अपना ब्लॉग जोड़ें

अपने ब्लॉग को  जोड़ने के लिये नीचे दिए हुए टेक्स्ट बॉक्स में अपने ब्लॉग का पता भरें!
आप नए उपयोगकर्ता हैं?
अब सदस्य बनें
सदस्य बनें
क्या आप नया ब्लॉग बनाना चाहते हैं?
नवीनतम सदस्य

नई हलचल

धन्यवादी

   औरों की गवाहियाँ सुनना कि कैसे परमेश्वर ने उनके जीवनों में अद्भुत कार्य किए हैं, हमारे लिए चुनौतीपूर्ण हो सकता है। हम प्रार्थनाओं के उत्तर में हुए कार्यों के लिए आनन्दित हो सकते हैं, किन...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
Roz Ki Roti
रोज़ की रोटी - Daily Bread
5

माँ की व्यथा

4 दिन पूर्व
Deepa Joshi
अल्प विराम
0

'धरना कुमार'आने वाले चुनावों में हार को भांप कर फिर से पुराने नुस्खे आजमाने में लगे हैं!

हरेश कुमार'धरना कुमार'चार दिनों से धरने पर बैठे हैं और दिल्ली के लोग हैं कि इनको घास-पानी दे ही नहीं रहे। 'धरना कुमार'के लिए ये बड़ी नाइंसाफी है।दरअसल धरना कुमार आगामी चुनावों को देखते हुए अपने ...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
Haresh
Information2media
3

Patanjali Launches Sim Card Tie-up With BSNL

बाबा रामदेव ने अब पतंजलि का सिम कार्ड भी किया लॉन्च   Hello Freinds, आप सभी पाठकों का मेरे इस साइट Hindi Tech Nature में स्वागत है. आज के इस पोस्ट में हम पतंजलि के सिम कार्ड के बारे में जानेंगे...Baba Ramdev Ne Ab Patanjali Ka Sim Card Bhi Kiya...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
Kamlendra Kamde
Hindi Tech Nature
5

बनकर तैयार है यह राजस्थानी फिल्म, सेंसर के लिए भेजी

गाड़िया लुहारों के जीवन में बदलाव का शंखनाद है श्रवण सागर की यह राजस्थानी फिल्मजयपुर। राजस्थान की घुमंतु जाति और राणा प्रताप के सैनिकों के रूप में पहचान रखने वाले गाड़िया लुहारों के जीवनस्तर ...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
rajasthani cinema
राजस्थानी सिनेमा
0

अरपा को बचाइए मत, पर मारिए मत

✍बरुण सखाजीनदी,पर्वत, पेड़ ये तीनों को साक्षात् त्रिदेव कहें तो ठीक ही होगा। बिलासपुर इस मामले में भाग्यशाली शहर है, जहां नदी बहती है। कोई छोटी नहीं विशाल, अंत:सलिला और सुदीर्घस्वरूपा अरपा। ल...  और पढ़ें
5 दिन पूर्व
Barun Sakhajee
आम आदमी सरकारी चंगुल में......
3

तुम साथ हो जब अपने...

इस रिवाल्वर में बस दो ही गोलियां हैं..अभी नहीं विशेष आ जाएं तब..एक उनके लिए और एक मेरे लिए, ...  और पढ़ें
5 दिन पूर्व
Abhilasha
@Abhi
2

दोहे "लोकतन्त्र में लोग" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

कहने को आजाद हैं, लोकतन्त्र में लोग। सबको मिलते हैं कहाँ, लड्डू-मोहनभोग।।जब अपने ही देश में, शासक हों भयभीत।जनता फिर कैसे वहाँ, गाये सुख के गीत।।दाता थे जो अन्न के, आज हुए कंगाल। लालाओं ने ...  और पढ़ें
5 दिन पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
2

लम्बी चुप्पी के बाद ‘आप’ के तेवर तीखे क्यों?

एक अरसे की चुप्पी के बाद आम आदमी पार्टी ने अपनी राजनीति का रुख फिर से आंदोलन की दिशा में मोड़ा है. इस बार निशाने पर दिल्ली के उप-राज्यपाल अनिल बैजल हैं. वास्तव में यह केंद्र सरकार से मोर्चाबंदी ...  और पढ़ें
5 दिन पूर्व
Pramod Joshi
जिज्ञासा
1

चर्चा - 3001

5 दिन पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
3

विदाई (राधातिवारी "राधेगोपाल")

विदाईतुम जहां भी रहो याद आओगे तुम l यादों में रहोगे ना होंगे कभी गुम ll गुरुजनों की दुआएं रहेगी संग संगl पढ़ लिख कर भरना अपने जीवन में रंग ll कदम कभी भी ना तुम्हारे डगमगाएlसफलता की सीढ़ी ...  और पढ़ें
5 दिन पूर्व
राधे गोपाल
राधे का संसार
3

शब्द

   एक सभा में बोलने के लिए जब रेबेक्का मंच पर खड़ी हुई तो ख़राब माइक्रोफोन तथा धवनी प्रणाली के कारण, उसका बोला हुआ पहल वाक्य ही सभास्थल में गूंजने लगा। उसके लिए यह कुछ परेशान कर देने वाली बात थ...  और पढ़ें
5 दिन पूर्व
Roz Ki Roti
रोज़ की रोटी - Daily Bread
4

निबंध - छत्तीसगढ़ में कृषि संस्कृति

छत्तीसगढ़ ह एक कृषि प्रधान अंचल आए, इहां के एक तिहाई लोगन मन सिरिफ खेती म निर्भर हावय। खेती ह तइहा ले अब तक छत्तीसगढ़ के आर्थिक विकास के प्रमुख साधन रेहे हावय। कृषि संस्कृति के विकास इहां तभे ल...  और पढ़ें
5 दिन पूर्व
जयंत साहू
चारीचुगली
8

"मुक्तक"

                       (1) कुछ तुम कहो कुछ मैं कहूँ , बाकी सब बातें जाओ भूल ।बेकार की है दुनियादारी , नही होते इस से कुछ दुख दूर ।।औरों की बात करो मत तुम , सब अपनी अ...  और पढ़ें
5 दिन पूर्व
Meena Bhardwaj
मंथन
0

Quote on warm blow of wind

6 दिन पूर्व
Abhilasha
@Abhi
3

आदमी होने का मतलब

मैं एक आदमी हूँ मौत से भागता हुआ भरमाता हुआ ख़ुद को कि मौत कुछ नहीं बिगाड़ पायेगी मेरा....मैं एक कसाई हूँ,मौत का रोज़गार करता हुआ ज़िंदा हूँ अपनी संवेदनाओं समेतकटे हुए जानवरों की अस्थियों मे...  और पढ़ें
6 दिन पूर्व
Aparna Bajpai
Bol Skhee Re ( साहित्यिक सरोकारों से प्रतिबद्ध )
3

किला मुबारक – मुगल और राजस्थानी शिल्प का अनूठा मेल

पटियाला के बस स्टैंड से निकलकर मैं एक रिक्शे वाले को किला मुबारक छोड़ने को कहता हूं। हालांकि शेयरिंग आटो से जाने का विकल्प था, पर रिक्शा से शहर को देखने का आनंद ही कुछ और है। तो रिक्शा वाले हमें...  और पढ़ें
6 दिन पूर्व
Vidyut Prakash Maurya
दाना-पानी
0

ANIL AGRAWAL - अनिल अग्रवाल, वैश्य गौरव

साभार: नवभारत टाइम्स ...  और पढ़ें
6 दिन पूर्व
Praveen Gupta
हमारा वैश्य समाज - HAMARA VAISHYA SAMAJ
7

दोहे "वाणी में सुर-तान" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

ज्ञानदायिनी आप हो, सेवक है नादान।माता जी भर दीजिए, वाणी में सुर-तान।।सुमुखि गुलाबी वदन का,जबउतरा रंग। कविता की कमनीयता, तब से है बदरंग।।बदल गयी है लेखनी, बदल गये सब ढंग। कविता की सब गेयता, ...  और पढ़ें
6 दिन पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
4

FACE OF COMMON MAN - 2

#corner-to-corner { height:100%; border:5px SOLID Green ; padding:30px; background: BurlyWood ; -© राकेश कुमार श्रीवास्तव "राही"...  और पढ़ें
6 दिन पूर्व
राकेश श्रीवास्तव
0

कोई अन्त न हो

बासंती इन एहसासों का कोई अन्त न हो....मंद मलय जब छू जाती है तन को,थम जाती है दिल की धड़कन पलभर को,फिर इन कलियों का खिल जाना,फूलों की डाली का झूम-झूमकर लहराना,इन जज्बातों का कोई अन्त न हो.....यूं किरणों ...  और पढ़ें
6 दिन पूर्व
पुरूषोत्तम कुमार सिन्हा
0

दोहे "मेरे यह दो नैन" (राधातिवारी "राधेगोपाल")

 मेरे यह दो नैनकलम मेरी सदा  रहे ,लिखने को बेचैन। कोरा कागज ढूंढते, मेरे यह दो नैन।। अच्छे कर्मों से सदा ,होती है पहचान ।कपड़ो से होती नहीं, जग मे ये पहचान।। हाथ जोड़ने से कभी, कम मत समझो मा...  और पढ़ें
6 दिन पूर्व
राधे गोपाल
राधे का संसार
2
2

भावनाएं

   पिछले वर्ष एक सम्मलेन के समय मैं अपने कुछ मित्रों से मिली, जिनसे मैं बहुत लंबे समय से नहीं मिली थी। मिलने और साथ होने के आनन्द में हम सब बहुत प्रसन्न हुए, एक साथ हँसे; परन्तु एक दूसरे को देखक...  और पढ़ें
6 दिन पूर्व
Roz Ki Roti
रोज़ की रोटी - Daily Bread
3

शबनमी ख्वाब

देर रात चाँद सोता रहा पलकों तलेचाँदनी तेरे ख्वाब को शबनमी करती रही !!सु-मन ...  और पढ़ें
7 दिन पूर्व
सु-मन (Suman Kapoor)
अर्पित ‘सुमन’
3

क्या यही तरक्की है?

मेरी माँअब भीखोजती हैएक ऐसा घरजिसमेतुलसी वाला आँगन होहौले-हौले धूप उतरती होजिसकी चौखटों परऔर उसे रोकता हुआएक नीम का पेड़जिस परदिन भर रहती होचिड़ियों की चहचहाहटक्योकिबंद कमरों की घुटनउसे नी...  और पढ़ें
7 दिन पूर्व
Abhilasha
@Abhi
2

Quote on beginning

7 दिन पूर्व
Abhilasha
@Abhi
2

कच्चे केले के बगैर तले वैफर्स बनाने की विधि Banana Wafers Recipe In Hindi

कच्चे केेले के बगैर तले हुये चिप्स बनाकर स्टोर करने की आविष्कारक विधि। इस प्रकार से स्टोर करने पर कच्चे केले के चिप्स काले नहीं पड़ते तथा आलू के चिप्स की तरह जब मन करे आप तल कर खा सकते हैं।बना...  और पढ़ें
7 दिन पूर्व
Seema Kaushik
सीमा की रसोई (Seema Ki Rasoi)
3

दोहे "गले पड़े हैं लोग" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

आज गले लगते नहीं, गले पड़े हैं लोग। तन से तो संयोग है, मन में भरा वियोग।।जनता के ही तन्त्र में, जनता की है मात। धूप रूप की ढल गयी, आयी काली रात।।नहीं चलाया अभी तक, कभी लक्ष्य पर तीर। इसीलिए ...  और पढ़ें
7 दिन पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
4

दोहे "कलम बना पतवार" (राधातिवारी "राधेगोपाल")

 कलम बना पतवारहूक उठी जब हृदय में, कलम बना पतवार। तुकबन्दी को जोड़ कर, रचना की तैयार ।। कहां गए आलोक तुम, तम है चारों ओर । सूर्य देव आ कर करो, अब तो भाव विभोर।। प्रेम प्रीत तो हो गई, बीतो युग की बात...  और पढ़ें
7 दिन पूर्व
राधे गोपाल
राधे का संसार
4


Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन