अपना ब्लॉग जोड़ें

अपने ब्लॉग को  जोड़ने के लिये नीचे दिए हुए टेक्स्ट बॉक्स में अपने ब्लॉग का पता भरें!
आप नए उपयोगकर्ता हैं?
अब सदस्य बनें
सदस्य बनें
क्या आप नया ब्लॉग बनाना चाहते हैं?
नवीनतम सदस्य

नई हलचल

BILLOO...बिल्लू ...

बिल्लू , प्राण साहेब का बनाया हुआ शानदार कॉमिक चरित्र है जो की बच्चो में बहुत लोकप्रिय है , कई पत्रिकाओ में छपता है और डायमंड कॉमिक्स से प्रकाशित होता है ..BILLOO IS THE FAMOUS COMIC CHARACHTER BY PRAN JI . IT IS PUBLISHED IN VARIOUS MAGAZINES AND ALSO PUBL...  और पढ़ें
9 वर्ष पूर्व
vijay kumar sappatti
THE INDIAN COMICS भारतीय कॉमिक्स
100

CHEEKU...चीकू ,...

चीकू , चंपक के कॉमिक चरित्र है , ये पहले से प्रकाशित होती रही है और बच्चो में बहुत लोकप्रिय है ....CHEEKU, IS PUBLISHED IN CHAMPAK MAGAZINE AND IS VERY FAMOUS AMONG KIDS....  और पढ़ें
9 वर्ष पूर्व
vijay kumar sappatti
THE INDIAN COMICS भारतीय कॉमिक्स
150

BAJRANGI PAHALWAAN.....बजरंगी पहलवान ...

बजरंगी पहलवान , प्राण साहेब के बनाए हुए कॉमिक चरित्र है , जो की बिल्लू की टीम में शामिल है ॥ ये डायमंड कॉमिक्स से प्रकाशित होती थी ...BAJRANGI PAHALWAAN IS A COMIC CHARACHTER BY PRAN SAHEB , HE IS THE STOCK CHARACHTER OF BILLO'S TEAM . THIS IS PUBLISHED IN DIAMOND COMICS ....  और पढ़ें
9 वर्ष पूर्व
vijay kumar sappatti
THE INDIAN COMICS भारतीय कॉमिक्स
106

जब इश्क की बात चली

________________________________________________________ जब इश्ककी बात चलती है तो मुझे 'वाली असी'का एक शेर याद आता है- अगर तू इश्क में बरवाद नहीं हो सकता, जा तुझे कोई सबक याद नहीं हो सकता।सैकडों उदाहरण मिल जायेंगे जहां प्रेमी ने प्...  और पढ़ें
9 वर्ष पूर्व
Ritesh
Satya: The Voice of Truth
84

LIFE ......जिंदगी ...

9 वर्ष पूर्व
vijay kumar sappatti
ART BY VIJAYKUMAR SAPPATTI
108
अल्लम्...गल्लम्....बैठ निठ्ठ्लम्...
71

आहे-मज़लूम जब अश्कों को हवा देती है

शायिर: डॉ. इबरत बहराइचीआहे-मज़लूम जब अश्कों को हवा देती हैशीश महल के चराग़ों को बुझा देती हैजब...[यह काव्य का सारांश है, पूरा पढ़ने के लिए फ़ीड प्रविष्टी शीर्षक पर चटका लगायें...]...  और पढ़ें
9 वर्ष पूर्व
विनय प्रजापति 'नज़र'
ग़ज़लों के खिलते गुलाब
102

FAMILY ... परिवार ..

9 वर्ष पूर्व
vijay kumar sappatti
ART BY VIJAYKUMAR SAPPATTI
114

GABDU गब्दू

गब्दू , प्राण साहेब का बनाया हुआ एक कॉमिक चरित्र है जो की डायमंड कॉमिक्स में आता था . उसकी जोड़ी बिल्लू के साथ थी .GABDU IS A COMIC CHARACTER , MADE BY PRAAN JI FOR DIAMOND COMICS. HE IS PAIRED WITH BILLOO ....  और पढ़ें
9 वर्ष पूर्व
vijay kumar sappatti
THE INDIAN COMICS भारतीय कॉमिक्स
169

ट्यूशन का भूत

पिछले महीने से मैंने ट्यूशन पढाना शुरू किया....बच्चों के नखरे-बहाने देखकर मजा भी आता है...गुस्सा भी...उन्हें पढाते हुए मुझे भी अपने ट्यूशन के पहले दिन की याद आती है......ये सभी तो फ़िर भी पहले दिन अच्छी...  और पढ़ें
9 वर्ष पूर्व
neha sharma
मेरी कहानी
63

TEARS ...आंसू

9 वर्ष पूर्व
vijay kumar sappatti
ART BY VIJAYKUMAR SAPPATTI
119

CHAUPAT ..... चौपट ......

चौपटएक बहुत प्यारा चरित्र रहा है मधुमुस्कान पत्रिका का , इसे जगदीश जी बनाते थे .इसकी जोड़ी पोपट के साथ थी ये दोनों मायापुरी में रहते थे... CHAUPAT WAS A COMIC CHARACTER FROM MADHUMUSKAN . SHRI JAGDISH JI IS THE CREATOR FOR THIS COMIC CHARACTER WHO WAS THE PART OF POPAT-CHAUPAT DUO....  और पढ़ें
9 वर्ष पूर्व
vijay kumar sappatti
THE INDIAN COMICS भारतीय कॉमिक्स
115

SCIENTIST RAMBHAROSE UNCLE वैज्ञानिक रामभरोसे चाचा

वैज्ञानिकरामभरोसेचाचा मधुमुस्कान पत्रिका में ;एक मशहूर चरित्र था ,जिसे श्री जगदीश जी बनाया करते थे .SCIENTIST RAMBHAROSE UNCLE ,WAS A FAMOUS CHARACTER FROM MADHUMUSKAAN MAGAZINE ,THIS WAS A COMIC STRIP FROM SHRI JAGDISH JI ....  और पढ़ें
9 वर्ष पूर्व
vijay kumar sappatti
THE INDIAN COMICS भारतीय कॉमिक्स
126

DAAKU PAANSING .....डाकू पानसिंग....

डाकूपानसिंह, मधुमुस्कानकॉमिक्सकाएकचरित्रहै . जिसेमुरलीजीनेबनायाथाDAAKU PAANSING IS A COMIC CHARACHTER FROM MADHUMUSKAAN COMICS ,WHICH IS CREATED BY MURLI ....  और पढ़ें
9 वर्ष पूर्व
vijay kumar sappatti
THE INDIAN COMICS भारतीय कॉमिक्स
118
ART BY VIJAYKUMAR SAPPATTI
110

मन्ज़र यह दिलनशीं तो नहीं

शायिर: मोहसिन नक़वीमन्ज़र यह दिलनशीं तो नहीं दिल ख़राश हैदोशे-हवा पे अब्रे-बरहना की लाश हैलहरों...[यह काव्य का सारांश है, पूरा पढ़ने के लिए फ़ीड प्रविष्टी शीर्षक पर चटका लगायें...]...  और पढ़ें
9 वर्ष पूर्व
विनय प्रजापति 'नज़र'
ग़ज़लों के खिलते गुलाब
119
अल्लम्...गल्लम्....बैठ निठ्ठ्लम्...
82

जब झूट पर ऐतराज़ नहीं तो सच्चाई की कीमत पड़ ऐतराज़ क्यों

दुनिया का सबसे बड़ा सच तो यह है की "सदियों से झूठ बिकता रहा है और बिकता रहेगा । भारत में पहली बार सार्वजनिक तौर पर सच का कीमत लगाया एक टी.वी प्रोग्राम "सच का सामना "ने , उसूल - अगर आपमें है अपने ख़...  और पढ़ें
9 वर्ष पूर्व
Manish
ये सच है
112

...उस पूजन की आयु बड़ी है

शायिर: कमल किशोर 'भावुक'जो मरुस्थल की प्यास बुझा दे उस सावन की आयु बड़ी हैजो स्वर्णिम इतिहास रचा...[यह काव्य का सारांश है, पूरा पढ़ने के लिए फ़ीड प्रविष्टी शीर्षक पर चटका लगायें...]...  और पढ़ें
9 वर्ष पूर्व
विनय प्रजापति 'नज़र'
ग़ज़लों के खिलते गुलाब
108

अकेला / हमदर्द [दो लघु-कथाएँ]

अकेला [लघु-कथा] *******************************यूँ तो पूरे गाँव में सौ के लगभग घर थे, फिर भी उसे अपने अलग-थलग पड़ जाने की कसक थी ! यह बात मन को बहुत कचोटती थी कि पूरे गाँव में उसकी जाती-बिरादरी का कोई भी व्यक्ति ना था ! म...  और पढ़ें
9 वर्ष पूर्व
prakash govind
116

समलैंगिकता -कितनी सही , कितनी ग़लत ?

न्यायलय ने समलैंगिकता को सही ठहरा दिया। कानूनन ये न्यायोचित हो गया की यदि दो एक लिंग के व्यक्ति साथ रहकर सुख और संतुष्टि प्राप्त कर रहे हैं तो इसमे कुछ ग़लत नही है। लेकिन इधर न्यायलय का फ़ैसला...  और पढ़ें
9 वर्ष पूर्व
Ritesh
Satya: The Voice of Truth
66

किसके साथ गद्दारी कर रहें हैं हम

रामायण की एक बहुत ही लोकप्रिय ठेठ कहावत है " घर का भेदी लंका नाश "विभीषण की वजह से रावण के लंका का सर्वनाश हुआ क्योंकि विभीषण रावण के दुश्मन राम का सेवक था . हमारे देश में भी यही हो रहा है चारो तरफ ...  और पढ़ें
9 वर्ष पूर्व
Manish
ये सच है
101

गर तुम्हारी कमी नहीं होती

शायिरा: शिबली हसन 'शैल'गर तुम्हारी कमी नहीं होतीबेवफ़ा ज़िन्दगी नहीं होतीहर कोई क्यों फ़रेब देता...[यह काव्य का सारांश है, पूरा पढ़ने के लिए फ़ीड प्रविष्टी शीर्षक पर चटका लगायें...]...  और पढ़ें
9 वर्ष पूर्व
विनय प्रजापति 'नज़र'
ग़ज़लों के खिलते गुलाब
110

मंदी का असर......कार पूलिंग . भाग -1

मंदी का असर......कार पूलिंग . भाग -1मंदी आई थी ....कहीं कहीं अभी भी है .......या आने से पहले ही मीडिया द्वारा ले आई गई थी ,हमें तो समझ में नही आया । लोग कहते हैं अभी भी गई नही है .....वापस आ सकती है फिर से ....मंदी के ...  और पढ़ें
9 वर्ष पूर्व
kanhaiya
ABHILASA
147

BUDDHA // बुद्ध

9 वर्ष पूर्व
vijay kumar sappatti
ART BY VIJAYKUMAR SAPPATTI
116

SOMETHING /// कुछ

9 वर्ष पूर्व
vijay kumar sappatti
ART BY VIJAYKUMAR SAPPATTI
104
ART BY VIJAYKUMAR SAPPATTI
111
ART BY VIJAYKUMAR SAPPATTI
126

THE DANCER // नृतकी

9 वर्ष पूर्व
vijay kumar sappatti
ART BY VIJAYKUMAR SAPPATTI
102

कौए

कौएसुना हैविलुप्त हो रहें है।क्या सच ?पर क्या रमेसर की माँअब नहीं उड़ाएगीमुंडेर से कौए?पति के शहर सेलौटने की प्रत्याशा में।क्या अबझूठ बोलने परकाला कौआ नहीं काटेगाअबनहीं पढेंगे बच्चे'क' से कौ...  और पढ़ें
9 वर्ष पूर्व
SHRI BILAS SINGH
कविता के बहाने
89


Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन