अपना ब्लॉग जोड़ें

अपने ब्लॉग को  जोड़ने के लिये नीचे दिए हुए टेक्स्ट बॉक्स में अपने ब्लॉग का पता भरें!
आप नए उपयोगकर्ता हैं?
अब सदस्य बनें
सदस्य बनें
क्या आप नया ब्लॉग बनाना चाहते हैं?
नवीनतम सदस्य

नई हलचल

खलल (तीन कवितायेँ)

१. ज़िंदगी से जूझ करमौत से युद्ध कर ऐ दुनिया! इंसान को इंसान से मिला,खलल पैदा कर इस अनवरत चक्र में,वक्त के पाटों में पिसती इंसानियत तड़पती है, रोती है ज़ार-ज़ार,देखती हूँ आजकल....... आदमी से ...  और पढ़ें
5 दिन पूर्व
Aparna Bajpai
Bol Skhee Re ( साहित्यिक सरोकारों से प्रतिबद्ध )
3

सांतवना

   हमारी एक मित्र के पति का अचानक ही देहांत हो गया, और उसके साथ हम भी शोकित हुए। हमारी मित्र स्वयं एक सलाहकार हैं, और उन्होंने अनेकों लोगों को ऐसी ही परिस्थितियों में सांतवना दी है, उन्हें संभ...  और पढ़ें
5 दिन पूर्व
Roz Ki Roti
रोज़ की रोटी - Daily Bread
2

क्या काबा ज़मीन का केन्द्र (Centre) है?

यह एक हकीकत है की हम जिस ज़मीन पर सांस ले रहे हैं वह गोल है और उसकी बाहरी परत पर हम और तमाम जानदार व बेजान चीज़ें ज़मीन की ग्रैविटी की वजह से तिकी हुई हैं. यह भी तय है कि किसी गोले की बाहरी सतह पर कोई ...  और पढ़ें
5 दिन पूर्व
Dr. Zeashan Zaidi
Ya Husain Ya Shah-E-Karbala
3

आलोक बन बिखरना

कोई बढ़ रहा हो आगे, मंजिल की ओर अपनेरस्ता बड़ा कठिन हो, पर हो सुनहरे सपनेदेखो खलल पड़े न , यह ध्यान देना तुमकंटक विहीन मार्ग, उसका कर देना तुममाँगे कोई सहारा, यदि हो वो बेसहारामेहनत तलब हो इन्सां,...  और पढ़ें
5 दिन पूर्व
Sudha
Meri Jubani
3

क्या कांग्रेस के नेतृत्व में महागठबंधन बनेगा?

कांग्रेस पार्टी 2019 के लोकसभा चुनाव के सिलसिले में राष्ट्रीय स्तर पर विरोधी-दलों की एकता का प्रयास कर रही है। इस एकता के सूत्र उत्तर प्रदेश और बिहार की राजनीति से भी जुड़े हैं। सन 2015 में बिहार वि...  और पढ़ें
5 दिन पूर्व
Pramod Joshi
जिज्ञासा
4

Beautiful mehandi designs for foot | पैरों को दें खूबसूरत लुक ऐसे मेहंदी डिजाइंस से

फ्रेंड्स, शादियों का सीजन है, और शादी मतलब हल्दी, मेहंदी, संगीत और ऐसे ही रस्मो-रिवाज़। इन रस्मों में मेहंदी बहुत अहम् है दूल्हे-दुल्हन समेत सभी रिश्तेदार मेहंदी लगते हैं, और शादी की रस्मे निभा ...  और पढ़ें
5 दिन पूर्व
shweta
offbeat news
4

तजुर्बा और तजुर्बेकार

PHOTO by Sanjay Groverवे अकेले पड़ गए थे।कोई समाज था जो उन्हें स्वीकार नहीं रहा था।कोई भीड़ थी जो उनके खि़लाफ़ थी।कोई समुदाय था जो उन्हें जीने नहीं दे रहा था।कोई व्यवस्था थी जो उनसे नफ़रत करती थी।कोई बेईमानी थ...  और पढ़ें
5 दिन पूर्व
Sanjay Grover संजय ग्रोवर
पागलखाना PAAGAL-KHAANAA
2

दो दिवसीय प्रतियोगिता 26 फरवरी से

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस पर होंगे विविध कार्यक्रम पूर्वाचल विश्वविद्यालय जौनपुर के इंजीनियरिंग एवं तकनीकी संस्थान की ओर से हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी राष्ट्रीय विज्ञान दिवस 26 और 27 फरवरी को...  और पढ़ें
5 दिन पूर्व
VBSPURVANCHAL
पूरब बानी....
0

तवायफ लखनऊ की -- भाग दो 15-2-18

तवायफ लखनऊ की -- भाग दो तवायफ तथा उनके समकक्षी वर्ग लखनऊ में आकर बसने वाली तवायफो में कंचनिया , चुनेवालिया , और नागरानियाँ कही जाने वाली तीन श्रेणीयो के नाम प्रसिद्द रहे है | कंचनिया श्रेणी की तव...  और पढ़ें
5 दिन पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
3

22. सही या गलत -निर्णय आपका !

अमीर बनने के लिए आपको ऐसी मानसिकता अपनानी होगी जिसके अनुसार आपको असफल नहींहोना है , आपको विकल्परहित होना है . अगर आपके पास विकल्प है तो आप समर्पित नहीं हो पाते है और अमीर होने के लिए समर्प...  और पढ़ें
5 दिन पूर्व
Kirti
अमीर बने
2

रिवाज

मूर्तियां गढ़ने का रिवाज गज़ब हैआस्थाएं मढ़ने का रिवाज गज़ब हैकरने को तो मेहनत हम भी करते ...  और पढ़ें
5 दिन पूर्व
Barun Sakhajee
आम आदमी सरकारी चंगुल में......
2

जिला प्रशासन एकादश एवं न्यायिक एकादश के बीच मैत्री क्रिकेट मैच

 जौनपुर। वीर बहादुर सिंह पूर्वान्चल विश्वविद्यालय, के एकलब्य स्टेडियम में बुद्धवार को जिला प्रशासन एकादश एवं न्यायिक एकादश के बीच मैत्री पूर्ण क्रिकेट मैच खेला गया। न्यायिक एकादश की टीम ...  और पढ़ें
5 दिन पूर्व
VBSPURVANCHAL
पूरब बानी....
0

Anushka Kapoor

www.desigirlsphone.com
www.desigirlsphone.com
5 दिन पूर्व
Anushka Kapoor
2

नाव - बालगीत 108

नदी पार करवाती नावकाम बहुत ही आती नावबड़ा पुराना नदी से नातानदियों को हम मानें मातापली सभ्यता नदी किनारेबहुत पुरानी साथी नावफैलाए ना कोई प्रदूषऩयातायात का ऐसा साधनजरा भी झटका लग न पाएबड़े ...  और पढ़ें
5 दिन पूर्व
bhavna pathak
bhonpooo.blogspot.com
2

वक्त के परे

गर हो सके तो मिलो वक्त के परे स्वच्छंद.....इक राह अनन्त, वक्त के ये द्वन्द,रोके रुके ना, वक्त के ये छंद,वक्त के राह की, दिशाएँ दिग्दिगंत,लिए जा रहा वक्त, मुझको ये किस राह अनन्त....गर हो सके तो मिलो वक्त ...  और पढ़ें
5 दिन पूर्व
पुरूषोत्तम कुमार सिन्हा
3

बालकविता "हरी मिर्च" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)

तीखी-तीखी और चर्परी।हरी मिर्च थाली में पसरी।।तोते इसे प्यार से खाते।मिर्च देखकर खुश हो जाते।।सब्ज़ी का यह स्वाद बढ़ाती।किन्तु पेट में जलन मचाती।।जो ज्यादा मिर्ची खाते हैं।रोज सुबह वो पछत...  और पढ़ें
5 दिन पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
2
Mera Hindi Blog - Intertainment ways to earn at home sex education all type sms jokes love story
4

बालगीत "दिवस बढ़े हैं शीत घटा है" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)

मौसम कितना हुआ सुहाना।रंग-बिरंगे सुमन सुहाते।सरसों ने पहना पीताम्बर,गेहूँ के बिरुए लहराते।।दिवस बढ़े हैं शीत घटा है,नभ से कुहरा-धुंध छटा है,पक्षी कलरव राग सुनाते।गेहूँ के बिरुए लहराते।।का...  और पढ़ें
5 दिन पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
2

चर्चा - 2881

5 दिन पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
2

944..चाँद नगर सा गाँव तुम्हारा...

सादर अभिवादन। बाज़ार आजकल दिन निर्धारित करता जा रहा है विभिन्न गतिविधियों,परम्पराओं और रिश्तों के लिये। हमने जितना बाज़ार को आलोचा और कोसा वह उतना ही हमारी ज़िन्दगी में अतिक्रमण कर गया। बी...  और पढ़ें
5 दिन पूर्व
Yashoda Agrawal
पाँच लिंकों का आनन्द
1

इश्क-ए - रवायत भारी है...डॉ. इन्दिरा गुप्ता

रात अकेली चाँद अकेला गुजर रहा हें  सन्नाटा चँद्र किरण जल बीच समाई जल उतरा जो चाँद ज़रा सा ! लहर चंदनिया  झुला रही है एहसास -ए - दिल भी डोल रहा चिर - चिर  झींगुर सा सन्नाटा बन्द द्व...  और पढ़ें
5 दिन पूर्व
Yashoda Agrawal
मेरी धरोहर
1

चकइ के चकदुम

अझुका रचना - बाल कविता297. चकइ के चकदुमचकइ के चकदुमचकइ के चकदुममकइकेँ    लाबाआनलनि   बा...  और पढ़ें
6 दिन पूर्व
AMIT MISHRA
2

25 एकड़ में लगे मादक पदार्थ अफीम की खेती को किया गया नष्ट


खास खबर... गया

25 एकड़ में लगे मादक पदार्थ अफीम की खेती को किया गया नष्ट
बाराचट्टी। सशस्त्र सीमा बल, नारकोट...  और पढ़ें
6 दिन पूर्व
GAYA TODAY
0

कृतघ्न

   तेज बारिश में मैं एक पुरानी गाड़ी चलाने का, जो 80,000 किलोमीटर से अधिक चल चुकी थी, जिस में साईड से टक्कर लगने पर बच्चों की सुरक्षा के लिए कोई एयरबैग भी नहीं थे, और जिसे मैंने अभी खरीदा था, अदि होने ...  और पढ़ें
6 दिन पूर्व
Roz Ki Roti
रोज़ की रोटी - Daily Bread
2

जैसा राजा वैसी प्रजा -अब तनाव कहाँ

     नया ज़माना आ गया है आज हम वी आई पी दौर में हैं ,पहले हमारे प्रधानमंत्री महोदय साल में बच्चों से मिलने का एक दिन रखते थे और आज प्रधानमंत्री हर वक़्त देश के बच्चों को उपलब्ध हैं और वह भी उन वि...  और पढ़ें
6 दिन पूर्व
SHALINI KAUSHIK
WOMAN ABOUT MAN
2

Vipeenchandra Pal

Vipeenchandrapal
Vipeenchandrapal
6 दिन पूर्व
Vipeenchandra Pal
1

समद्विबाहु त्रिभुज

समद्विबाहु त्रिभुज:- जिस त्रिभुज की दो भुजाएं बराबर हों समद्विबाहु त्रिभुज होता है|समद्विबाहु त्रिभुज का क्षेत्रफल:- यदि दो समान भुजाओं की लम्बाई a हो तथा तीसरी भुजा की लम्बाई b हो तो समद्व...  और पढ़ें
6 दिन पूर्व
विमल कुमार शुक्ल
मेरी दुनिया
3

क्रोध के कितने रंग

 गुस्सा जीव का एक स्वाभाविक भाव है। आम तौर पर हर किसी का गुस्सा एक सा ही दिखता है। लेकिन असलियत में यह अपने भीतर कई सारे रंग और वजहें समेटे हुए होता है। गुस्से को हानिकारक मानने की एक सामान्य स...  और पढ़ें
6 दिन पूर्व
Praveen
कच्ची सड़क
1


Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन