अपना ब्लॉग जोड़ें

अपने ब्लॉग को  जोड़ने के लिये नीचे दिए हुए टेक्स्ट बॉक्स में अपने ब्लॉग का पता भरें!
आप नए उपयोगकर्ता हैं?
अब सदस्य बनें
सदस्य बनें
क्या आप नया ब्लॉग बनाना चाहते हैं?
हमारे विषय
नवीनतम सदस्य

नई हलचल

मायावती के करीबी पोंटी चड्ढा के मॉल से मिले 200 करोड़

मनोज जैसवाल : नई दिल्ली। शराब और रियल एस्टेट के मशहूर कारोबारी पोंटी चड्ढा के नोएडा स्थित मॉल से आयकर विभाग की टीम ने बुधवार को छापेमारी के दौरान दो सौ करोड़ रुपये बरामद किया है। पोंटी चड्ढा क...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
manojjaiswalpbt
मजेदार दुनियाँ
112

महीना फरवरी का : वक़्त है पोपुलर प्रेम का !!!!

                       समझ नहीं आ रहा है की शुरुआत कहाँ से करूँ ? ...विषय ही इतना पोपुलर है की समझ पाना सच में मुश्किल  है की   लिखूं  क्या और क्या  नहीं ? ताकि अपने ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Dolly Bansiwar
चर्चित विषय
84

जनकवि हूँ मैं क्यों चाटूँ थूक तुम्हारी.. नागार्जुन

जनता मुझसे पूछ रही है, क्या बतलाऊँजनकवि हूँ सच कहूँगा, क्यों हकलाऊँ,जनकवि हूँ मैं क्यों चाटूँ थूक तुम्हारीश्रमिकों पर क्यों चलने दूँ बंदूक तुम्हारी                   &n...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
- अरविन्द श्रीवास्तव
74

पेड़ न्यूज़ : पुराना खेल, नयी चाल

आशीष कुमार ‘अंशु’ की कलम से अधिक दिन नहीं हुए, जब दिल्ली के एक राष्ट्रीय अखबार के एमडी पत्रकारों को संबोधित करते हुए कह रहे थे कि इस बार चुनाव में पेड न्यूज ना छापने के संकल्प की वजह से कंपनी को...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Shahroz
Hamzabaan हमज़बान ھمز با ن
77

Shiva..the creator

Shiva...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
parul chandra
29

Ganesha..

Abstract Ganesha...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
parul chandra
29

गरीबी में लाचार बचपन

गरीबी बचपना आने ही नहीं देती है, बच्चे अपने परिवार का भार उठाने की मज़बूरी में बचपन में ही जवान हो जाते हैं और जवानी से पहले बूढ़े. हालाँकि ध्यान से देखो तो वह बच्चे भी अपने ही लगते हैं, उनमें भी अप...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Shah Nawaz
28

महाशतक से पहिले महाप्रलय आ गया किरकेट टीम पर

भारतीय क्रिकेट टीम आखिरकार कंगारूओं के देश में कूद कूद के चलना तो दूर चारो खाने चित्त हो गई वो भी इत्ती चित्त कि देश की सेंटी जनता सेंटीमेंटल होकर अपनी उस टीम का जलूस निकालने में लग गई जिस टीम क...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
अजय कुमार झा
झा जी कहिन
219

गर जलवा नुमायाँ न होती

कहते हैं कि जलवा तो दिखाने की चीज है. अगर दिखाई न जाये तो जलवे फिर कहाँ जलवे रह जाते हैं.जलवे भी कई तरह के होते हैं.नेताओं के,नए नवेले मंत्रियों के,रईस धन-कुबेरों के,अफसरों के,हसीनाओं के,वगैरह-वगै...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
राजीव कुमार झा
49

स्वातंत्र्यावरच “घाला”

स्वातंत्र्यावरच “घाला”केदार व्ही भोपे.On Daily Deshdoot ( 26th January 2012)kedarsmoto@gmail.comमो. ८०५५३७३७१८ इंटरनेट माहितीच्या या महाजालाने अवघे जग अगदी काही सेकंदाच्या अंतरावर आणून ठेवले आहे. या आभासी महाजालाने संवादा...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Kedar bhope
केदार भोपे
52

जीवन जीने की कला ......!!!!

प्रिय मित्रों ;नमस्कार जीवन जीना भी एक कला है . अगर हम इस जीवन को अपनी किसी ARTWORK की तरह जिए तो  बहुत सुन्दर जीवन जिया जा सकता है . जीवन एक स्वपन है . एक यात्रा है . एक निरंतर कोशिश है. एक पाने-खोने-पान...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
vijay kumar sappatti
THE INNER JOURNEY ::: अंतर्यात्रा
82

सरकार तुपाशी विद्यार्थी मात्र उपाशी ते उपाशीच !!

सरकार तुपाशी विद्यार्थी मात्र उपाशी ते उपाशीच !!केदार व्ही भोपे.kedarsmoto@gmail.comमो. ८०५५३७३७१८        विद्यार्थ्यांच्या बाबतीत सतत गळचेपी धोरण अवलंबणाऱ्या केंद्र व राज्य सरकारने नुकतेच काह...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Kedar bhope
केदार भोपे
50

सतियानासी मोबाइलवा

उस दिन एक ठो सहकर्मी दोस कहे कि चलिए एक ठो नयका मॉडल का मोबाइल दिलवाइए , हम कहे कि तो ई में हमको काहे ले जा रहे हैं महाराज , हम तो टेक्नीकली एतना स्ट्रॉंग हैं कि कै मर्तबे तो अपना मोबाइल का मॉडल का ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
अजय कुमार झा
झा जी कहिन
83
बचपन के रंग
58

"चुनाव लड़ना आम आदमी के बस की बात है" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

चुनाव लड़ना क्या आम आदमी के बस की बात है?मेरे विचार से तो बिल्कुल नहीं!    क्योंकि वार्ड मेम्बर से लेकर विधानसभा और लोकसभा तक के चुनाव में धन का जिस प्रकार से खुला खेल होता है उसे दुनिया के...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
115

ई चुनावी माया महाठगनी हम जानी

आज चौबे जी की चौपाल लगी है बरहम बाबा के चबूतरा पर । चुनावी हलचलों से भरा-पूरा है चौपाल । खुसुर-फुसुर के बीच चौबे जी ने कहा कि "जब से बजा है चुनावी बाजा,हर केहू इहे गावत हैं- वोटर राज...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Ravindra Prabhat
चौबे जी की चौपाल
85

कला यात्रा

आज कल यहाँ हमारे शहर बोलोनिया (Bologna, Italy) में अंतर्राष्ट्रीय कला मेला चल रहा है जिसमें शहर भर में पचासों कला प्रदर्शनियाँ लगी हैं. मेरी दृष्टि में कला का ध्येय केवल आँखों को अच्छा लगना ही नहीं है ब...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
SUNIL DEEPAK
जो न कह सके
305

Generic Host Process for Win32 Services Error fixed

This error is mostly encountered with Windows XP. Generic Host Process Error causes certain applications like Internet Explorer crash, this is really annoying when some important application crashes.How to fix :Solution 1 : Go to Run and type regeditNavigate to HKEY_LOCAL_MACHINE\System\CurrentControlSet\Services\Browser\ParametersFind the key IsDomainMaster (See picture below)Set its value to FalseRestart the computerSolution 2 :Go to Run and type regeditNavigate to HKEY_LOCAL_MACHINE\SOFTWARE...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Faizan Ansari
Techcare Online
181

राहुल ने दिखाया विकास का सपना

फ़िरदौस ख़ानकांग्रेस के युवराज राहुल गांधी उत्तर प्रदेश में चुनाव प्रचार की बागडोर संभाले हुए हैं. अपनी जनसभाओं में वह जिस तरह सांप्रदायिकता, जातिवाद, भ्रष्टाचार और अपराध को लेकर भारतीय जन...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Firdaus Khan
मेरी डायरी
57
103

पन्द्रह फरबरी को इटावा में जनसभा करेगी अन्ना टीम

इटावा- राजनैतिक दल अहंकारी हो गये है, शीतकालीन सत्र के दौरान जनलोकपाल पर सभी राजनैतिक दलों ने फुटवाल खेली, किसी ने जोर से किक मारी और किसी ने धीरे से! यह बात अन्ना टीम के सदस्य और आई.ए.सी के प्रदे...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Acharya Devesh  awasthi (Devesh Shastri)
91

‘शीतल वाणी’ ने दिया एक करामाती कमाण्डर को सेल्यूट !

यह डा. वीरेन्द्र ‘आज़म’ और उनके टीम की इच्छा शक्ति, संकल्प और समर्पण का ही परिणाम रहा कि ‘शीतल वाणी’ का ’कमला प्रसाद स्मृति अंक’ सामने आ सका। यह अंक उस महान शख्सि़यत को समर्पित है जिनके योगदान ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
- अरविन्द श्रीवास्तव
97

यादों की पगडँडियाँ

इंटरनेट के माध्यम से भूले बिसरे बचपन के मित्र फ़िर से मिलने लगे हैं.  किसी किसी से तो तीस चालिस सालों के बाद सम्पर्क हुआ है.उनसे मिलो तो कुछ अजीब सा लगता है. बचपन के साथी कुछ जाने पहचाने से पर सा...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
SUNIL DEEPAK
जो न कह सके
200

सुख और दुःख

मेरे प्रिय ह्रदयम मित्रो :सुबह की शुद्ध सुर्यकिरनो  के साथ आपका ह्रदयम पर स्वागत करता हूँ.पिछले दिनों मुझे एक मित्र ने पुछा ," स्वामी जी , इस जगत में अच्छे लोगो को ही दुःख ज्यादा क्यों होते है ? ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
vijay kumar sappatti
THE INNER JOURNEY ::: अंतर्यात्रा
66

चर्चा मंच

ईश्वरने मनुष्य को सबसे बड़ा उपहार दिया  वह है हँसी. अन्य प्राणियों को यहवरदान नहीं मिल पाया फिर क्यों न इस हँसी से ही दिन की शुरुवात की जाये.हँसना जरा मुश्किल काम तो है मगर उससे भी मुश्किल काम ह...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
वैकल्पिक चर्चा मंच
74

विजय शर्मा को पदमश्री

हिमाचल को पेंटिंग्स में पदमश्री अवार्ड से नवाजा गया है और यह पुरस्कार चंबा के विख्यात चित्रकार 50 वर्षीय भाषा अधिकारी विजय शर्मा को मिला है। श्री शर्मा जो कि भूरि सिंह संग्रहालय में कार्य...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
रौशन जसवाल विक्षिप्‍त
94

हम अपने हृदय में झांके

मेरे प्रिय हृदयम मित्रों ;सांध्य नमस्कार !ये अक्सर होता है कि , हम सारे संसार में बहुत कुछ ढूंढते है , दूसरों को बारे में सोच- सोच कर निर्णय लेते है . ये भी , हम सोचते है कि , हम सब कुछ जानते है .. लेकिन ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
vijay kumar sappatti
THE INNER JOURNEY ::: अंतर्यात्रा
63

हौसला तो कर फिर देख,जिंदगी कैसे रुख बदलती है....(कुँवर जी)

राम राम जी... आज एक और गणतंत्र दिवस आया....  कल से ही देशभग्ति वाले सन्देश मोबाइल पर आने आरम्भ हो गए थे.....आज पूरा दिन जारी रहे..... चाहे वो सन्देश कैसी भी भावना अथवा अभावना से प्रेषित कए जाते हो पर ये भ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
hardeep rana
kunwarji's
71

गणतंत्र - पर शर्ते लागू है !

सोने सा भारत वसुंधरा का छटा भाग मानव समेटे दरकने लगा है इसकी दर्जो से झांकने लगे है दोमुही नैतिकता नव वर्गवाद और अन्धविकास के विध्वंस विश्वप्रज्ञा का ज्योतिशिखर घिरा ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
तरुण
Tarun's Diary-"तरुण की डायरी से .कुछ पन्ने.."
27


Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन