अपना ब्लॉग जोड़ें

अपने ब्लॉग को  जोड़ने के लिये नीचे दिए हुए टेक्स्ट बॉक्स में अपने ब्लॉग का पता भरें!
आप नए उपयोगकर्ता हैं?
अब सदस्य बनें
सदस्य बनें
क्या आप नया ब्लॉग बनाना चाहते हैं?
हमारे विषय
नवीनतम सदस्य

नई हलचल

11

सूरत में श्री खेतेश्वर महाराज का 107वा जन्मकल्याण महोत्सव 21 को गूंजेंगे दाता के जयकारे

              21 को गूंजेंगे दाता के जयकारे .......21 अप्रैल को ब्रह्मऋषि ब्रह्मावतर परम् पूज्य श्री श्री 1008 संत श्री खेताराम जी महाराज के जन्म कल्याण महोत्सव 107 के उपलक्ष्य में भव्य भजन संध्या ...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
  Sawai Singh Rajpurohit
RAJPUROHIT SAMAJ
1

350 वरिष्ठ मतदाताओं का हुआ सम्मान |

350 वरिष्ठ मतदाताओं का हुआ सम्मानकलेक्ट्रेट प्रेक्षागृह में जिला निर्वाचन कार्यालय और अमर उजाला अपराजिता का संयुक्त कार्यक्रम जिला निर्वाचन कार्यालय और अमर उजाला अपराजिता 100 मिलियन स्माइ...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
S.M.Masoom
हमारा जौनपुर हमारा गौरव हमारी पहचान
0

350 वरिष्ठ मतदाताओं का हुआ सम्मान |

350 वरिष्ठ मतदाताओं का हुआ सम्मानकलेक्ट्रेट प्रेक्षागृह में जिला निर्वाचन कार्यालय और अमर उजाला अपराजिता का संयुक्त कार्यक्रम जिला निर्वाचन कार्यालय और अमर उजाला अपराजिता 100 मिलियन स्माइ...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
S.M.Masoom
0

सुगंध

      लेखिका रीटा स्नोडन अपने जीवन की एक रोचक घटना बताती हैं, जब वे इंग्लैण्ड के डोवर इलाके के एक छोटे से गाँव में घूमने के लिए गई हुई थीं। एक दोपहर वे एक छोटे होटल के बाहर बैठी चाय का आनन्...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
Roz Ki Roti
रोज़ की रोटी - Daily Bread
14

गोनवरात्रि महोत्सव के चैथे दिन गोसेवकों-गोभक्तों ने अनुश्ठानों में बढ-चढकर लिया भाग

  मातृषक्ति द्वारा गोमहिमा मंगल गीतों की स्वर लहरियां तथा प्रत्यक्ष गोसेवा के दृष्य आलौकिक  लगते  हैं!संतवृदों ने पूरे विष्व में वेदलक्षणा गोमाता के प्रति आयी  जन-जन जागृति का श्रेय  ...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
  Sawai Singh Rajpurohit
RAJPUROHIT SAMAJ
1

ग़ज़ल 114 : आदमी से कीमती हैं ---

एक ग़ज़ल : आदमी से कीमती हैं कुर्सियां2122-----------2122---------212-फ़ाइलातुन---फ़ाइलातुन---फ़ाइलुनआदमी से कीमती हैं कुर्सियाँकर रहे टी0वी0 पे मातमपुर्सियाँआग नफ़रत की लगी, जब से लगीआज तक क़ायम वही हैं तल्ख़ियाँख़ून से ह...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
आनन्द पाठक
गीत ग़ज़ल औ गीतिका
1

दोहागीत "जनता का जनतन्त्र" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

कल तक मस्त वज़ीर थे, आज हुए हैं त्रस्त।निर्वाचन ने दलों के, किये हौसले पस्त।।शासक सब खाते रहे, नोच-नोचकर देश।वीराना सा कर दिया, वासन्ती परिवेश।।छेद स्वयं के पात्र में, करने लगे दलाल।जनता आहत...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
8

1362...एक ही ब्लॉग से..गूँगी गुड़िया

सादर अभिनन्दनआदरणीया अनीता सैनीकिसी परिचय की मोहताज नहीं हैवे फिलहाल मशहूर चर्चामंच कीनवोदित चर्चाकारा हैंकविताएं उनकी हरदम बेजोड़ रहती है..आज पढ़िए उनके ब्लॉग की चंद रचनाएँ...कुछ कहना चाह...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
Yashoda Agrawal
पाँच लिंकों का आनन्द
0

अनछुआ एहसास....श्वेता सिन्हा

मुद्दतों बाद रू-ब-रू हुए आईने सेख़ुद को न पहचान सकेजाने किन ख़्यालों में गुम थेज़िंदगी तेरी सूरत भूल गयेख़्वाब इतने भर लिये आँखों मेंक़िस्से हक़ीक़त के सारे बेमानी लगेचमकती रेत को पानी समझान ...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
Yashoda Agrawal
मेरी धरोहर
4
9

हक्का नूडल्स रेसिपी

क्या हर बार चाइनिस फूड खाने के लिए आपको घर से बाहर किसी रेस्टोरेंट में जाना पड़ता है या फिर क्या आपको ऑर्डर करके घर मंगवाना पड़ता है तो अब आपकी ये परेशानी इस रेसिपी को जानने के बाद दूर हो जाएगी।...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
Shahid Mansoori
E & E News
0
E & E News
0

दुनिया झल्ला उठती है मुझ पर - विपिन कुमार शर्मा

दम साधे दबे पाँवतीसरे पहर रात का सिराता अन्धेराऔर सन्नाटासन्नाटे और अन्धेरे को थाह-थाहदबे पाँव चलता हूँ मैंसोयी हैं बेसुध... पत्नी और बेटियाँ जैसे सो रहीं धरती और नदियाँ... धीरे-से टटोलता ह...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
राजीव उपाध्याय
स्वयं शून्य
0

संबंध

      छुटपन में जब मेरे बेटा अगली कक्षा में गया, तो वह “मुझे मेरी शिक्षिका जीवन भर के लिए चाहिए” कहकर बहुत रोया। हमें उसे समझना पड़ा कि शिक्षकों का बदलना जीवन का भाग है। हम यह विचार कर सकते ...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
Roz Ki Roti
रोज़ की रोटी - Daily Bread
13

नवरात्रि की थाली!

1- व्रत के दौरान शरीर के लिए जरूरी प्रोटीन, विटामिनों की पूर्ति के लिए हरी पत्तेदार सब्जियां खानी चाहिए। इन सब्जियों को सलाद के रूप में भी खा सकते हैं और सूप बनाकर भी पी सकते हैं। सलाद के रूप म...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
Shahid Mansoori
E & E News
0

बहरों को सुनाने के लिए ऊँची आवाज की आवश्यकता होती है" -- भगत सिंह

बहरों को सुनाने के लिए ऊँची आवाज की आवश्यकता होती है"-----------------------------------------------------------------आज ही के दिन 1929 को भगतसिंह व् बटुकेश्वर दत्त ने"बहरों को सुनाने के लिए ऊँची आवाज की आवश्यकता होती है"के मुख्य वक्तव्...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
9

रात अभी बाकी हैं,कोई सितारा टिमटिमाया हैं..

दर्द में डूब कर कुछ करार आया हैं,जुबां पर सच पहली बार आया हैं...मंज़िले अभी दूर हैं करवा बढ़ता रहे,बिजलिया गिरी नही,बस अंधेरा सा छाया हैं,हौसला न तोड़ना,हाथ अब ना छोड़ना,रात अभी बाकी हैं,कोई सितारा टि...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
jafar
the missed beat
7

दोहे "बिस्तर पर आराम" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

कभी पिछड़ता है नहीं, उसका कोई काम।जो दिन में करता नहीं, बिस्तर पर आराम।।--काम करो दिन में सदा, रातों को विश्राम।संघर्षों से जीत लो, जीवन का संग्राम।।--नदियाँ-सूरज-चन्द्रमा, देते ये पैगाम।नित्य-न...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
11

मित्र मंडली - 116

#corner-to-corner { height:100%; border:10px SOLID Green ; padding:20px ; background: #EEC4CB ; एक अनुरोध : G+ के जाने से पाठकों एवं रचनाकारों को नए पोस्ट खोजने में परेशानी हो रही है। इस समस्या से निपटने के लिए दो उपाए हैं : 1. अपने ब्लॉग पर रीडिंग लिस्ट क...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
राकेश श्रीवास्तव
0

1361..हम-क़दम का पैंसठवाँ अंक...

स्नेहिल अभिवादन-------आज तुम मेरे लिये होरात मेरी, रात का श्रृंगार मेरा,आज आधे विश्व से अभिसार मेरा,तुम मुझे अधिकार अधरों पर दिए होप्राण, कह दो, आज तुम मेरे लिए हो।वह सुरा के रूप से मोहे भला क्या,वह ...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
Yashoda Agrawal
पाँच लिंकों का आनन्द
0
7

छायाकृति - राजीव उपाध्याय

लम्बाई मेरी चौडाई, मेरे पिता जैसी हैमेरी बेटी कहती है उसके बाबा की तरह हूँ बोलताऔर मेरी पत्नी को लगता है कि हम बाप-बेटे दोनों एक जैसे हैं।सालों पहले यही बात माँ भी कहती थीथोड़ा सा उसका हूँ कि बाक...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
राजीव उपाध्याय
स्वयं शून्य
0

प्रभाव

      मैं अपनी पत्नि के साथ लंडन में घूमते हुए एक मार्ग पर आया जिसका नाम था  गौडलिमैन स्ट्रीट (Godliman Street)। हमें बताया गया कि यहाँ कभी एक व्यक्ति रहा करता था जिसका जीवन इतना धर्मी था कि उसके घ...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
Roz Ki Roti
रोज़ की रोटी - Daily Bread
16

मतदान करने से पहले कीजिये- थोडा होमवर्क

रितेशः येबताओइलेक्शनमेंवोटिंगकरनेकेलियेछुट्टीअप्लाईकीयानही?संजीवःनही, क्योंतुमजारहेहोक्या? मैतोनहीजारहा।अरेमेरेएकवोटनाडालनेसेक्याकिसीकीजीतयाहारबदलजायगी।औरफिरवोटकेलियेक्य...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
aprna tripathi
palash "पलाश"
0

सूक्ष्म अंहकार -

सूक्ष्म अंहकार -बोध कथा एक सम्राट विश्वविजेता हो गया | तब उसे खबर मिलने लगी कि उसके बचपन का एक साथी बड़ा फकीर हो गया है | दिगम्बर फकीर नग्न रहने लगा है | उस फकीर की ख्याति सम्राट तक आने लगी | सम्राट न...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
10

दोहे "झण्डे रहे सँभाल" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

आया समय चुनाव का, गरम हुआ माहौल।चपला चम-चम चमकती, बादल बोलें बोल।।--उमड़-घुमड़कर आ रहे, भाषण अब घनघोर।नगर गली-देहात में, मचा हुआ है शोर।।--चौकीदार गिना रहे, पाँच साल के काम।आज दाँव पर लगा है, ना...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
11

दोहे "झण्डे रहे सँभाल" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

आया समय चुनाव का, गरम हुआ माहौल।चपला चम-चम चमकती, बादल बोलें बोल।।--उमड़-घुमड़कर आ रहे, भाषण अब घनघोर।नगर गली-देहात में, मचा हुआ है शोर।।--चौकीदार गिना रहे, पाँच साल के काम।आज दाँव पर लगा है, ना...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
15

चुनावी राजनीति का यह कैसा बदलता रंग

  चुनाव का शंखनाद बजते ही शुरू हो गया  है जयकारों का सिलसिला | और इसके साथ ही  शुरू हो गये वादों, दावों व घात- प्रतिघात की चुहा दौड जिसे अभी अपने चरम पर पहुंचना बाकी है | यही नही दिखने लगा है &nbs...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
एल एस बिष्ट
क्षितिज(horizon)
8

कैसे लागू होगा कांग्रेस का घोषणापत्र?

चुनाव घोषणापत्रों का महत्व चुनाव-प्रचार के लिए नारे तैयार करने से ज्यादा नहीं होता। मतदाताओं का काफी बड़ा हिस्सा जानता भी नहीं कि उसका मतलब क्या होता है। अलबत्ता इन घोषणापत्रों की कुछ बातें ...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
Pramod Joshi
जिज्ञासा
14


Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन