अपना ब्लॉग जोड़ें

अपने ब्लॉग को  जोड़ने के लिये नीचे दिए हुए टेक्स्ट बॉक्स में अपने ब्लॉग का पता भरें!
आप नए उपयोगकर्ता हैं?
अब सदस्य बनें
सदस्य बनें
क्या आप नया ब्लॉग बनाना चाहते हैं?
नवीनतम सदस्य

नई हलचल

Child's play - Gioco dei bambini - बच्चों के खेल

Beja (Abaetetuba), Brazil: Children, even if they do not have anything, they can invent new games from their imagination. However, as parents we do not understand this and start thinking that costly games are needed to make our children happy. Today's images are about children's play from a small town along Amazon river.बेज़ा (अबाएतेतूबा) ब्राज़ीलः बच्चों को खेल के लिए और कुछ न मिले तो भी ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
SUNIL DEEPAK
Chayachitrakar - छायाचित्रकार
67

धरती माँ

ठीक है, तुम खूब शरारतें करो,दीवारों और ऊंचे वृक्षों पर चढो,अपनी साइकलों को जिधर चाहो घुमाओ-फिराओ,तुम्हारे लिए यह जानना अनिवार्य है कि तुम इस काली धरती पर किस प्रकार बना सकते हो अपना स्वर्ग तुम ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Rajendra kumar
भूली-बिसरी यादें
311

GOD

6 वर्ष पूर्व
vijay kumar sappatti
HRUDAYAM :: ह्रदयम
66

Healing

6 वर्ष पूर्व
vijay kumar sappatti
HRUDAYAM :: ह्रदयम
69

Failure

6 वर्ष पूर्व
vijay kumar sappatti
HRUDAYAM :: ह्रदयम
63

faith

6 वर्ष पूर्व
vijay kumar sappatti
HRUDAYAM :: ह्रदयम
63

अपेक्षा

मेरे प्रिय आत्मन ; नमस्कार आज आपको बताऊ , जीवन में सारे दुखो का कारण मात्र और मात्र अपेक्षा ही है . मानव का ये स्वभाव है की हम हर किसी  से अपेक्षा करते है . और कभी कभी ये अपेक्षाए जरुरत से ज्या...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
vijay kumar sappatti
THE INNER JOURNEY ::: अंतर्यात्रा
117

Life's unaccepted gifts !!!

My Dear Souls ; Namaskar . It happens so that in our life we come across so many unexpected things/thoughts/issues/people. At the outset we feel hey what is this , this was not expected ! BUT than, this is what we call life . we have to accept, whatever life gives to us , we may not want those , but its GOD's plan , so accept those and live with them unconditionally. We are not given many choices !Slowly you will understand the GOD's plan and start accepting them and one fine mo...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
vijay kumar sappatti
HRUDAYAM :: ह्रदयम
68

'सुनती है माँ गुज़ारिश ':चर्चामंच 1229

शुभम दोस्तो ...मैं सरिता भाटिया आज की सोमवारीय चर्चा शुरू करने से पहले कुछ बताना चाहती हूँअभी कुछ दिन पहले ही चर्चामंच पर एक मित्रवर की चर्चा का नाम था क्या सचमुच ही बुलावा आता है ?ऐसा ही कुछ अ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
36
Copy & Pest
104

कहानी शिक्षण : पाठ्यक्रम के साथ और पाठ्यक्रम के आगे *

    यह एक अमेरिकी लोक कथा है। अजमेर ज़िले के कस्तूरबा गांधी बालिका आवासीय विद्यालय (केजीबीवी), तस्वारिया, केकड़ी,  में ‘प्रथम बुक्स की किताबों को उलटते-पलटते यह किताब हाथ में आ गई। खूबसूरत ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Dalip
कथोपकथन
66

कली

एक कली खिली चमन मेंबन गई थी वो फूलबड़ा गर्व हुआ अपने मेंसबको गई थी वो भूलकहा चमन ने फिर उससेयहाँ रहता स्थिर नहीं कोईमत कर तू गुमान इतनाउसको बहुत समझायाआज तो यौवन है परकल तू ठूंठ भी हो जाएगीतब...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
तुषार राज रस्तोगी
तमाशा-ए-जिंदगी
56

ग़ज़ल ..अंदाज़े बयाँ ज़िंदगी का .....डा श्याम गुप्त

                                                        ....कर्म की बाती,ज्ञान का घृत हो,प्रीति के दीप जलाओ...       &nbs...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Drshyam
श्याम स्मृति..The world of my thoughts... श्याम गुप्त का चिट्ठा..
74
Voice of Silent Majority
54

पुरी यात्रा #02 (सुर्य मंदिर, कोणार्क)

      दूसरे दिन मेरी इच्छा समुद्रतट पर सुर्योदय को अपनें कैमरे में कैद करनें की थी, पर मौसम नें हमारी इच्छा पर पानी फेर दिया.. हल्की बरसात हो रही थी और आसमान बादलों से पूरी तरह ढ़का था, ऐसे ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Prashant Suhano
SUHANO DRISHTI
228

मन का मनका फेर

जिस बात को मन तैयार होवहांमुश्किल भी मुश्किल नहीं लगतीCourtesy photoकभी कबीर जी ने कहा था माला फेरत जग भया गया न मन का फेर रे हाथ का मनका छाडि दे मन का मनका फेर रे इस बात को कितना ही समय बीत गया----...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Childless Women Specialist BABA JI +91-9909794430
मन की दुनिया मन के रंग
0

nainapatel

डेलीअभ्यास
डेलीअभ्यास
6 वर्ष पूर्व
nainapatel
5

28 04 2013 - Shivsandesh

Om Shanti

हर बात में बाप की श्रीमत प्रमाण ___ जी हजूर __ जी हजूर कर __ बाप को अपने सामने हाजिर रखने वाला सर्वप्राप्तिसम्...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
nainapatel
8

मान्यवर कविवर

http://photos-e.ak.fbcdn.net/hphotos-ak-prn1/163571_407641145999913_294653131_n.jpgबाल कविता-33मान्यवर कविवरसुग्गा संपादककें नवका दफ्तरमेहल्ला मचेलकै भालू कविवरपठबैत-पठबैत मोन थाकि गेलमुदा छपलौं नै एक्को आखरकविता-कहानी लेख-आलेख धरिसब विधा...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
AMIT MISHRA
34

एक नज़रिया ये भी .....

जैसा कि समाचार पत्रों और न्यूज चैनल्स से खुलासा हुआ है कि दिल्ली के दरिंदो ने पहले कालगर्ल खोजी फिर नही मिलने पर गुडिया को रौंद डाला !  ठीक यही निर्भया उर्फ़ दामिनी केस में भी हुआ था ! वो दरिन्...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
prakash govind
183

No Title

जरा ठहर अभी ओ अंतिम वसंत*क्या कहूँ मैं तुमसे अपनी व्यथाजीवन मेरा एक चिरंतन कथाजीवन में नहीं आया कभी फ़ागवक्त गाता रहा वही आदिमराग नहीं मिला कभी कोई कल्प-वृक्षअनुत्तरित रहे कितने ही प्रश्न-यक...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Sarika Mukesh
अंतर्मन की लहरें Antarman Ki Lehren
64

क्षणिक और आवेगपूर्ण देशभक्ति से क्या हम देश का भला कर पायेंगे !!

जब कोई दूसरा देश हमारे साथ दुर्भावनापूर्ण बर्ताव या हरकत करता है तो हमारे अंदर देशभक्ति कि भावनाएँ हिलोरें लेने लगती है जो अच्छी लगती है लेकिन फिर वही भावनाएं सुषुप्तावस्था में चली जाती है औ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
पूरण खण्डेलवाल
131

Wild Dog

6 वर्ष पूर्व
Neeraj Singh
32

रामसेतु: एक चौंकानेवाली जानकारी...

"रामसेतु" पर मैंने पहले से ही ब्लॉग में दो पोस्ट तथा दोनों को मिलाते हुए तथा कुछ नयी जानकारियाँ जोड़ते हुए फेसबुक पर एक 'नोट' लिख रखा था. मगर अभी और जानकारियाँ पाकर मैं हैरान रह गया. 1961 से लेकर 1996 तक ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
जयदीप शेखर
देश-दुनिया
328

आभार, हिंदी ब्लॉग जगत........

ब्लॉग जगत में आते ही एक अभिलाषा बनी कि नैतिक जीवन मूल्यों का प्रसार करूँ. लेकिन डरता था पता नहीं प्रगतिशील लोग इसे किस तरह लेंगे. आज के आधुनिक युग में पुरातन जीवन मूल्यों और आदर्श की बात करना प...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
हंसराज 'सुज्ञ'
247

"गणों का प्रयोग" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)

मित्रों!मैंने शुक्रवार, 12 अप्रैल 2013 को यह पोस्ट लगाई थी!"गणों के बारे में भी तो जानिए"       काव्य में रुचि रखने वालों के लिए और विशेषतया कवियों के लिए तो गणों की जानकारी होना बहुत जरू...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
146

Mountain pass - Passo di montagna - पर्वती रास्ता

Rolle pass, Italy: The cities were left behind. The road kept on climbing up the mountain, going round and round. In the end when we reached the mountain pass, the highest point of the road, it was very thrilling.रोल्ले, इटलीः शहर पीछे छूट गये, सड़क पर्वत के चक्कर काटती ऊपर बढ़ती रही. अन्त में जब सड़क के सबसे ऊँचे भाग में पह...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
SUNIL DEEPAK
Chayachitrakar - छायाचित्रकार
60

"गणों का छन्दों में प्रयोग" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)"

मित्रों! मैंने शुक्रवार, 12 अप्रैल 2013 को यह पोस्ट लगाई थी!"गणों के बारे में भी तो जानिए"       काव्य में रुचि रखने वालों के लिए और विशेषतया कवियों के लिए तो गणों की जानकारी होना बहुत जरूरी ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
52

ग़ज़ल

      - क़तील शेफाईतूने ये फूल जो ज़ुल्फ़ों में लगा रखा है इक दिया है जो अँधेरों में जला रखा है जीत ले जाये कोई मुझको नसीबों वाला ज़िन्दगी ने मुझे दाँव पे लगा रखा है जाने कब आये कोई दिल में झा...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
बृजेश नीरज
68

जीवन संध्या

 इंसान इस दुनियां में कहाँ से आता है ,मृत्यु के बाद कहाँ जाता है ,यह एक रहस्य है। पर जितना दिन यहाँ रहता है ,रिश्ते  नातों  में बंध  जाता है।सबको छोड़कर जाने में उसे दुःख होता है लेकिन जा...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Kalipad
अनुभूति
94


Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन