अपना ब्लॉग जोड़ें

अपने ब्लॉग को  जोड़ने के लिये नीचे दिए हुए टेक्स्ट बॉक्स में अपने ब्लॉग का पता भरें!
आप नए उपयोगकर्ता हैं?
अब सदस्य बनें
सदस्य बनें
क्या आप नया ब्लॉग बनाना चाहते हैं?
नवीनतम सदस्य

नई हलचल

बाँदा : परंपरा और नवीनता का एक शहर

   बाँदा : परंपरा और नवीनता का एक शहर               बुंदेला शासकों से पहले उस शहर की हैसियत एक गुमनाम गाँव से ज्यादा नहीं थी। आज वह शहर बुंदेलखंड के एक मंडल का मुख्यालय है। म...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
Dr. Rahul Mishra
कही-अनकही-बतकही
172

मेरी टिप्पणियां और लिंक-2

आज अपने गिरेबान में झांक कर देखें- अज़ीज़ बर्नीखरी-खरी बातें कहीं, जज्बे को आदाब |स्वार्थी तत्वों को सदा, देते रहो जवाब ||बड़ी कठिन यह राह है,  संभल के चलिए राह |अपने  ही  दुश्मन  बने,  पचती  ...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
रविकर
श्री राम की सहोदरी : भगवती शांता
108

बुजुर्गियत और प्रताड़ना एक गंभीर मुद्दा !

मनोज जैसवाल : एक नइ पोस्ट के साथ सभी लोगो को मेरा प्यार भरा नमस्कार. मेरी पिछली पोस्ट को पसंद करने के लिए आप सभी को धन्यबाद।आखिर बुजुर्ग लोग कहा जाये वृद्ध और अशक्त हो चले लोगों की प्रताड़ना और ...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
manojjaiswalpbt
मजेदार दुनियाँ
96

शिव हरे

ब्रह्ममुरारिसुरार्चितलिगंनिर्मलभाषितशोभितलिंग |जन्मजदुःखविनाशकलिंगतत्प्रणमामिसदाशिवलिंगं॥१मैंउनसदाशिवलिंगकोप्रणामकरताहूँजिनकीब्रह्मा, विष्णुएवंदेवताओंद्वाराअर्चनाकीजातिह...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
Ashish
कानपुर पत्रिका
67

जन - बातों को समग्रता से समेटने की सार्थक पहल है ‘प्रसंग’ का संस्मरण अंक

‘प्रसंग’ के इस अंक में प्रतिष्ठित लेखकों ने विभिन्न तरह की स्मृतियों को रचनात्मक वाणी दी है। शताब्दी पूरा करने वाले अपने दिवंगत महान रचनाकारों  में राधाकृष्ण, उपन्द्रनाथ अश्क, शमशेर, नागा...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
- अरविन्द श्रीवास्तव
94

क्या हिंदी ब्लॉगजगत इतना महत्वपूर्ण है ?

पुस्तकें तो बहुत पढ़ी होगी आपने, किन्तु कुछ पुस्तकें ऐसी होती है जो इतिहास के पन्नों पर अपनी अमिट छाप छोड़ जाती है . ऐसे ही दो पुस्तकों से हमें रूबरू करा रहे हैं मशहूर पत्रकार फज़ल इमाम मल्लिक औ...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
Manoj Pandey
मंगलायतन
73

"दादी जी के जन्मदिवस को, साथ हर्ष के आज मनाएँ"

हम बच्चों के जन्मदिवस को,धूम-धाम से आप मनातीं।रंग-बिरंगे गुब्बारों से,पूरे घर को आप सजातीं।।आज मिला हमको अवसर ये,हम भी तो कुछ कर दिखलाएँ।दादी जी के जन्मदिवस को,साथ हर्ष के आज मनाएँ।।अपने नन्ह...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
63

"दादी जियो हजारों साल" (प्रांजल-प्राची)

 हम बच्चों के जन्मदिवस को,धूम-धाम से आप मनातीं।रंग-बिरंगे गुब्बारों से,पूरे घर को आप सजातीं।।आज मिला हमको अवसर ये,हम भी तो कुछ कर दिखलाएँ।दादी जी के जन्मदिवस को,साथ हर्ष के आज मनाएँ।।अपने नन...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
66

कसूर

क्या कसूर था मेरा ,क्योँ लुट गई मेरी अस्मत ?चढ गई भेँट भीड़ की मैँपैदा होना क्या गुनाह था ।तबसे लेकर आज तकएक दर्द सिने मेँ छुपायेदूनिया से नजर बचायेचल रही अकेली - सुनसान मेँ ,भीड़ - भाड़ वाली सड़को पर ...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
sidharth sarthi
सारथी...
81

बदलाव

क्योँ जुड़ जाती है जिँदगी ? किसी के मुस्कान से इस तरह ,कि लगने लगती है हर चीज ,बेजान उस मुस्कान के बगैर ।क्योँ उसे गौर नहीँ करने पर भी ?अपनी हजार खुशियाँ न्यौछावर है ,उसकी एक हँसी के लिए ।क्या हो जात...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
sidharth sarthi
सारथी...
82

बदलाव

7 वर्ष पूर्व
sidharth sarthi
सारथी...
66

धरती का सत्यानाश डरपोक लोगोँ ने किया

सुन के अजीब लगा न? है ही अजीब,मगर समझना इतना मुश्किल नहीँ। दुनिया में प्रकृति का वो कौन सा नियम है जिसने इंसान को इतना दिमाग दिया और एक ऐसी शारीरिक सँरचना दी जो इतनी बेहतरीन है? डार्विन का योग्य...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
vivek mishra
28
कुछ पुरानी यादें... (कविताएं, गीत, भजन, प्रार्थनाएं, श्लोक, अनूदित रचनाएं)
268

हिंदी अपनी 'हिंदी'

    हिंदी भाषा जो के हमारी एक धरोहर है किन्तु आज  किसी कारणवश आज वह हमारी संस्कृति नदारद सी होती जा रही है.....हिंदी को महात्मा गाँधी तथा अन्य लोगो के प्रयासों के जरिये 1950  में राष्ट्रीय भा...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
Dolly Bansiwar
चर्चित विषय
86

Indo-US Science and Technology Forum recruitment for Indo-US Research Fellowship september 2011

Organization Name : Indo-US Science and Technology Forum Job Position : Indo-US Research Fellowship Pay Scale : Rs.$3000 per month./-PM Eligibility : M Phil , PhD Job Location : Delhi Last Date : 31-11-2011 Jobs Details :- Science and Engineering Research Council (SERC) of Department of Science and Technology, Govt. of India 1-Post Name : Indo-US Research Fellowship * Qualifications : - Academic Qualifications :Ph.D. in Science, Engineering, Technology or Medicine,Applicants must provide pro...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
shobharam
Student Yuva
64
मेरी बात तेरी बात...
68

Indian Rare Earths Ltd (IREL) recruitment for manager september 2011

Indian Rare Earths Ltd (IREL) (A Govt. of India Undertaking – Dept. of Atomic Energy) Plot No.1207, Veer Savarkar Marg, Prabhadevi, Mumbai - 400028  Applications are invited from Indian nationals for the following posts on regular basis : Chief General Manager (HRM) : 01 post Dy. General Manager (HRM)  : 01 post Dy. Manager (HRM)/  Sr. Officer (HRM) : 14 posts Dy. Manager (Finance)/ Sr. Officer (Finance) : 08 posts Dy. General Manager (Materials) : 01 post Sr. Manager (Materials) : 04 post...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
shobharam
Student Yuva
61

सावधान : कहीं ये फलाहार मिलावटी तो नहीं है!

मनोज जैसवाल : नवरात्र शुरू हो रहे हैं। जनता व्रत और पूजा पाठ के जरिए मां की ‌भक्ति कर रही है। नौ दिन तक व्रत रखने वाले व्रती इन दिनों फलाहार करते हैं जिसमें कुट्टू का आटा, सामक चावल,सिंघाड़े का आ...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
manojjaiswalpbt
मजेदार दुनियाँ
105

अरमान जलाने को न बचा

“रोने के बहाने न बचे कोई,अरमान कोई जलाने को न बचा।“रंग-ए-हयात थी ऐसी अब,कुछ समझाने को न बचा।“मुस्कुराहट वो ऐसी थी कि,सवाल दिल में न बचे कोई।“पुराना सा लगता है सब,कुछ भी जी बहलाने को न बचा।“गम की आ...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
vivek mishra
33

Rajasthan Public Service Commission (RPSC) recruitment for LDC september 2011

Rajasthan Public Service Commission (RPSC) Ajmer Combined Lower Division Clerk  (LDC) Competition Examination 2011 RPSC invites Online application for the posts of LDC for Secretariat of  Rajasthan Government and in RPSC Office  : Lower Division Clerk (LDC) : 25 31 posts in RPSC Lower Division Clerk (LDC)  : 325 1366 posts in Government Secretariat/ Departments Age : 18-35 years as on 01/01/2012 & 01/04/2012 for secretariat Pay Scale : Rs.5200-2022 grade pay Rs.1900/- Application Fee...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
shobharam
Student Yuva
58

स्ट्रगल फॉर एग्जिस्टेन्स : हिंदी कविता

(Struggle for Existence **)हथेलियों का अपमानमेरे गालों परअब नहीं जड़ता, न हीं अवसादों का कीचड मेरे वस्त्र को गंदा करता है. तिरस्कार की चटनी से मेरी थाल सज जाती है, मुट्ठी भर घृणा से मेरा पेट भर जाता है. अपशब्दों ...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
AJANTA SHARMA
अजन्ता शर्मा
58

वो एहसास...

पहले हम दोस्त बने,और फिरकुछ दिन बाद,हमारी दोस्ती...दोस्ती से भी बढ़ कर हो गई...वो एहसास...न तो दोस्ती थीऔर न ही प्यार था...वो जो कुछ भी थाशायद हमारी किस्मत को नागवार था...के अब दरमियाँ हमारे,न तो दोस्ती ...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
Mahesh Barmate
माही....
75
अर्पित ‘सुमन’
199

नेताजी निष्कलंक और पवित्र,

नेताजी निष्कलंक और पवित्र,गांधीजी लांछनों से परिपूर्ण और विचित्र।...... नेताजी निर्मल हृदय और उदार,गांधीजी ईर्ष्यालु और अनुदार।नेताजी निर्भय और निर्भीक,गांधीजी कायरता प्रतीक।नेताजी ने गांध...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
SANSKRITJAGAT
महाकवि वचन-MAHAKAVI VACHAN
94

हमारी दो आँखेँ

आज मुझे अपनी एक परेशानी की वजह समझ में आ गयी. वैसे ऐसी परेशानी को सुलझाने में विरले ही पड्ते हैं. आखिर हम अपने अंदर की बुराईयोँ को क्योँ नहीँ देख पाते? क्यूँकी हमारी बस दो ही आँखेँ होती हैँ और वो ...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
vivek mishra
36

स्नेह राजपुरोहित को जन्मदिन की ढेर सारी शुभकामनायें...

आज तो मेरा हैप्पी बड्डे है   आज मेरी दो भतीजीयो का जन्मदिन है सबसे पहले सोनू और स्नेह राजपुरोहित को जन्मदिन की ढेर सारी शुभकामनायें...   हम आपके जनमदिन पर देते हैं यह दुआदुआ है की कामयाबी ...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
  Sawai Singh Rajpurohit
440

बुंदेलखंड के सोमनाथ

बुंदेलखंड के सोमनाथ :  खंडहर में बसा इतिहास पुराने समय में शिवभक्त राजा, शासक या धर्मभीरु लोग अपने नाम के साथ ‘नाथ’  या ‘ईश्वर’ जोडकर शिवमंदिर का निर्माण कराया करते थे, किंतु सोमनाथ का ना...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
Dr. Rahul Mishra
कही-अनकही-बतकही
133

कही-अनकही-बतकही: सोमनाथ मंदिर : अतीत कीयात्रा का सुंदर, रोचक, दुखद...

कही-अनकही-बतकही:सोमनाथ मंदिर : अतीत कीयात्रा का सुंदर, रोचक, दुखद...: सोमनाथ मंदिर : अतीत की यात्रा का सुंदर, रोचक, दुखद प्रसंग य ह बात तेरह दिसंबर, 201 0 की है। मैं अपने अभिन्न मित्र राकेश कुमार गौतम...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
Dr. Rahul Mishra
कही-अनकही-बतकही
56

'इक खलिश' का ही हमराह बन कर, रह जाएगा अब तू...

"कौन है तेरा वहां, किस के पास जायेगा अब तू, 'कौन पहचानेगा तुझे, बस्ती में जो जाएगा अब तू....' 'वो तो बनते है तेरे सामने, तजाहुल-पेशगी*, 'बाद ए मौत ही उसका साथ, पायेगा अब तू...'सुराब* न निकले, उनकी भी ये ...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
Manav Mehta 'मन'
मानव 'मन'
62

अज्ञेय जन्मशती

         सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन का हिंदी साहित्य में योगदानसच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन का जन्म 07 मार्च, 1911 को उत्तर प्रदेश के देवरिया जनपद के ऐतिहासिक स्थान कुशीनगर में हुआ था...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
Dr. Rahul Mishra
कही-अनकही-बतकही
64


Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन