अपना ब्लॉग जोड़ें

अपने ब्लॉग को  जोड़ने के लिये नीचे दिए हुए टेक्स्ट बॉक्स में अपने ब्लॉग का पता भरें!
आप नए उपयोगकर्ता हैं?
अब सदस्य बनें
सदस्य बनें
क्या आप नया ब्लॉग बनाना चाहते हैं?
नवीनतम सदस्य

नई हलचल

जुनि टेरू मुरली तान

गीतहे कान्हा जुनि टेरू मुरली तान-2सुनिते टेर मधुर वंशी के-2धक धक धड़कय जानहे कान्हा जुन...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
AMIT MISHRA
0

विरह अगिनमाँ लागल हमरा

विरह अगिनमाँ लागल हमरा, हम त'रहलौं सुनगैत यैक'क'छलनी हमर हियाकेँ चलि देलौं अहाँ मुस्कै...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
AMIT MISHRA
0

अंकित, अनीस, अनिकेत

गंगाघाट की सीढियों पर बैठे हुए संजय मानो गंगा माँ में तैरते व हिचकोले खाते हुए दीपों की गिनती कर रहा था| अभी सूरज ठीक से अस्त नहीं हुआ था, किन्तु हर की पैड़ी पर होने वाली गंगा आरती में भाग लेने के ...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
विमल कुमार शुक्ल
मेरी दुनिया
5

गजेंन्द्र राजपुरोहित को अखिल भारतीय पुलिस मित्र मण्डल का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाया गया है

पाली के साइंस पार्क के लोगों द्वारा भजन सम्राट गजेंद्र सिंह राजपुरोहित मण्डली को अख...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
  Sawai Singh Rajpurohit
RAJPUROHIT SAMAJ
0

हो कहीं भी आग, लेकिन आग जलनी चाहिए- --- जयशंकर गुप्त 12-4-18

हो कहीं भी आग, लेकिन आग जलनी चाहिए- --- जयशंकर गुप्तशार्प रिपोर्टर मिडिया समग्र मंथन के दूसरे दिन लोकतंत्र , ''साहित्य और हमारा समय ''विषय पे लोकबन्धु के सम्पादक समाजवादी चिन्तक जयशंकर गुप्त जी ने...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
4

Blogger Template Se Footer Credit Kaise Remove Kare!

Hello Friends मेरा नाम है समीर अली और हमारी वेबसाइट Hindi Tech Word में आपका बहुत–बहुत स्वागत है. दोस्तों कैसे है आप सब ? उम्मीद है की अच्छे होंगे. तो Friends आज की इस पोस्ट में हम आपको बताने वाले है की कैसे आप Free Template से Foot...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
SAMEER ALI
Hindi Tech Word
6

विदा का नृत्य

मैं तुममें उतना ही देखता हूँ,जितना बची हो तुम मुझमें,किंवाड़ से लगकर भीतर झांकती तुम्हारी आँखें,निकाल ले जाती हैं मुझेपूरा का पूरा,जीवन भर,पुआल के ढेर पर सोता मैं,सुस्ताता हूँ थोड़ी देर,डनलप के ...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
Aparna Bajpai
Bol Skhee Re ( साहित्यिक सरोकारों से प्रतिबद्ध )
6

विदा का नृत्य

मैं तुममें उतना ही देखता हूँ,जितना बची हो तुम मुझमें,किंवाड़ से लगकर भीतर झांकती तुम्हारी आँखें,निकाल ले जाती हैं मुझेपूरा का पूरा,जीवन भर,पुआल के ढेर पर सोता मैं,सुस्ताता हूँ थोड़ी देर,डनलप के ...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
Aparna Bajpai
Bol Skhee Re ( साहित्यिक सरोकारों से प्रतिबद्ध )
7

जब जनप्रतिनिधि ही नकारा हो तो कोई क्या करे?

हरेश कुमार#सांसदऔरक्षेत्रकाविकासहम ऐसे सांसदों का अचार बनाएं जो तीन-तीन बार से लगातार क्षेत्र का प्रतिनिधित्व कर रहे/रही हैं और क्षेत्र में मूलभूत समस्याएं जस की तस है।उदाहरण हम शिवहर लोकस...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
Haresh
Information2media
6

अतीत के झरोखे से

यादों की डायरी में हरपन्ना एकअतीतबनजाता है। उनमें से कुछतो हमअक्सरपलटते हैं औरकुछë...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
Abhilasha
@Abhi
6

हमर घर ।

घर त ऐगो मन्दिर होई छै ।जय मिथिला जय मैथिलि जय जानकी जी ।...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
सचिन कुमार मैथिल
Kavita Gajal Shayari 'मैथिलि कविता'गजल सचिन मैथिल हमर नाम यौ !
5

Kavita Gajal Shayari सचिन कुमार मैथिल

Kavita Gajal Shayari 'मैथिली कविता गजल शायरी काव्य कोष ' ( सचिन मैथिल हमर नाम यौ ): हम, महका करेंगे .. सचिन कुमार मैथिलगजल~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~प्रेम के मजधार डुबी  छोर जा क की  हेतैडुबने जिनगी जौं भेटय शोर जा क की ह...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
सचिन कुमार मैथिल
Kavita Gajal Shayari 'मैथिलि कविता'गजल सचिन मैथिल हमर नाम यौ !
6

Kavita Gajal Shayari 'मैथिली कविता गजल शायरी काव्य कोष ' ( सचिन मैथिल हमर नाम यौ ): हम, महका करेंगे .. सचिन कुमार मैथिल

Kavita Gajal Shayari 'मैथिली कविता गजल शायरी काव्य कोष ' ( सचिन मैथिल हमर नाम यौ ): हम, महका करेंगे .. सचिन कुमार मैथिलगजल~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~प्रेम के मजधार डुबी  छोर जा क की  हेतैडुबने जिनगी जौं भेटय शोर जा क की ह...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
सचिन कुमार मैथिल
Kavita Gajal Shayari 'मैथिलि कविता'गजल सचिन मैथिल हमर नाम यौ !
6

लाचुंग वाया डिकचू, मंगन, चुगंथांग- मीठे मीठे झरने हैं...

सुबह 6 बजे जगकर हमलोग 7 बजे तक तैयार हो गए। होटल प्लेजेंट हिल रेसिडेंसी के पैकेज में सुबह का नास्ता शामिल था। 7.30 में हमारे कमरे में आलू पराठे और चाय हाजिर थे। अनादि का फेवरिट डिश पराठा।  वे देखक...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
Vidyut Prakash Maurya
दाना-पानी
0

64. सही या गलत -निर्णय आपका !

जब भी आपके हाथ में पैसे आते है,आप उस पैसे के साथ क्या करते है ये निर्णय ही आपको अमीर या गरीब बनाता है .अमीर बिलम्ब से संतुष्टि पाने में यकीन करता है अगर उसे बड़ी ख़ुशी की सम्भावना नज़र आय...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
Kirti
अमीर बने
0

दोहे "बैशाखी-नाच रहा इंसान" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

बैशाखी का आ गया, देखो पावन पर्व।खुशियाँ सबको बाँटते, सुर-नर, मुनि-गन्धर्व।।कोई गरवा कर रहा, कोई भँगड़ा नृत्य।खुशियों से भरपूर हैं, उत्सव के सब कृत्य।।तितली पंख हिला रही, भँवरा गाता गीत।उपवन मे...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
5

लोटावाद की जय

सिवाय'लोटावाद'को छोड़कर दुनिया के किसी भी वाद में मेरा रत्तीभर विश्वास नहीं। बाकी वादों के साथ अपनी-अपनी वैचारिक प्रतिबद्धताएं हैं लेकिन लोटावाद के साथ ऐसा कुछ भी नहीं। यह वाद एकदम स्वतंत्र ह...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
Anshu Mali Rastogi
चिकोटी
5
6

1000....."पाँच लिंकों का आनन्द"का हज़ारवां अंक....

सादर अभिवादन"पाँच लिंकों का आनन्द" आज हज़ारवां अंक प्रस्तुत करके मील का पत्थर स्थापित किया है।  आपका हार्दिक स्वागत ! अभिनन्दन !! हमारे नये मक़ाम पर !!!नामचीन शायर मजरूह सुल्तानपुरी साहब न...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
Yashoda Agrawal
पाँच लिंकों का आनन्द
0

मेरे मन का डर.....कुसुम कोठारी

आजकल डर के कारणसांसे कुछ कम ले रही  हूं अगली पीढ़ी के लियेकुछ प्राण वायु छोड़ जाऊं, डरती हूं क्या रहेगाउनके हिस्सेबिमार वातावरणपानी की कमीदूषित खाद्य पदार्थडरा भविष्यचिंतित वर्तमानज...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
Yashoda Agrawal
मेरी धरोहर
0

सियासी विश्लेषणः अति उत्साह में कहीं गलत मामले तो नहीं लपक रही कांग्रेस

✍ बरुण सखाजीछत्तीसगढ़ की राजनीति में किसी एक दल का दबदबा नहीं माना जा सकता। भाजपा भले ही अपना तीसरा कार्यकाल पूरा करने जा रही हो, लेकिन हर चुनाव उसके लिए एक कड़ी परीक्षा साबित हुआ है। साल 2013 में...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
Barun Sakhajee
आम आदमी सरकारी चंगुल में......
5

सौ पाँचसौ हजार के चक्कर में कौन नहीं आता है

जिन्दगी शुरु होती है और गिनतियाँ शुरु हो जाती है शून्य कहीं भी किसी को नहीं सिखाया जाता है एक से शुरु की जाती हैं गिनतियाँ सारा सब कुछ पैदा होते ही एक हिसाब किताब हो जाता है बताया ही नहीं जाता ह...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
डा0 सुशील कुमार जोशी
उल्लूक टाईम्स
0

बुद्धिमता

   हेनरी प्रति सप्ताह 70  घंटे कार्य करता था। वह अपने कार्य को पसन्द करता था और अपने परिवार की आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए अपने कार्य द्वारा अच्छी आय प्राप्त करता था। वह सदा ही अपने कार्य मे...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
Roz Ki Roti
रोज़ की रोटी - Daily Bread
7

check

1 सप्ताह पूर्व
SAMEER ALI
Hindi Tech Word
6

पत्नी - देखो हमारी पड़ोसन हर Sunday, अपने पति के साथ बाहर घूमने जाती है, पर क्या आप कभी लेके गए ?पति - मैने तो उससे 4-5 बार पूछा, पर वो मना कर देती है ...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
Upendra Gughane
hindisahityamanjari
5

सांकरना गांव की मासिक ग्राम सभा सम्पन्न हुई।

आज सांकरना गांव की मासिक ग्राम सभा का आयोजन श्री महिपाल सिंह राजपुरोहित सरपंच ग्राम &#...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
  Sawai Singh Rajpurohit
RAJPUROHIT SAMAJ
0


Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन