अपना ब्लॉग जोड़ें

अपने ब्लॉग को  जोड़ने के लिये नीचे दिए हुए टेक्स्ट बॉक्स में अपने ब्लॉग का पता भरें!
आप नए उपयोगकर्ता हैं?
अब सदस्य बनें
सदस्य बनें
क्या आप नया ब्लॉग बनाना चाहते हैं?
नवीनतम सदस्य

नई हलचल

तीन रुपये का नोट - खजाना यादों का ( 11 )

           कहते हैं विधाता ने इस दुनिया को सुफेद और काले दो मुख्तलिफ रंग के धागों से बुना है। तभी तो यहां पर रात और दिन, खुशी और गम, नेकी और बदी, धूप और छांह, दोस्ती और दुश्मनी, होशियारी और भोल...  और पढ़ें
3 दिन पूर्व
bhavna pathak
bhonpooo.blogspot.com
3

खलल डालते ख्याल

भीगे से ये सपने .....डगमगाता सुकून,खलल डालते ख्याल,और तुम .....सवालों से बेहतर जवाबों मे,ख्यालों से बेहतर, मेरे जज्ब से इरादों मे.....कैसा ये सफर,कि तू होकर भी है कहीं बेखबर !तेरा स्मृति पटल में आना,फिर ध...  और पढ़ें
3 दिन पूर्व
पुरूषोत्तम कुमार सिन्हा
2

राफेल पर गैर-वाजिब राजनीति

पिछले कुछ समय से कांग्रेस पार्टी राफेल विमान के सौदे को लेकर सवाल उठा रही है. वह मतदाता को मन में संशय के बीज बोकर राजनीतिक लाभ उठाना चाहती है. बेशक राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़े मसलों पर सवाल उठा...  और पढ़ें
3 दिन पूर्व
Pramod Joshi
जिज्ञासा
1
Mera Hindi Blog - Intertainment ways to earn at home sex education all type sms jokes love story
3

ANKIT AGRAWAL - KARAN RASTOGI - अंकित अग्रवाल - करन रस्तोगी

साभार: दैनिक भास्कर ...  और पढ़ें
3 दिन पूर्व
Praveen Gupta
हमारा वैश्य समाज - HAMARA VAISHYA SAMAJ
6

गीत "रिश्वत भरा हुआ मन" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)

इन्साफ की डगर पर, नेता नही चलेंगे।होगा जहाँ मुनाफा, उस ओर जा मिलेंगे।।दिल में घुसा हुआ है,दल-दल दलों का जमघट।संसद में फिल्म जैसा,होता है खूब झंझट।फिर रात-रात भर में, आपस में गुल खिलेंगे। ...  और पढ़ें
3 दिन पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
2
2

946... काव्य-कथा

सभी को यथायोग्यप्रणामाशीषश्रव्य काव्य दो प्रकार का होता है, गद्य और पद्य।पद्य काव्य के महाकाव्य और खंडकाव्य दो भेद कहे जा चुके हैं।गद्य काव्य के भी दो भेद किए गए हैं- कथाऔर आख्यायिका।उन्नीस...  और पढ़ें
3 दिन पूर्व
Yashoda Agrawal
पाँच लिंकों का आनन्द
0

सहज गति बन जाये...डॉ. इन्दिरा गुप्ता

जीवन गहन गहर सम लागे जितनो जीते जाओगहराई त्यों त्यों बढ़े जितनो वामें समाओ! दिव्य रोशनी ज्ञान की रस्सी वाय बनाओ पकड़ रास फिर उतरो गहरे तनि ना घबराओ !एकत्व रहे यदि भाव बिचसहज गति बन जाय...  और पढ़ें
3 दिन पूर्व
Yashoda Agrawal
मेरी धरोहर
0

साझा

   बहुत से परिवारों में कोई-कोई वयंजन बनाने की पारिवारिक विधि होती है, जो पीढ़ी से पीढ़ी को सौंपी जाती है, और उस व्यंजन को एक विशेष स्वाद देती है। हम हक्कास चीनियों के पास भी ऐसी ही एक व्यंजन बना...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
Roz Ki Roti
रोज़ की रोटी - Daily Bread
3

दुनियाँ भरिक टेंशनमे

298. दुनियाँ भरिक टेंशनमेदुनियाँ भरिक टेंशनमेहालत झूरझमान भेलैहमरो सन बालबोध सभबड़ बे&#...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
AMIT MISHRA
0

निराला के शब्‍द-क्रीड़ांगन में यमुना-गान

आज के दिन 16 फरवरी 1896- हिंदी के सुप्रसिद्ध कवि, साहित्यकार और लेखक सूर्यकांत त्रिपाठी निराला का जन्म हुआ था, हालांकि विकीपीडिया पर 21 फरवरी अंकित है परंतु पंचांग-तिथि के अनुसार इनके जन्‍म के संबं...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
Alaknanda singh
ख़ुदा के वास्‍ते !
3

Collab Painting Gift for Fiancee

Collaborative painting with artist Jyoti SinghTitle - MeghaMedium - Oil on canvasSize - 24"24" inchGift for my fiancee...Megha :)...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
Mohit Trendster
Mohitness {मोहितपन}
0

किस से करें..?

इश्क़ की गुहार, किस से करेंकहो तो प्यार, किस से करें..?वो किस्से कहानियों में बीती रातेंम...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
Mahesh Barmate
माही....
3
Mera Hindi Blog - Intertainment ways to earn at home sex education all type sms jokes love story
3

दोहे "कुन्दन सा है रूप" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

अब पछुआ चलने लगी, सर्दी गयी सिधार।कुछ दिन में आ जायगा, होली का त्यौहार।१।सारा उपवन महकता, चहक रहा मधुमास।होली का होने लगा, जन-जन को आभास।२।अंगारा बनकर खिला, वन में वृक्ष पलाश।रंग, गुलाल-अबीर की,...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
3

प्रधानमंत्री के परीक्षा पर चर्चा कार्यक्रम का हुआ सीधा प्रसारण

 विश्वविद्यालय के अवैद्यनाथ संगोष्ठी भवन में देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के तालकटोरा स्टेडियम नई दिल्ली के परीक्षा पर चर्चा कार्यक्रम का सीधा प्रसारण हुआ। विश्व विद्यालय के विद्या...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
VBSPURVANCHAL
पूरब बानी....
0

23. सही या गलत -निर्णय आपका !

अमीर बनने के लिए निहायत ज़रूरी है कि आपकी पैसा सम्हालने की नींव मज़बूत हो (अमूनन लोगों को पैसा कमाना आता है ,सम्हालना नहीं आता है )अगर आपने पैसा सम्हालना नहीं सीखा है तो आपके अमीर बनने की सम्भावना...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
Kirti
अमीर बने
2

लखनऊ तवायफ व गजल ---- महफिल व मजलिस - भाग तीन 16-2-18

तवायफ व गजल ---- महफिल व मजलिस - भाग तीन गजल का साहित्यिक अर्थ होता है ''महिला से वार्तालाप ' | चूँकि गजल विधा के उद्भव - काल में महिलाओं का पर्दे में रहना अनिवार्य हुआ करता था , अत: उस समय महिलाओं के प्र...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
3

तबाही

तबाहीवे चाय ही पीने आए थे, दूध कापतीला ही उँडेलकर चले गए.इक रात ही रहने आए थे,वो, घर ही जलाकर चले गए.बस बहार का रस लेने,बगिया में विहार को आए थे,फूलों की महक के नशेमन वे,पतझड़ सी आँधी बहा गए.नदिया के य...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
रंगराज अयंगर
1

Bitcoin Mining Kya Hai ?

बिटकॉइन माइनिंग क्या है ?   हेलो दोस्तों, आप सभी पाठकों का मेरे इस साइट Hindi Tech Natureमें स्वागत् है. पिछले पोस्ट में हमने जाना कि 'बिटकॉइन क्या है?इसे कैसे उपयोग करते हैं और इसकी कार्यप्रणाली के बार...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
Kamlendra Kamde
Hindi Tech Nature
2

इश्क में उम्र का क्या काम

कहते हैं- इश्क उम्र की बंदिशों का मोहताज नहीं होता। इश्क कभी भी, कैसी भी उम्र वाला कर सकता है। इतिहास कम और ज्यादा उम्र में इश्क करने वालो के किस्सों से भरा पड़ा है। दिल अगर जवान है तो इश्क एक से क...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
Anshu Mali Rastogi
चिकोटी
2

भारत के 'नव मध्य वर्ग'का मिथक

आसिया इस्लामज़रूरी डिग्रियों व कौशल के अभाव में लोग मध्यवर्गीय दिखाई पड़ने वाली ऐसी नौकरियों के भंवर में फंस गए हैं, जिनके कामकाजी हालात मजदूरों जैसे हैं.दावोस में हुए हालिया वर्ल्ड इकनोमिक फ...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
Pramod Joshi
जिज्ञासा
3

दोहे "कूटनीति की बात" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)

नफरत का बढ़ जाये जब, आपस में अनुपात।तब तक कभी न कीजिए, कूटनीति की बात।।जब तक मन में प्रीत के, उगें नहीं ज़ज़्बात।फलीभूत होगी नहीं, तब तक कोई बात।।आ जायेगी समझ में, जब उनको औकात।हो पायेगी कार...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
3

बच्चों को Good Touch और Bad Touch के बारे में कैसे शिक्षित करे

बच्चों को Good Touch और Bad Touch के बारे में कैसे शिक्षित करे जाने यहाँ से: http://hindimegyan.in/how-to-tell-your-children-about-good-touch-and-bad-touch-in-hindi/

...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
Sunil Kumar
0
2

945...सीमित हूँ बहुत.....मैं शब्दों में....

"रचनात्मकता" किसी भी व्यक्ति के अंदर की वह योग्यता होती है जिसके द्वारा वह वस्तुओं या उन विचारों का उत्पादन करता है।दैनिक जीवन में किसी नवीन दृष्टिकोण, विचार या व्यवहार को ...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
Yashoda Agrawal
पाँच लिंकों का आनन्द
2

आँकड़े......के.पी. सक्सेना ’दूसरे’

: मुक्तक :कल मरे कुछऔर कल मर जाएँगे कुछचल पड़ा है रोज़ का यह सिलसिला...............आँकड़ेबस बाँचते हैंहो इकाई या दहाईसैकड़ा या सैंकड़ोंहो गयी पहचान गायबबस लाश कितनी, ये गिनोक्या दुकालूक्या समारुऔर फुलब...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
Yashoda Agrawal
मेरी धरोहर
2

फिल्म पैडमैन, ऐसा कम होता है जब हमारा मूर्ति पूजक अनकॉन्सियस जिंदा को उच्चता दे

फोटो गूगलभाई इमेज वालों के सौजन्य से।📗 फिल्म पर राय📗✍ बरुण सखाजीपैडमैन फिल्म और पद्मावत ट्रैफिक जाम की वजह से समकालीन सप्ताह में आ बैठीं। इनमें गहरी समानता भी उभर आईं। पद्मावत में एक तरफ इत...  और पढ़ें
5 दिन पूर्व
Barun Sakhajee
आम आदमी सरकारी चंगुल में......
3

सेना का तमाशा बनाया बाबू मोशा ने

   आज के समाचार पत्रों में एक समाचार के शीर्षक ने सर शर्म से झुका दिया ,शीर्षक था -''शहीद का कोई धर्म नहीं होता ,''शीर्षक सही था और लेफ्टिनेंट जनरल देवराज अनबू  ने बात कही भी सही थी क्योंकि शहीद ...  और पढ़ें
5 दिन पूर्व
SHALINI KAUSHIK
! कौशल !
4


Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन