अपना ब्लॉग जोड़ें

अपने ब्लॉग को  जोड़ने के लिये नीचे दिए हुए टेक्स्ट बॉक्स में अपने ब्लॉग का पता भरें!
आप नए उपयोगकर्ता हैं?
अब सदस्य बनें
सदस्य बनें
क्या आप नया ब्लॉग बनाना चाहते हैं?
नवीनतम सदस्य

नई हलचल

प्रेम की राह

कभी कभी जीतना ज्यादा जरुरी नही होता है ... जीना भी आना चाहिए ; और अक्सर प्रेम की राह पर जीते हुए हारा जाता है . हां ! सच्ची ! तुम्हारी कसम !!!...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
vijay kumar sappatti
बस यूँ ही..........WRITINGS OF SILENCE......
82

अकल के परदे पीछे कर दे

मारीशस की  धरती पर डोडो नामक बड़े पक्षी की प्रजाति निवास करती थी।  तीन फीट लम्बे 10 से 18 किग्रा के ये पक्षी बहुत भले थे और इंसानों के बहुत करीब आने की और करीब ही रहने की चाहत रखते थे।  दोस्तान...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
mamta vyas
मनवा
94

Golden rules for f***ing...

6 वर्ष पूर्व
Vivek Rastogi
चुटकुले और हंसगुल्ले (कुछ हल्के-फुल्के पल...)
83

हादसे जो राह में मिलते रहे ...

फूल बन के उम्र भर खिलते रहे माँ की छाया में जो हम पलते रहे बुझ गई जो रौशनी घर की कभी   हौंसले माँ के सदा जलते रहे यूं ही सीखोगे हुनर चलने का तुम बचपने में पांव जो छिलते रहे साथ में चलती...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
दिगंबर नासवा
23

दिव्या दीदी सबकी प्यारी थीं

-सौम्या अपराजिता देहरादून की हसीन वादियों में पली-बढ़ी कायनात अरोड़ा ने मॉडलिंग की राहों पर चलते हुए हिंदी फिल्मों का सफ़र तय कर लिया है। बतौर अभिनेत्री उनकी पहली फिल्म इंद्र कुमार निर्देशित 'ग...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Somya
सौम्य वचन
198

रक्षा बंधन की हार्दिक बधाइयाँ

रक्षा बंधन  एक ऐसा पवित्र पर्व है, जो धर्म और वर्ग के भेद से हटकर भाई-बहन के स्नेह की अटूट डोर का प्रतीक है। बहन द्वारा भाई को राखी बांधने से दोनों के मध्य विश्वास और प्रेम का जो रिश्ता बनता ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Rajendra kumar
भूली-बिसरी यादें
199

ये दुनिया

ये पैसों की दुनिया ये काँटों की दुनियायारों ये दुनिया जालिम बहुत हैअरमानो की माला मैनें जब भी पिरोईहमको ये दुनिया तो माला पिरोने नहीं देती..ये गैरों की दुनियां ये काँटों की दुनिया दौलत के&...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Madan mohan saxena
मदन मोहन सक्सेना की रचनाएँ
113

ग़ज़ल( ये कल की बात है )

उनको तो हमसे प्यार है ये कल की बात है कायम ये ऐतबार था ये कल की बात है जब से मिली नज़र तो चलता नहीं है बस मुझे दिल पर अख्तियार था ये कल की बात है अब फूल भी खिलने लगा है निगाहों में काँटों से ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Madan mohan saxena
मदन मोहन सक्सेना की ग़ज़लें
54

ये कल की बात है

उनको तो हमसे प्यार है ये कल की बात है कायम ये ऐतबार था ये कल की बात है जब से मिली नज़र तो चलता नहीं है बस मुझे दिल पर अख्तियार था ये कल की बात है अब फूल भी खिलने लगा है निगाहों में काँटों से ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
36

रक्षा बंधन कि हार्दिक शुभकामनाएं..सुगना फाउंडेशन-मेघलासिया

 सुगना फाउंडेशन-मेघलासिया परिवार की और से सभी भाई और बहनों को रक्षा बंधन कि हार्दिक शुभकामनाएं..रक्षा बंधन का पर्व एक ऎसा पर्व है, जो धर्म और वर्ग के भेद से परे भाई - बहन के स्नेह की अट्टू डोर का...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
  Sawai Singh Rajpurohit
311

सुगना फाउंडेशन-मेघलासिया परिवार की और से रक्षा बंधन कि हार्दिक शुभकामनाएं.

 सुगना फाउंडेशन-मेघलासिया परिवार की और से सभी भाई और बहनों को रक्षा बंधन कि हार्दिक शुभकामनाएं..रक्षा बंधन का पर्व एक ऎसा पर्व है, जो धर्म और वर्ग के भेद से परे भाई - बहन के स्नेह की अट्टू डोर का...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
  Sawai Singh Rajpurohit
237

सभी भाई और बहनों को रक्षा बंधन कि हार्दिक शुभकामनाएं..सुगना फाउंडेशन

 एक ब्लॉग सबका  की पूरी टीम की और सुगना फाउंडेशन-मेघलासिया परिवार की और से सभी भाई और बहनों को रक्षा बंधन कि हार्दिक शुभकामनाएं..रक्षा बंधन का पर्व एक ऎसा पर्व है, जो धर्म और वर्ग के भेद से पर...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
  Sawai Singh Rajpurohit
एक ब्लॉग सबका
443

ग़ज़ल (ये कल की बात है)

उनको तो हमसे प्यार है ये कल की बात है कायम ये ऐतबार था ये कल की बात है जब से मिली नज़र तो चलता नहीं है बस मुझे दिल पर अख्तियार था ये कल की बात है अब फूल भी खिलने लगा है निगाहों में काँटों से ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Madan mohan saxena
ग़ज़ल गंगा
60
कुछ पुरानी यादें... (कविताएं, गीत, भजन, प्रार्थनाएं, श्लोक, अनूदित रचनाएं)
363

IMAGINE ....!!!

My Dear Soul ; Namaste ! Today I am in different mood. This is a mixed mood ! In fact yesterday Night I was thinking a world without war,crime, and all other bad things ! I was imagining a world full of humanity .I was also thinking when I started Hrudayam commune with a dream in eyes. I think today it is more than 5 years , I am living with Hrudayam ! Many thoughts were shared , lived and they made an impact on many lives who are associated with Hrudayam. And I mean that my posts , my views , ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
vijay kumar sappatti
THE MUSIC OF MY LIFE : मेरे जीवन का संगीत
98

IMAGINE !!!

My Dear Soul ; Namaste ! Today I am in different mood. This is a mixed mood !  In fact yesterday Night I was thinking a world without war,crime, and all other bad things ! I was imagining a world full of humanity .I was also thinking when I started Hrudayam commune with a dream in eyes. I think today it is more than 5 years , I am living with Hrudayam ! Many thoughts were shared , lived and they made an impact on many lives who are associated with Hrudayam. And I mean that my posts , my vie...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
vijay kumar sappatti
HRUDAYAM :: ह्रदयम
111

कौन हो तुम जन गण मन के अधिनायक ?

कौन हो तुम ?जन गण मन के अधिनायक.कहाँ रहते हो ?मैं तुम्हारी जय कहना चाहता हूँ. बरसों से हूँ मैं तुम्हारी खोज में, तुम शून्य हो या हो सर्वव्यापी, ईश्वर की तरह .कौन हो तुम ?तुम भारत भूमि तो नहीं ,भारत तो...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
KAVYASUDHA (काव्य सुधा)
KAVYA SUDHA (काव्य सुधा)
47

कह गरीब के साथ, हाथ नित बम्बू ठोके-

 (1)रोके से ना रोकड़ा, ले रुकने का नाम । रुपिया रूप कुरूप हो, मचा रहा कुहराम । मचा रहा कुहराम, हुआ अब राम भरोसे । मँहगाई की मार, गरीबी जीवन कोसे । कह गरीब के साथ, हाथ नित बम्बू ठोके । डालर हँस...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
रविकर
"कुछ कहना है"
52

रक्षाबंधन के इस पावन पर्व पर आप सभी भाईयों एवम बहनो को हार्दिक शुभ कामनाएँ ..!

हम भले ही दूर रहें तुमसे कितना,पर हमारा प्यार कभी न भूलना !कामयाबी तुम्हारे कदम चूमे,तुम्हें ज़िन्दगी में सारी खुशियाँ मिले !भाई बहन का प्यार यूँ ही बरक़रार रहे,हर साल ये प्यार यूँ बढ़ता ही चले ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Kshitij Tiwari (Lucky)
क्षितिज तिवारी (Lucky) सत्य का साथ देने वाला ...
68

"अयोध्या में संतो की ८४ कोसी परिक्रमा पर मुल्ला मुलायम सरकार ने लगाई रोक.

"अयोध्या में संतो की ८४ कोसी परिक्रमा पर मुल्ला मुलायम सरकार ने लगाई रोक.........मुल्ला मुलायम के तुगलकी फरमान के बाद अयोध्या मे धारा १४४ लागू, मुल्ला सरकार ने कहा इससे सम्प्रदायिकता फैलती है।"भगव...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Kshitij Tiwari (Lucky)
क्षितिज तिवारी (Lucky) सत्य का साथ देने वाला ...
59

पाक की 5 चौकियां नष्ट,

पाक की 5 चौकियां नष्ट,भारतीय सेना ने पुंछ के बीजी सेक्टर में पाकिस्तान की पांच पोस्ट तबाह कर दी है।ज़िंदा बोलती तस्वीर केसे हमारे जवानो ने फोड़ डाले पाकिस्तानी के पांच बंकर,है न धमाकेदार ???...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Kshitij Tiwari (Lucky)
क्षितिज तिवारी (Lucky) सत्य का साथ देने वाला ...
61

"भाई बहन का प्यार" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

भाई-बहन के प्रेम का, राखी का त्यौहार।कच्चे धागों में बँधा, रिश्तों का संसार।‍१।--सबसे पावन जगत में, भाई बहन का प्यार।बहनें देती भाई को, राखी का उपहार।२।--बहनें करती भाई से, रक्षा की मनुहार।रक्...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
55

बी रिलैक्स

एक कविता अपने कुछ विशेष दोस्तों के नाम । दफ्तर अपना खोल के रिलैक्स हुए सब जाएँ रख कंपनी दा नाम ये बैठ स्वयं इतरायेंकुर्सी बड़ी बस एक हैजो दांव लगे सो बैठबाक़ी जो रह जाएँ हैहो जाएँ सा...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
तुषार राज रस्तोगी
तमाशा-ए-जिंदगी
65

राखी मंगल कामना: चर्चा मंच 1343

"जय माता दी" अरुन की ओर से आप सबको सादर प्रणाम. चलते हैं आप सभी के चुने हुए प्यारे लिंक्स पर.राखी मंगल कामनाप्रस्तुतकर्ता : ज्योत्स्ना शर्मा बंद लिफ़ाफ़े में फिर तेरी राखी आय...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
41

हँस हँस कंत न पाया ,जिन पाया तिन रोय , हंसि खेले पिया बिन ,कौन सुहागन होय।

कबीर दोहावली भावार्थ सहित (पहली खेप )(१)भला हुआ मेरी मटकी फूट  गई ,     मैं पनिया भरन ते  छूट गई। (२ )बुरा जो देखन मैं चला ,बुरा न मिलिया कोय ,      जो दिल  खोजा आपुनो ,तो मुझसा बुरा न ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
100

वर्षा-बूँदों की . . . . . . . . .

वर्षा-बूँदों   की  ये  लोरी पावस रातों की ये छोरीतन्हाँ-तन्हाँ  कोरी-कोरीमेरे मन आँगन बरस-बरस,क्यूँ छेड़ रही श्यामल गोरीवर्षा-बूँदों    की   ये  लोरीहै रात  समंदर  का  आँचलजाय...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Vikram singh
vikram7
27

रक्षा बंधन : वक्‍त मिले तो सोचिएगा

रक्षा बंधन। रक्षा का वचन। हिन्दू श्रावण मास (जुलाई-अगस्त) के पूर्णिमा के दिन मनाया जाने वाला यह त्योहार भाई का बहन के प्रति प्यार का प्रतीक है। इस दिन बहन अपने भाई की कलाई पर एक धागा बांधती है। ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Kulwant Happy
Fast Growing Hindi's Website
150

अब पोते को पालती... कहानी...डा श्याम गुप्त ...

अब पोते को पालती...   कहानी         “अब पोते को पालती, पहले पाली पूत” ...वाह! क्या सच्चाई बयान करती कविता है |’ सत्यप्रकाश जी कविता पढकर भाव-विभोर होते कहने लगे, ’आजकल यही तो होरहा है, बच्...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
45

श्याम स्मृति-२१ .......ईश्वर की आवश्यकता ......डा श्याम गुप्त ....

श्यामस्मृति-२१.......ईश्वरकीआवश्यकता..          आखिरहमेंउसईश्वरकीआवश्यकताहीक्याहैजोअतनीसुन्दरदुनियायासमाजकोत्यागकरमिले| ईश्वरकीआवश्यकताउन्हेंहैजोईश्वरकेअभावमेंदुखीहैं| य...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
43

आइये जानते है विंडोज़ XP के कुछ विकल्प

 अप्रैल 2014 के बाद से माइक्रोसॉफ्ट अपने सफल ऑपरेटिंग सिस्टम विंडोज़ XP को अलविदा कह देगा। बेहतर होगा कि आप एक्सपी के विकल्पों के बारे में सोचें। ऑप्शन से पहले तय करें यूज़ऐसे में आपके पास सिर्फ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
manojjaiswalpbt
मजेदार दुनियाँ
167


Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन