अपना ब्लॉग जोड़ें

अपने ब्लॉग को  जोड़ने के लिये नीचे दिए हुए टेक्स्ट बॉक्स में अपने ब्लॉग का पता भरें!
आप नए उपयोगकर्ता हैं?
अब सदस्य बनें
सदस्य बनें
क्या आप नया ब्लॉग बनाना चाहते हैं?
नवीनतम सदस्य

नई हलचल

2

कविता - ये दलितों की बस्ती हैं

बोतल महँगी है तो क्या हुआ,थैली खूब सस्ती है।ये दलितो की बस्ती है ।यहाँ जन्मते हर बालक को, पकड़ा देते हैं झाडू।वो बेटा, अबे, साले,परे हट, कहते हैं लालू कालूगोविंदा और मिथुन बन कर,खोल रहे हैं नाली।द...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
prem miral
BHIMVARTA
7

"मन श्याम रंग"'भजन'

मन श्याम रंग विचार में तज, भूलत है सबको  अभी कुछ नींद में सपनें सजत ,चित्त रोअत है अभीभूत बन। धरे हाँथ सुंदर बाँसुरी ,कसे केश अपने मयूर पंख जग कहत जिनको त्रिकालदर्शन,हो प्रतीत ह्रदय निकट...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
DHRUV SINGH
"एकलव्य"
0

अनुग्रह

   वर्षों तक मैं परमेश्वर के वचन बाइबल में प्रभु यीशु मसीह द्वारा दिए गए पहाड़ी सन्देश (मत्ती 5-7) को मानवीय व्यवहार का एक ऐसा मानक मानता था जिसे संभवतः कोई पूरा नहीं कर सकता था। मैंने कैसे उसके ...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
Roz Ki Roti
रोज़ की रोटी - Daily Bread
5

Anurag Kumar Pathak

Anurag Pathak varanasi
Anurag Pathak varanasi
1 सप्ताह पूर्व
Anurag Kumar Pathak
0

Anurag Kumar Pathak

Anurag Kumar pathak
Anurag Kumar pathak
1 सप्ताह पूर्व
Anurag Kumar Pathak
0

Anurag Kumar Pathak

Anurag Kumar pathak
Anurag Kumar pathak
1 सप्ताह पूर्व
Anurag Kumar Pathak
0

UPSC EXAM - TOPPER VAISHYA BOYS & GIRLS

1 सप्ताह पूर्व
Praveen Gupta
हमारा वैश्य समाज - HAMARA VAISHYA SAMAJ
10

अच्छेलाल चौहान

Achchhelal chauhan video. Com
1 सप्ताह पूर्व
अच्छेलाल चौहान
3

अच्छेलाल चौहान

Achchhelal chauhan video
1 सप्ताह पूर्व
अच्छेलाल चौहान
2

अच्छेलाल चौहान

Achchhelal RAJPUT
Achchhelal RAJPUT
1 सप्ताह पूर्व
अच्छेलाल चौहान
0
4
5

कुछ तो है... (Kuch toh hai...)

कुछ अंदर दबा हुआ सा है चुभता है ठूंठ साअपनी आवाज को भी नहीं सुनता मैंचीखता हूँ गूँज सा। एक तरफ तन्हाइयों का शोर है दूजी तरफ ग़मों का सन्नाटा पसरा हुआ हैकिस तरफ रखूँ कदम अपने फर्श पे मेरा मैं बिखर...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
Mahesh Barmate
माही....
4

Dhanno, Basanti aur Basant... (धन्नो, बसंती और बसंत)

नमस्कार दोस्तों!बहुत दिनों बाद, कुछ दिल से... लिखने का मन किया... हालांकि मैं अक्सर दिल से ही लिखता हूँ, फिर भी आज सोचा आपसे साझा किया जाये तो बहुत अच्छा होगा। मेरे इस लेख के शीर्षक से आपको सुप्रसिद...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
Mahesh Barmate
Kuchh Dil Se...
4

पटियाला का काली माता मंदिर

पंजाब के प्रसिद्ध हिंदू मंदिरों में से एक है पटियाला श्री काली माता का मंदिर। श्री काली देवी जी का मंदिर करीब 100 साल पुराना है। यहां पर न केवल पटियाला शहर बल्कि पंजाब के हर जिल...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
Vidyut Prakash Maurya
दाना-पानी
0

सिनेमाई नंगई के विरोध मे कौन जलाएगा मोमबत्ती

देश के किसी शहर मे किसी महिला के साथ  बलात्कार होता है तो मोमबत्तियां लिए एक सैलाब सड़कों पर आ जाता है |नारे,धरना-प्रदर्शनों का सिलसिला ही चल पड़ता है और भारतीय मीडिया तो वहां अपना तम्बू ही गाड़ द...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
एल एस बिष्ट
क्षितिज(horizon)
3

मित्र मंडली -73

#corner-to-corner { height:100%; border:10px SOLID Green ; padding:20px ; background: #F8ECC2 ; मित्रों , "मित्र मंडली"का  तिहत्तर वाँ अंक का पोस्ट प्रस्तुत है।इस पोस्ट में मेरे ब्लॉग के फॉलोवर्स/अनुसरणकर्ताओं के हिंदी पोस्ट की लिंक के साथ उ...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
राकेश श्रीवास्तव
0

महाभारत काल में 'इंटरनेट'का होना

अगरवो बताते नहीं तो हमें भी कहां पता नहीं चल पाता कि महाभारत काल में भी 'इंटरनेट का अस्तित्व'था! मैं समझ नहीं पा रहा महाभारत के रचयिता और सीरियल बनाने वालों ने हमसे इस 'महत्त्वपूर्ण रहस्य'को छिप...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
Anshu Mali Rastogi
चिकोटी
6

जरूरी है फटी रजाई का घर के अन्दर ही रहना खोल सफेद झक्क बस दिखाते चलें धूप में सूखते हुऐ करीने से लगे लाईन में

खोल जरूरी है साफ सफेद झक्क फटी हुई रजाई को ढकने के लिये सारे सफेद खोल लटके हुऐ करीने से चमचमाती धूप में सूखते हुऐ खुशनसीब खुशफहमी की रूईयाँ उधड़ी दरारों से झाँकती हुई घर के अन्दर अंधेरे की खिड़क...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
डा0 सुशील कुमार जोशी
उल्लूक टाईम्स
1

दोहे "बदल गये हैं अर्थ" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

आजादी के आज तो, बदल गये हैं अर्थ। उनकी है स्वाधीनता, जो सम्पन्न-समर्थ।।सबको ही अच्छा लगे, भारत का संगीत। गाते फिर हम किसलिए, अंग्रेजी के गीत।।पुरवइया के साथ में, पड़ने लगी फुहार। सूखे बा...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
5

दोहे "भारी वाहन" ( राधा तिवारी "राधेगोपाल ')

 भारी वाहनजबसे सड़कों का हुआ, भारत में विस्तार l दाएं बाएं देखकर, करो सड़क को पार ll भारी वाहन से सदा , रहना हरदम दूर l होती इनसे रोड पर, दुर्घटना भरपूर ll पेड़ों से छाया मिले, फल खाता संसार &...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
राधे गोपाल
राधे का संसार
6
3

नाम

   वह अपने आप को “चिन्ता करने वाली” कहती थी, परन्तु जब एक दुर्घटना में उसके बच्चे को चोट लगी, तो उसने इस उपनाम से बचे रहने का मार्ग सीख लिया। जैसे-जैसे उसका बच्चा उस चोट से उभर रहा था, वह प्रति स...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
Roz Ki Roti
रोज़ की रोटी - Daily Bread
9

JEE ADVANCED TOPPERS LIST - THE GREAT VAISHYA SAMAJ

इसमें दिल्ली की मीनल पारेख भी वैश्य हैं. टॉप ८ वैश्य समाज से हैं.साभार: अग्रजन सेवक ...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
Praveen Gupta
हमारा वैश्य समाज - HAMARA VAISHYA SAMAJ
12

अनमोल वचन #bhimrao ambedkar

Anmol vachan dr bhimrao ambedkar"मेरे नाम की जय-जयकार करने से अच्‍छा है, मेरे बताए हुए रास्‍ते पर चलें।"  *डॉ. भीम राव अम्बेडकर*"रात रातभर मैं इसलिये जागता हूँ क्‍योंकि मेरा समाज सो रहा है।"  *डॉ. भीम राव अम्बेडकर*"ज...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
prem miral
BHIMVARTA
6

कितने और बसंत

बांकी है हिस्से में, अभी कितने और बसंत....हो जब तक इस धरा पर तुम,यौवन है, बदली सी है, सावन है अनन्त,ना ही मेरा होना है अन्त,आएंगे हिस्से में मेरे,अनगिनत कितने ही ऐसे बसंत......शीतल, निर्झर सरिता सी तुम,ध...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
पुरूषोत्तम कुमार सिन्हा
0

गरीबो से दूर होती चिकित्सा सेवा --- 10-6-18

दवा कम्पनियों पर सरकार का कोई नियंत्रण नही डाक्टर जेनरिक दवाइया नही लिखते - कम्पनियों को फायदा पहुचाने के चक्कर में --आने वाले समय में आम आदमी चिकित्सा सेवा से वंचित होता जाएगा 6 अप्रैल के हिंद...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
3

संघ के लैब से निकल रहे मोदी महानायक के सामने प्रणब जननायक

✍बरुण सखाजीराष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) के शिक्षा वर्ग में प्रणब के अतिथि बनने के राजनीतिक मायने न हों ऐसा कहना अपने आपमें राजनीति है। राजनेता जब एक शीर्ष पर पहुंचता है, तब तक वह इतने सिय...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
Barun Sakhajee
आम आदमी सरकारी चंगुल में......
5

श्रद्धा भंसाली - 26 साल की यह लड़की चलाती है एक अनोखा शाकाहारी रेस्‍तरां

26 साल की यह लड़की चलाती है एक अनोखा शाकाहारी रेस्‍तरां, यहां वही पकता है जो यहां उगता हैहमारे चारों ओर जो कुछ भी हम देखते हैं, गगनचुंबी इमारतों से लेकर हाथों में पकड़े स्मार्टफोन तक, सब एक छोटे से ...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
Praveen Gupta
हमारा वैश्य समाज - HAMARA VAISHYA SAMAJ
5


Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन