के लोगों को होती है। सस्ती हों या फिर महंगी खाने के लिए लोगों को सब्जी की जरूरत...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Krishan Vrihaspati
Bhoomeet | Hindi Rural Magazine | Agriculture Magazine |Farmers Magazine|Indian Magazine
165

दुगलबिट्टा

इस यात्रा वृत्तांत को शुरू से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें। आपने पिछले लेख "चोपता: एक अधूरी यात्रा" की अगली पोस्ट "रुद्रप्रयाग" तो अवश्य ही पढ़ी होगी, जिसमें हरिद्वार से १६२ किमी० की दूरी तय करते...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
शैलेन्द्र सिंह राजपूत
115

सब्जी उत्पादन का शैश्वकाल

विश्व में फल-सब्जियों के उत्पादन में भारत का स्थान चीन के बाद दूसरे नंबर पर आता है। इस सूची में अमेरिका का स्थान भारत के बाद आता है। यह जानकारी कुछ समय पहले कृषि तथा उपभोक्ता मामलों के राज्य मं...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Krishan Vrihaspati
Bhoomeet | Hindi Rural Magazine | Agriculture Magazine |Farmers Magazine|Indian Magazine
165

मन्टो का फन-2

‘बाबू गोपी नाथ’ में मन्टो कि़स्से के रावी नहीं बल्कि अब्दुल रहीम सैण्डो, गफ़्फ़ार साईं और ग़ुलाम अली की तरह एक किरदार है। वाहिद मुतकलिम में लिखे गए अफ़साने तो बेशुमार होंगे लेकिन किसी ने अपन...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
loksangharsha
लो क सं घ र्ष !
36

कद्र

जहां जनमत की कद्र कम है या बिल्‍कुल नहीं है वहां बुरी सरकार की आशंका है जो कभी भी तानाशाही में तब्‍दील हो सकती है । --- विलियम लियोन मैकेंजी किंग...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
रौशन जसवाल विक्षिप्‍त
29

ज़ालिम का विरोध और मजलूम का समर्थन

अगर परिवर्तन चाहते है तो गलत को गलत कहने का साहस जुटाना ही पड़ेगा, ज़ालिम का विरोध और मजलूम का समर्थन हर हाल में करना पड़ेगा। और ऐसा तभी संभव है जबकि तेरा-मेरा छोड़कर इंसानियत के खिलाफ उठने व...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Shah Nawaz
28

रूद्रप्रयाग

इस यात्रा वृत्तांत को शुरू से पढ़ने के लिएयहाँ क्लिक करें। आपने पिछली पोस्ट "चोपता: एक अधूरी यात्रा"  पढ़ी होगी,  जिसमें  हम लोग देवप्रयाग होते हुए हरिद्वार से १६२ किमी० की दूरी तय कर...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
शैलेन्द्र सिंह राजपूत
124


Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन