अपना ब्लॉग जोड़ें

अपने ब्लॉग को  जोड़ने के लिये नीचे दिए हुए टेक्स्ट बॉक्स में अपने ब्लॉग का पता भरें!
आप नए उपयोगकर्ता हैं?
अब सदस्य बनें
सदस्य बनें
क्या आप नया ब्लॉग बनाना चाहते हैं?
नवीनतम सदस्य

नई हलचल

मन का चन्दन

मन का चन्दन महक उठता हैतन कस्तूरी लगता हैदिल से दिल मिले यदि तोसारा जग अपना लगता हैतुम्हें देख कानन तरूवरविहँसने का उपक्रम करतेक्यों शाख पे लिपटी लताएंक्यों पवन मंद मंद बहतेमरूस्थल में भी फ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
राजीव कुमार झा
यूं ही कभी
63

सड़े खुले में अन्न, बटेगा सड़ा हुआ कल-

रविकर पक्का मूर्ख, तभी तो रोटी खोई -कोई टी वी बाँटता, कांगरेस धन अन्न |लैप टॉप बाँटे सपा, हुई भाजपा सन्न |हुई भाजपा सन्न, उठाये खुद भी झोले |मुट्ठी दोनों भींच, राम की जय जय बोले -रविकर पक्का मूर्ख, ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
रविकर
"लिंक-लिक्खाड़"
47

रविकर पक्का मूर्ख, तभी तो रोटी खोई -

(1)कोई टी वी बाँटता, कांगरेस धन अन्न |लैप टॉप बाँटे सपा, हुई भाजपा सन्न |हुई भाजपा सन्न, उठाये खुद भी झोले |मुट्ठी दोनों भींच, राम की जय जय बोले -रविकर पक्का मूर्ख, तभी तो रोटी खोई |छोड़े टी वी अन्न, क...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
रविकर
"कुछ कहना है"
45

दिल जीतेगी पेट से, दिल्ली से यह व्योम

(1)मरजीना असली मदर, रोम रोम में रोम |दिल जीतेगी पेट से, दिल्ली से यह व्योम |दिल्ली से यह व्योम, बरसते काले बादल |सड़े खुले में अन्न, बटेगा सड़ा हुआ कल |और मरे ना भूख, टैक्स पेयर है करजी |मिल जाए बस वोट...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
रविकर
रविकर की कुण्डलियाँ
49

Green river - Fiume verde - हरी नदी

Valle Aurina, Italy: In the Aurina valley, river Rienza accompanies the main road. Surrounded by green foliage, even the river waters looked green. Today's images have some ducks from the Rienza river.वाल्ले आउरीना, इटलीः आउरीना घाटी में रिइन्ज़ा नदी सड़क के साथ साथ चलती है. हरियाली से घिरी नदी का जल भी हरा दिखता था. ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
SUNIL DEEPAK
Chayachitrakar - छायाचित्रकार
43

कबीर की साखियाँ

कबीर की साखियाँ( १)जो तोकू काँटा बुवै  ,ताहि कू  बोव तू फूल ,     तोकू फूल के फूल हैं ,वाकू हैं त्रिशूल।भले आपके लिए कोई मुसीबत  खड़ी करे आप के मार्ग में कांटे बिछा दे विघ्न पैदा करे अडं...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
189

इंटरनेट पर किताबों की दुनिया

फ़िरदौस ख़ानकिताबें हमें अंधेरे से रोशनी की तरफ़ ले जाती हैं. किताबें इंसान की सबसे अच्छी दोस्त होती हैं, क्योंकि अच्छे दोस्त न होने पर किताबें ही हमारी सबसे अच्छा साथी साबित होती हैं. किताबे...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Firdaus Khan
Firdaus Diary
82

!! जी रहा आदमी !! (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

कविता को साफ-साफ पढ़ने के लिएकृपया फ्रेम पर क्लिक कर लें।...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
77

प्रॉमिस

वधु : थांबा...!!! अज्जिबात जवळ येऊ नका .. मला स्पर्श सुद्धा करू नका !!.वर : पण का ??? काय झालं?.वधु : मी आईला प्रॉमिस केलं आहे............लग्नानंतर हे सर्व बंद करेन म्हणून.... ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
vaghesh
विनोद नगरी
56

फ़ूड बिल पास

6 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
52

मंगलवारीय चर्चा ---1350--जहाँ परिवार में परस्पर प्यार है , वह केवल अपना हिंदुस्तान है

 एक अन्तराल के बाद फिर हाजिर हूँ आप की सेवा में इन पंक्तियों के साथ उतरी रेल को पटरी पर आने में वक़्त लगता है दूर कहीं मंजिल तो वहां जाने में वक़्त लगता है कहो क्यूँ किस लिए किस बात की आपा धापी? ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
155

गति के नियम : महर्षि कणाद | Laws of Motion by Maharishi Kanada : 600BC

जी हाँ दोस्तों ,शीर्षक बिलकुल सही है इस संसार को गति के नियम महर्षि कणाद ने दिए है ना की कोई न्यूटन फ्यूटन ने ।वैशेषिक दर्शन (Vaisheshika Sutra) के रचनाकार महर्षि कणाद लगभग २ या ६ ईसा पूर्व प्रभास क्षेत...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
प्राचीन सम्रद्ध भारत
29

पैदा हुए ही गला क्यूं दबा नहीं दिया .

 न कुछ कहने की इज़ाज़त ,न कुछ बनने की इज़ाज़त ,न साँस लेने की इज़ाज़त ,न आगे बढ़ने की इज़ाज़त .      न आपसे दो बात मन की बढ़के कह सकूं ,      न माफिक अपने फैसला खुद कोई ले सकूं ,      जो आपको ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
SHALINI KAUSHIK
! कौशल !
46

Identification- ( improve personality in Hindi)

पहचानकबीर जी ने अपने पुत्र कमाल को गहन चिंतन में डूबा देखा तो उनसे पूछा- “ बेटा  क्या बात है तुम इतना व्याकुल क्यों हो, कमाल ने कहा “ में एक प्रश्न का सही उत्तर नहीं खोज पा रहा”,कबीर जी ने कहा-“ ब...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
richa shukla
Hindi Blog For Motivational, Personal Development Article,knowledge of computers technology, job
252

मीराबाई :साधौ कर्मन की गति न्यारी

मीराबाई :साधौ कर्मन की गति न्यारी निर्मल नीर दियो नदियन  को ,सागर कीन्हों खारी ,उज्जवल बरन दीन्हीं बगुलन को ,कोयल कर दीन्हीं  कारी।मूरख को तुम ताज  दियत हो ,पंडित फिरै ,भिखारी। सुन्दर ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
43

कुछ भी , कभी भी .........

आज देश की सर्वोच्च विधायी संस्था , संसद में ,मांग उठाई गई कि देश के एक स्वनाम धन्य संत आसाराम बापू पर लगे बलात्कार जैसे संगीन अपराध वो भी उनकी ही एक नाबालिग अनुयायी के साथ , के मामले पर सरकार सिर्...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
अजय कुमार झा
कुछ भी...कभी भी..
69

क्या न्यूटन भी मुसलमान था?

---जीशान हैदर जैदी जब मैंने ठोस तथ्यों द्वारा सिद्ध किया कि आइंस्टीन ने इस्लाम कुबूल कर लिया था तो कुछ लोगों की व्यंगात्मक प्रतिक्रिया आयी कि अब न्यूटन और गैलीलियो के भी मुसलमान होने की खबर आ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Dr. Zeashan Zaidi
Ya Husain Ya Shah-E-Karbala
120

फोन पर फ्री में करनी हो बात तो आजमाएं यह उपाय

मोबाइल फोन आज हर किसी की मुख्य जरूरत है। लेकिन मोबाइल फोन रखना किसी बड़ी मुसीबत से कम नहीं है। मोबाइल बिल की बढ़ती रकम हमेशा आज के युवाओं पर अधिक प्रेशर डालती है। लेकिन लगता है देश में हर तरफ मह...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
ललित चाहार
Tech Education HUB
206

बापू आसाराम के समर्थकों ने भी दिया आमने सामने की जंग का संदेश

संत आसा राम  के खिलाफ किए जा रहे दुष्प्रचार का किया डट कर विरोध प्रदर्शनकारियों ने तीखे तेवरों में सौंपा जिला प्रशासन को ज्ञापन  लुधियाना 26 अगस्त ( *जितेन्द्र सचदेवा/पंजाब स्क्रीन) यो...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Childless Women Specialist BABA JI +91-9909794430
0

जाने मरजीना कहाँ, चली बांटने अन्न-

जाने मरजीना कहाँ, चली बांटने अन्न |चालू चालीस चोर के, अच्छे दिन आसन्न |अच्छे दिन आसन्न, रहा अब तक मन-रेगा |कई फीसदी लाभ, यही भोजन बिल देगा |चाहे डूबे देश, चले हम वोट कमाने |भूखें सोवें लोग, लूटते चोर ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
रविकर
"कुछ कहना है"
44

एक गली कानपुर की (उपन्यास) - सुधीर मौर्य

        मुक्कमल ख़ामोशी रही थी। कुछ देर शांत बैठे रहने के बाद संदीप उठा अपने हाथो से  उसने बच्चे के चेहरे से कपडा हटाया, सिर्फ  कुछ पल निहारा था उसे और फिर  के कमरे से वो बहार चला गया।   &nb...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
सुधीर मौर्य
कलम से..
110

कै च्या कै

आत्ताच हसून घ्या नंतर हसायला येणार नाही....एका पेरूच्या झाडावर १० आंबे आहेत.त्यातले ५ चिकु मी काढून घेतले. तर त्या झाडावर किती मोसंबी शिल्लक राहतील?......विद्यार्थीः १० हत्ती.सरः वा,तू बरोबर कसे ओ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
vaghesh
विनोद नगरी
52

व्यंग कविता:-" वेदों मे छिपा है राज़"

जब हो गये बेअसर, सारे सरकारी प्रयासअर्थशास्त्री हुये व्यर्थ, जनता हुई निराशशायद कोई उपाय मिले, यही मन मे लिये आशजनता सारी पहुंच गई, धर्माचार्य बाबा के पासबलिहारी बाबा आपकी, कोई तो दियो उपायमं...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Suresh Rai
मन का दर्पण,मन की बात.
66

आज के दौर में-3

कैसा विचित्र  संसार  ये  कैसी रीति विचित्रपैसा  ही अब माता-पिता पैसा  संबंधी मित्र                        ****विपदा दूजे की हमें अब तनिक न करे व्याकुलखुद की ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Sarika Mukesh
अंतर्मन की लहरें Antarman Ki Lehren
74
Voice of Silent Majority
66

"सावन आया" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

मेरे काव्य संग्रह 'धरा के रंग' से एक गीत"सावन आया"रिम-झिम करता सावन आया।शीतल पवन सभी को भाया।।उगे गगन में गहरे बादल,भरा हुआ जिनमें निर्मल जल,इन्द्रधनुष ने रूप दिखाया।श्वेत-श्याम घन बहुत निराले...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
71

उसके बग़ैर कितने ज़माने गुज़र गए...

कुछ ख़्वाब इस तरह से जहां में बिखर गएअहसास जिस क़द्र थे वो सारे ही मर गएजीना मुहाल था जिसे देखे बिना कभीउसके बग़ैर कितने ज़माने गुज़र गएमाज़ी किताब है या अरस्तु का फ़लसफ़ाऔराक़ जो पलटे तो कई प...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
kuldeep thakur
कविता मंच।
44

दादाजी ने मना किया है

 सारंग उपाध्याय  की क़लम से वह पहली बार आई थी, वह भी सुबह-सुबह, लेकिन इतनी जोर से दरवाजा खटखटा रही थी, मानों उसकी जान पर आ बनी हो। मुझे बेहद गुस्सा आ रहा था, एक तो अकेला था, ऊपर से बाथरूम में था, वही...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Shahroz
Hamzabaan हमज़बान ھمز با ن
56

मोदी परिघटना: भारतीय प्रजातंत्र पर हमला

आरएसएस-भाजपा द्वारा उन्हें प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित किए जाने की आशा में, नरेन्द्र मोदी इन दिनों (अगस्त 2013) प्रिंट इलेक्ट्रानिक व सोशल मीडिया पर छा जाने की कोशिश कर रहे हैं। और इसके ल...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
loksangharsha
लो क सं घ र्ष !
44

कुछ घरेलू उपचार

janki.oli@gmail.comदांतों की मजबूती के लिये १- यदि मल-मूत्र त्याग के समय रोजाना उपर-नीचे के दांत को भींचकर बैठा जाये तो दांत जीवन नहीं हिलते। इससे दांत मजबूत होते है और जल्दी नहीं गिरते। लकवा मारने का डर...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
janki oli
Sunder Sapna
90


Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन